मछली

कशेरुका जानवर जो पानी में रहता है और (आमतौर पर) में गिल होती है

मछली शल्कों वाला एक जलचर है जो कि कम से कम एक जोड़े पंखों से युक्त होती है। मछलियाँ मीठे पानी के स्त्रोतों और समुद्र में बहुतायत में पाई जाती हैं। समुद्र तट के आसपास के इलाकों में मछलियाँ खाने और पोषण का एक प्रमुख स्रोत हैं। कई सभ्यताओं के साहित्य, इतिहास एवं उनकी संस्कृति में मछलियों का विशेष स्थान है। इस दुनिया में मछलियों की कम से कम 28,500 प्रजातियाँ पाई जाती हैं जिन्हें अलग-अलग स्थानों पर कोई 2,18,000 भिन्न-भिन्न नामों से जाना जाता है।[1] इसकी परिभाषा कई मछलियों को अन्य जलीय प्राणियों से अलग करती है, यथा ह्वेल एक मछली नहीं है। परिभाषा के मुताबिक़, मछली एक ऐसी जलीय प्राणी है जिसकी रीढ़ की हड्डी होती है (कशेरुकी जन्तु), तथा आजीवन गलफड़े (गिल्स) से युक्त होती हैं तथा अगर कोई डालीनुमा अंग होते हैं (लिंब) तो वे फ़िन के रूप में होते हैं।

अमरीकी प्रान्त जॉर्जिया के मछलीघर में एक विशालकाय ग्रूपर अन्य मछलियों के साथ तैरती हुई।
Animation showing life at different evolutionary stages
Photo of fish head split in half longitudinally with gill filaments crossing from top to bottom
Tuna gills

मानवभक्षी मछलियाँसंपादित करें

कुछ मछलियाँ न केवल विशालकाय हैं, बल्कि इतनी खतरनाक है कि पूरे इंसान को निगल भी सकती हैं।

किलर कैटफिश

यह

रिट वैली किलर -

अफ्रीका की रिट वैली में एक विशालकाय जीव रहता है -एम्पुटा या नाइल पर्च। यह अफ्रीका के ताजे पानी की सबसे बड़ी मछली है।

पिरान्हा -

वर्ष 1976 में यात्रियों से भरी बस अमेरिका के अमेजॉन नदी में गिर गई और कई लोगों की जान चली गई।

अमेजॉन असासिंस -
अमेजन लैश ईटर्स -

यह अफ्रीकन मछली इंसान को निगल सकती है। यह जब हमला करती है, तो शरीर पर छुरा घोंपने जैसा निशान बन जाता है।

ये भी देंखेसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "Fishbase: A Globsl Information System on Fishes". FishBase,. मूल से 29 नवंबर 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि २ जनवरी 2008.सीएस1 रखरखाव: फालतू चिह्न (link)

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें