राजीव गाँधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा

अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा जो कि तेलंगाना राज्य के हैदराबाद में स्थित है

राजीव गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा (आईएटीए: HYDआईसीएओ: VOHS) एक अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा है जो भारतीय राज्य तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद में स्थित है। यह हैदराबाद के दक्षिण में लगभग 24 किलोमीटर (15 मील) पर शमशाबाद में स्थित है। इसे 23 मार्च 2008 को बेगमपेट हवाई अड्डे को बदलने के लिए खोला गया था। इसका नाम भारत के पूर्व प्रधान मंत्री राजीव गांधी के नाम पर रखा गया है। राजीव गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा, हैदराबाद दिसंबर 2015 में घरेलू ई-बोर्डिंग सुविधा और अक्टूबर 2020 में अंतर्राष्ट्रीय ई-बोर्डिंग सुविधा शुरू करने वाला भारत का पहला हवाई अड्डा था।[4][5][6] इसे एयरहेल्प की दुनिया के शीर्ष 10 हवाई अड्डों की सूची में भी स्थान दिया गया है।[7] वित्तवर्ष 2021 में, पहली बार, राजीव गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा चेन्नई को पछाड़कर यात्री संख्या की श्रेणी में भारत का चौथा सबसे व्यस्त हवाई अड्डा बन गया। इसने अप्रैल 2020 और मार्च 2021 के अंतराल में 8 लाख ४० हज़ार यात्रियों को सेवाएँ दीं।

राजीव गाँधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा
विवरण
हवाईअड्डा प्रकारPublic
स्वामित्व
संचालकGMR Hyderabad International Airport Limited (GHIAL)
सेवाएँ (नगर)हैदराबाद
स्थितिशम्शाबाद
प्रारम्भ23 मार्च 2008
(15 वर्ष पूर्व)
 (2008-03-23)
विमान कंपनी का केंद्र
फोकस शहर
समुद्र तल से ऊँचाई617 मी॰ / 2,024 फुट
निर्देशांक17°13′48″N 78°25′55″E / 17.23000°N 78.43194°E / 17.23000; 78.43194निर्देशांक: 17°13′48″N 78°25′55″E / 17.23000°N 78.43194°E / 17.23000; 78.43194
वेबसाइटHyderabad Airport
मानचित्र
HYD is located in तेलंगाना
HYD
HYD
Location of airport in Telangana
HYD is located in भारत
HYD
HYD
HYD (भारत)
उड़ानपट्टियाँ
दिशा लम्बाई सतह
मी॰ फ़ीट
09L/27R 3,800 12,162 Asphalt
09R/27L 4,260 13,976 Asphalt
सांख्यिकी (April 2021 – March 2022)
Passengers12,429,796 (वृद्धि54.4%)
Aircraft movements113,926 (वृद्धि32.4%)
Cargo tonnage140,075 (वृद्धि26.4%)
Statistics: AAI[1][2][3]

राजीव गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा सार्वजनिक-निजी भागीदारी मॉडल के तहत बनाया गया भारत का पहला ग्रीनफील्ड हवाई अड्डा है।[8] हवाई अड्डे के पास एक यात्री टर्मिनल, एक कार्गो टर्मिनल और दो रनवे हैं। विमानन प्रशिक्षण सुविधाएं, एक ईंधन फार्म, एक सौर ऊर्जा संयंत्र और दो एमआरओ सुविधाएं भी हैं। हवाई अड्डा एलायंस एयर (इंडिया), ब्लू डार्ट एविएशन, स्पाइसजेट, लुफ्थांसा कार्गो, क्विकजेट कार्गो, ट्रूजेट और इंडिगो के लिए एक हब के रूप में कार्य करता है। यह एयर इंडिया का फोकस शहर है।

इतिहास संपादित करें

 
राजीव गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे की 10वीं वर्षगांठ को समर्पित 2018 की स्टैंप शीट

योजना (1997-2004) संपादित करें

तत्कालीन वाणिज्यिक हवाई अड्डा, बेगमपेट हवाई अड्डा, बढ़ते यात्री यातायात को संभालने में असमर्थ था। तत्कालीन मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू के नेतृत्व वाली राज्य सरकार ने शुरू में हकीमपेट वायु सेना स्टेशन को नागरिक उपयोग में बदलने पर विचार किया जिसे वायु सेना ने इनकार कर दिया।[9] जब राज्य ने वायु सेना के लिए एक नए हवाई अड्डे के निर्माण का प्रस्ताव रखा, तो रक्षा मंत्रालय ने सुझाव दिया कि राज्य बेगमपेट हवाई अड्डे के दक्षिण में स्थित स्थलों पर विचार करें।[10] अक्टूबर 1998 तक, राज्य ने नए हवाई अड्डे के लिए तीन संभावित स्थानों पर विचार शुरु कर दिया था: बोंग्लूर, नादरगुल और शमशाबाद[11] दो राजमार्गों ( एनएच 44 और एनएच 765 ) और एक रेलवे लाइन के पास इसके सुविधाजनक स्थान के कारण,[10] शमशाबाद को दिसंबर 1998 में चुना गया था।[12]

नवंबर 2000 में, एन. चंद्रबाबू नायडू सरकार और भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (भाविप्रा) के तहत ग्रीनफील्ड हवाईअड्डा परियोजना पर एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए, इसे सार्वजनिक-निजी भागीदारी के रूप में शुरु किया गया था।[13] राज्य और भाविप्रा मिलकर परियोजना में 26% हिस्सेदारी रखते, जबकि शेष 74% निजी कंपनियों को आवंटित किए जाने वाले थे। एक बोली प्रक्रिया के माध्यम से शमशाबाद अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के साथ पहले से ही 2,000 हेक्टेयर (5,000 एकड़) की भूमि जिसका अधिग्रहण सरकारी कब्जे में था का मालिकान हक एन० चंद्रबाबू नायडू ने ग्रैंडी मल्लिकार्जुन राव (जीएमआर ग्रुप) और मलेशिया एयरपोर्ट होल्डिंग्स बरहाद के मिलकर बनाए गए कंसोर्टियम को 74% हिस्सेदारी के साथ सौंपा थी।[10][14] दिसंबर 2002 में, हैदराबाद इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (एचआईएएल), जिसे बाद में जीएमआर हैदराबाद इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (जीएचआईएएल) नाम दिया गया, को एक विशेष प्रयोजन इकाई के रूप में बनाया गया, जिसमें राज्य, भाविप्रा और जीएमआर-एमएएचबी ने अपना हिस्सा लगाया।[10][15]

सितंबर 2003 में, जीएचआईएएल के सदस्यों ने एक शेयरधारकों के समझौते पर हस्ताक्षर किए, साथ ही 4 अरब (US$58.4 मिलियन) से अधिक की राज्य द्वारा मिलने वाली सब्सिडी के लिए एक समझौता किया।[10][16] दिसंबर 2004 में जीएचआईएएल और केंद्र सरकार के बीच एक रियायत समझौते पर हस्ताक्षर किए गए थे, जिसमें यह निर्धारित किया गया था कि निर्माणाधीन हवाई अड्डे के 150-किलोमीटर (93 मील) की त्रिज्या के भीतर कोई हवाई अड्डा संचालित नहीं किया जाएगा।[17] इस प्रकार, बेगमपेट हवाई अड्डे को बंद करना आवश्यक हो गया।[18]

निर्माण और उद्घाटन (2005-2008) संपादित करें

 
हैदराबाद अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा - 2008 में प्रस्थान और आगमन
 
2008 में शमशाबाद, हैदराबाद में नए अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर आंतरिक सज्जा

वाईएस राजशेखर रेड्डी के सत्ता हासिल करने के बाद परियोजना को आगे बढ़ाया गया और 16 मार्च 2005 को जीएमआर द्वारा निर्माण शुरू किया गया जब सोनिया गांधी ने इसकी आधारशिला रखी।[19] दो दिन पहले, केंद्र सरकार ने पूर्व प्रधान मंत्री राजीव गांधी के नाम पर हवाई अड्डे का नाम रखा था,[20] जिन्होंने हैदराबाद में पायलट का प्रशिक्षण प्राप्त किया था।[21] नामकरण के परिणामस्वरूप तेलुगु देशम पार्टी (टीडीपी) ने विरोध किया। बेगमपेट हवाई अड्डे पर, अंतरराष्ट्रीय टर्मिनल का नाम राजीव गांधी के नाम पर रखा गया था, जबकि घरेलू टर्मिनल का नाम टीडीपी के संस्थापक एनटी रामा राव के नाम पर रखा गया था; टीडीपी इस नामकरण परंपरा को नए हवाई अड्डे पर जारी रखना चाहती थी। हालांकि, नए हवाईअड्डे पर केवल एक टर्मिनल है।[22]

शिलान्यास समारोह के लगभग तीन साल बाद, विरोध के बीच 14 मार्च 2008 को हवाई अड्डे का उद्घाटन किया गया। तेलुगु देशम पार्टी (तेदेपा) ने घरेलू टर्मिनल के नामकरण की अपनी मांग दोहराई।[21] इसके अलावा, 12 और 13 मार्च को, 20,000 भाविप्रा कर्मचारियों ने बेगमपेट हवाई अड्डे के साथ-साथ बैंगलोर में एचएएल हवाई अड्डे को बंद करने के खिलाफ हड़ताल की थी। उन्हें इस बात का डर था कि वे इस कारण से अपनी नौकरी खो देंगे।[23][24]

आरजीआईए मूल रूप से 16 मार्च 2008 को वाणिज्यिक संचालन के लिए खुलने वाला था; हालांकि, हवाईअड्डे पर ग्राउंड हैंडलिंग की ज्यादा दरों पर कुछ एयरलाइनों के विरोध के कारण तारीख में देरी हुई थी। दरों में कमी के बाद, शुरुवात की तारीख 23 मार्च 2008 निर्धारित की गई थी।[25] हालांकि फ्रैंकफर्ट से लुफ्थांसा फ्लाइट 752 आरजीआईए में उतरने वाली पहली उड़ान थी, लेकिन स्पाइसजेट की दो उड़ानें पहले उतरीं।[26] हालाँकि, लुफ्थांसा की उड़ान का इसके बावजूद उसके 12:25 बजे के आगमन पर नियोजित औपचारिक स्वागत किया गया।[26][27]

बाद के घटनाक्रम (2009-वर्तमान) संपादित करें

 
टर्मिनल का चेक-इन क्षेत्र
 
प्रस्थान क्षेत्र
 
राजीव गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा, हैदराबाद दिसंबर 2015 में घरेलू ई-बोर्डिंग सुविधा शुरू करने वाला भारत का पहला हवाई अड्डा था

सितंबर 2011 में, स्पाइसजेट ने अपने नए बॉम्बार्डियर क़्यु400 विमान का उपयोग करते हुए, आरजीआईए में अपना क्षेत्रीय केंद्र शुरु किया। यह विमानन कंपनी, जिसने देश में भौगोलिक रूप से केंद्र में होने के कारण हैदराबाद को चुना, हवाई अड्डे से कई टियर- II और टियर- III शहरों के लिए उड़ान भरती है।[28] जुलाई 2015 में परिचालन शुरू करने पर क्षेत्रीय एयरलाइन ट्रूजेट ने भी आरजीआईए में एक हब खोला।[29]

नवंबर 2014 में, नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने संकल्प लिया कि आरजीआईए के घरेलू टर्मिनल का नाम एनटी रामा राव के नाम पर रखा जाएगा, जिसका राज्यसभा के कुछ सदस्यों ने विरोध किया।[30][31] हवाईअड्डे के अधिकारी इस बात को लेकर अनिश्चित रहे कि नामकरण कैसे होगा।[32]

स्वामित्व संपादित करें

आरजीआईए का स्वामित्व और संचालन जीएमआर हैदराबाद इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (जीएचआईएएल) द्वारा किया जाता है, जो एक सार्वजनिक-निजी उद्यम है। यह सार्वजनिक संस्थाओं भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (13%), तेलंगाना सरकार (13%), साथ ही जीएमआर समूह (63%) और मलेशिया एयरपोर्ट होल्डिंग्स बरहाद (11%) के बीच एक निजी संघ से बना है।[33] जीएचआईएएल और केंद्र सरकार के बीच रियायत समझौते के अनुसार, जीएचआईएएल को 30 वर्षों के लिए हवाई अड्डे को संचालित करने का अधिकार है। उसके पास इसके बाद भी और 30 वर्षों तक इसे जारी रखने का विकल्प भी उपलब्ध है।[34] मई 2022 में, केंद्र सरकार ने 23 मार्च, 2038 से 22 मार्च, 2068 तक GHIAL के रियायत समझौते की अवधि बढ़ा दी।[8] अक्टूबर 2023 में, जीएमआर ग्रुप ने बिक्री और खरीद समझौते (एसपीए) पर हस्ताक्षर करने की घोषणा करते हुए एक विज्ञप्ति में बताया कि उसने मलेशिया एयरपोर्ट्स होल्डिंग्स बरहाद की 11% हिस्सेदारी हासिल करने का फैसला किया है, इस प्रकार इसकी कुल हिस्सेदारी बढ़कर 74% हो गई है।[35][36]

सुविधाएं संपादित करें

संरचना संपादित करें

हवाई अड्डा 2,224 हेक्टेयर (5,495 एकड़) में फैला हुआ है। जिसमें से 810 हेक्टेयर (2,000 एकड़) को हवाई अड्डे की जरूरतों के लिए विकसित किया गया है, जिसमें मुख्य रूप से 690 हेक्टेयर (1,700 एकड़) भूमि विमान क्षेत्र है और 120 हेक्टेयर (300 एकड़) भूमि भू-भाग की सुविधा है। शेष 1,414 हेक्टेयर (3,495 एकड़) हवाई अड्डे का विस्तार है। आगे जमीन का अधिग्रहण नहीं किया जाएगा। हवाई अड्डे की पूरी योजना 2,224 हेक्टेयर (5,495 एकड़) के भीतर सीमित है।[37]

रनवे संपादित करें

हवाई अड्डे के दो रनवे हैं:[38]

  • रनवे 09L/27R: 3,707 x 45 मीटर (12,162 फीट × 148 फीट) ।
  • रनवे 09R/27L: 4,260 x 60 मीटर (13,980 फीट × 200 फीट), आईएलएस सुसज्जित।

रनवे 09R/27L, मूल और प्राथमिक रनवे, एयरबस A380 को उतराने में सक्षम होने के लिहाज से काफी लंबा है जो दुनिया का सबसे बड़ा यात्री विमान है।[39] मूल रूप से एक टैक्सीवे, रनवे 09L/27R का उद्घाटन फरवरी 2012 में किया गया था। इसकी लंबाई मुख्य रनवे से कम है और यह एयरबस ए340 और बोइंग 747 जैसे विमानों को संभालने में सक्षम है। यह मुख्य रूप से तब उपयोग किया जाता है जब रनवे 09R/27L पर रखरखाव हो रहा हो। जैसे-जैसे हवाई अड्डे पर हवाई यातायात और बढ़ता जाएगा, इसका अधिक बार उपयोग किया जाएगा।[40] इन रनवे के उत्तर में तीन पार्किंग एप्रन हैं: माल ढुलाई, यात्री टर्मिनल और एमआरओ एप्रन। यात्री टर्मिनल के एप्रन में टर्मिनल के उत्तर और दक्षिण दोनों ओर पार्किंग स्थल हैं।

टर्मिनल संपादित करें

आरजीआईए का एक एकीकृत यात्री टर्मिनल है, जो 105,300 मी2 (1,133,000 वर्ग फुट) क्षेत्रफल में फैला हुआ है और प्रति वर्ष 12 मिलियन यात्रियों को संभालता है।[41] टर्मिनल का पश्चिमी भाग अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को संभालता है जबकि पूर्वी भाग घरेलू संचालन के लिए है।[42] स्व:टिकट जांच (सेल्फ चेक-इन) के लिए 19 स्वचालित मशीनों के साथ 46 प्रवासी काउंटर और 96 चेक-इन डेस्क हैं। [43] यहाँ कुल नौ द्वार हैं, जिनमें से सात टर्मिनल के दक्षिण की ओर और अन्य दो उत्तर की ओर स्थित हैं। चौडे शरीर वाले विमानों के संचालन में तेजी लाने के लिए तीन द्वार जेटवे से सुसज्जित हैं, जिनमें प्रत्येक के पास दो जेटवे है। प्लाजा प्रीमियम लाउंज द्वारा सार्वजनिक लाउंज सुविधाएं प्रदान की जाती हैं, जो टर्मिनल में तीन लाउंज संचालित करती है; अति महत्वपूर्ण व्यक्तियों के लिए तीन अलग लाउंज भी हैं।[44] सुरक्षा जाँच से पहले स्थित एयरपोर्ट विलेज "हवाई अड्डा गांव" यात्रियों के बाहरी लोगों से मिलने के लिए एक स्थान है।[42]

हवाई अड्डे पर 57 पार्किंग स्थल, 47 दूरस्थ पार्किंग स्थल और 10 विमान पुल हैं। जनवरी 2019 में जीएचएआईएल ने 26 और पार्किंग स्थल जोड़े, जिससे अब यहां पर कुल 83 पार्किंग स्थल हो गए हैं।[45]

आंकड़े संपादित करें

देखें स्त्रोत विकीडाटा क़्वेरी.


जीएमआर एयरोस्पेस पार्क संपादित करें

जीएमआर एयरोस्पेस पार्क में मुख्य रूप से विमानन क्षेत्र से संबंधित कई सुविधाएं हैं।[46] इसमें 100-हेक्टेयर (250-एकड़) विशेष आर्थिक क्षेत्र है, जिसमें 8.1-हेक्टेयर (20-एकड़) मुक्त व्यापार और वेयरहाउसिंग क्षेत्र, साथ ही एक घरेलू टैरिफ क्षेत्र भी शामिल है।[47]

विमानन प्रशिक्षण संपादित करें

जीएमआर एविएशन अकादमी पार्क में स्थित है। इसकी स्थापना 2009 में इंटरनेशनल एयर ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन (आईएटीए), इंटरनेशनल सिविल एविएशन ऑर्गनाइजेशन (आईसीएओ), एयरपोर्ट्स काउंसिल इंटरनेशनल (एसीआई) और नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (डीजीसीए) के सहयोग से की गई थी। अकादमी हवाई अड्डे के संचालन से संबंधित कार्यक्रम प्रदान करती है, जो सूचीबद्ध संगठनों द्वारा मान्यता प्राप्त हैं।[48][49] पार्क में एशिया प्रशांत उड़ान प्रशिक्षण (एपीएफटी) अकादमी भी है जो कि जीएमआर समूह और एशिया प्रशांत उड़ान प्रशिक्षण की एक पहल है। 2013 में शुरू किया गया, यह पायलट प्रशिक्षण पाठ्यक्रम प्रदान करता है।[50][51]

जीएमआर एयरो टेक्निक लिमिटेड एमआरओ संपादित करें

जीएमआर एयरो टेक्निक लिमिटेड द्वारा संचालित एमआरओ हवाई अड्डे पर दो एमआरओ में से एक है। 3.5 अरब (US$51.1 मिलियन) की लागत से निर्मित और मार्च 2012 में शुरु हुई[52] यह सुविधा एक साथ पांच विमानों को संभाल सकती है।[53] प्रारंभ में, एमआरओ जीएमआर समूह और मलेशियाई एयरोस्पेस इंजीनियरिंग (एमएई), मलेशिया एयरलाइंस की सहायक कंपनी के बीच एक संयुक्त उद्यम था। हालांकि, मलेशिया एयरलाइंस फ्लाइट 370 की घटना के बाद अपने मूल कंपनी की खराब वित्तीय स्थिति के दौरान, एमएई एमआरओ को और पूंजी देने में असमर्थ हो गया था क्योंकि वह पहले ही घाटे में चल रहा था।[54] जीएमआर ने दिसंबर 2014 में एमएई की हिस्सेदारी खरीद ली थी।

जीएमआर एयरो टेक्निक लिमिटेड भारत में निजी क्षेत्र में एकमात्र एमआरओ है जिसमें एयरबस ए320 परिवार के विमान, बोइंग 737, एटीआर 72/42 और बॉम्बार्डियर डीएचसी क्यू 400 विमानों के रख रखाव की व्यापक क्षमता है। जीएमआर एयरो टेक्निक ईएएसए और नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (भारत) और विभिन्न नागरिक उड्डयन प्राधिकरणों द्वारा अनुमोदित एक विश्व स्तरीय विमान रखरखाव संगठन है और दक्षिण पूर्व एशिया क्षेत्र में एएस9110 मानकों के लिए प्रमाणित कुछ एमआरओ में से एक है।

अन्य सुविधाएं संपादित करें

एयर इंडिया एमआरओ संपादित करें

एक अन्य एमआरओ एयर इंडिया इंजीनियरिंग सर्विसेज लिमिटेड (एआईईएसएल) द्वारा संचालित है, जो एयर इंडिया की सहायक कंपनी है। 2 हेक्टेयर (5 एकड़) में फैली इस सुविधा की निर्माण लागत 790 मिलियन (US$11.53 मिलियन) है। इसे मई 2015 में खोला गया था।[55][56]

कार्गो टर्मिनल संपादित करें

 
कार्गो टर्मिनल पर, लुफ्थांसा कार्गो बोइंग 777एफ के साथ सामान उतारते हुए।

कार्गो टर्मिनल यात्री टर्मिनल के पश्चिम में स्थित है। इसका क्षेत्रफल 14,330 वर्ग मीटर (154,200 वर्ग फुट) हैं और यह 150,000 टन (170,000 लघु टन) माल को संभाल सकता है।[57] टर्मिनल का संचालन हैदराबाद मेन्ज़ीज़ एयर कार्गो प्राइवेट लिमिटेड द्वारा किया जाता है, जो जीएचआईएएल (51%) और मेन्ज़ीज़ एविएशन (49%) के बीच एक संयुक्त उद्यम है।[58] टर्मिनल के भीतर एक औषधि (फार्मा) क्षेत्र है, जो एक तापमान नियंत्रित सुविधा है जिसे फार्मास्यूटिकल्स के भंडारण के लिए डिज़ाइन किया गया है। भारतीय हवाईअड्डे पर खोली जाने वाली इस तरह की पहली सुविधा, आरजीआईए के लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि हवाई अड्डे से निर्यात का 70% हिस्सा फार्मास्यूटिकल्स का है।[58][59] मई 2011 में, लुफ्थांसा कार्गो ने हवाई अड्डे पर अपना पहला फार्मा हब शुरु किया था।[60]

ईंधन क्षेत्र संपादित करें

हवाई अड्डे के पास तीन भंडारण टैंकों से युक्त एक ईंधन क्षेत्र है, जिसकी कुल क्षमता जेट ईंधन का 13,500 किलोलीटर (3,000,000 ब्रिटिश गैलन; 3,600,000 अमेरिकी गैलन) है। टैंक भूमिगत पाइपलाइनों के माध्यम से एप्रन से जुड़े हुए हैं।[39] रिलायंस इंडस्ट्रीज ने फार्म का निर्माण और संचालन किया, जिसका उपयोग किसी भी तेल कंपनी द्वारा खुली पहुंच रूपरेखा (ओपन-एक्सेस मॉडल) के तहत किया जा सकता है।[61]

सौर ऊर्जा संयंत्र संपादित करें

जनवरी 2016 में, जीएचआईएएल ने आरजीआइए के पास एक 5 मेगावाट का सौर ऊर्जा संयंत्र चालू किया, जिसका उपयोग हवाई अड्डे की ऊर्जा जरूरतों को पूरा करने के लिए किया जाएगा। इसे 300 मिलियन (US$4.38 मिलियन) की लागत से 9.7 हेक्टेयर (24 एकड़) में बनाया गया था।[62] अगले दो से तीन वर्षों में, संयंत्र की क्षमता को बढ़ाकर 30 मेगावाट कर देने की योजना थी, जिससे आरजीआईए पूरी तरह से सौर ऊर्जा से संचालित हो सके।[63]

एयरपोर्ट होटल संपादित करें

 
हैदराबाद एयरपोर्ट पर नोवोटेल होटल

नोवोटेल हैदराबाद एयरपोर्ट, आरजीआईए से 3.5 किलोमीटर (11,000 फीट) की दूरी पर स्थित है। इसे अक्टूबर 2008 में खोला गया था। होटल में 305 कमरे, दो रेस्तरां और एयर क्रू के लिए एक लाउंज शामिल है।[64] सहायक जीएमआर होटल्स एंड रिसॉर्ट्स लिमिटेड में स्थानांतरित होने से पहले इसका स्वामित्व जीएचआईएएल के पास था। कम उपयोग से हो रहे अधिक नुकसान के कारण,[65] जीएमआर ने अगस्त 2015 में होटल के खरीदारों की तलाश शुरू की।[66]

करटेनमेंट गो कार्टिंग ट्रैक संपादित करें

करटेनमेंट एक पेशेवर रेसिंग और मनोरंजक गो-कार्टिंग ट्रैक है जो जीएमआर राजीव गांधी हैदराबाद अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे, शमशाबाद में स्थित है।[67] यह 900 मीटर पेशेवर ट्रैक और 600 मीटर मनोरंजक गो-कार्टिंग ट्रैक से बना है। ट्रैक की गुणवत्ता और इसका रखरखाव बेहद उच्च मानकों का है और कई राष्ट्रीय कार्टिंग चैंपियनशिप आयोजनों की मेजबानी के लिए कार्टैमेंट पसंदीदा विकल्प है।

एयरो प्लाजा संपादित करें

 
एयरो प्लाजा हैदराबाद हवाई अड्डा

एरोप्लाज़ा हवाई अड्डे के मुख्य टर्मिनल के भीतर स्थित है। यह दो मंजिलों में फैला हुआ है और इसका उद्घाटन 2022 में किया गया था।[68]

जीएमआर एरोसिटी हैदराबाद संपादित करें

अप्रैल 2021 में, जीएमआर समूह ने जीएमआर हैदराबाद एयरपोर्ट सिटी के शुभारंभ की घोषणा की,[69] जो राजीव गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे के आसपास 1,500-एकड़ (6.1 कि॰मी2) में फैले भारत में सबसे बड़ा एरोट्रोपोलिस होने का प्रस्ताव है,[70] और बिल किया जा रहा है "कार्यालय अंतरिक्ष, खुदरा, अवकाश, मनोरंजन, आतिथ्य, शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल, एयरोस्पेस और रसद को कवर करने वाला एकीकृत पारिस्थितिकी तंत्र" के रूप में।

संपर्क और पहुंच संपादित करें

 
टर्मिनल के बाहर टैक्सी स्टैंड

सड़क संपादित करें

आरजीआईए हैदराबाद शहर से रारा 44, रारा 765 और बाहरी गोलमार्ग से जुड़ा हुआ है। अक्टूबर 2009 में, पीवी नरसिम्हा राव एक्सप्रेसवे मेहदीपट्टनम और आरामघर के बीच बन कर तैयार हुआ, जहां यह रारा44 से जुड़ता है। 13 किमी के इस लंबे फ्लाईओवर ने हवाई अड्डे और शहर के बीच यात्रा के समय को 30-40 मिनट तक कम कर दिया है। इस फ्लाई ओवर पर तीन प्रवेश और निकास बिंदु भी हैं।[71]

तेलंगाना राज्य सड़क परिवहन निगम की "पुष्पक - एयरपोर्ट लाइनर" सेवा शहर के विभिन्न हिस्सों से यहाँ के लिए बस परिवहन प्रदान करती है।[72] इसे जीएमआर की एयरो एक्सप्रेस सेवा से बदल कर दिसंबर 2012 में शुरु किया गया था।[73]

रेल संपादित करें

हैदराबाद मेट्रो रेल परियोजना के दूसरे चरण के तहत, एक 31-किलोमीटर (19 मील) रायदुर्ग और आरजीआईए के बीच रेल संपर्क का निर्माण किया जाएगा।[74] 2015 के अंत तक, चरण पर व्यवहार्यता अध्ययन चल रहे हैं।[75][76] अगस्त 2019 में, केटी रामा राव ने कहा कि राज्य कैबिनेट ने रायदुर्ग से हवाई अड्डे तक हैदराबाद मेट्रो एयरपोर्ट एक्सप्रेस लिंक को मंजूरी दे दी है।[77] रायदुर्ग मेट्रो स्टेशन से शमशाबाद आईजीआई हवाई अड्डे के लिए रूट खाजागुडा रोड के माध्यम से होगा। 31 किलोमीटर लंबे हैदराबाद मेट्रो एयरपोर्ट एक्सप्रेस लिंक की लागत लगभग 6,250 करोड़ होगी।[78] सितंबर 2021 में, हैदराबाद में राजीव गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे (आरजीआईए) का संचालन करने वाली कंपनी जीएमआर ग्रुप ने कहा कि वह हवाई अड्डे पर मेट्रो कनेक्टिविटी के लिए 519.52 करोड़ का निवेश करेगी।[79][80] 9 दिसंबर 2022 को, GMR ग्रुप ने माइंडस्पेस जंक्शन पर हैदराबाद एयरपोर्ट एक्सप्रेस मेट्रो के शिलान्यास समारोह के दौरान 625 करोड़ (US$91.25 मिलियन) या परियोजना की लागत का 10 प्रतिशत का योगदान दिया।[81][82]

यहाँ से सबसे समीप का रेलवे स्टेशन उम्दा नगर है,जो एयरपोर्ट से 6 किमी दूर है।[83][84]

इन्हें भी देखें संपादित करें

सन्दर्भ संपादित करें

  1. "Annexure III - Passenger Data" (PDF). www.aai.aero. अभिगमन तिथि 23 April 2022.
  2. "Annexure II - Aircraft Movement Data" (PDF). www.aai.aero. अभिगमन तिथि 23 April 2022.
  3. "Annexure IV - Freight Movement Data" (PDF). www.aai.aero. अभिगमन तिथि 23 April 2022.
  4. "Hyderabad airport implements e-boarding".
  5. "Hyderabad Airport Becomes First in India to Roll Out E-Boarding for International Passengers".
  6. "E-boarding for international air passengers".
  7. "India has one of the world's top 10 airports". Mint. 9 May 2019. अभिगमन तिथि 3 December 2019.
  8. "Centre okays GMR to extend Hyderabad airport contract for 30 years more".
  9. Ahmed, M. (12 May 1997). "Iaf Grounds Hyderabad International Airport Plan". Business Today. मूल से पुरालेखित 22 अप्रैल 2016. अभिगमन तिथि 11 April 2016.सीएस1 रखरखाव: BOT: original-url status unknown (link)
  10. Reddy, B. Dasarath (15 March 2005). "Work on Hyd intl airport to start on March 16". Business Today. अभिगमन तिथि 11 April 2016.
  11. "Three sites shortlisted for international airport project in Hyderabad". रीडिफ.कॉम. 23 October 1998. मूल से 6 October 2008 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 11 April 2016.
  12. "Executive Briefing". The Financial Express. 2 December 1998. मूल से 22 April 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 11 April 2016.
  13. "SHAMSHABAD AIRPORT TO BE READY IN 4 YEARS CM Chandrababu Naidu- Hyderabad, July 1, 2001". www.timeprojects.net. अभिगमन तिथि 11 March 2020.[मृत कड़ियाँ]
  14. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; pibnic नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  15. "New Hyderabad airport to be named after Rajiv Gandhi". The Hindu. 14 March 2005. मूल से 22 April 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 14 April 2016.
  16. "Hyderabad airport pact inked". द इकॉनोमिक टाइम्स. 1 October 2003. मूल से 22 September 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 11 April 2016.
  17. Sukumar, C. R. (10 July 2014). "GMR considers legal ways to stall Telangana government's airport plans near Hyderabad". द इकॉनोमिक टाइम्स. अभिगमन तिथि 13 April 2016.
  18. "Centre confirms closure of Begumpet airport". The Hindu. 12 March 2008. मूल से 22 April 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 13 April 2016.
  19. "Sonia lays foundation for Rajiv Gandhi airport Navi Mumbai, Pune, Ludhiana to get international airports". The Hindu Business Line. 16 March 2005. मूल से 22 April 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 11 April 2016.
  20. "New Hyderabad airport to be named after Rajiv Gandhi". The Hindu Business Line. 14 March 2005. मूल से 22 April 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 11 April 2016.
  21. "New international airport at Hyderabad inaugurated". Outlook. 14 March 2008. मूल से 22 April 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 11 April 2016.
  22. "Shamshabad airport issue precedes Sonia visit". The Hindu. 15 March 2005. मूल से 22 April 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 11 April 2016.
  23. "Slow take-off for airport stir". Gulf News. 13 March 2008. मूल से 4 March 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 March 2016.
  24. "New Hyderabad greenfield airport ready for inauguration despite AAI employees protest". Oneindia. 13 March 2008. मूल से 22 April 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 11 April 2016.
  25. "Hyderabad airport will open on March 23; ground handling rates cut". The Hindu Business Line. 20 March 2008. मूल से 22 April 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 11 April 2016.
  26. "New Hyd airport opening takes off with SpiceJet flights". Outlook. 23 March 2008. मूल से 22 April 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 11 April 2016.
  27. Jafri, Syed Amin (23 March 2008). "New Hyderabad airport takes off". Rediff. मूल से 22 April 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 11 April 2016.
  28. Ramana, K. V. (16 September 2011). "SpiceJet plans 'game changer' Q400 flights". Daily News and Analysis. अभिगमन तिथि 17 April 2016.
  29. "TruJet announces operations starting with Rajahmundry and Tirupati". Business Standard. 10 July 2015. मूल से 3 April 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 17 April 2016.
  30. "Row over renaming Hyderabad airport rocks Rajya Sabha". India Today. 26 November 2014. मूल से 8 May 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 19 April 2016.
  31. "Cong Protests Renaming of Hyderabad Airport in RS". Outlook. 26 November 2014. मूल से 13 May 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 19 April 2016.
  32. "Change of name puts Hyderabad International airport staff in a piquant situation". Deccan Chronicle. 21 November 2014. मूल से 4 March 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 19 April 2016.
  33. Chowdhury, Anirban (21 March 2016). "Hyderabad Airport may seek hike in tariffs". द इकॉनोमिक टाइम्स. अभिगमन तिथि 14 April 2016.
  34. "Regulatory Authorities and Airports". National Portal of India: Archive. मूल से 20 October 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 14 April 2016.
  35. "GMR to acquire Malaysian partner's 11% in Hyderabad airport for $100 mn".
  36. "GMR Airports, affiliates to buy 11% additional stake in Hyderabad airport".
  37. "Hyderabad's RGIA airport to expand, plan gets environmental clearance from Centre". The News Minute. 14 June 2017. अभिगमन तिथि 23 March 2020.
  38. (15 May 2014) Aeronautical Charts Rajiv Gandhi International Airport Shamshabad (Hyd). (Report).
  39. "Rajiv Gandhi (Hyderabad) International Airport, Andhra Pradesh, India". Airport Technology. मूल से 14 April 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 12 April 2016.
  40. "Second runway opened at RGIA". The Hindu. 10 February 2012. मूल से 2 June 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2 June 2016.
  41. "India's 10 longest runways". रीडिफ.कॉम. 25 August 2008. मूल से 27 December 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 11 April 2016.
  42. Reddy, K. (22 March 2008). "Wake up to a sleek and snazzy airport". The Hindu. मूल से 2 June 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2 June 2016.
  43. "Airport facilities: Terminal facilities". Hyderabad Rajiv Gandhi International Airport. मूल से 15 April 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 13 April 2016.
  44. "Business & VIP facilities". Hyderabad Rajiv Gandhi International Airport. मूल से 18 April 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 12 April 2016.
  45. "Rajiv Gandhi International Airport - News & Events". www.hyderabad.aero. अभिगमन तिथि 23 March 2020.
  46. "GMR subsidiary to set up 250-acre aerospace park in Hyderabad". Daily News & Analysis. 7 May 2009. मूल से 22 April 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 16 April 2016.
  47. "GMR Aerospace Parks: FAQs". GMR Aerospace Park. मूल से 1 December 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 16 April 2016.
  48. "GMR Aviation Academy chosen as regional training centre". The Hindu Business Line. 13 April 2015. अभिगमन तिथि 13 April 2016.
  49. Samal, Itishree (15 November 2012). "GMR Aviation Academy courses to begin from Dec". Business Standard. मूल से 5 April 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 13 April 2016.
  50. Kumar, V. Rishi (22 June 2013). "GMR launches flight training academy". The Hindu Business Line. अभिगमन तिथि 16 April 2016.
  51. Pinto, Stanley (22 June 2013). "GMR launches flight training academy". द टाइम्स ऑफ़ इण्डिया. मूल से 25 June 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 16 April 2016.
  52. "First aircraft MRO unit inaugurated". The Hindu. 14 March 2012. अभिगमन तिथि 13 April 2016.
  53. Sanjai, P. R.; Joshi, Malvika (31 March 2014). "GMR puts aircraft maintenance unit on sale". Livemint. मूल से 25 April 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 13 April 2016.
  54. "GMR gets conditional nod to buy Malaysian Aerospace Engineering's stake in MRO unit". द इकॉनोमिक टाइम्स. 5 August 2014. अभिगमन तिथि 13 April 2016.
  55. "Air India MRO at Hyd airport takes off". द टाइम्स ऑफ़ इण्डिया. 30 May 2015. मूल से 17 March 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 13 April 2016.
  56. Chong, Aaron (2 June 2015). "Air India opens Hyderabad MRO facility". Flightglobal. मूल से 26 April 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 13 April 2016.
  57. "Hyderabad airport aims at being India's first cargo hub". NDTV. 13 April 2012. मूल से 27 April 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 13 April 2016.
  58. "Dedicated pharma cargo zone opened at Hyderabad airport". The Hindu. 3 December 2010. अभिगमन तिथि 13 April 2016.
  59. "Pharma zone at Hyderabad airport launched". Business Standard. 3 December 2010. मूल से 5 April 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 13 April 2016.
  60. "Lufthansa Cargo to use GMR Hyderabad airport as pharmaceuticals hub". The Hindu. 26 May 2011. मूल से 31 December 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 16 April 2016.
  61. "RIL gets GMR's fuel farm contract". The Hindu. 7 October 2006. मूल से 22 April 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 13 April 2016.
  62. Sudhir, Uma (12 January 2016). "Hyderabad International Airport Begins Switch To Green Energy". NDTV. मूल से 28 April 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 14 April 2016.
  63. "GMR commissions 5 MW solar unit at Hyderabad airport". The Hindu Business Line. 12 January 2016. अभिगमन तिथि 14 April 2016.
  64. "Novotel Hyderabad Airport opens". The Hindu. 2 October 2008. मूल से 22 April 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 13 April 2016.
  65. Mahesh, Koride (21 April 2015). "GMR's proposal to sell Novotel hits roadblock". द टाइम्स ऑफ़ इण्डिया. मूल से 3 January 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 13 April 2016.
  66. Kumar, V. Rishi (25 August 2015). "GMR Group plans to sell Hyderabad airport hotel". The Hindu Business Line. अभिगमन तिथि 13 April 2016.
  67. "Hitting the tracks".
  68. "Hyderabad: No tipsy ride after Aero Plaza binge".
  69. "GMR launches 'AeroCity' at Hyderabad Airport".
  70. "GMR Group launches AeroCity spread over 1,500 acres around Hyderabad Airport". मूल से 10 नवंबर 2022 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 10 नवंबर 2022.
  71. "Hyderabad throws open India's longest flyover". सीएनएन न्यूज़18. 19 October 2009. मूल से 22 April 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 13 April 2016.
  72. "Pushpak flagged off at Shamshabad Airport". The Hindu. 15 December 2012. मूल से 10 July 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 13 April 2016.
  73. Vudali, Srinath (27 May 2013). "'Pushpak' fails to take off for Andhra Pradesh State Road Transport Corporation". द टाइम्स ऑफ़ इण्डिया. मूल से 4 January 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 13 April 2016.
  74. Geetanath, V. (27 January 2018). "Metro line to RGIA under study". The Hindu – वाया www.thehindu.com.
  75. "Metro Rail Services From Nagole, Miyapur Early Next Year". द न्यू इंडियन एक्सप्रेस. 19 December 2015. मूल से 24 April 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 13 April 2016.
  76. Dass, Aastha (18 December 2015). "Telangana government plans to expand Metro rail project by 83 km". India Today. मूल से 26 April 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 13 April 2016.
  77. Kumar, V. Rishi. "Metro link work on IT Hub to Hyderabad airport will begin soon, says KT Rama Rao". @businessline.
  78. "Hyderabad: Airport Metro line to cost Rs 5,000 crore". मूल से 17 अगस्त 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 17 अगस्त 2019.
  79. "GHIAL to invest Rs 500 crore for metro connectivity at Hyderabad airport".
  80. "GMR to invest over Rs 500 crore in Hyderabad Airport metro link project".
  81. "We will build Metro without Central funds, asserts CM KCR".
  82. "Chief Minister K Chandrasekhar Rao asks officials to plan for future infra needs of capital".
  83. "Dattatreya seeks rail connectivity to Hyderabad airport – Business Line". Thehindubusinessline.com. 11 May 2015. अभिगमन तिथि 16 June 2018.
  84. "SCR junks plan to extend railway line to RGIA".

बाहरी संबंध संपादित करें

  विकिमीडिया कॉमन्स पर राजीव गाँधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा से सम्बन्धित मीडिया