लूणी नदी

लूनी या लूणी नदी बालोतरा
(लूनी से अनुप्रेषित)

लूणी नदी (Luni River), जिसका प्राचीन नाम लवण्वती (Lavanvati) था, भारत के राजस्थान और गुजरात राज्यों में बहने वाली एक नदी है। यह [[अरावली] पर्वत के निकट अजमेर जिले के नाग पहाड़ (snake mount) से उत्पन्न होकर दक्षिण पश्चिम क्षेत्र में नागौर, पाली, जोधपुर, बाड़मेर, जालौर राजस्थान में 330 किलोमीटर प्रवाहित होते हुए, गुजरात में कच्छ के रण में जाकर मिलती है।[1][2] लूनी नदी पिचियाक बांध बना हुआ है जिसका निर्माण अजीत सिंह ने करवाया था सौजन्य भाटी

लूणी नदी
Luni River
लवण्वती नदी
Sarasvati river.jpg
लूणी नदी का मार्ग, जो प्राचीन सरस्वति नदी का मार्ग हो सकता है
लूणी नदी is located in राजस्थान
लूणी नदी
नदी मुहाने का स्थान
लूणी नदी is located in भारत
लूणी नदी
लूणी नदी (भारत)
स्थान
देश  भारत
राज्य राजस्थान
भौतिक लक्षण
नदीशीर्ष 
 • स्थानपुष्कर घाटी, अजमेर के समीप
 • ऊँचाई550 मी॰ (1,800 फीट)
नदीमुख  
 • स्थान
गुजरात
 • निर्देशांक
24°39′N 71°11′E / 24.650°N 71.183°E / 24.650; 71.183निर्देशांक: 24°39′N 71°11′E / 24.650°N 71.183°E / 24.650; 71.183
लम्बाई 495 कि॰मी॰ (1,624,000 फीट)
जलसम्भर आकार 37,363 कि॰मी2 (4.0217×1011 वर्ग फुट)
जलसम्भर लक्षण
उपनदियाँ  
 • बाएँ जवाई नदी, सुकड़ी नदी, गुहिया नदी, बांडी नदी
 • दाएँ जोजारी नदी

नामकरणसंपादित करें

"लूनी" का नाम लवणाद्रि तथा संस्कृत शब्द लवणगिरि (नमकीन नदी) से लिया गया है और अत्यधिक लवणता के कारण इसका यह नाम पड़ा है। महाकवि कालिदास ने (अंत:सलिला) कहा था। प्राचीन नाम लवण्वती।

विवरणसंपादित करें

यह नदी जैतारण के लोटोती से भी निकलती है व रास से भी निकलती है। इस नदी का पानी उद्गम स्थान से लेकर बालोतरा (बाडमेर) तक मीठा होता है लेकिन बालोतरा में पहुँचते ही इसका पानी खारा हो जाता है। यह नदी पश्चिमी ढलानों से आमतौर पर दक्षिण-पश्चिम की ओर पहाड़ियों से होती हुयी इस प्रदेश के मैदानों के पार बहती है। फिर यह मरुस्थल के एक भाग से होकर अंत में गुजरात राज्य के कच्छ के रण के पश्चिमोत्तर भाग की बंजर भूमि में विलुप्त हो जाती है।

उपनदियाँसंपादित करें

जोजडी, मीठडी, लीलडी, बाण्डी, सुकड़ी, जवाई, खारी, सागी, गुहिया। सुकङी2

बाँधसंपादित करें

  • हेमावास बाँध (खारी नदी बाण्डी की सहायक पर पाली में है)
  • सरदार समंद बाँध (पाली बाण्डी नदी पर)
  • जवाई बाँध (जवाई नदी)। पश्चिमी राजस्थान का सबसे बड़ा बाँध है। पाली शहर जवाई नदी पर अवस्थित है।
  • बाँकली बाँध (सुकड़ी नदी )। जालोर सुकडी नदी के किनारे पर स्थित है

उद्गमसंपादित करें

पश्चिमोत्तर भारत के राजस्थान राज्य अजमेर के निकट अरावली श्रेणी की नाग पहाड़ी के पश्चिमी ढलानों में उद्गम, जहाँ इसे सागरमती के नाम से जाना जाता है।[3]

अपवाहसंपादित करें

लूणी एक मौसमी नदी है और इसका अपवाह मुख्यत: अरावली श्रेणी की दक्षिणी-पश्चिमी ढलानों से होता है। मिठड़ी, लीलड़ी, जवाई, सुकरी, बांडी, खारी और जोजारी इसकी प्रमुख सहायक नदियाँ है।

योगदानसंपादित करें

लूणी नदी की कुल लंबाई 495 कि॰मी॰ है। यह लंबी धारा वाली इस क्षेत्र की एकमात्र प्रमुख नदी है और यह सिंचाई का एक अनिवार्य स्रोत है। राजस्थान में इस की लंबाई 330 कि॰मी॰ है।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "Lonely Planet Rajasthan, Delhi & Agra," Michael Benanav, Abigail Blasi, Lindsay Brown, Lonely Planet, 2017, ISBN 9781787012332
  2. "Berlitz Pocket Guide Rajasthan," Insight Guides, Apa Publications (UK) Limited, 2019, ISBN 9781785731990
  3. "Article in encyclopadia britannica". मूल से 13 जून 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 15 अप्रैल 2013.