शतपथ ब्राह्मण शुक्ल यजुर्वेद का ब्राह्मणग्रन्थ है। ब्राह्मण ग्रन्थों में इसे सर्वाधिक प्रमाणिक माना जाता है। इसे याज्ञवल्क्य ने लिखा है |

इस संदूक को: देखें  संवाद  संपादन

हिन्दू धर्म
श्रेणी

Om
इतिहास · देवता
सम्प्रदाय · पूजा ·
आस्थादर्शन
पुनर्जन्म · मोक्ष
कर्म · माया
दर्शन · धर्म
वेदान्त ·योग
शाकाहार  · आयुर्वेद
युग · संस्कार
भक्ति {{हिन्दू दर्शन}}
ग्रन्थशास्त्र
वेदसंहिता · वेदांग
ब्राह्मणग्रन्थ · आरण्यक
उपनिषद् · श्रीमद्भगवद्गीता
रामायण · महाभारत
सूत्र · पुराण
शिक्षापत्री · वचनामृत
सम्बन्धित
विश्व में हिन्दू धर्म
गुरु · मन्दिर देवस्थान
यज्ञ · मन्त्र
शब्दकोष (हिन्दू धर्म)|शब्दकोष  · हिन्दू पर्व
विग्रह
प्रवेशद्वार: हिन्दू धर्म

HinduSwastika.svg

हिन्दू मापन प्रणाली

रचनासंपादित करें

भाषाई रूप से, शतपथ ब्राह्मण वैदिक संस्कृत की ब्राह्मण काल के बाद के हिस्से से संबंधित है (यानी लगभग 8 वीं से 6 वीं शताब्दी ईसा पूर्व, आयरन एज इंडिया)।

शतपथ ब्राह्मण में गणितसंपादित करें

शुल्बसूत्रों की तरह शतपथ ब्राह्मण में भी यज्ञ की वेदियाँ तथा अन्य ज्यामितीय रचनाएँ बनाने की विधियाँ दी गयीं हैं।और यह समाज मे

सन्दर्भसंपादित करें

सथपथ ब्राह्मण में शुक्ल यजर्वेद की बहुत सारी बातें बताई गई है जिसमें से यज्ञ हवन विधि , ज्ञानवर्धक बातें , पूजा विधि और जीवन जीने के भी उपाय बताए गए हैं।मनुष्य के जीवन में बहुत सारी समस्याओं का समाधान इस ग्रंथ में बताई गई है जिसको एक साधारण मनुष्य भी अपनाकर अपनी जीवन शैली बदलकर केवल इस भवसागर से मुक्ति पा ही सकता है साथ ही साथ मोक्ष का भी उत्तराधिकरी बन सकता है।

बाह्य संदर्भसंपादित करें