मुख्य मेनू खोलें

सागर 1985 में बनी हिन्दी भाषा की हास्य प्रेमकहानी फ़िल्म है। इसका निर्देशन रमेश सिप्पी ने किया और इसमें कमल हासन, ऋषि कपूर और डिम्पल कपाड़िया मुख्य किरदारों को निभाते हैं। इसे भारत की तरफ से सर्वश्रेष्ठ विदेशी भाषा फिल्म के लिए अकादमी पुरस्कार में भेजा गया था। यह डिम्पल कपाड़िया की वापसी फ़िल्म है।

सागर
सागर.jpg
सागर का पोस्टर
निर्देशक रमेश सिप्पी
निर्माता जी॰ पी॰ सिप्पी
लेखक जावेद अख्तर
अभिनेता कमल हासन,
ऋषि कपूर,
डिम्पल कपाड़िया
संगीतकार आर॰ डी॰ बर्मन
प्रदर्शन तिथि(याँ) 9 अगस्त, 1985
देश भारत
भाषा हिन्दी

संक्षेपसंपादित करें

मछली पकड़ने वाले एक छोटे से गाँव में बचपन के दोस्त, मोना (डिम्पल कपाड़िया), और राजा (कमल हासन) रहते हैं। मोना और उसके पिता (सईद जाफ़री) एक छोटा सा रेस्तराँ चलाते हैं। राजा का कोई परिवार नहीं है, लेकिन वो मिस जोसेफ (नादिरा) को अपनी मां मानता है। वह एक दिन मोना से शादी करने की सोच रखा है, लेकिन अपने प्यार के बारे में उसे बताने से डरता है। जब धनी रवि (ऋषि कपूर) अपनी दादी कमलादेवी के साथ रहने के लिए आता है, तो वह मोना को देखता है और उसके प्यार में पड़ जाता है। वे एक दूसरे से मिलते हैं और मोना भी अपने प्यार का इजहार कर देती है। राजा इससे तबाह हो जाता है, लेकिन अपने दर्द और दुःख के बारे में मिस जोसेफ को छोड़कर किसी को नहीं बताता है।

जब कमलादेवी को पता चलता है कि रवि मोना को पसंद करता है और उसके साथ बहुत समय बिताता है, तो वह उसे निर्देश देती है कि वह उससे दूर रहे। वह उसकी किसी ऐसे व्यक्ति से शादी करना पसंद करेगी, जिसके पास उनके समान हैसियत और दौलत हो। रवि ने उनकी बात मानने से इंकार कर दिया। फिर कमलादेवी अपनी योजना शुरू करती हैं जिससे गाँव के सभी मछुआरों की आजीविका खतरे में पड़ जाएगी और जिससे मोना पर रवि के प्यार को छोड़ने का दबाव बनेगा। गाँव को तबाही से बचाने के लिए, मोना को रवि और ग्रामीणों की भलाई के बीच चयन करना होगा।

मुख्य कलाकारसंपादित करें

संगीतसंपादित करें

सभी गीत जावेद अख्तर द्वारा लिखित; सारा संगीत आर॰ डी॰ बर्मन द्वारा रचित।

क्र॰शीर्षकगायकअवधि
1."ओ मारिया ओ मारिया"आशा भोंसले, एस॰ पी॰ बालसुब्रमण्यम6:35
2."सागर किनारे दिल ये पुकारे"लता मंगेशकर, किशोर कुमार4:19
3."सागर जैसी आँखों वाली"किशोर कुमार5:03
4."जाने दो ना, पास आओ ना"आशा भोंसले, शैलेन्द्र सिंह5:03
5."यूँ ही गाते रहो"एस॰ पी॰ बालसुब्रमण्यम, किशोर कुमार4:51
6."सागर किनारे साँझ सवेरे"लता मंगेशकर3:27
7."सच मेरे यार है"एस॰ पी॰ बालसुब्रमण्यम6:53

नामांकन और पुरस्कारसंपादित करें

फिल्मफेयर पुरस्कारों के इतिहास में यह दूसरा उदाहरण था जहां एक अभिनेता को सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के साथ-साथ सहायक भूमिका में सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के लिए भी नामांकित किया गया। दोनों पुरस्कारों के लिए पिछला नाम अशोक कुमार (1970 में आशीर्वाद के लिए) का था। कमल हासन ने अंततः सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार जीता, एक हिन्दी फिल्म के लिए इस श्रेणी में उनका पहला और एकमात्र पुरस्कार।

वर्ष नामित कार्य पुरस्कार परिणाम
1986 जी॰ पी॰ सिप्पी फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ फ़िल्म पुरस्कार नामित
रमेश सिप्पी फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ निर्देशक पुरस्कार नामित
कमल हासन फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार जीत
डिम्पल कपाड़िया फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री पुरस्कार जीत
कमल हासन फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता पुरस्कार नामित
मधुर जाफ़री फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री पुरस्कार नामित
आर॰ डी॰ बर्मन फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ संगीतकार पुरस्कार नामित
जावेद अख्तर ("सागर किनारे दिल ये पुकारे") फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ गीतकार पुरस्कार नामित
किशोर कुमार ("सागर किनारे दिल ये पुकारे") फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायक पुरस्कार जीत

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें