मोहाली (Mohali), जिसे औपचारिक रूप से अजीतगढ़ (Ajitgarh) कहा जाता है, भारत के पंजाब राज्य के मोहाली ज़िले (साहिबज़ादा अजीत सिंह नगर ज़िले) में स्थित एक नगर है। यह ज़िले का मुख्यालय है और चण्डीगढ़ का एक प्रमुख उपनगर है।[1][2][3][4]

अजीतगढ़ / मोहाली
Ajitgarh / Mohali
ਅਜੀਤਗੜ੍ਹ / ਮੋਹਾਲੀ
चित्र:QuarkCity.pngMohali Campus.jpg
PCA Stadium, Mohali 1.jpg
क्वार्क (कम्पनी), इंडियन स्कूल ऑफ बिज़नस, बिंद्रा स्टेडियम
मोहाली is located in पंजाब
मोहाली
मोहाली
पंजाब में स्थिति
निर्देशांक: 30°36′22″N 76°50′13″E / 30.606°N 76.837°E / 30.606; 76.837निर्देशांक: 30°36′22″N 76°50′13″E / 30.606°N 76.837°E / 30.606; 76.837
देश भारत
प्रान्तपंजाब
ज़िलामोहाली ज़िला
जनसंख्या (2011)
 • नगर1,46,213
 • महानगरीय1,76,170
भाषा
 • प्रचलितपंजाबी
समय मण्डलभारतीय मानक समय (यूटीसी+5:30)
पिनकोड140XXX - 160XXX
दूरभाष कोड+91 172
वाहन पंजीकरणPB-65
लिंगानुपात0.911 पुरुष/स्त्री (नगर)
साक्षरता91.96% (नगर)
91.86% (महानगर)
वेबसाइटhttp://mcmohali.org/

विवरणसंपादित करें

इसका आधिकारिक नाम गुरु गोविंद सिंह के ज्येष्ठ पुत्र साहिबज़ादा अजीत सिंह की याद में ("एस ए एस नगर") रखा गया है। अजीतगढ़, चंडीगढ़ और पंचकुला मिल कर चंडीगढ़ त्रिनगरी कहलाते हैं। यह पहले रूपनगर जिले का हिस्सा था, पर हाल के कुछ वर्षों में इसे अलग जिला बना दिया गया।

इतिहाससंपादित करें

पंजाब के तीन हिस्से में विभाजन और राज्य की राजधानी चंडीगढ़ के केंद्र शासित क्षेत्र बन जाने के बाद १९६६ के अंत में अजीतगढ़ की परिकल्पना की गई। आज अजीतगढ़ और चंडीगढ़ पड़ोसी इलाके हैं, बस पंजाब व चंडीगढ़ केंद्रशासित क्षेत्र की सीमा ही इन्हें अलग करती है। अजीतगढ़ (पूर्व नाम मोहाली) की मूल परिकल्पना वास्तव में चंडीगढ़ के मार्गों और योजना की ही नकल है, इसके लिए अलग से कोई योजना नहीं बनाई गई। पहले विकास केवल फ़ेज़ सात तक था। फ़ेज़ ८ और आगे का विकास १९८० के दशक के अंत में शुरू हुआ और फ़ेज़ ८ में १९९० के दशक के मध्य में इस शहर का अपना बस अड्डा बना। अजीतगढ़ की जनसंख्या दो लाख के आसपास है, जो कि चंडीगढ़ की जनसंख्या की १/५ है। इस क्षेत्र को कई बहिर्स्रोतीकरण सूचना तकनीक कंपनियाँ अपना रही हैं, ताकि इस नगर द्वारा प्रदत्त निवेश के अवसरों का वे लाभ उठा सकें।[5]

अजीतगढ़ व पंचकुला (चंडीगढ़ के पूर्व में, हरियाणा में) चंडीगढ़ के दो उपग्रही नगर हैं। इन तीनों शहरों को चंडीगढ़ त्रिनगरी कहा जाता है।

स्थितिसंपादित करें

अजीतगढ़ चंडीगढ़ के पश्चिम में है। यह लगभग चंडीगढ़ की ही विस्तार है। इसके उत्तर में रूपनगर जिला है। इसके दक्षिण में फ़तेहगढ़ साहिब और पटियाला हैं। शहर की तेज़ी से बढ़ोतरी होने की वजह से अजीतगढ़ चंडीगढ़ शहर में लगभग मिल ही गया है। आसपास के कुछ स्थल हैं चंडीगढ़, पंचकुला, ज़ीरकपुर, पिंजौर, खरड़, कुराली, रोपड़, व मोरिंदा

मौसमसंपादित करें

अजीतगढ़ में उप-उष्णकटिबंधीय महाद्वीपीय मानसूनी मौसम है जिसमें गर्मियों में गर्मी, सर्दियों में थोड़ी से ठंड, अमूमन वर्षा और तापमान में काफ़ी कमी-बेशी है (-१ °से. से 44 °से)। सर्दियों में कबी कभी दिसंबर व जनवरी में पाला पड़ता है। औसत वार्षिक वर्षा ६१७ मिमी दर्ज की गई है। कभी कभी पश्चिम से इस शहर में सर्दियों में भी बारिश होती है।

औसत तापमानसंपादित करें

  • ग्रीष्म: गर्मियों में तापमान ४४°से. तक जा सकता है। आमतौर पर तापमान 35°से. से ४२°से. के बीच रहता है।
  • शरद: शरद ऋतु में तापमान ३६° से. तक जा सकता है। आमतौर पर तापमान १६° व २७° के बीच रहता है, न्यूनतम तापमान १३° से. के आसपास रहता है
  • शीत: सर्दियों (नवंबर से फ़रवरी) में तापमान (अधिकतम) ७° से. से १५° से व (न्यूनतम) -२° से. से ५° से. के बीच रहता है।
  • वसंत: वसंत में तापमान (अधिकतम) १६° से. व २५° से. और (न्यूनतम) ९° से. व १८° से. के बीच रहता है।

जनसंख्यासंपादित करें

२००१ की भारतीय जनगणना के अनुसार,[6] अजीतगढ़ की जनसंक्या १,२३,२८४ थी। पुरुष ५३% ओर स्त्रियाँ 4७% थीं। अजीतगढ़ की साक्षरता दर ८३% है जो कि ५९.५% के राष्ट्रीय औसत से अधिक है। पुरुष साक्षरता ८५% है व स्त्री साक्षरता ८१% है। १०% जनसंख्या ६ वर्ष से कम आयु की है।

भाषाएँसंपादित करें

अजीतगढ़ में मुख्यतः पंजाबी बोली जाती है हिंदी और अंग्रेज़ी भी प्रचलित हैं।

नगर नियोजनसंपादित करें

चंडीगढ़ को सेक्टरों में विभाजित करने की सफलता के बाद अजीतगढ़ में भी एक समान ८०० मी x १२०० मी के सेक्टर काटे गए। इन में से कई अभी पूरी तरह विकसित नहीं हुए हैं, जैसे कि सेक्टर ६२, जो कि भविष्य में नगर केंद्र के लिए रखा गया है। पीसीए स्टेडियम से नज़दीकी व चंडीगढ़ से यातायात संबंधी अच्छे जुड़ाव इसे केंद्र बनाने के लिए अत्युत्तम हैं। हाल की मोहाली की महा योजना के तहत शहर ११४ सेक्टर तक खिंच गया है।

आईएऍस अधिकारी केबीऍस सिद्धू के निर्देशन में बना "पुडा भवन," जो पंजाब शहरी योजना व विकास प्राधिकरण का आधिकारिक मुख्यालय है, अजीतगढ़ में पुडा के बड़े हाथ का परिचायक है। अब पुडा के योजना और शहरी विकास के कार्य वृहत् मोहाली क्षेत्र विकास प्राधिकरण (जीमाडा) को दे दिए गए हैं; पहले जिला कलेक्टर अजीतगढ़ को ही इसका मुख्य प्रशासक की पदवी भी दी गई थी, पर अब एक अलग आईएऍस अफ़सर को केवल यही ज़िम्मेदारी दी गई है।

क्रिकेटसंपादित करें

१९९२ में पंजाब क्रिकेट एसोसिएशन (पीसीए ने एक अत्याधुनिक सुविधा बनाने की सोची जिसमें अभ्यास स्थली भी होगी - इसे अजीतगढ़ के एक दलदली इलाके में बनाने का फ़ैसला हुआ। पीसीए ने इस मैदान में काफ़ी निवेश किया, एक तरणताल, स्वास्थ्य क्लब, टेनिस कोर्ट, पुस्तकालय, भोजनालयमदिरालय औरबाहर और अंदर क्रिकेट अभ्यास के नेट इस योजना का हिस्सा थे। सरकारी/पुडा की ज़मीन पीसीए को कौड़ियों के भाव आवंटित करने संबंधी विवाद अभी भी जारी है, क्योंकि यह सौदा तब तय हुआ था जब आईऍस बिंद्रा, पीसीए के आजीवन अध्यक्ष ही पंजाब सरकार के सेवारत आईएऍस अफ़सर के तौर पर शहरी विकास के सर्वेसर्वा भी थे। पंजाब-आधारित राष्ट्रीय क्रिकेटर अजीतगढ़ में ही अभ्यास करते हैं, इनमें युवराज सिंह, हरभजन सिंह, दिनेश मोंगिया और पंजाब क्रिकेट टीम शामिल हैं।

निगमों द्वारा निवेशसंपादित करें

अजीतगढ़ में कई स्थानीय कंपनियाँ हैं जैसे कि पीटीऍल पंजाब ट्रैक्टर लिमिटेड, आईसीआई पेंट्सगोदरेज समूह और अब बड़ी बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ भी यहाँ अपने पाँव जमा रही हैं।

चित्र:QuarkCity.png
क्वार्क, मोहाली

इन्फ़ोसिस, जो कि जाना माना आई टी सेवा प्रदाता है, का अजीतगढ़ में एक विकास केंद्र था, जो कि अब चंडीगढ़ टेक्नालाजी पार्क में है। बड़ी वैश्विक तकनीकी कंपनियाँ जैसे कि डेल, क्वार्क, फ़िलिप्स, सेबिज़ इन्फ़ोटेक, ऍससीऍल (सेमिकंडक्टर) और पनकॉम यहाँ आई हैं। डेन्वर-आधारित क्वार्क ने ५० करोड़ अमरीकी डॉलर की 46-एकड़ (190,000 मी2) क्वार्कसिटी अजीतगढ़ में बनाई है, जिसमें कि ३०% रिहाइशी इलाका है और १०% दुकानें, चिकित्सालय, मनोरंजन व शैक्षणिक इलाके हैं। इसके जरिए २५,००० प्रत्यक्ष व १ लाख परोक्ष नौकरियाँ आने की संभावना है।

क्वार्कसिटी एक 51-एकड़ (210,000 मी2), बहु-प्रयोगीय विकास है जो कि विशेष आर्थिक क्षेत्र (ऍसईज़ी) है। क्वार्कसिटी पंजाब के अजीतगढ़ जिले में है क्वार्कसिटीऔर यह ली कोर्बुज़िए के आधुनिक शहर चंडीगढ़ की ही बढ़ोतरी है, जो कि भारत की राजधानी नई दिल्ली से २६५ किमी (१६६ मील) उत्तर में है।आवासीय क्षेत्रों के आसपास के क्षेत्रों में वाणिज्यिक परिसरों को विकसित करने की क्रांतिकारी अवधारणा। क्वार्कसिटी ने वाणिज्यिक परिसरों को सफलतापूर्वक लॉन्च किया है और भारत में विभिन्न स्थानों पर अपनी उपस्थिति को चिह्नित करने की प्रक्रिया में है। क्वार्कसिटी के व्यवसायों के हर पहलू को व्यावसायिकता और कॉर्पोरेट प्रशासन के उच्च मानकों की विशेषता है। विकास के लिए स्थिरता हमारी दीर्घकालिक रणनीति में अंतर्निहित है। क्वार्कसिटी अपने घटनाक्रमों का डिजाइन, निर्माण, पट्टे / बिक्री करती है और उनका संचालन करती है और अंतरराष्ट्रीय मानकों पर उच्च गुणवत्ता वाले उत्पाद प्रदान करने में गर्व करती है। हम अंतरिक्ष और ऊर्जा दक्षता के बारे में चिंतित हैं और उपलब्ध अप-टू-डेट अनुसंधान के आधार पर हमारे समुदायों और इमारतों को एक पर्यावरणीय रूप से जिम्मेदार शिष्टाचार में डिजाइन करते हैं।

न्यू चंडीगढ़संपादित करें

न्यू चंडीगढ़ एलपीए जीएमएडीए क्षेत्र के उत्तर पूर्व में स्थित है, जो शिवालिक रेंज के दक्षिण में है। यह चंडीगढ़ और मोहाली से घिरा है, जो ग्रेटर मोहाली क्षेत्र के उत्तरी प्रवेश द्वार के रूप में कार्य करता है। अधिकांश भूमि इतनी उपजाऊ नहीं है और इस क्षेत्र में कई ईंट भट्टे हैं। लगभग 15,000 एकड़ (6000 हेक्टेयर) के क्षेत्र में फैला, यह हिमाचल प्रदेश के औद्योगिक शहर बद्दी के पास भी है। मुख्य बस्तियाँ पूरे इलाके में बिखरे हुए 32 गाँव हैं, उनमें से सबसे बड़ा ऐतिहासिक मुल्लनपुर गाँव है। शिवालिकों से सटे इसकी भूमि का एक महत्वपूर्ण हिस्सा पीएलपीए (लगभग 1150.20 हेक्टेयर) के अंतर्गत आता है, जो ऐसे क्षेत्रों में भूमि के उपयोग पर प्रतिबंध लगाता है क्योंकि इनमें अत्यधिक क्षरण योग्य मिट्टी होती है और वनों की कटाई और पारिस्थितिक असंतुलन के हानिकारक प्रभावों से बचाव होता है। 140.8 हेक्टेयर का एक प्रतिबंधित क्षेत्र है जो सैन्य उपयोग के लिए समर्पित है। इसकी स्थलाकृति अपेक्षाकृत क्रमिक और आम तौर पर शहरी विकास के लिए उपयुक्त है, जो नई टाउनशिप और शहरी गतिविधियों के विकास के लिए लगभग 4000 हेक्टेयर निर्माण योग्य भूमि प्रदान करती है। जयंती देवी की राव, पटियाली की राव और सिसवन नदी मुख्य नदियाँ हैं जो न्यू चंडीगढ़ से होकर गुजरती हैं। मुख्य कनेक्टिविटी मौजूदा एमडीआर-बी के माध्यम से है जो चंडीगढ़ से होकर चंडीगढ़ और पंचकुला और एमडीआर-सी के बीच चलती है, जो न्यू चंडीगढ़ से शुरू होती है और पश्चिम में कुराली और पश्चिम में आगे सरहिंद की ओर चलती है।

नई चंडीगढ़ की प्रमुख भौतिक संपत्ति बनने के लिए मौजूदा नदियों और उनके परिवेश को बढ़ाया जाएगा। इनका संरक्षण किया गया है और इन क्षेत्रों में विकास में केवल न्यूनतम निर्माण गतिविधि के साथ मनोरंजक क्षेत्र शामिल हैं। रक्षा क्षेत्र की परिधि के चारों ओर एक 100 मीटर बफर क्षेत्र को एक निर्माण क्षेत्र के रूप में स्थापित किया गया है। यह सीमित विकास क्षमता के साथ लगभग 140.80 हेक्टेयर भूमि की मात्रा है। नई चंडीगढ़ की नई बस्ती में भूमि उपयोग के लिए तार्किक और संवेदनशील विकास सुनिश्चित करने के लिए सभी श्रेणियों के लिए अन्य विशेष और विस्तृत विकास नियंत्रण निर्दिष्ट किए गए हैं। उपरोक्त विकास नियंत्रण के साथ, न्यू चंडीगढ़ एक टाउनशिप बन जाएगा जो अपने पर्यावरण और प्रकृति के साथ सामंजस्य स्थापित करता है। अपने प्रमुख स्थान के कारण, न्यू चंडीगढ़ लंबी अवधि में चंडीगढ़ और हिमाचल प्रदेश की आबादी को आकर्षित करने के लिए बाध्य है और इसलिए खुद को स्वास्थ्य, अनुसंधान और शिक्षा के क्षेत्र में विश्व स्तर की सुविधाओं की पेशकश करने वाले एक महत्वपूर्ण, आत्मनिर्भर शहर के रूप में स्थापित करता है। 2022 तक शहरीकरण और स्मार्ट सिटीज मिशन और हाउसिंग फॉर ऑल जैसे सरकार की पहल के कारण, रियल एस्टेट क्षेत्र न केवल देश के प्रमुख शहरों में बल्कि कई टियर -2 शहरों में फलफूल रहा है। ऐसा ही एक शहर है मोहाली। चंडीगढ़ की निकटता में झूठ बोलना, मोहाली को देश में उभरते शहरों में गिना जाता है, इसकी उच्च जीविका क्षमता, बेहतर कनेक्टिविटी, आईटी कंपनियों की आमद और वाणिज्यिक निवेश के लिए पर्याप्त विकल्प। मूलतः गाँवों का एक समूह और पंजाब में एक उपग्रह शहर, मोहाली आज एक व्यस्त व्यावसायिक गंतव्य है और ग्रेटर मोहाली क्षेत्र विकास प्राधिकरण (जीएमएडीए) और राज्य सरकार के प्रयासों के माध्यम से इसे और विकसित करने की योजना है।

मोहाली के स्थान ने कई डेवलपर्स और निवेशकों को इस बाजार में अपना पैसा लगाने के लिए आकर्षित किया है। पर्याप्त भूमि पार्सल और बढ़ी हुई अवसंरचना के प्रमुख आकर्षण होने के साथ, मोहाली पहले ही वाणिज्यिक निवेशकों के लिए एक आकर्षक गंतव्य के रूप में स्थापित हो चुका है। कई उद्यमी और व्यापारी बड़ी संख्या में इस बाजार में उद्यम करने की योजना बना रहे हैं ताकि यहां परिचालन हो सके। इसके अलावा, मोहाली में बढ़ती खुदरा उद्योग एक और महत्वपूर्ण कारक है जो अचल संपत्ति की मांग को स्थिर रखेगा। कनॉट प्लाजा एक आगामी परियोजना है जो निवेश के लिए वाणिज्यिक स्थान प्रदान करेगी और शीर्ष खुदरा ब्रांडों को आमंत्रित करेगी। वर्ल्ड ट्रेड सेंटर जैसे वर्ल्ड क्लास प्रोजेक्ट भी मोहाली की वास्तविक छवि को एक पायदान ऊपर ले जा रहे हैं। बढ़ती आवासीय मांग

मोहाली रियल एस्टेट के फलते-फूलते वाणिज्यिक खंड ने अपने आवासीय क्षेत्र का विकास किया है। इसके अलावा, ग्रेटर मोहाली एरिया डेवलपमेंट अथॉरिटी (जीएमएडीए) द्वारा विभिन्न आवास योजनाओं के माध्यम से सहायता भी शहर में आवास की मांग को पूरा करने में मदद कर रही है। मोहाली में संपत्ति की तलाश करने वालों के लिए, यहां अपार्टमेंट औसतन 3,200 रुपये प्रति वर्ग फीट के लिए उपलब्ध हैं। एक मानक 1BHK आकार का घर 700 sqft को 25 लाख रुपये की शुरुआती कीमत के लिए खरीदा जा सकता है। 980 वर्गफुट के 2BHK लेआउट के अपार्टमेंट की औसत कीमत 30 लाख रुपये है। 1,200 वर्गफुट के आकार वाले 3BHK लेआउट के अपार्टमेंट की औसत कीमत 35 लाख रुपये है जबकि लक्जरी अपार्टमेंट की कीमतें 1,500 वर्गफ़ुट से 2,000 वर्गफ़ुट के बीच कहीं भी 80 लाख रुपये से 1.3 करोड़ रुपये के बीच हैं। स्वतंत्र 2BHK आवासीय संपत्तियों के लिए किराया 15,000 रुपये प्रति माह से शुरू होता है। ज़ीरकपुर, सेक्टर 115 मोहाली, सेक्टर 126 मोहाली और मुल्लनपुर प्रमुख इलाकों में से हैं, जो अच्छी मांग और आवास परियोजनाओं की संख्या देख रहे हैं। इन इलाकों में हाल के वर्षों में ध्वनि की कीमत की प्रशंसा भी देखी गई है। गाजीपुर, एयरपोर्ट रोड और GMADA एयरो सिटी में निवेश के लायक अन्य क्षेत्र हैं।

कनेक्टिविटी और बुनियादी ढाँचासंपादित करें

मोहाली एक लाभकारी स्थिति में है, जिसमें प्रमुख स्थानों तक सुविधा और पहुंच है। चंडीगढ़ और आस-पास के शहरों अंबाला और दिल्ली के लिए 200 फुट की रिंग रोड और रेल कनेक्टिविटी के माध्यम से आसान पहुंच है। एक नए अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे की उपस्थिति मोहाली को एक व्यवहार्य विकल्प बनाती है। चंडीगढ़ मेट्रो रेल परियोजना के तहत मेट्रो लिंक, एक बार परिचालन करने के बाद, नागरिकों के लिए यात्रा के अनुभव में सुधार होगा। मोहाली व्यावसायिक अध्ययन के लिए कई प्रतिष्ठित शैक्षणिक संस्थानों की उपस्थिति के साथ एक हलचल शिक्षा केंद्र भी है। इनमें इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस (आईएसबी), चंडीगढ़ बिजनेस स्कूल (सीबीएस), नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मास्यूटिकल एजुकेशन एंड रिसर्च और अन्य लॉ और मेडिकल कॉलेज शामिल हैं। अपने प्रसिद्ध क्रिकेट स्टेडियम के लिए जाना जाने वाला, मोहाली 90 से अधिक स्कूलों और शॉपिंग मॉल, सिनेप्लेक्स, भोजनालयों और खुदरा दुकानों की अधिकता वाले अन्य महत्वपूर्ण सामाजिक सुविधाएं प्रदान करता है।

राज्य के आईटी क्षेत्र में अधिक निवेश आकर्षित करने के प्रयास में, पंजाब सूचना और संचार प्रौद्योगिकी निगम (पंजाब इन्फोटेक) ने मोहाली को आईटी और इलेक्ट्रॉनिक्स के लिए एक हब के रूप में विकसित करने की योजना की घोषणा की है। पंजाब के स्थानीय सरकार के मंत्री उद्योग और वाणिज्य, मनोरंजन कालिया ने कहा कि पंजाब इन्फोटेक राज्य में जमीनी स्तर पर आईटी को लागू करने के लिए भी प्रतिबद्ध है। कालिया ने कहा कि पंजाब इन्फोटेक ने पंजाब में बीपीओ प्रशिक्षण केंद्र की स्थापना भी की थी। सेंटर ऑफ़ एडवांस लर्निंग इन कंप्यूटर (Cal-C) की 181 से अधिक फ्रैंचाइज़ी पहले से ही पूरे पंजाब में सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर के क्षेत्र में शिक्षा प्रदान कर रही हैं, ताकि इस क्षेत्र में प्रशिक्षित मानव शक्ति की बढ़ती आवश्यकता को पूरा किया जा सके। कालिया के अनुसार, पंजाब क्षेत्र से सॉफ्टवेयर निर्यात में जबरदस्त वृद्धि हुई, जो 2006-07 में 500.38 करोड़ से बढ़कर 2007-08 में 666.44 करोड़ हो गई। मोहाली में सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क ऑफ़ इंडिया स्कीम (STPI) के तहत कुल 257 सॉफ्टवेयर निर्यात इकाइयाँ पंजीकृत की गई हैं। उन्होंने कहा कि भारत सरकार ने एक और एसटीपीआई केंद्र को मंजूरी दी थी, जिसे पटियाला में स्थापित करने का प्रस्ताव था। कालिया ने कहा कि पंजाब ने महसूस किया था कि बीपीओ और आईटीईएस उद्योग राज्य के लिए सबसे उपयुक्त क्षेत्र हैं। पंजाब के बीपीओ उद्योग ने इस क्षेत्र में कार्यरत 10,000 से अधिक पेशेवरों के साथ महत्वपूर्ण योगदान दिया है। इस क्षेत्र के काफी सारे पेशेवर गुड़गांव, बैंगलोर और अन्य शहरों में स्थित बीपीओ फर्मों में भी काम कर रहे हैं। अध्याय 13

सूचना प्रौद्योगिकी: विकास और विकास रणनीतिसंपादित करें

सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी), एक ज्ञान-आधारित उद्योग है, जिसमें त्वरित आर्थिक विकास, अर्थव्यवस्था के सभी क्षेत्रों के लिए उत्पादकता में सुधार और कुशल शासन के साधन के इंजन बनने की जबरदस्त क्षमता है। यह सूचना तक पहुंच बढ़ाता है, उपभोक्ताओं की सुरक्षा करता है, सरकारी सेवाओं तक पहुंच प्रदान करता है, कौशल निर्माण और प्रशिक्षण को अधिक प्रभावी बनाता है, वितरण स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार करता है और पारदर्शिता को बढ़ावा देता है। यह ग्रामीण और शहरी दोनों स्तरों पर सरकार और लोगों के बीच रोजगार की जबरदस्त क्षमता और जुड़ाव प्रदान करता है। ज्ञान आधारित उद्योगों में निवेश अगले दो दशकों में विश्व अर्थव्यवस्था में देश की प्रमुख स्थिति का स्तर निर्धारित करेगा।

रोचक स्थानसंपादित करें

इस क्षेत्र में पर्यटकों के लिए रोचक स्थान इस प्रकार हैं -

ऐतिहासिक स्थलसंपादित करें

शिक्षासंपादित करें

संस्थाएँसंपादित करें

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "Economic Transformation of a Developing Economy: The Experience of Punjab, India," Edited by Lakhwinder Singh and Nirvikar Singh, Springer, 2016, ISBN 9789811001970
  2. "Regional Development and Planning in India," Vishwambhar Nath, Concept Publishing Company, 2009, ISBN 9788180693779
  3. "Agricultural Growth and Structural Changes in the Punjab Economy: An Input-output Analysis," G. S. Bhalla, Centre for the Study of Regional Development, Jawaharlal Nehru University, 1990, ISBN 9780896290853
  4. "Punjab Travel Guide," Swati Mitra (Editor), Eicher Goodearth Pvt Ltd, 2011, ISBN 9789380262178
  5. "मोहाली अब होगा अजीतगढ़". दैनिक ट्रिब्यून. 13 फ़रवरी 2012. अभिगमन तिथि 3 अगस्त 2013.
  6. "भारत की जनगणना २००१: २००१ की जनगणना के आँकड़े, महानगर, नगर और ग्राम सहित (अनंतिम)". भारतीय जनगणना आयोग. अभिगमन तिथि 2007-09-03.