कांशीराम

भारतीय राजनेता और सामाजिक कार्यकर्ता

कांशीराम (15 मार्च 1934 - 9 अक्टूबर 2006), जिन्हें युगपुरुष, बहुजन नायक या साहेब के नाम से भी जाना जाता है. एक भारतीय राजनेता और समाज सुधारक थे, जिन्होंने बहुजन, अति पिछड़ों के उत्थान और राजनीतिक गोलबंदी के लिए काम किया था। भारत में जाति व्यवस्था के निचले हिस्से में अछूत समूहों सहित निम्न जाति के लोगों (Sc, St, OBC और साथ ही अल्पसंख्यक) में बहुजनों के राजनीतिक एकीकरण तथा उत्थान के लिए कार्य किया|

कांशीराम

बहुजन समाज पार्टी के संस्थापक और अध्यक्ष
पद बहाल
१९८४ – १९९५
उत्तरा धिकारी मायावती

पद बहाल
१९९६ – १९९८
पूर्वा धिकारी कमल चौधरी
उत्तरा धिकारी कमल चौधरी

पद बहाल
१९९१ – १९९६
पूर्वा धिकारी राम सिंह शक्य
उत्तरा धिकारी राम सिंह शक्य

जन्म १५ मार्च १९३४
पिर्थीपुर बुंगा ग्राम, खवसपुर, रूपनगर जिला, पंजाब (भारत)
मृत्यु ९ अक्टूबर २००६ (आयु ७२ वर्ष)
नई दिल्ली
राजनीतिक दल बहुजन समाज पार्टी
धर्म बौद्ध धर्म[1]
जालस्थल आधिकारिक जालस्थल

मान्यवर कांशीराम जी, बाबा साहब के भाषण सुनते तो उनसे प्रेरित होकर मान्यवर कांशीराम जी अपने समाज की ओर अग्रसर हुए और फिर मान्यवर कांशीराम जी ने 1971 में भारत पिछड़ा और अल्पसंख्यक समुदाय कर्मचारी महासंघ (BAMCEF), 6 दिसंबर 1981 में दलित शोषित समाज संघर्ष समिति (DS-4) की स्थापना की, और 1984 में बहुजन समाज पार्टी (BSP) की स्थापना की थी, और बाद में इसी पार्टी ने बहन मायावती के नेतृत्व में देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में बहुजन समाज पार्टी की ४ बार सरकार बनाई थी|

प्रारंभिक जीवन

कांशीराम का जन्म 15 मार्च 1934 को रोपड़ जिले, पंजाब, ब्रिटिश भारत में हुआ था। कुछ सूत्रों का कहना है कि उनका जन्मस्थान पिरथीपुर बुंगा [4] और अन्य गाँव खवासपुर गाँव था। उनका परिवार चमार या रविदासिया समुदाय से सम्बंधित था|

विभिन्न स्थानीय स्कूलों में अध्ययन के बाद, कांशीराम ने 1956 में गवर्नमेंट कॉलेज रोपर से बीएससी की डिग्री हासिल की थी.

इन्हें भी देखेंसंपादित करें