खोखर भारतीय उपमहाद्वीप के पंजाब क्षेत्र का एक समुदाय[1] है जो वर्तमान में भारत और पाकिस्तान के पंजाब और आसपास के क्षेत्रों में निवास करते हैं। भारत में खोखर आमतौर पर हिन्दू और सिख होते हैं जबकि पाकिस्तान में वे मुस्लिम होते हैं। खोखर राजस्थान, पंजाब, सिंध, हरियाणा और उत्तर प्रदेश में पायी जाने वाली एक मुख्य [JAT] गोत्र है।[2] खोखर

केवल हिन्दू है।
जाट जनजाति
विशेष निवासक्षेत्र
Flag of भारत भारत,Flag of पाकिस्तान पाकिस्तान
भाषाएँ
हिन्दी, उर्दू, पंजाबी, हरियाणवी, खड़ीबोली
धर्म
हिन्दू , इस्लाम, सिक्ख
सम्बन्धित सजातीय समूह
जाट समुदाय,जाट
लोगों को हिंदू जाट माना जाता है।[3] मध्यकाल के फ़ारसी इतिहासकार फ़िरिश्ता ने तत्कालीन खोखर लोगों को "धर्म और नैतिकता विहीन बर्बर" जनजाति कहा है।[4]
रामलाल खोखर ने 15 मार्च 1206 को मोहम्मद गौरी का सिर काट लिया था। खोखर जाट बड़े वीर थे। वीरता जाट जाति का जन्मजात गुण है। जिस ग़ज़नवी के नाम से बड़े बड़े राजा महाराजा भय खाते थे जाटों ने उस ग़ज़नवी को लूट कर उसके दिल में भय पैदा कर दिया। यह ऐतिहासिक प्रमाण है कि इन खोखर जाटों के दिल्ली के tomar jat राजाओ से वैवाहिक सम्बन्ध रहे थे। इन खोखर jaato ने झेलम के आसपास अपना राज्य कायम किया। जब गौरी ने दिल्ली पर कब्ज़ा कर लिया राजा प्रथ्वीराज की हत्या कर दी (बिजोलिया शिलालेख अनुसार) तो jat
खापों ने गौरी के खिलाफ बगावत का बिगुल बजा दिया गौरी ने हिन्द की जनता पर अत्याचारो की बाढ़ ला दी।

इतिहास संपादित करें

खोखर जाटों ने मुहम्मद ग़ोरी के ख़िलाफ़ विद्रोह किया था और 1206 में ग़ोरी ने इस विद्रोह का क्रूरतापूर्वक दमन किया हालाँकि, वापस लौटते समय नमक कोह क्षेत्र[उद्धरण चाहिए] में धम्यक में एक धावे में खोखर लोगों ने मुहम्मद ग़ोरी की हत्या कर दी।[5][6] जम्मू-काश्मीर के खोखर लोगों में दो समुदाय पाए जाते हैं, क़ुतुब शाही खोखर और राजपूत खोखर; क़ुतुब शाह ने एक हिंदू राजा की लड़की से विवाह किया था और उनकी वंश परंपरा के लोग कुतुबशाही खोखर के रूप में जाने जाते हैं।[7] खोखर समुदाय का उल्लेखनीय राजा जसरथ (या दशरथ) था[8] जिसके नेतृत्व में हुआ विद्रोह सैयद वंश के विनाश का कारण बना।[9]

जसरत खोखरी संपादित करें

मुस्तफा जसरत खोखर (कभी-कभी जसरथ या दशरथ ) [10] शेख खोखर के पुत्र थे। वह तामेरलेन की मृत्यु के बाद और नेतृत्व लेने के इरादे से जेल से भागने के बाद खोखरों के नेता बन गए।[स्पष्ट करें] जसरत ने जल्द ही तैमूर सेना में एक जनरल का पद प्राप्त कर लिया और यहां तक कि शाहरुख मिर्जा की बेटी से शादी कर ली। बाद में वह पंजाब लौट आए। उन्होंने सैय्यद वंश के अली शाह के खिलाफ कश्मीर के नियंत्रण के लिए युद्ध में शाही खान का समर्थन किया और बाद में उनकी जीत के लिए उन्हें पुरस्कृत किया गया। बाद में, उसने खिज्र खान की मृत्यु के बाद, दिल्ली को जीतने का प्रयास किया। वह केवल आंशिक रूप से सफल हुआ, तलवंडी और जालंधर में अभियान जीतने के दौरान, सरहिंद पर कब्जा करने के अपने प्रयास में मौसमी बारिश से उसे बाधा उत्पन्न हुई। [11]

मध्यकालीन और आधुनिक युग संपादित करें

पंजाब में ब्रिटिश राज की भर्ती नीतियों के संदर्भ में, ब्रिटिश भारतीय सेना की तुलना में, टैन ताई योंग टिप्पणी करते हैं:

खोखर जाटों के उनके पारंपरिक आसन पर निवास के संदर्भ में, पोटोहर पठार में नमक की रेंज

इन्हें भी देखें संपादित करें

सन्दर्भ संपादित करें

  1. Nijjar, Bakhshish Singh (2008). Origins and History of Rajputs and Other Allied Nomadic Tribes of India: 900 B.C.-1947 A.D. (अंग्रेज़ी में). Atlantic Publishers & Dist. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-269-0908-7.
  2. भीम सिंह दहिया (1980). Jats the Ancient Rulers (A clan study) [प्राचीन जाट शासक (एक गोत्र अध्ययन)] (अंग्रेज़ी में). पृ॰ 262. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1895603026.
  3. Surinder Singh (30 September 2019). The Making of Medieval Panjab: Politics, Society and Culture c. 1000–c. 1500. Taylor & Francis. पपृ॰ 245–. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-00-076068-2.
  4. M. A. Khan (2009). Islamic Jihad: A Legacy of Forced Conversion, Imperialism, and Slavery. iUniverse. पपृ॰ 114–. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-4401-1846-3. मूल से 27 जून 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अप्रैल 2020.
  5. HISTORY AND cIVICS 7. Pearson Education India. पपृ॰ 22–. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-317-0931-3.
  6. Mehru Jaffer (2008). The Book of Muinuddin Chishti. Penguin Books India. पपृ॰ 121–. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-14-306518-0. मूल से 3 नवंबर 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 अप्रैल 2020.
  7. Epilogue, Vol 3, Issue 11. Epilogue -Jammu Kashmir. पपृ॰ 48–. GGKEY:YTT832HQYLA.
  8. Sir Denzil Ibbetson; Maclagan (1990). Glossary of the Tribes and Castes of the Punjab and North West Frontier Province. Asian Educational Services. पपृ॰ 543–. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-206-0505-3.
  9. Dr Satish Chandra Mittal. Muslim Shasak tatha Bhartiya Jan Samaj. Suruchi Prakashan. पपृ॰ 179–. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-89622-34-3.
  10. Pandey (1970).
  11. Singh (1972).