गुरुकुल शिक्षा पद्धति ---

गुरुकुल पूर्णतः आवासीय शिक्षा प्रदान करने का एकांत स्थान होता था।जहाँ 08-10वर्ष की आयु मे बच्चा गुरु के सानिध्य मे रह कर विषम हालातो मे रह कर विद्या अध्ययन करने की परम्परा हमारे यहा था।

बच्चे गुरु के निर्देशो का पूर्णतः पालन करते थे।

गुरुकुल मे बच्चे स्वयं दिनचर्या के सभी कार्य करते थे।

गुरुकुल मे बच्चे अपने उपयोग की सामाग्री का निर्माण स्वयं करते थे।

बच्चो अपने खाने की व्यवस्था स्वयं खेती या भिक्षाटन से करते थे।

गुरु कुल मे श्रुति अर्थात सुन कर याद करते है लिपिबद्ध करने का परंपरा नही थी।

उपयुक्त परंपरा रहा है। वर्तमान मे ऐसे शिक्षा प्रणाली को पूरे विश्व को आवश्यकता है।

विश्वास कुमार तिवारी शिक्षक सरगुजा -9826506691