प्राचीन भारतीय ग्रन्थों के अनुसार धर्मयुद्ध से तात्पर्य उस युद्ध से है जो कुछ आधारभूत नियमों का पालन करते हुए लड़ा जाता है।