बसोर भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में पाई जाने वाली एक हिंदू जाति है। उन्हें अनुसूचित जाति का दर्जा प्राप्त है।

1916 की एक पुस्तक में बाँस की टोकरियाँ बुनते हुए बासोर

मूलसंपादित करें

बासोर पारम्परिक रूप से बांस की वस्तुएँ (टोकरी, पंखा, सूप, आदि) बनाने वाली जाति है। उनके नाम का अर्थ है, 'बांस का काम करने वाला'। बसोर मुख्य रूप से उत्तर प्रदेश के जालौन, हमीरपुर, महोबा, झांसी, कानपुर और बांदा जिलों में पाए जाते हैं। कुछ बसोर मध्य प्रदेश के जबलपुर, भोपाल और सागर जिले के हैं। वे बुंदेलखंडी हिन्दी बोली बोलते हैं, हालांकि अधिकांश बसेर उच्च हिन्दी (खड़ी बोली) भी समझ सकते हैं। [1]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. People of India Uttar Pradesh Volume XLII Part One edited by A Hasan & J C Das page 212 to 215 Manohar Publications

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें