मुख्य मेनू खोलें
भारत कला भवन

भारत कला भवन, वाराणसी में काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के प्रांगण में स्थित एक चित्रशाला है। यह एशिया का सबसे बड़ा विश्वविद्यालय संग्रहालय है। यहां की चित्र वीथिका (गैलरी) में 12वीं से 20वीं शती तक के भारतीय लघु चित्र प्रदर्शित हैं। इनके चित्रण में ताड़ पत्र, कागज, कपड़ा, काठ, हाथी दांत आदि का उपयोग किया गया है। प्रदर्शित चित्र भारतीय सभ्यता और संस्कृति के विभिन्न पहलुओं को प्रकाशित करते हैं। वीथिका में प्रदर्शित चित्रों का क्रम गोविन्द पाल के शासन के चतुर्थ वर्ष (12वीं शती) में चित्रित बौद्ध ग्रंथ 'प्रज्ञापारमिता' से प्रारंभ होता है। लघुचित्रों की विकास गाथा पूर्वी भारत में चित्रित पोथी चित्रों से आरंभ होती है, जिनमें अजंता-भित्ति चित्रों की उत्कृष्ट परम्परा तथा मध्यकालीन कला विशिष्टताओं का अद्भुत समन्वय है।[1]

भारतीय चित्रकला के विषय में यदि कोई भी विद्वान, शोधकर्ता या कलाविद गहन अध्ययन करना चाहे तो यह बात निश्चित रूप से कही जा सकती है कि उसे वाराणसी में स्थित 'भारत कला भवन' के चित्र संग्रह का अवलोकन करना ही होगा। भारत में प्रचलित लगभग समस्त शैलियों के चित्रों का विशाल संग्रह इस संग्रहालय में है। यहाँ का चित्र संग्रह, विशेषकर लघुचित्रों का विश्व में अपना एक विशिष्ट स्थान रखता है।

परिचयसंपादित करें

भारत कला भवन की स्थापना सन् १९२० में हुई थी। विख्यात कला मर्मज्ञ तथा कलाविद पद्मविभूषण राय कृष्णदास 'भारत कला भवन' संग्रहालय के संस्थापक थे। उन्होंने अपना संपूर्ण जीवन 'भारत कला भवन' के लिए संग्रह हेतु समर्पित कर दिया। उनके जीवन का यही समर्पण और आत्मविश्वास आज 'भारत कला भवन' के रूप में काशी हिंदू विश्वविद्यालय को गौरवान्वित कर रहा है। विभिन्न कला कृतियों के संयोजन में तो उनकी अभिरुचि थी ही, किंतु भारतीय चित्रों के संकलन के प्रति उनकी आत्मीय आस्था थी। यही कारण है कि 'भारत कला भवन' न केवल राष्ट्रीय स्तर पर अपितु अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर लघु चित्रों के संग्रह में अपना एक निजस्व रखता है।

इस संग्रहालय में लगभग बाहर हजार विभिन्न शैलियों के चित्र संकलित हैं। इन सभी चित्रों की अपनी पृथक तथा रोमांचक कहानियाँ हैं। यहाँ केवल उन्हीं चित्रों की चर्चा की जा रही है जो चित्र विश्व में अपना विशिष्ट स्थान रखते हैं।

मुगल चित्रकलासंपादित करें

भारतीय इतिहास में मुगल चित्रकला एक सुखद संयोग के रूप में दरबारी सभ्यता और भोग-विलास का उल्लास अपने में संचित किए है। मुगल चित्रकला का जन्म अनेक विदेशों और स्वदेशी चित्रकारों के परिश्रम और शिल्पसाधना का परिणाम है। बाबर भारत आते समय जिन पुस्तकों को अपने साथ लाया, उनमें शाहनामा की सचित्र प्रति भी थी। यह प्रति २०० वर्ष तक मुगल कुतुबखाने में रही जो बाद में अंग्रेजों के हाथ चली गई, संयोग से इस शाहनामा के छह महत्वपूर्ण चित्रों का संकलन इस संग्रहालय में सुरक्षित है।

काबुल पर अधिकार (१५५० ई.) करने के पश्चात, हुमायूँ दो विदेशी चित्रकार ख्वाजा अब्दुस्समद तथा मीर सैयद अली को अपने संरक्षण में ईरान से काबुल लाया। इन चित्रकारों ने हुमायूँ की आज्ञा से दास्तान-ए-मीर हम्जा के चित्र बनाना प्रारंभ कर दिये जो पूर्णतया फारसी शैली के थे। इस चित्रावली के लगभग १४०० चित्र बाद में अकबर के समय में बनाए गए। चित्रों के चेहरे की बनावट, प्रकृति तथा पहनावा अधिकांश ईरानी-फारसी ढंग का है। हम्जनामा के १४०० चित्रों में से आज प्रायः १५०-१६० चित्र विश्व में प्राप्त हैं। भारतवर्ष में मात्र पाँच चित्र अवशिष्ट हैं, जिनमें से दो 'भारत कला भवन' संग्रह में हैं। बड़े आकार के (६८×५२से.मी.) ये चित्र सूती कपडे पर अस्तर लगाकर बनाए गए हैं।

बसोहली शैलीसंपादित करें

पहाडी चित्रों के अंतर्गत जयदेव कृत गीतगोविन्द काव्य पर भी सुंदर चित्र बनाए गए जो यहाँ संग्रहीत हैं। इसमें बसोहली शैली की समस्त विशिष्टताएँ कमल-जैसी लुभावनी आँखें, (प्राथमिक रंगों का प्रयोग) समाहित हैं। कवि भानुदत्त कृत 'रस मंजरी' बसोहली के राजा कृपाल पाल का प्रिय काव्य ग्रंथ था। जिसका सुंदर चित्रण किया गया। 'रस मंजरी' में चित्रित वाग्विदग्धा नायिका चित्र भावाभिव्यंजना, रंग समायोजन एवं उत्कृष्ट कला प्रदर्शन हेतु विश्व प्रसिद्ध है। इस चित्रमाला का (कोलोफन) परिचय पृष्ठ भी कला भवन में विद्यमान है, जो इसके चित्रकार, दाता तथा काल की जानकारी प्रदान करता है। परिवर्ती चित्रकारों ने बारहमासा चित्रावलियों के निर्माण में विशेष रुचि प्रदर्शित की। इन विषयों के अतिरिक्त बसोहली शैली में 'रागमाला' पर आधारित चित्र भी प्राप्त होते हैं, जिनके उदाहरण भी 'भारत कला भवन' में सुरक्षित हैं।

बंगाल शैलीसंपादित करें

आधुनिक बंगाल शैली के उन्नायक अवनीन्द्र नाथ टैगोर व उनके शिष्य नंदलाल बोस, ए.के हल्दर, एस.एन. डे, ओ.सी. गांगुली, क्षितींद्र नाथ मजूमदार, यामिनी राय तथा गगनेंद्र नाथ टैगोर के चित्रों का संग्रह इस संग्रहालय की अमूल्य निधि है। एस.एन.डे की मेघदूत चित्रावली, ए.एन. टैगोर की अभिसारिका तथा उमर खैयाम, नंदलाल बोस की शिव-पार्वती, प्याऊ, हजरत दराब खाँ एवं चित्रित पोस्टकार्ड 'बंगाल चित्र शैली' की श्रेष्ठ कृतियाँ हैं। हेब्बार, अकबर मदमसी, बेंद्रे, सुल्तान अली, दिनकर कौशिक, एम.एफ, हुसैन, जे.एम. अहिवासी, के.एस. कुलकर्णी, वासुदेव स्मार्त आदि आधुनिक चित्रकारों के चित्र भी इस संग्रहालय की शोभा है।

भारतीय चित्रों के अतिरिक्त 'भारत कला भवन' में नेपाल और तिब्बत में चित्रित पटरा, पोथी चित्र और चित्रित थंकां का भी संग्रह है, जिसमें जय प्रकाश मल्ल कालीन सन १७६५ ई. तिथि युक्त चित्रित तांत्रिक पोथी एवं प्रायः १३-१४वीं ई. शती का रत्नसंभव थंकां उल्लेखनीय है।

विविध माध्यमों- कागज, कपडा, काष्ठ, शीशा, हाथी दाँत, ताड पत्र, अभ्रक तथा चमडे पर चित्रित उक्त सभी शैलियों के चित्र इस संग्रहालय की धरोहर हैं जो आरक्षित संग्रह के अतिरिक्त छवि, निकोलस, रोरिख, एलिस बोनर तथा बनारस वीथिकाओं में प्रदर्शित है।

सन्दर्भसंपादित करें

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें