लक्ष्मण सेन

बंगाल का राजा

गौड़ेश्वर लक्ष्मण सेन (बांग्ला: লক্ষ্মণ সেন) (११७८-१२०६ई) बंगाल के सेन राजवंश के चौथे शासक थे। अपने पूर्ववर्ती बल्लाल सेन से प्रभार लेने के बाद लक्ष्मण सेन ने सेन साम्राज्य का विस्तार असम, उड़ीसा, बिहार ,दिल्ली,प्रयागराज और वाराणसी तक बढ़ाया ।[1][2]उनका शासन २८ वर्षों तक चला। उन्होंने सफलतापूर्वक बंगाल में इख्तियारुद्दीन मुहम्मद बिन बख्तियार खिलजी के आक्रमण का प्रतिरोध किया।[3]

अबिराज-मदन शंकर परम नरसिंह गौड़ेश्वर लक्ष्मण सेन
बंगाल के सम्राट
शासनावधि११७८–१२०६
पूर्ववर्तीबल्लाल सेन
उत्तरवर्तीविश्वरूप सेन
जीवनसंगीतंद्रा देवी
संतानमाधव सेन
विश्वरूप सेन
केशब सेन
घरानासेन राजवंश
पिताबल्लाल सेन
मातारामा देवी

उनके शासनकाल के इतिहास को उनके अब तक खोजे गए समय के अभिलेख से फिर से बनाया जा सकता है। उमापतिधर के लेखन के अलावा, शरण और 'तबक़्त-ए-नासिरी' पुस्तक उनके बारे में जानकारी एकत्र करने में सहायक है। उसने राजा जयचंद्र को हराया। उनके राज्य की राजधानी बिक्रमपुर में थी। उनकी साहित्य में रुचि थी और उन्होंने अपने पिता द्वारा लिखी गई अपूर्ण पुस्तक 'अद्भुत सागर' का उचित भाग लिखा।[4]

सैन्य विस्तारसंपादित करें

कामरूप की विजयसंपादित करें

लक्ष्मण सेन ने अपने दादा राजा विजय सेन के सेनापति के रूप में बहुत कम उम्र में कामरूप पर आक्रमण किया। लक्ष्मण के आक्रमण से भयभीत होकर कामरूप के राजा को झुकना पड़ा। ऐसा माना जाता है कि विजयसेन ने कामरूप के शासक को निष्कासित कर दिया था। बाद में, राजा लक्ष्मण सेन ने कामरूप के राज्य को पूरी तरह से जीत लिया।

कलिंग की विजयसंपादित करें

लक्ष्मण सेन के भावल और मधाईनगर (मालदा जिला) के शिलालेखों के अनुसार लक्ष्मण सेन ने अपनी युवावस्था में कलिंग राज्य अभियान चलाया थे।लक्ष्मण सेन अपने दादा विजय सेन के साथ कलिंग अभियान में भाग लेकर सफल हुए। बाद में कलिंग राज्य सेन साम्राज्य के नियंत्रण में आ गया।[5]

गया और कन्नौज की विजयसंपादित करें

विजय सेन पहले उत्तरी भारत में नौसेना से गढ़वाल अभियान किया था । सेन शासन के दौरान, गढ़वाल राजाओं के साथ सेन के संबंध अच्छे नहीं थे और प्रतिस्पर्धी थे। लक्ष्मण सेन ने गढ़वाल राजा जयचंद्र सिंह को हराया और गया से कन्नौज तक के क्षेत्र जीत लिया।

खिलजी का पलायनसंपादित करें

बंगाल के तत्कालीन राजा लक्ष्मण सेन बंगाल की राजधानी नदिया में रह रहे थे, क्योंकि नदिया बाहरी शत्रुओं से सबसे सुरक्षित क्षेत्र था। नदिया उस समय एक धर्मस्थल थी और ८० वर्षीय राजा लक्ष्मण सेन नदिया के महल में विश्राम कर रहे थे। महल में अधिक सैनिक तैनात नहीं थे। इस स्थिति में बख्तियार नदिया ने पच्चीस हजार सैनिकों के साथ हमला किया। अरबी इतिहासकार इश्मी लिखते हैं कि ८० वर्षीय राजा लक्ष्मण सेन इस समय प्रतिरोध के लिये आगे बढ़े, लेकिन महल में अधिक सैनिक नहीं थे, इसलिए उन्होंने सैनिकों को इकट्ठा करने के उद्देश्य से बिक्रमपुर की यात्रा की। गौरेश्वर अपनी कैवर्त्य सेना के साथ बिक्रमपुर से आए और गंगा तट पर तुर्की सेना पर हमला किया। दोनों पक्षों में भयंकर युद्ध हुआ। समकालीन दस्तावेजों से ज्ञात होता है कि गौरेश्वर ने एक ललाट तीरंदाजी में बख्तियार खिलजी को हराया था। सेन शाही दरबार के कवि शरण और उमापतिधर के श्लोक अनुसार, मारंकमलदेव लक्ष्मण सेन म्लेच्छनरेंद्र बख्तियार खिलजी (शायद एक तीर युद्ध) के साथ लड़े ताकि बख्तियार ने अपना हथियार खो दिया और हथियार हाथीयार चिल्लाया। बख्तियार फिर गौडेश्वर से हार गए और बिहार भाग गए और लक्ष्मण सेन ने अपना राज्य वापस पा लिया।[6]इस प्रकार लक्ष्मण सेन भारत के पहले राजा हैं जिन्होंने तुर्की आक्रमण को सफलतापूर्वक हराया और विरोध किया।

धार्मिक नीतिसंपादित करें

राजा लक्ष्मण सेन एक भक्त वैष्णव थे। वह भगवान विष्णु के चौथे अवतार भगवान नृसिंह के भक्त थे। शाही उपाधियाँ "परम-वैष्णव", "परम-नरसिंह" और "अरिराज-माधवशंकर" थीं। उनकी शाही दरबार में, महान कवि जयदेव ने प्रसिद्ध वैष्णव पदावली गीतगोविन्द की रचना की। उनकी शाही दरबार में धोई और श्रीधर दास भी मौजूद थे। श्रीधर दास सदुक्तिकर्णमृत नामक संस्कृत कविता की एक पुस्तक के लेखक थे। सेन वंश का शाही प्रतीक उग्रमाधव था और युद्ध नारा "राधामाधबॉयोबर्जयंती" था।


लक्ष्मण संबतसंपादित करें

लक्ष्मण सेन १११९ ईस्वी में राजा बनें और उसी वर्ष लक्ष्मण संबत की स्थापना की । जिसका इस्तेमाल बंगाल और बिहार में कम से कम 400 वर्षों से किया जाता रहा है।[7][8]उन्होंने लक्ष्मणावती प्रमुख मध्ययुगीन शहर की भी स्थापना की।

कवि जयदेवसंपादित करें

१२वीं शताब्दी के प्रसिद्ध संस्कृत कवि, जयदेव लक्ष्मण सेन के दरबार में कवि थे। उन्होंने 'गीतगोविन्द' की रचना की जिसमें राधा और कृष्ण के प्यार का वर्णन किया गया था।[9]

स्थापत्यसंपादित करें

  • लोकमा राजबाड़ी - इसका निर्माण राजा लक्ष्मणसेन ने करवाया था।[10]

संदर्भसंपादित करें

  1. "पन्ने: बंगाल के बाहर बंगाली (उत्तर भारत) - ज्ञानेंद्रमोहन दास.पीडीएफ / २७ - विकिस्रोत (পাতা:বঙ্গের বাহিরে বাঙ্গালী (উত্তর ভারত) - জ্ঞানেন্দ্রমোহন দাস.pdf/২৭ - উইকিসংকলন একটি মুক্ত পাঠাগার)". bn.wikisource.org (Bengali में). अभिगमन तिथि 2021-07-21.
  2. "लक्ष्मण सेन | भारतकोश". m.bharatdiscovery.org. अभिगमन तिथि 2021-09-10.
  3. Sen, Sailendra (2013). A Textbook of Medieval Indian History. Primus Books. पपृ॰ 35–36. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-9-38060-734-4.
  4. Misra, Chitta Ranjan. "Laksmanasena". Banglapedia. Asiatic Society of Bangladesh. अभिगमन तिथि 6 August 2015.
  5. Chattopadhyay, Annapurna (1994). "Some Aspects of the Village in Ancient Bengal : Size and Periphery". Proceedings of the Indian History Congress. 55: 108–114. JSTOR 44143337.
  6. "Bangalir Itihas", NR Roy, pp-407
  7. F., Kielhorn (1890). "The Epoch of the Lakshmanasena Era". The Indian Antiquary, A Journal of Oriental Research. XIX.
  8. Sarkar, Anil Kumar (October 2013). "History of Bengal as Reflected in the Tabaqat-i-Nasiri of Minhaj Uddin us Siraj". TAWARIKH: International Journal for Historical Studies. 5: 31.
  9. Siegel, Lee (2017). Gita Govinda. New York. पपृ॰ xxvii–xxxi. OCLC 1124550795. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-8147-4079-8.
  10. "विलुप्त होने के कगार पर 'लोकमा राजबाड़ी'(বিলুপ্তির পথে 'লকমা রাজবাড়ি')". चैनल आइ ऑनलाइन (চ্যানেল আই অনলাইন) (अंग्रेज़ी में). 2019-07-31. अभिगमन तिथि 2021-09-10.