१८६९ का राजपूताना अकाल जिसे ग्रेट राजपूताना अकाल भी कहा जाता है इसके अलावा हम इस अकाल को बुंदेलखंड अकाल भी कह सकते हैं 'ये अकाल १८६९ में पड़ा था ' इसमें १९६.००० वर्ग मील (७७०,००० किलोमीटर) प्रभावित हुए थे तथा उस वक्त की जनसंख्या लगभग ४४,५००,००० जिसमें मुख्य रूप से राजपूताना ,अजमेर ,भारत प्रभावित हुआ था ' इनके अलावा गुजरात ,उत्तरी डेक्कन ज़िले ,जबलपुर संभाग ,आगरा और बुंदेलखंड संभाग और पंजाब का हिसार संभाग भी काफी प्रभावित हुए थे '

ये मानचित्र उस समय का है जब अकाल पड़ा था

अकाल के कारणसंपादित करें

१८६९ में मानसून ने आने में देरी की थी ' लेकिन जब मानसून आया तो इतना अच्छा भी नहीं आया केवल अगस्त महीने में ही थोड़ी बहुत बारिश हुई थी ,उस [1] वक्त राजपूताना के अधिकांश क्षेत्रों में पशुओं के चारे की काफी कमी थी इस कारण जानवर भूख से मर रहे थे ' इनके अलावा कुँओं में भी पानी काम हो रहा था ' उस [2] समय जब अनाज लाना होता था तो ऊँट पर काफी धीमी गति से लाते थे क्योंकि भूख के मारे ऊँट तेज नहीं चल पा रहा था ' राजपूताना के अकाल से त्रस्त क्षेत्रों (जैसे -मारवाड़ की आबादी) में पशु तथा लोग रोटी और पानी के लिए तरस रहे थे ' इस कारण इससे गंभीर बीमारियां फैल [3] रही थी जैसे भुखमरी और महामारी जैसी बीमारी फैल रही थी ' इनके अलावा १८६९ में वसंतकाल में कोई फसल नहीं उगाई गयी थी '

लोगों के मन में आशसंपादित करें

मई १८६९ में कई गांवों के लोगों को विश्वास हो गया था कि अब जल्द ही बारिश होगी और अकाल मिटेगा ' और इसी प्रकार मध्य जुलाई तक बारिश नहीं हुई इस कारण सैकड़ों लोगों कि जानें गयी '

चित्र:Rajputana famine.jpeg
अकाल का एक दृश्य

अकाल की समाप्तिसंपादित करें

बाद में सितम्बर -अक्टूबर में बारिश हुई लेकिन उस वक्त शरद ऋतु थी इस कारण और कई लोगों की जानें गई इसके पश्चात १८७० तक ये अकाल बंद हुआ '


यह सभी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "संग्रहीत प्रति". मूल से 5 मार्च 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 12 सितंबर 2015.
  2. https://en.wikisource.org/wiki/Page:EB1911_-_Volume_10.djvu/179
  3. "संग्रहीत प्रति". मूल से 1 सितंबर 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 12 सितंबर 2015.