कर्नाटक के मुख्यमंत्रियों की सूची

कर्नाटक के मुख्यमंत्री कर्नाटक के दक्षिण भारतीय राज्य के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं।

कर्नाटक के मुख्यमंत्री दक्षिण भारतीय राज्य कर्नाटकके मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। भारत के संविधान के अनुसार, राज्यपाल एक राज्य का न्यायपालक है, परन्तु वास्तविक कार्यकारी प्राधिकारी मुख्यमंत्री के होता है। कर्नाटक विधान सभा के चुनाव के बाद राज्य के गवर्नर आम तौर पर सरकार बनाने के लिए बहुमत सीट वाले पार्टी (या गठबंधन) को आमंत्रित करते है। राज्यपाल मुख्यमंत्री को नियुक्त करते है, जिनका मंत्रिमंडल सामूहिक रूप से विधानसभा के लिए जिम्मेदार है। यह देखते हुए कि उन्हें विधानसभा का विश्वास है, मुख्यमंत्री का कार्यकाल पांच साल के लिए होता है।

१९४७ के बाद से, बाईस लोग मैसूर (१ नवंबर १९७३ से पहले राज्य मैसूर के नाम से जाना जाता था) और कर्नाटक के मुख्यमंत्री रहे हैं। उनमें से अधिकांश भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी के थे, पहले मुख्यमंत्री के चेंगलाराय रेड्डी को मेलाकर। सबसे लंबे समय तक सेवा देने वाले मुख्यमंत्री डी देवराज उर्स थे जिन्होने १९७० के दशक में सात साल से अधिक समय तक कार्यालय सम्भाला।

कर्नाटक में राष्ट्रपति शासन के छह उदाहरण हैं, सबसे हाल ही में २००७-०८ में। वर्तमान मुख्यमंत्री कांग्रेस पार्टी के सिद्धारमैया हैं, जिन्होंने १३ मई २०१३ को शपथ ली थी।

मैसूर और कर्नाटक के मुख्य मंत्री

संपादित करें
#[a] चित्र नाम निर्वाचन क्षेत्र कार्यकाल विधानसभा पार्टी[b]
मैसूर के मुख्यमंत्री
1   के चेंगलाराय रेड्डी लागू नहीं 25 अक्टूबर 1947 30 मार्च 1952 4 साल, 157 दिन स्थापना नहीं हुई भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
2   केंगल हनुमंतैया रामनगर 30 मार्च 1952 19 अगस्त 1956 4 साल, 142 दिन पहली
(1952 के चुनाव)
जारी...
3   कडिदाल मंजप्पा तिर्थहल्ली 19 अगस्त 1956 31 अक्टूबर 1956 73 दिन
मैसूर के मुख्यमंत्री (राज्य के रूप में पहचान मिलने के बाद)
4   एस निजलिंगप्पा मोलाकलमुरु 1 नवम्बर 1956 16 मई 1958 1 साल, 197 दिन ...जारी
1st
(1952)
भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
2nd
(1957)
5   बासप्पा दनप्पा जत्ती जमखांडी 16 मई 1958 14 मार्च 1962 3 साल, 302 दिन
6   शिवलिंगप्पा रुद्रप्पा कांथी हुंगुड 14 मार्च 1962 21 जून 1962 99 दिन तीसरी
(1962)
(4)   एस निजलिंगप्पा शिग्गाँव 21 जून 1962 29 मई 1968 5 साल, 343 दिन
बगलकोट चौथी
(1967)
7   वीरेन्द्र पाटिल चिंचोली 29 मई 1968 18 मार्च 1971 2 साल, 293 दिन भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (संगठन)
  रिक्त[c]
(राष्ट्रपति शासन)
लागू नहीं 19 मार्च 1971 20 मार्च 1972 1 साल, 1 दिन विधानसभा भंग लागू नहीं
8   डी देवराज उर्स हुनसुरु 20 मार्च 1972 31 अक्टूबर 1973 1 साल, 225 दिन 5वीं
(1972)
भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (आर)
कर्नाटक का मुख्यमंत्री[d]
(8) डी देवराज उर्स हुनसुरु 1 नवम्बर 1973 31 दिसम्बर 1977 4 साल, 60 दिन ...जारी
5वीं
(1972)
भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (आर)
  रिक्त[c]
(राष्ट्रपति शासन)
लागू नहीं 31 दिसम्बर 1977 28 फ़रवरी 1978 59 दिन विधानसभा भंग लागू नहीं
(8)   डी देवराज उर्स हुनसुरु 28 फ़रवरी 1978 12 जनवरी 1980 1 साल, 318 दिन 6वीं
(1978)
भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (आई)
9   आर गुंडू राव सोमवारपेट 12 जनवरी 1980 10 जनवरी 1983 2 साल, 363 दिन
10   रामकृष्ण हेगडे कनकपुरा 10 जनवरी 1983 7 मार्च 1985[e] 5 साल, 216 दिन 7वीं
(1983)
जनता पार्टी
बसवनगुडी 8 मार्च 1985 13 अगस्त 1988[f] 8वीं
(1985)
11   सोमप्पा रायप्पा बोम्मई हुबली ग्रामीण 13 अगस्त 1988 21 अप्रैल 1989 281 दिन
  रिक्त[c]
(राष्ट्रपति शासन)
लागू नहीं 21 अप्रैल 1989 30 नवम्बर 1989 193 दिन विधानसभा भंग लागू नहीं
(7)   वीरेन्द्र पाटिल चिंचोली 30 नवम्बर 1989 10 अक्टूबर 1990 314 दिन 9वीं
(1989)
भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
  रिक्त[c]
(राष्ट्रपति शासन)
लागू नहीं 10 अक्टूबर 1990 17 अक्टूबर 1990 7 दिन लागू नहीं
12   सरेकोप्पा बंगरप्पा सोरब 17 अक्टूबर 1990 19 नवम्बर 1992 2 साल, 33 दिन भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
13   वीरप्पा मोइली कार्कल 19 नवम्बर 1992 11 दिसम्बर 1994 2 साल, 22 दिन
14   एच॰ डी॰ देवगौड़ा रामनगर 11 दिसम्बर 1994 31 मई 1996 1 साल, 172 दिन 10वीं
(1994)
जनता दल
15   जे एच पटेल चन्नगिरि 31 मई 1996 11 अक्टूबर 1999 3 साल, 133 दिन
16   एस एम कृष्णा मद्दूर 11 अक्टूबर 1999 28 मई 2004 4 साल, 230 दिन 11वीं
(1999)
भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
17   धरम सिंह जेवर्गी 28 मई 2004 3 फ़रवरी 2006 1 साल, 251 दिन 12वीं
(2004)
18   एच॰ डी॰ कुमारस्वामी रामनगर 3 फ़रवरी 2006 8 अक्टूबर 2007 1 साल, 247 दिन जनता दल (सेक्युलर)
  रिक्त[c]
(राष्ट्रपति शासन)
लागू नहीं 8 अक्टूबर 2007 12 नवम्बर 2007 35 दिन लागू नहीं
19   बी॰ एस॰ येदयुरप्पा शिकारीपुर 12 नवम्बर 2007 19 नवम्बर 2007 7 दिन भारतीय जनता पार्टी
  रिक्त[c]
(राष्ट्रपति शासन)
लागू नहीं 20 नवम्बर 2007 29 मई 2008 191 दिन विधानसभा भंग लागू नहीं
(19)   बी॰ एस॰ येदयुरप्पा शिकारीपुर 30 मई 2008 5 अगस्त 2011 3 साल, 67 दिन 13वीं
(2008)
भारतीय जनता पार्टी
20   सदानन्द गौड़ा विधान परिषद् सदस्य 5 अगस्त 2011 12 जुलाई 2012 342 दिन
21   जगदीश शेट्टार हुबली-धारवाड सेंट्रल 12 जुलाई 2012 13 मई 2013 305 दिन
22   सिद्दारमैया वरुण 13 मई 2013 17 मई 2018 5 साल, 4 दिन 14वीं
(2013)
भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
(19)   बी॰ एस॰ येदयुरप्पा शिकारीपुर 17 मई 2018 23 मई 2018 6 दिन 15वीं
(2018)
भारतीय जनता पार्टी
(18)   एच॰ डी॰ कुमारस्वामी चन्नपटण 23 मई 2018 26 जुलाई 2019 1 साल, 64 दिन जनता दल (सेक्युलर)
(19)   बी॰ एस॰ येदयुरप्पा शिकारीपुर 26 जुलाई 2019 28 जुलाई 2021 2 साल, 2 दिन भारतीय जनता पार्टी
23   बसवराज बोम्मई शिग्गाँव 28 जुलाई 2021 20 मई 2023 1 साल, 296 दिन
(22)   सिद्दारमैया वरुण 20 मई 2023 पदस्थ 1 साल, 55 दिन 16वीं
(2023)
भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस

टिप्पणियाँ

संपादित करें
  1. संख्या के कोष्टक में लिखे होने का अर्थ है कि पदस्थ व्यक्ति पहले भी इस पद पर रह चुका है।
  2. इस स्तम्भ में केवल मुख्यमंत्री की पार्टी का नाम है। उनकी सरकार कुछ पार्टियों और निर्दलियों एक मिश्रित गठबंधन हो सकती है; उन सभी की सूची यहाँ नहीं दी गयी है।
  3. राष्ट्रपति शासन तब लगायाज जा सकता है जब राज्य सरकार संविधान के अनुसार काम करने में अक्षम हो, जो सामान्यतः तब होता है जब कोई भी पार्टी अथवा गठबंधन विधानसभा में बहुमत प्राप्त नहीं कर पाता है। जाब राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू होता है तब राज्य का मंत्रिमंडल भंग रहता है। इस स्थिति में मुख्यमंत्री की कुर्सी रिक्त रहती है और प्रशासन राज्यपाल के हाथ में चला जाता है, जो केन्द्र सरकार के प्रतिनिधि के रूप में काम करता है। कभी-कभी ऐसी स्थिति में विधानसभा भी भंग कर दी जाती है।[1]
  4. 1 नवम्बर 1973 को, मैसूर राज्य का नाम बदलकर कर्नाटक कर दिया गया। अतः देवराज उर्स 20 मार्च 1972 से 31 अक्टूबर 1973 तक मैसूर राज्य के मुख्यमंत्री रहे और बाद में कर्नाटक के मुख्यमंत्री बन गये।
  5. फ्रॅण्टलाइन पत्रिका के अनुसार, "वर्ष 1984 के आम चुनाव में जनता पार्टी की खराब प्रदर्शन (28 में से केवल 4 सीटों पर जीत) के कारण हेगड़े ने यह कहते हुये त्यागपत्र दे दिया कि उनकी पार्टी अपनी लोकप्रियता खो चुकी है। प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने उन्हें कार्यवाहक सरकार के मुखिया के रूप में काम जारी रखने को कहा। वर्ष 1985 के विधनसभा चुनाव में जनता पार्टी पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता में आ गयी।"[2]
  6. फ्रॅण्टलाइन के अनुसार, हेगड़े ने "फ़रवरी 1986 में कर्नाटक अरैक बॉटलिंग अनुबंध को सरकार के तरिके को लेकर कर्नाटक उच्च न्यायालय ने सरकार की निंदा की।"[2] "अपनी पार्टी के विधायकों के दवाब में" कुछ दिनों बाद उन्होंने अपना त्यागपत्र वापस ले लिया।"[3]
  1. के॰ दिवांजी, अम्बेरिश (15 मार्च 2005). "A dummy's guide to President's rule". रीडिफ.कॉम.
  2. मेनन, पार्वती (13 फ़रवरी 2004). "A politician with elan: Ramakrishna Hegde, 1926–2004". फ्रॅण्टलाइन. अभिगमन तिथि 8 जनवरी 2024.
  3. जयराम, ए॰ (13 जनवरी 2004). "Pillar of anti-Congress movement". द हिन्दू. अभिगमन तिथि 8 जनवरी 2024.