झाबुआ

झाबुआ जिले, इंदौर संभाग, मध्य प्रदेश, भारत में मानव बस्ती

झाबुआ मध्य प्रदेश प्रान्त का एक शहर है। समुद्र की सतह से इसकी ऊँचाई १,१७१ फुट है। यह बहादुरसागर नामक झील के किनारे स्थित है। झील के उत्तरी किनारे पर स्थित राजा का महल मिट्टी की दीवार से घिरा है।

झाबुआ
—  city  —
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश Flag of India.svg भारत
राज्य मध्य प्रदेश
ज़िला झाबुआ
जनसंख्या 30,577 (2001 के अनुसार )
क्षेत्रफल
ऊँचाई (AMSL)

• 318 मीटर (1,043 फी॰)

निर्देशांक: 22°46′N 74°36′E / 22.77°N 74.6°E / 22.77; 74.6

झाबुआ भूतपूर्व मध्य भारत में एक राज्य (रियासत) भी था। इसका क्षेत्रफल १,३३६ वर्ग मील था। अनस यहाँ की प्रमुख नदी है। माही नदी के आसपास के भाग में कृषि होती थी। यहाँ का 'घाटा' कहलानेवाला पर्वतीय भाग अनुपजाऊ है। मक्का, धान, चना, गेहूँ, ज्वार, कपास यहाँ की प्रमुख उपज हैं।

इतिहाससंपादित करें

प्रथम भील राजा कसुमर थे । पहले झाबुआ वनांचल पांच भागों में विभाजित था जिसका सबसे बड़ा भाग भगोर रियासत थी झाबुआ में प्रथम भील राजा कसुमर थे जिनकी पूजा की जाती है ।<[1]

[2]


1300ई▪ मे झाबुआ पर भील राजा शुक भील का शासन रहा। शुक भील और धोलिया राजपूतो के संबंध अच्छे थे। राजा शुक़ भील ने धोलिया राजपूत सरदार के साथ मिलकर गुजरात के राजा को परास्त कर दिया , तब दिल्ली के बादशाह ने भील राजा के खिलाफ युद्ध छेड़ा [3]

आवागमनसंपादित करें

वायु मार्ग

इंदौर का देवी अहिल्याबाई होल्कर विमानक्षेत्र यहां का नजदीकी एयरपोर्ट है। यह एयरपोर्ट देश के अनेक बड़ों शहरों से वायुमार्ग द्वारा जुड़ा है। इंदौर यहां से करीब 150 किलोमीटर दूर है।

रेल मार्ग

मेघनगर रेलवे स्टेशन झाबुआ का नजदीकी प्रमुख रेलवे स्टेशन है। देश के अनेक बड़े शहरों से यह रेलवे स्टेशन जुड़ा हुआ है। इसके अलावा रतलाम,दाहोद रेलवे स्टेशन भी नजदीक ही है।

सड़क मार्ग

राष्ट्रीय राजमार्ग 47 झबुआ को अन्य शहरों से जोड़ता है। मध्य प्रदेश और अन्य पड़ोसी राज्यों के अनेक शहरों से यहां के लिए नियमित बसें चलती हैं।

सन्दर्भसंपादित करें

https://web.archive.org/web/20190604114117/https://hindi.indiawaterportal.org/node/50009

  1. >साँचा:Cite https://www.google.com/amp/s/mnaidunia.jagran.com/lite/madhya-pradesh/jhabua-jhabua-news-1476259
  2. Empty citation (मदद)
  3. Rsthaura, Ajayasimha (1994). Bhila janajati,siksha an addhunikata. Pancasila prakasans. पृ॰ 27-28. नामालूम प्राचल |url https://books.google.co.in/books?hl= की उपेक्षा की गयी (मदद)

इन्हें भी देखेंसंपादित करें