इन्दौर

भारत में मध्य प्रदेश में स्थित एक शहर
(इंदौर से अनुप्रेषित)

इन्दौर भारत के मध्य प्रदेश राज्य का एक नगर है। जनसंख्या की दृष्टि से यह मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा शहर है, २०११ जनगणना, के अनुसार २१,६७,४४७[2] लोगों की आबादी सिर्फ ५३० वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में वितरित है। यह मध्यप्रदेश में सबसे अधिक घनी आबादी वाला शहर भी है। यह भारत में टीयर-2 शहरों के अन्तर्गत आता है। इंदौर महानगरीय क्षेत्र (शहर व आसपास के इलाके) की आबादी २१ लाख लोगों के साथ राज्य में सबसे अधिक है। यह इन्दौर जिला तथा इन्दौर संभाग दोनों के मुख्यालय के रूप में कार्य करता है। यह मध्य प्रदेश राज्य की वाणिज्यिक राजधानी भी कहलाती है। इसके साथ ही यह नगर न केवल मध्य प्रदेश बल्कि देश के अन्य क्षेत्रों के लिये शिक्षा के एक केन्द्र के रूप में प्रसिद्ध है। भारत के स्वतन्त्र होने के पूर्व यह यह इन्दौर रियासत की राजधानी था।[3] मालवा पठार के दक्षिणी छोर पर स्थित इंदौर शहर, राज्य की राजधानी भोपाल से १९० किमी पश्चिम में स्थित है।

इन्दौर
महानगर
Skyline of इन्दौर
इन्दौर की मध्य प्रदेश के मानचित्र पर अवस्थिति
इन्दौर
इन्दौर
इन्दौर की भारत के मानचित्र पर अवस्थिति
इन्दौर
इन्दौर
निर्देशांक: 22°43′0″N 75°50′50″E / 22.71667°N 75.84722°E / 22.71667; 75.84722निर्देशांक: 22°43′0″N 75°50′50″E / 22.71667°N 75.84722°E / 22.71667; 75.84722
देशभारत
राज्यमध्य प्रदेश
जिलाइन्दौर
शासन
 • महापौरमालिनी गौड़
जनसंख्या (2011)[1]
 • महानगर19,64,086
 • घनत्व5,100 किमी2 (13,000 वर्गमील)
 • महानगर21,67,447
समय मण्डलआइएसटी (यूटीसी+5:30)

इंदौर को उज्जैन से ओंकारेश्वर की ओर जाने वाले नर्मदा नदी घाटी मार्ग पर एक व्यापार बाजार के रूप में स्थापित किया गया था, वहीं इंद्रेश्वर मंदिर (1741) का निर्माण किया गया, जहाँ से ही पहले इंदूर और बाद में इन्दौर नाम प्राप्त हुआ। मराठा काल में बाजीराव पेशवा ने इस क्षेत्र पर अधिकार प्राप्त कर, अपने सेनानायक मल्हारराव होलकर को यहां का जमींदार बना दिया, जिन्होंने होलकर राजवंश की नींव डाली। होलकर वंश का शासनकाल भारत के स्वतंत्र होने तक रहा। यह मध्य प्रदेश में शामिल होने से पहले ब्रिटिश सेंट्रल इंडिया एजेंसी और मध्य भारत की ग्रीष्मकालीन राजधानी (1948–56) भी था। खान (कान्ह) नदी के तट पर बनी कृष्णापुरा छत्रियाँ, होलकर शासकों को समर्पित हैं।

ब्रिटिश काल के समय से ही इन्दौर को एक औद्योगिक शहर के रूप में विकसित किया जाता रहा है। यहाँ लगभग ५,००० से अधिक छोटे-बडे उद्योग हैं। पीथमपुर औद्योगिक क्षेत्र में ४०० से अधिक उद्योग हैं और इनमे १०० से अधिक अंतर्राष्ट्रीय सहयोग के उद्योग हैं। पीथमपुर औद्योगिक क्षेत्र के प्रमुख उद्योग व्यावसायिक वाहन बनाने वाले व उनसे सम्बन्धित उद्योग हैं, इसे "भारत का डेट्राइट" भी कहा जाता है। भारत का तीसरा सबसे पुराना शेयर बाजार, मध्यप्रदेश स्टॉक एक्सचेंज इंदौर में स्थित है।

औद्योगिक शहर होने के साथ-साथ इन्दौर शिक्षा का भी केन्द्र बन के उभरा है। यह भारत का एकमात्र शहर है, जहाँ भारतीय प्रबन्धन संस्थान (आईआईएम इन्दौर) व भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी इन्दौर) दोनों स्थापित हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के "स्मार्ट सिटी मिशन" में १०० भारतीय शहरों को चयनित किया गया है जिनमें से इन्दौर भी एक स्मार्ट सिटी के रूप में विकसित किया जाएगा।[4] स्मार्ट सिटी मिशन के पहले चरण के अंतर्गत २० शहरों को स्मार्ट सिटी के रूप में विकसित किया जायेगा और इंदौर भी इस प्रथम चरण का हिस्सा है।[5] 2020 के स्वच्छ सर्वेक्षण से लगातार चौथी बार के परिणामों में इन्दौर भारत का सबसे स्वच्छ नगर रहा है।[6][7][8][9]

नाम व्युत्पत्तिसंपादित करें

उज्जैन पर विजय पाने की राह में, राजा इंद्र सिंह ने काह्न नदी (आधुनिक नाम कान (Kahn) और विकृत नाम खान) के निकट एक शिविर रखी और वे इस जगह की प्राकृतिक हरियाली से बहुत प्रभावित हुए।

इस प्रकार वह नदियों काह्न और सरस्वती के संगम की जगह पर एक शिवलिंग रखी और १७३१ ई. में इन्द्रेश्वर मंदिर का निर्माण प्रारम्भ किया। साथ ही इंद्रपुर की स्थापना की गई। कई वर्षों बाद जब पेशवा बाजीराव-१ द्वारा, मराठा शासन के तहत, इसे मराठा सूबेदार 'मल्हार राव होलकर' को दिया गया था तब से इसका नाम इन्दूर पड़ा। ब्रिटिश राज के दौरान यह नाम अपने वर्तमान रूप इंदौर में बदल गया था।

इतिहाससंपादित करें

 
तुकाजी राव होल्कर द्वितीय, इन्दौर, १८५७

१६वीं सदी के दक्कन (दक्षिण) और दिल्ली के बीच एक व्यापारिक केंद्र के रूप में इन्दौर का अस्तित्व था। १७१५ में स्थानीय जमींदारों ने इन्दौर को नर्मदा नदी घाटी मार्ग पर व्यापार केन्द्र के रूप में बसाया था।

अठारहवीं सदी के मध्य में मल्हारराव होल्कर ने पेशवा बाजीराव प्रथम की ओर से अनेक लड़ाइयाँ जीती थीं। मालवा पर पूर्ण नियंत्रण ग्रहण करने के पश्चात, १८ मई १७२४ को इंदौर मराठा साम्राज्य में सम्मिलित हो गया था। १७३३ में बाजीराव पेशवा ने इन्दौर को मल्हारराव होल्कर को पुरस्कार के रूप में दिया था। उसने मालवा के दक्षिण-पश्चिम भाग में अधिपत्य कर होल्कर राजवंश की नींव रखी और इन्दौर को अपनी राजधानी बनाया। उसकी मृत्यु के पश्चात दो अयोग्य शासक गद्दी पर बैठे, किन्तु तीसरी शासिका अहिल्या बाई (१७५६-१७९५ ई.) ने शासन कार्य बड़ी सफलता के साथ निष्पादित किया। जनवरी १८१८ में इन्दौर ब्रिटिश शासन के अधीन हो गया। यह ब्रिटिश मध्य भारत संस्था का मुख्यालय एवं मध्य भारत की ग्रीष्मकालीन राजधानी (१९५४-५६) था। इन्दौर में होल्कर नरेशों के प्रासाद उल्लेखनीय हैं।

ब्रिटिश राज के दिनों में, इन्दौर रियासत एक १९ गन सेल्यूट (स्थानीय स्तर पर २१) रियासत था, जो की उस समय एक दुर्लभ उच्च श्रेणी थी। अंग्रेजी काल के दौरान में भी यह होलकर राजवंश द्वारा शासित रहा। भारत के स्वतंत्र होने के कुछ समय बाद, यह भारत अधिराज्य में विलय कर दिया गया। इंदौर १९५० से १९५६ तक मध्य भारत की राजधानी के रूप में भी रहा।

मराठा राज (होलकर युग)संपादित करें

 
इंदौर के महाराज तुकोजीराव होलकर तृतीय (१८९०-१९७८)

शहर में बढ़ रही व्यावसायिक गतिविधियों के कारण स्थानीय परगना मुख्यालय कम्पेल से इंदौर के लिए १७२० में स्थानांतरित कर दिया गया। १८ मई १७२४ को , निज़ाम ने बाजीराव प्रथम द्वारा क्षेत्र से चौथ (कर) इकट्ठा करने के लिए मंज़ूरी दे दी। १७३३ में, पेशवा ने मालवा का पूर्ण नियंत्रण ग्रहण किया, और कमांडर मल्हारराव होलकर प्रान्त के सूबेदार (राज्यपाल) के रूप में नियुक्त किया।[10] नंदलाल चौधरी ने मराठों का आधिपत्य स्वीकार[11] कर लिया। मराठा शासन के दौरान, चौधरीयों को "मंडलोई" (मंडल से उत्पत्ति) के रूप में जाना जाने लगा। होलकरों ने नंदलाल के परिवार को राव राजा"[12] की विभूति प्रदान की।[13] साथ ही साथ होलकर शासकों दशहरा पर होलकर परिवार से पहले "शमी पूजन" करने की अनुमति भी दे दी।

२९ जुलाई १७३२, बाजीराव पेशवा प्रथम ने होलकर राज्य में '२८ और आधा परगना' में विलय कर दी जिससे मल्हारराव होलकर ने होलकर राजवंश की स्थापना की। उनकी पुत्रवधू देवी अहिल्याबाई होलकर ने १७६७ में राज्य की नई राजधानी महेश्वर में स्थापित की। लेकिन इंदौर एक महत्वपूर्ण व्यापारिक और सैन्य केंद्र बना रहा।

ब्रिटिश काल (इंदौर/होलकर रियासत)संपादित करें

 
इंदौर के महाराज यशवन्त राव द्वितीय होलकर बहादुर, ९ मई १९३०

१८१८ में, तीसरे आंग्ल-मराठा युद्ध के दौरान, महिदपुर की लड़ाई में होलकर, ब्रिटिश से हार गए थे, जिसके परिणामस्वरूप राजधानी फिर से महेश्वर से इंदौर स्थानांतरित हो गयी। इंदौर में ब्रिटिश निवास स्थापित किया गया, लेकिन मुख्य रूप से दीवान तात्या जोग के प्रयासों के कारण होलकरों ने इन्दौर पर एक रियासत के रूप में शासन करना जारी रखा। उस समय, इंदौर में ब्रिटिश मध्य भारत एजेंसी का मुख्यालय स्थापित किया गया। उज्जैन मूल रूप से मालवा का वाणिज्यिक केंद्र था। लेकिन जॉन मैल्कम जैसे ब्रिटिश प्रबंधन अधिकारियों ने इंदौर को उज्जैन के लिए एक विकल्प के रूप में बढ़ावा देने का फैसला किया, क्योंकि उज्जैन के व्यापारियों ने ब्रिटिश विरोधी तत्वों का समर्थन किया था।[14]

१९०६ में शहर में बिजली की आपूर्ति शुरू की गई, १९०९ में फायर ब्रिगेड स्थापित किया गया और १९१८ में, शहर के पहले मास्टर-योजना का उल्लेख वास्तुकार और नगर योजनाकार, पैट्रिक गेडडेज़ द्वारा किया गया था। (१८५२-१८८६) की अवधि के दौरान महाराजा तुकोजी राव होलकर द्वितीय के द्वारा इंदौर के औद्योगिक व नियोजित विकास के लिए प्रयास किए गए थे। १८७५ में रेलवे की शुरूआत के साथ, इंदौर में व्यापार महाराजा तुकोजीराव होलकर तृतीय, यशवंतराव होलकर द्वितीय, महाराजा शिवाजी राव होलकर के शासनकाल तक तरक्की करता रहा।

आजादी के पश्चातसंपादित करें

१९४७ में भारत के स्वतंत्र होने के कुछ समय बाद, अन्य पड़ोसी रियासतों के साथ साथ इस रियासत ने भारतीय संघ को स्वीकार कर लिया।[15] १९४८ में मध्य भारत के गठन के साथ इंदौर, राज्य की ग्रीष्मकालीन राजधानी बन गया। परन्तु १ नवंबर, १९५६ को मध्यप्रदेश राज्य के गठन[16] के साथ, राजधानी को भोपाल स्थानांतरित कर दिया गया। इंदौर, लगभग २१ लाख निवासियों के एक शहर आज, एक पारंपरिक वाणिज्यिक शहरी केंद्र से राज्य की एक आधुनिक गतिशील वाणिज्यिक राजधानी में परिवर्तित हो गया है।

भूगोलसंपादित करें

इंदौर मालवा पठार के दक्षिणी किनारे पर मध्य प्रदेश के पश्चिमी क्षेत्र में स्थित है। क्षिप्रा नदी की सहायक नदियों, सरस्वती और कान (खान) नदियों, पर स्थित हैं और समुद्र तल से औसत ऊंचाई के ५५३.०० मीटर है। यह एक ऊंचा मैदान है जिसके दक्षिण पर विंध्य रेंज है।

यशवंत झील के अलावा, वहाँ कई झील जैसे की सिरपुर टैंक, बिलावली तालाब, सुखनिवास झील और पिपलियापाला तालाब सहित शहर को पानी की आपूर्ति कर रहे हैं। शहर क्षेत्र में मिट्टी मुख्य रूप से काली है। उपनगरों में, मिट्टी काफी हद तक लाल और काले रंग की है। क्षेत्र के अंतर्निहित चट्टान काली बेसाल्ट से बनी है, और उनके अम्लीय और बुनियादी वेरिएंट क्रीटेशयस युग तक जाते हैं। इस क्षेत्र को भारत के भूकंपीय जोन तृतीय क्षेत्र के रूप में वर्गीकृत किया गया है, जिसके अनुसार रिक्टर पैमाने पर ६.५ व ऊपर की तीव्रता के एक भूकंप उम्मीद की जा सकती है।

पश्चिम में, पीथमपुर और बेटमा जैसे शहरों के साथ इंदौर ज़िले की सीमा धार के प्रशासनिक जिले के साथ लगी हुई हैं; और साथ ही उत्तर-पश्चिम में हातोद व देपालपुर; उत्तर की ओर सांवेर की उज्जैन जिले के साथ; पूर्वोत्तर में माँगलिया सड़क की देवास ज़िले के साथ; दक्षिण पूर्व में सिमरोल; दक्षिण में महू, और मानपुर की सीमा खंडवा जिले के साथ। इन शहरों (और कुछ बड़े पास के उपनगरों, जैसे राऊ, अहिरखेड़ी, हुकमाखेड़ी, खंडवा नाका, कनाड़िया, रंगवासा, पालदा, सिहांसा) को मिलाकर इंदौर एक सन्निहित निर्मित शहरी क्षेत्र इंदौर महानगर क्षेत्र कहलाता है। जो की एक अनौपचारिक प्रशासनिक जिला माना जाता है।

जलवायुसंपादित करें

इंदौर में नम उपोष्णकटिबंधीय जलवायु है। तीन अलग मौसम होते है: गर्मी, वर्षा और शीत ऋतु। ग्रीष्मकाल मार्च के मध्य में शुरू होता हैं और अप्रैल और मई में बेहद गर्म होता है। कई बार दिन का तापमान 48 °से. (118 °फ़ै) तक चला जाता हैं। लेकिन उमस बहुत कम रहती है, गर्मियों में औसत तापमान 38 °से. (100 °फ़ै) से भी उच्च जा सकता हैं।

शीत ऋतु मध्यम और आमतौर पर सूखी होती है, और औसत तापमान १०°-१५° सेल्सियस रहती है।

इंदौर में जुलाई-सितम्बर में दक्षिणपूर्व मानसून के चलते 185 से 360 मिलीमीटर (7.3 से 14.2 इंच) की मध्यम वर्षा होती है। वर्षा, मध्य जून से मध्य सितंबर तक होती है, बारिश का 95% मानसून के मौसम के दौरान होते हैं।


इंदौर (१९७१-१९९०) के जलवायु आँकड़ें
माह जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितम्बर अक्टूबर नवम्बर दिसम्बर वर्ष
उच्चतम अंकित तापमान °C (°F) 33.9
(93)
37.9
(100.2)
41.1
(106)
44.6
(112.3)
46.0
(114.8)
45.8
(114.4)
39.9
(103.8)
35.8
(96.4)
37.4
(99.3)
37.8
(100)
37.1
(98.8)
32.9
(91.2)
46.0
(114.8)
औसत उच्च तापमान °C (°F) 26.5
(79.7)
28.8
(83.8)
34.3
(93.7)
38.7
(101.7)
40.4
(104.7)
36.2
(97.2)
30.3
(86.5)
28.2
(82.8)
30.9
(87.6)
32.4
(90.3)
29.7
(85.5)
26.9
(80.4)
31.9
(89.4)
दैनिक माध्य तापमान °C (°F) 18.2
(64.8)
20.2
(68.4)
25.3
(77.5)
30.0
(86)
32.4
(90.3)
30.1
(86.2)
26.5
(79.7)
25.1
(77.2)
26.0
(78.8)
25.3
(77.5)
21.8
(71.2)
18.8
(65.8)
25.0
(77)
औसत निम्न तापमान °C (°F) 9.8
(49.6)
11.4
(52.5)
16.2
(61.2)
21.2
(70.2)
24.4
(75.9)
24.1
(75.4)
22.6
(72.7)
21.9
(71.4)
21.1
(70)
18.1
(64.6)
12.2
(54)
10.6
(51.1)
17.9
(64.2)
निम्नतम अंकित तापमान °C (°F) 1.1[17] 2.8
(37)
5.0
(41)
7.8
(46)
16.7
(62.1)
18.9
(66)
18.9
(66)
18.6
(65.5)
9.0
(48.2)
6.2
(43.2)
5.6
(42.1)
1.1
(34)
−2.8
(27)
औसत वर्षा मिमी (inches) 4
(0.16)
3
(0.12)
1
(0.04)
3
(0.12)
11
(0.43)
136
(5.35)
279
(10.98)
360
(14.17)
185
(7.28)
52
(2.05)
21
(0.83)
7
(0.28)
1,062
(41.81)
औसत वर्षण दिवस (≥ 1.0 mm) 0.8 0.8 0.3 0.3 1.8 8.6 15.9 18.3 8.6 3.1 1.4 0.6 60.5
औसत सापेक्ष आर्द्रता (%) 46 36 25 23 33 58 79 85 73 50 44 48 50
माध्य मासिक धूप के घण्टे 289.0 275.6 287.6 305.9 326.9 208.6 104.1 79.9 180.6 270.8 274.0 281.3 2,884.3
स्रोत #1: NOAA[18]
स्रोत #2: भारत मौसम विज्ञान विभाग (2010 तक उच्च और निम्न रिकॉर्ड तापमान)[19]

जनसांख्यिकीसंपादित करें


 

इंदौर ज़िले में धर्म [20]██ हिन्दू (80.18%)██ इस्लाम (14.09%)██ जैन (3.25%)██ सिक्ख (1.09%)██ ईसाई (0.64%)██ बौद्ध (0.51%)██ अन्य (0.23%)

इंदौर मध्य प्रदेश में सबसे अधिक आबादी वाला शहर है। मध्य भारत में इंदौर सबसे बड़ा नगर है। भारत की २०११ की जनगणना के अनुसार, इंदौर शहर (नगर निगम के तहत क्षेत्र) की जनसंख्या १९,६४,०८६ है। [21] इंदौर महानगर की आबादी (शहरी व पड़ोसी क्षेत्रों को मिलाकर) २१,६७,४४७ है। [22] २०१० में, शहर वर्ग मील (९७१८ /प्रति वर्ग किमी २५,१७० लोगों की आबादी के घनत्व था), यह सबसे घनी मध्यप्रदेश में १,००,००० से अधिक आबादी वाले सभी नगर पालिकाओं की आबादी प्रतिपादन। वर्ष २०११ की जनगणना के अनुसार, इंदौर शहर ८७.३८% की एक औसत साक्षरता दर ७४% के राष्ट्रीय औसत से अधिक है। पुरुष साक्षरता ९१.८४% थी, और महिला साक्षरता ८२.५५% था। [23] इंदौर की जिला प्रशासन। २००९ इंदौर में लिया, जनसंख्या का १२.७२% उम्र के ६ वर्ष से कम (प्रति २०११ की जनगणना के रूप में) है। जनसंख्या की औसत वार्षिक वृद्धि दर २०११ की जनगणना रिपोर्ट के अनुसार। हिन्दी इंदौर शहर की आधिकारिक भाषा है, और जनसंख्या के बहुमत द्वारा बोली जाती हैं जैसे बुंदेली, मालवी और छत्तीसगढ़ी भी बोली जाती हैं। वक्ताओं में से एक पर्याप्त संख्या के साथ अन्य भाषाएँ जैसे बंगाली, उर्दू, मराठी शामिल हैं, सिंधी और गुजराती[24]

२०१२ के आंकड़ों के अनुसार पाकिस्तानी हिन्दू प्रवासी शहर (कुल राज्य के १०,००० में से) में रहते हैं [25]

अर्थव्यवस्थासंपादित करें

इंदौर सामान और सेवाओं के लिए एक वाणिज्यिक केंद्र है। २०११ में इंदौर का सकल घरेलू उत्पाद $१४,अरब था [26] शहर ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में कई देशों से निवेशकों को आकर्षित करता है।

इंदौर अनाज मंडी, इंदौर संभाग की मुख्य व केन्द्रीय मंडी है, यह सोयाबीन के लिये देश का प्रमुख विपणन केन्द्र है। इसके अलावा यहाँ पर से गेहू, चना, डॉलर चना, सभी प्रकार की दाले, कपास व अन्य सभी फसलों का कारोबार किया जाता है, इंदौर अनाज मंडी से आसपास के जिलो जैसे धार, खरगोन, उज्जैन, देवास आदि के किसान भी जुड़े हुए है।

इंदौर के प्रमुख औद्योगिक क्षेत्र में निम्न सम्मिलित हैं : पीथमपुर (चरण- I,II व III) के आसपास के क्षेत्रों में अकेले १५०० बड़े, मध्यम और लघु औद्योगिक सेट-अप हैं। [27], इंदौर के विशेष आर्थिक क्षेत्र (SEZ लगभग ३००० एकड़),[28], सांवेर औद्योगिक बेल्ट (१००० एकड़), लक्ष्मीबाई नगर औद्योगिक क्षेत्र (औ.क्षे.), राऊ (औ.क्षे.), भागीरथपुरा काली बिल्लोद (औ.क्षे.), रणमल बिल्लोद (औ.क्षे.), शिवाजी नगर भिंडिको (औ.क्षे.), हातोद (औ.क्षे.),[29] क्रिस्टल आईटी पार्क (५.५ लाख वर्गफ़ीट) , आईटी पार्क परदेशीपुरा (१ लाख वर्गफ़ीट) [30]), इलेक्ट्रॉनिक कॉम्प्लेक्स, टीसीएस SEZ, इंफोसिस SEZ आदि है, साथ ही डायमंड पार्क, रत्न और आभूषण पार्क, फूड पार्क, परिधान पार्क, नमकीन क्लस्टर और फार्मा क्लस्टर आदि क्षेत्र भी विकसित किये गये है।

पीथमपुर को भारत के डेट्रॉइट के रूप में जाना जाता है।[31] पीथमपुर औद्योगिक क्षेत्र विभिन्न दवा उत्पादन कम्पनियाँ जैसे इप्का लैबोरेटरीज़, सिप्ला, ल्यूपिन लिमिटेड, ग्लेनमार्क फार्मास्युटिकल्स, यूनिकेम लेबोरेटरीज और बड़ी ऑटो कंपनियों इनमें से प्रमुख फोर्स मोटर्स, वोल्वो आयशर वाणिज्यिक, महिंद्रा वाहन लिमिटेड उत्पादन कर रहे हैं

मध्य प्रदेश स्टॉक एक्सचेंज (MPSE) मूल रूप से १९१९ में स्थापना के बाद से मध्य भारत का एकमात्र शेयर बाज़ार और भारत में तीसरा सबसे पुराना स्टॉक एक्सचेंज है जो कि इंदौर में स्थित है। कुछ ही दिनों पूर्व नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) ने शहर में एक निवेशक सेवा केंद्र की स्थापना की। [32] औद्योगिक रोजगार ने इंदौर के आर्थिक भूगोल को प्रभावित किया। १९५६ में मध्यप्रदेश में विलय के बाद, इंदौर ने उच्च स्तर के उपनगरीय विस्तार और अधिकाधिक कार स्वामित्व का अनुभव किया। कई कंपनियों ने अपेक्षाकृत सस्ते भूमि का फायदा उठाते हुए अपने उद्योगों का विस्तार किया है।

कपड़ा उत्पादन और व्यापार का अर्थव्यवस्था में बहुत समय से योगदान रहा हैं[कृपया उद्धरण जोड़ें], रियल एस्टेट कंपनियों डीएलएफ लिमिटेड, सनसिटी, ज़ी समूह, ओमेक्स, सहारा, पार्श्वनाथ, अंसल एपीआई, एम्मार एमजीएफ ने कई आवासीय परियोजनाओं को इंदौर में शुरू किया है।

इंफोसिस सुपर कॉरिडोर पर एक चरण में १०० करोड़ रुपये के निवेश से इंदौर में एक नया विकास केंद्र स्थापित कर रही है [33] इंफोसिस १३० एकड़ क्षेत्र में इंदौर में अपनी नई कैम्पस खोला है जिससे लगभग १३,००० लोगों को रोजगार देने का वायदा किया है। टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज इंदौर में अपने परिसर का निर्माण कार्य शुरू कर दिया है, सरकार द्वारा भूमि का आवंटन किया गया है [34] कोल्लाबेरा [35] ने भी इंदौर में परिसरों खोलने की योजना की घोषणा की। इन के अलावा, वहाँ कई छोटे और मध्यम आकार सॉफ्टवेयर इंदौर में विकास कंपनियाँ हैं।

यातायातसंपादित करें

सार्वजनिक यातायात की दृष्टि से सन् २००५ तक इन्दौर बहुत पिछड़ा था किन्तु उसके बाद इन्दौर नगर निगम ने नगर बस सेवा आरम्भ की जो भारत में सर्वोत्तम कही जा सकती है। रेल यातायात की दृष्टि से इन्दौर मुख्य रेल मार्ग पर स्थित नहीं है। तथापि यहां से दिल्ली, मुम्बई, कोलकाता, हैदराबाद, पटना, देहरादून तथा जम्मू-तवी के लिये सीधी गाडियाँ उपलब्ध हैं। इन्दौर से सीहोर, भोपाल, खरगोन और खण्डवा के लिये बहुत अच्छी बस सेवा उपलब्ध है।

विमानक्षेत्रसंपादित करें

इंदौर का विमानक्षेत्र इसे भारत के प्रमुख शहरो से हवाई मार्ग से जोड़ता है। यहां से दिल्ली, मुम्बई, कोलकाता, बेंगलुरु, नागपुर, हैदराबाद, कानपुर इत्यादि प्रमुख महानगरों के लिये विमान सेवाएं उपलब्ध हैं, और यहां से दुबई के लिये अंतरराष्ट्रीय विमान सेवाएं भी उपलब्ध है।

रेलवे स्टेशनसंपादित करें

 
इंदौर जंक्शन का पूर्वी प्रवेश द्वार

इंदौर जंक्शन ५० करोड़ (५०० मिलियन) रुपये से अधिक का राजस्व के साथ एक ए-१ (A-1) ग्रेड रेलवे स्टेशन है। सिटी पश्चिम रेलवे की रतलाम रेलवे डिवीजन के अंतर्गत आता है। इंदौर सीधे दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, चेन्नई, पुणे, लखनऊ, कोच्चि, जयपुर, अहमदाबाद और सीहोर आदि जैसे प्रमुख शहरों से जुड़ा है।

मीटर गेज ट्रेन का परिचालन फ़रवरी २०१५ से बंद कर दिया गया। इंदौर-महू अनुभाग अब ब्रॉड गेज करने के लिए उन्नत किया जा रहा है। [36] इंदौर - देवास - उज्जैन विद्युतीकरण जून २०१२ में पूरा कर लिया और रतलाम - इंदौर ब्रॉडगेज रूपांतरण सितंबर २०१४ में पूरा कर लिया गया [37]

प्लैटफॉर्म क्र. १ को ब्रॉड गेज करने के लिए उन्नत किया जा रहा है दो नए प्लेटफार्मों के साथ आधुनिक स्टेशन परिसर राजकुमार रेलवे ओवर ब्रिज के करीब विकसित किया जा रहा है [38]

 
इंदौर जंक्शन का पश्चिमी प्रवेश द्वार

मुख्य जंक्शन को छोड़कर, इंदौर महानगरीय क्षेत्र में ७ अन्य रेलवे स्टेशनों भी हैं जो है:

स्टेशन नाम स्टेशन कोड रेलवे क्षेत्र प्लैटफॉर्म संख्या
लक्ष्मीबाई नगर LMNR पश्चिम रेलवे क्षेत्र
सैफ़ी नगर SFNR पश्चिम रेलवे क्षेत्र
लोकमान्य नगर LMNR पश्चिम रेलवे क्षेत्र
राजेंद्र नगर RJNR पश्चिम रेलवे क्षेत्र
माँगलिया MGG पश्चिम रेलवे क्षेत्र
राऊ RAU पश्चिम रेलवे क्षेत्र

सड़क मार्गसंपादित करें

इन्दौर शहर अपने चारों ओर के शहरों से सड़क मार्ग से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। यहां से आगरा-बॉम्बे राजमार्ग (एनएच ३) होकर गुजरती हैं। शहर के प्रमुख बस-अड्डे हैं:

स्थानीय यातायात
इंदौर सिटी बस
 
इंदौर नगर-बस मार्ग संख्या-७ (तेजाजी नगर से गांधी नगर)

इंदौर में एक अच्छी तरह से विकसित परिवहन प्रणाली है। अटल इंदौर सिटी ट्रांसपोर्ट सर्विसेज लिमिटेड, एक पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप योजना के तहत शहर में बसों और रेडियो टैक्सियां का संचालन करती है। ८४ मार्गों पर, ४२१ बस स्टॉप के साथ, ३६१ बसें संचालित हैं। बसों को उनके मार्ग के अनुसार तीन रंगों नीला, मैजेंटा और नारंगी में रंगा गया है।

इन्दौर बीआरटीएस (आईबस)

इंदौर बीआरटीएस एक बस ​​रैपिड ट्रांजिट प्रणाली है जिसका १० मई २०१३ से परिचालन शुरू किया गया है। यह वातानुकूलित (एसी) बसों के साथ चलती हैं। इन बसों में भी जीपीएस और आईवीआर जैसी सेवाओं जैसे एलईडी प्रदर्शन होते है। यह निरंजनपुर और राजीव गांधी चौराहा के बीच समर्पित गलियारे में चलाई जाती है।

  • सार्वजनिक परिवहन के साथ यहां ऑटो रिक्शा, मारुति वैन और टाटा मैजिक वैन भी संचालित है। कई निजी टैक्सी सेवा जैसे ओला कैब्स, उबर और चार्टर्ड कैब्स (पहले मेट्रो टैक्सी) शहर में संचालित होते हैं।
 
इंदौर की मेट्रो टैक्सी

शिक्षासंपादित करें

शिक्षण संस्थाएँसंपादित करें

इंदौर महाविद्यालयो और विद्यालयो की श्रृंखला के लिए जाना जाता है। इंदौर में एक बड़े छात्र आबादी है और यह मध्य भारत में एक बड़ा शिक्षा का केंद्र है, यह भी मध्य भारत के एजुकेशन हब है [41] इंदौर में अधिकांश प्राथमिक और माध्यमिक स्कूल केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) से मान्यता प्राप्त है। हालांकि, स्कूलों की संख्या में काफी कुछ आईसीएसई बोर्ड, एनआईओएस बोर्ड, CBSEi बोर्ड और राज्य स्तर सांसद के साथ संबद्ध हैं।

डेली कॉलेज, 1882 में स्थापना की, दुनिया में सबसे पुराना सह-शिक्षा बोर्डिंग स्कूलो में से एक है, जो 'मराठा' की केन्द्रीय भारतीय रियासतों के शासकों को शिक्षित करने के लिए स्थापित किया गया था। [42]होलकर विज्ञान महाविद्यालय, आधिकारिक तौर पर सरकार के मॉडल स्वायत्त होलकर साइंस कॉलेज के रूप में जाना जाता है। महाविद्यालय की स्थापना 10 जून, 1891 [43] को शिवाजी राव होलकर द्वारा की गई थी।

इंदौर भारत में एकमात्र शहर है जहाँ भारतीय प्रबन्धन संस्थान (आईआईएम इंदौर) व भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी इंदौर) दोनों स्थापित है।[44]

सोशल वर्क इंदौर स्कूल (ISSW) सामाजिक विज्ञान के क्षेत्र में एक स्कूल है जो दोनों शिक्षा और अनुसंधान के क्षेत्र में कार्य करता है। वर्ष 1951 से पेशेवर सामाजिक कार्यकर्ताओ को प्रशिक्षण प्रदान कर रहा है।

देवी अहिल्या विश्वविद्यालयय, जो "डी ए वी वी" (पूर्व में 'इंदौर विश्वविद्यालय' के रूप में जाना जाता था) के रूप में जाना कई अपने तत्वावधान ऑपरेटिंग कॉलेजों के साथ इंदौर में एक विश्वविद्यालय है। यह शहर के भीतर दो परिसरों, तक्षशिला परिसर (भंवरकुआ चौराहे के पास) में एक और रवींद्र नाथ टैगोर रोड, इंदौर में है। विश्वविद्यालय सहित कई विभागों चलाता इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज (आईएमएस), संगणक विज्ञान एवं सूचना प्रौद्योगिकी का विद्यालय (SCSIT), कानून के स्कूल (एसओएल), इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी (आईईटी), शैक्षिक मल्टीमीडिया रिसर्च सेंटर (EMRC), व्यावसायिक अध्ययन के इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट (आईआईपीएस), फार्मेसी के स्कूल, ऊर्जा और पर्यावरण अध्ययन के स्कूल - एम टेक के लिए प्राइमर स्कूलों में से एक। (ऊर्जा प्रबंधन), पत्रकारिता के स्कूल और फ्यूचर्स अध्ययन और योजना है, जो दो एम टेक चलाता स्कूल। प्रौद्योगिकी प्रबंधन और सिस्टम साइंस एंड इंजीनियरिंग, एमबीए (बिजनेस पूर्वानुमान), और एमएससी में विशेषज्ञता के साथ पाठ्यक्रम। विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संचार में। परिसर में कई अन्य अनुसंधान और शिक्षा विभाग, हॉस्टल, खेल के मैदानों और कैफ़े के घरों।

महात्मा गांधी स्मारक चिकित्सा महाविद्यालय (MGMMC) एक और पुरानी संस्था है, और पूर्व में किंग एडवर्ड मेडिकल कॉलेज के रूप में जाना जाता था [45]श्री गोविन्दराम सेकसरिया प्रौद्योगिकी एवं विज्ञान संस्थान (SGSITS) को 1952 में स्थापित किया गया।


संस्कृतिसंपादित करें

खान-पानसंपादित करें

इंदौर अपने विशिस्ट खान-पान के लिये प्रसिद्ध है। यहाँ के नमकीन, पोहा और जलेबी, चाट (नमकीन), कचोरी (कचौड़ी), गराड़ू, भुट्टे का कीस, सेंव-परमल और साबूदाना खिचड़ी स्वाद में अपनी अलग पहचान बनाये हुए है। मिठाई में मूंग का हलवा, गाजर का हलवा, रबड़ी, मालपुए, फालूदा कुल्फी, गुलाब जामुन, रस-मलाई, रस गुल्ला चाव से खाये जाते है। इसके अलावा विभिन्न रेस्तरां में विभिन्न प्रकार के व्यंजन, और मराठा, मुगलई, बंगाली, राजस्थानी, और एक किस्म का स्थानीय व्यंजन दाल-बाफला काफी प्रसिद्ध है। सराफा बाजार और छप्पन दुकान, इंदौर के एक प्रमुख खाद्य स्थल है। आम तौर पर, नमकीन इंदौर में प्रमुखता से परोसा जाता है। सेंव-परमल यहाँ का प्रसिद नास्ता है। जो की मालवा का नास्ता माना जाता है। हाल ही में मैकडोनल्ड, डोमिनोज़, पिज्जा हट, केएफसी, सबवे, बरिस्ता लवाज़ा और कैफे कॉफी डे जैसी कई राष्ट्रीय कंपनियों ने इंदौर में अपनी शाखाएं खोली है।

मनोरंजन पार्कसंपादित करें

 
अटल बिहारी वाजपेयी क्षेत्रीय पार्क
  • अटल बिहारी वाजपेयी क्षेत्रीय पार्क (पिप्लियापाला पार्क या इंदौर क्षेत्रीय पार्क) के रूप में जाना जाता है, यह इंदौर विकास प्राधिकरण (आईडीए) द्वारा विकसित किया गया है। पार्क के विकास के तालाब और इस टैंक के पास ४२ एकड़ भूमि की भूमि में से ८० एकड़ जमीन पर है। वहाँ एक नहर है, जो पूरे पार्क तालाब के एक बिंदु से शुरू करने और दूसरे भाग में समाप्त शामिल किया गया है। पार्क में आकर्षण, एक संगीतमय फव्वारा शामिल जेट फव्वारा, 'कलाकार गांव, भूलभुलैया, फ्रेंच उद्यान, जैव-विविधता उद्यान, धुंध फव्वारा, फास्ट फूड जोन, नौका विहार, और एक मिनी दो डेक मिलनसार ८० के साथ "मालवा क्वीन" नाम क्रूज कूद लोग, एक रेस्तरां और निजी पार्टी कमरे।

सफ़ेद बाघ, हिमालयी भालू और सफेद मोर, इसकी प्रजातियों के लिए जाना जाता है, इंदौर चिड़ियाघर भी प्रजनन, संरक्षण और जानवरों, पौधों और उनके निवास की प्रदर्शनी के लिए एक केंद्र है।

  • मेघदूत गार्डन शहर के विजयनगर क्षेत्र में स्थित है। यह २००१-०१ में पुनर्निर्मित किया गया था। जमीन मकान लॉन, रोशन और नृत्य के फव्वारे, और सुंदर बगीचों की उपस्थिति। फॉर्च्यून लैंडमार्क और सयाजी होटल इस पार्क के करीब हैं।

सिनेमासंपादित करें

सिनेमा इंदौर में और साथ ही साथ पूरे देश में मनोरंजन का सबसे लोकप्रिय माध्यम है। शहर में कई सिनेमाघर हैं जैसे की:

  • आइनॉक्स (सपना-संगीता रोड)
  • आइनॉक्स (सेंट्रल मॉल, रीगल चौराहा)
  • आइनॉक्स सत्यम (सी२१ मॉल, विजय नगर)
  • कार्निवल सिनेमाज़ (मल्हार मेगा मॉल, विजय नगर)
  • पीवीआर सिनेमाज़ (ट्रेज़र आइलैंड मॉल, दक्षिण तुकोगंज)
  • मधुमिलन (मधुमिलन चौराहा)
  • मंगल बिग सिनेमा (मंगल सिटी, विजय नगर)

मॉलसंपादित करें

इंदौर में कई मॉल, जो दर्शकों के लिए विभिन्न प्रकार और आराम प्रदान करने के लिए मेज़बान है। ट्रेजर आईलैंड, मंगल सिटी मॉल, इंदौर सेंट्रल मॉल, सी२१ मॉल, मल्हार मेगा मॉल, ऑर्बिट मॉल बहुत अच्छी तरह से जाना जाता है। २०११ में, वॉलमार्ट की एक शाखा, नामित बेस्ट प्राइस भी दुकानदारों छूट माल खरीदने के लिए खोला गया। इंदौर मध्य भारत में सबसे अधिक मॉल होने का रिकार्ड बना रही है।[46]

मीडियासंपादित करें

प्रिंट मीडियासंपादित करें

यहाँ से २० हिन्दी दैनिक समाचार पत्र, ७ अंग्रेजी दैनिक समाचार पत्र, २४ साप्ताहिक और मासिक, ४ चतुर्मासिक, २ द्विमासिक पत्रिका, एक वार्षिक कागज, और एक मासिक हिंदी भाषा शैक्षिक "कैम्पस डायरी" नाम अखबार शहर से प्रकाशित हो रहे हैं। भारत की 'पंप उद्योग पर केवल पत्रिका पंप्स भारत और वाल्व पत्रिका वाल्व भारत यहां से प्रकाशित किया जाता है [47] प्रमुख हिंदी अखबारों और राष्ट्रीय मीडिया घरानों का इंदौर में अपना क्षेत्रीय कार्यालय है।

इलेक्ट्रॉनिक मीडियासंपादित करें

रेडियो उद्योग निजी और सरकारी स्वामित्व वाली एफएम चैनलों के शुरू होने के साथ विस्तार किया गया है। निम्न एफ़एम रेडियो चैनल है जो कि शहर में प्रसारण कर रहें हैं।

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा चलाए डिजिटलीकरण के दूसरे चरण के तहत २०१३ में केबल टीवी का डिजिटलीकरण पूर्ण कर दिया था।

सिटी केबल सीटी केबल (City Cable) एक डिजिटल सिटी के ७०% कवरेज के साथ केबल वितरण कंपनी है। मध्य प्रदेश क्षेत्र का प्रधान कार्यालय इंदौर है और सिटी केबल ७ स्थानीय चैनलों भी चलाता है।

इंदौर को प्रकाशीय तन्तु (ऑप्टिकल फ़ाइबर) तारों के एक नेटवर्क के द्वारा कवर किया जाता है। यहाँ लैंडलाइन के तीन ऑपरेटर हैं बीएसएनएल, रिलायंस और एयरटेल। वहीं आठ मोबाइल फोन कंपनियों, जिसमें जीएसएम में निम्न खिलाड़ी में शामिल हैं

जबकि सीडीएमए सेवाओं में बीएसएनएल और रिलायंस हैं। स्टूडियो और ट्रांसमिशन के साथ दूरदर्शन केन्द्र इंदौर जुलाई २००० से शुरू कर दिया गया।

वेब मीडियासंपादित करें

इंदौर से लगभग 75 हिंदी समाचार पोर्टल, 19 अंग्रेजी समाचार पोर्टल चलाये जाते हैं।

खेलसंपादित करें

क्रिकेट शहर में सबसे लोकप्रिय खेलों में से एक है। इंदौर मध्य प्रदेश क्रिकेट संघ (MPCA) और मध्य प्रदेश टेबल टेनिस एसोसिएशन (MPTTA) के लिए घर है और शहर के एक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट ग्राउंड, होलकर क्रिकेट स्टेडियम है। राज्य में पहली बार क्रिकेट वनडे मैच जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम, इंदौर में खेला गया था।

क्रिकेट के अलावा, इंदौर कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं के लिए एक केंद्र है। शहर ने दक्षिण एशियाई चैम्पियनशिप की मेजबानी की और बिलियर्ड तीन दिवसीय राष्ट्रीय ट्रायथलन चैंपियनशिप है, जिसमें लगभग 450 खिलाड़ियों और 250 खेल के 23 राज्यों से संबंधित अधिकारियों को कार्रवाई में भाग लेने के लिए एक मेजबान है। [48]

इंदौर बास्केटबॉल के लिए भी एक पारंपरिक केंद्र है, और एक वर्ग के इनडोर बास्केटबाल स्टेडियम के साथ भारत का पहला नेशनल बास्केटबॉल एकेडमी का घर है। इंदौर में सफलतापूर्वक विभिन्न नेशनल बास्केटबॉल चैंपियनशिप का आयोजन किया गया है। निम्न प्रमुख खेल स्टेडियम में शामिल हैं:

  • बास्केट बॉल - बास्केटबॉल कॉम्प्लेक्स, बास्केट बॉल क्लब
  • क्रिकेट - होल्कर क्रिकेट स्टेडियम, जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम, इंदौर, खालसा स्कूल स्टेडियम, महाराजा स्कूल स्टेडियम
  • लॉन टेनिस - इंदौर टेनिस क्लब, इंदौर रेसीडेंसी क्लब
  • टेबल टेनिस नेहरू स्टेडियम टीटी हॉल, अभय खेल प्रशाल
  • कबड्डी - लकी वांडरर्स
  • शतरंज - एसकेएम शतरंज अकादमी, iLEAD शतरंज अकादमी
  • डाइविंग - नेहरू पार्क

इंदौर के नाम दो गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स दर्ज है, इसे दुनिया में सबसे बड़ी चाय पार्टी के लिए और दुनिया के सबसे बड़े बर्गर बनाने के लिए शामिल किया गया था। [49]

पर्यटन आकर्षणसंपादित करें

स्थानीय पर्यटन आकर्षण
 
इन्दौर का राजवाड़ा
  • राजबाड़ा - यह नगर के बीचोबीच स्थित है। १९८४ के दंगों के समय इसमें आग लग जाने से इसको बहुत क्षति पहुँची थी। उसके बाद इसको कुछ सीमा तक पुनर्निर्मित करने का प्रयत्न किया गया है।
  • कांच मन्दिर - यह एक जैन मन्दिर है जिसमें दीवारों पर अन्दर की तरफ कांच से सजाया गया है।
  • नाहर शाह वली दरग़ाह - हजरत नाहर शाह वली दरगाह इंदौर की सबसे पुरानी दरगाह है और खजराना क्षेत्र में स्थित है।
  • कृष्णपुरा की छतरियाँ - काह्न नदी के किनारे होलकर काल में बनाई गई छतरियां हैं। यह स्थान राजबाड़े से लगभग १०० मीटर की दूरी पर है।
  • खजराना मंदिर - खजराना मंदिर भगवान गणेश का एक सुन्दर मंदिर है। ये मंदिर विजय नगर से पास है। ये मंदिर अहिल्या बाई होलकर ने दक्षिण शैली में बनवाया था। यह मंदिर इन्दौरवासियों की आस्था का केंद्र है। यहाँ पर भगवान गणेश के साथ माता दुर्गा, लक्ष्मी, साईबाबा आदि भगवान के मंदिर है।
 
कृष्णपुरा की छतरियाँ

इसके अलावा अन्य आकर्षण स्थलों में: बड़ा गणपती मन्दिर लालबाग, मल्हार आश्रम, बिजासन माता मन्दिर, अन्नपूर्णा देवी मन्दिर, यशवंत निवास, जमींदार बाडा, हरसिद्धी मंदिर, पंढ़रीनाथ, टाउन हॉल, अहिल्याश्रम, छत्रीबाग, माणिक बाग, सुखनिवास, फूटीकोठी, दुर्गादेवी मंदिर, इमामबाडा, श्री ऋद्धि सिद्धि चिन्तामन गणेश मंदिर आदि शामिल है।


आसपास के पर्यटन आकर्षण

इन्दौर के आस-पास कई प्रमुख पर्यटन स्थल है।

महेश्वर -महेश्वर मध्य प्रदेश राज्य के खरगोन जिले में एक शहर है, और इंदौर से ९० किमी की दूरी पर है। ६ जनवरी १८१८ तक यह इन्दौर रियासत की राजधानी रहीं, फिर मल्हार राव होलकर तृतीय द्वारा राजधानी इंदौर शहर में स्थानांतरित कर दिया गया था। महेश्वर 5वीं सदी के बाद से हथकरघा बुनाई का एक केंद्र रहा है। महेश्वर भारत के हाथ करघा कपड़े परंपराओं में से एक का घर है। यह अपने मंदिरों, नर्मदा घाटों, किले और महलों के लिये जाना जाता है।

मांडवगढ़ या मांडू - माण्डू धार जिले के वर्तमान माण्डव क्षेत्र में स्थित एक नष्ट कर दिया गया किला-शहर है। यह इन्दौर से ९९ किमी दूर स्थित है। मांडू अपने किलों, महलों और प्राकृतिक परिदृश्य के लिए जाना जाता है।

पातालपानी झरना -

 
पाताल पानी झरना, मानसून के समय

यह इंदौर से ३५ किमी दूर, इंदौर के उपनगर महू की ओर स्थित एक झरना है।[50]

सीतला माता झरना - मानसून के दौरान यह झरना पर्यटकों के आकर्षण का केन्द्र बन जाता है। टिनचा झरना - यह झरना भी मानसून के मौसम के दौरान जीवन्त हो उठता है।

उल्लेखनीय व्यक्तिसंपादित करें

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "२०११ भारतीय जनसंख्या सर्वेक्षण". मूल से 21 मार्च 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 23 अप्रैल 2017.
  2. "1 लाख या उससे अधिक आबादी वाले शहरी समूह / शहर" (PDF). अनंतिम जनसंख्या टोटल, भारत की जनगणना 2011. मूल से 2 अप्रैल 2013 को पुरालेखित (PDF). अभिगमन तिथि 14 मार्च 2016.
  3. "इन्दौर - भारतकोश, ज्ञान का हिन्दी महासागर". bharatdiscovery.org. मूल से 24 अप्रैल 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 16 जून 2020.
  4. "100 के बजाय केवल 98 शहरों की घोषणा: स्मार्ट सिटी परियोजना के बारे में सभी सवालों के जवाब दिए". फर्स्टपोस्ट (अंग्रेजी में). मूल से 29 अगस्त 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 28 अगस्त 2015.सीएस1 रखरखाव: नामालूम भाषा (link)
  5. "स्मार्ट सिटी मिशन के तहत पहले २० स्मार्ट शहरों की सूची". द हिन्दू. मूल से 22 फ़रवरी 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 16 फ़रवरी 2016.
  6. "स्वच्छता सर्वेक्षण". मूल से 22 फ़रवरी 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 22 फ़रवरी 2018.
  7. "स्वच्छ शहर के मामले में इंदौर ने मारी बाजी, सीखें इससे कैसे बनता है कोई शहर कचरामुक्त". मूल से 22 फ़रवरी 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 22 फ़रवरी 2018.
  8. "स्‍वच्‍छता सर्वेक्षण 2019: इंदौर ने लगाई हैट्रिक, उत्तराखंड का गौचर 'सर्वश्रेष्ठ गंगा शहर'". जागरण. 2019. मूल से 6 मार्च 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 6 मार्च 2019.
  9. "चौथी बार देश का सबसे स्वच्छ शहर बना मध्य प्रदेश का इंदौर". The Economic Times. 2020-08-20. अभिगमन तिथि 2020-09-26.
  10. मेजर जनरल सर जॉन मैल्कम, मालवा के संस्मरण (१९१२)
  11. "कम्पेल का इतिहास". Rao raja of indore. मूल से 11 अप्रैल 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 अप्रैल 2016.
  12. "राव राजा नंदलाल जी". इंदौर के राव राजा. मूल से 11 अप्रैल 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 अप्रैल 2016.
  13. मेजर जनरल सर जॉन मैल्कम, 'मध्य भारत, प्रथम भाग'-पृष्ठ ६८-७०
  14. अमर फारूकी (१९९८). तस्करी तोड़फोड़ के रूप में: उपनिवेशवाद, भारतीय व्यापारियों, और अफीम की राजनीति , १७९०-१८४३. लेक्सिंगटन. पृ॰ 62-63. मूल से 18 मई 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 17 मार्च 2016.
  15. १९४४ के लिए होलकर राज्य के प्रशासन पर रिपोर्ट - इंदौर (भारत) - गूगल बुक्स. Books.google.co.in. मूल से 3 जनवरी 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 14 मार्च 2016.
  16. मध्यप्रदेश का पुनर्गठन
  17. इंदौर व भोपाल में तापमान इस दशक में न्यूनतम Archived 12 मार्च 2016 at the वेबैक मशीन. (1936 में लिया गया)
  18. "इन्दौर जलवायु अवस्था 1971-1990". नेशनल ओशनिक एंड एटमॉस्फेरिक एडमिनिस्ट्रेशन. अभिगमन तिथि 17 अप्रैल 2015.
  19. "दर्ज अधिकतम और न्यूनतम तापमान, 2010 तक" (PDF). भारत मौसम विज्ञान विभाग. मूल से 15 जनवरी 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 17 अप्रैल 2015.
  20. "इंदौर में धार्मिक वितरण". मूल से 7 मार्च 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि २८ मार्च २०१६.
  21. 20with% भारत के 20UI.xlsx जनगणना, 2011[मृत कड़ियाँ]
  22. "अंतिम जनसंख्या योग, जनगणना 2011, भारत" (PDF). मूल (PDF) से 17 अक्तूबर 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि २८ मार्च २०१६.
  23. "इंदौर सांख्यिकी". मूल से 13 मई 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 फ़रवरी 2016.
  24. "संस्कृति और विरासत". जिला कलेक्टर इंदौर. मूल से 21 फ़रवरी 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 29 जनवरी 2016.
  25. "१,००० पाकिस्तानी हिंदुओं इंदौर की ओर पलायन". द टाइम्स ऑफ इंडिया. मूल से 24 मई 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 14 दिसंबर 2012.
  26. "उच्चतम सकल घरेलू उत्पाद वाले भारत के शीर्ष १५ शहर". In.finance.yahoo.com. २८ सितम्बर २०१२. मूल से 24 जनवरी 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि २७ मार्च २०१६.
  27. "यूनिट्स की सूची". म.प्र.औ.के.वि.नि. इंदौर. मूल से 12 मार्च 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि २७ मार्च २०१६.
  28. "संग्रहीत प्रति" (PDF). मूल (PDF) से 21 फ़रवरी 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 28 मार्च 2016.
  29. "संग्रहीत प्रति". मूल से 10 अगस्त 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 16 जून 2020.
  30. "पार्क का कार्य पूर्ण प्रवाह में". टाइम्स ऑफ इंडिया. मूल से 29 अप्रैल 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि २७ मार्च २०१६.
  31. त्रिवेदी, शशिकांत (९ जून २००४). "पीथमपुर इकाइयों का अंधकारमय भविष्य". बिजनेस स्टैंडर्ड. मूल से 9 अप्रैल 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि २७ मार्च २०१६.
  32. "कानपुर, इंदौर में एनएसई निवेशक सेवा केन्द्रों शुरू करने की तारीख". economictimes.indiatimes.com. मूल से 24 मई 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि २७ मार्च २०१६.
  33. "इंफोसिस अप में 100 करोड़ रुपये की विकास केंद्र स्थापित करने के लिए इंदौर". mydigitalfc.com. मूल से 4 अप्रैल 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि २७ मार्च २०१६.
  34. "टीसीएस इंदौर के लिए भूमि". दैनिक भास्कर. अभिगमन तिथि २७ मार्च २०१६.
  35. "कोलाबेरा ने इंदौर में यूनिट खोलने की इच्छा जताई". दैनिक भास्कर. अभिगमन तिथि २७ मार्च २०१६.
  36. "महू के लिए मीटर गेज पर अंतिम ट्रेन". हिंदुस्तान टाइम्स. ७ फरवरी २०१५. मूल से 24 जुलाई 2015 को पुरालेखित.
  37. "इंदौर रतलाम ब्रॉड गेज चालू किया गया". फ्री प्रेस जर्नल. मूल से 27 जून 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 28 मार्च 2016.
  38. "इंदौर रेलवे स्टेशन पर भीड़". हिंदुस्तान टाइम्स. ६ दिसंबर २०१४. मूल से 22 जुलाई 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 28 मार्च 2016.
  39. "संग्रहीत प्रति". मूल से 23 मार्च 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 17 मार्च 2016.
  40. "संग्रहीत प्रति". मूल से 23 मार्च 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 17 मार्च 2016.
  41. MPAKVN. "इंदौर-तकनीकी और उच्च शिक्षा का एक केंद्र". MPAKVN. मूल से 11 मार्च 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 31 दिसम्बर 2015.
  42. Lord Curzon in India: Being a Selection from His Speeches as Viceroy and Governor-General of India 1898-1905, by George Nathaniel Curzon Curzon, Thomas Raleigh. Published by Macmillan and co., limited, 1906. Page 233. Speech: "4th November, 1905"...."The old Daly College was founded here as long ago as 1881, in the time of that excellent and beloved Political Officer, Sir Henry Daly"...
  43. "इतिहास" (अंग्रेज़ी में). होलकर महाविद्यालय. मूल से 14 मई 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 4 फरवरी 2016.
  44. "इंदौर में आईआईटी-आईआईएम का अनूठा मिश्रण". मूल से 17 अगस्त 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 13 मार्च 2016.
  45. "Indore city govt. website: Mahatma Gandhi Memorial Medical College". मूल से 23 फ़रवरी 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 4 फ़रवरी 2016.
  46. "ट्रेजर आइलैंड मॉल IndoreRocks !!!". www.indorerocks.com. मूल से 7 मई 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि २८ मार्च २०१६.
  47. Indian Journal of Science Communication (Volume 2/ Number 1/ January – June 2003)
  48. "इंदौर की मेजबानी के लिए राष्ट्रीय ट्रायथलन चैंपियनशिप". द हिंदू बिजनेस लाइन, दिनांक 14 दिसंबर 2012. मूल से 15 दिसंबर 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 14 दिसंबर 2012.
  49. "इंदौर में चाय पार्टी". गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स. २४ फ़रवरी २००८. मूल से 12 मार्च 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि ११ मार्च २०१६.
  50. "संग्रहीत प्रति". मूल से 8 मार्च 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 10 मार्च 2016.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें

इन्‍दौर शहर की सरकारी एजेंसियाँ
इन्दौर के बारे में, विकिपीडिया के बन्धुप्रकल्पों पर और जाने:
  शब्दकोषीय परिभाषाएं
  पाठ्य पुस्तकें
  उद्धरण
  मुक्त स्रोत
  चित्र एवं मीडिया
  समाचार कथाएं
  ज्ञान साधन