दाउद या डेविड(ईब्रानी: דוד (दविद) “महबूब”, (१०४०-९६० ई.पू.)) ईब्रानी पवित्र ग्रन्थों के अनुसार, इज़राइल के राजा थे। साऊल के उत्तराधिकारी दाऊद इज़राइल के संवौधिक प्रसिद्ध राजा हैं। तत्कालीन प्रचलित बहुविवाह दाऊद की पारिवारिक झंझटों का मुख्य कारण सिद्ध हुआ। दाऊद को यहूदी, ईसाई और इस्लामी ग्रंथों में ईश्वर का सच्चा भक्त बताया गया है। ईसाई पूजा में प्रयुक्त होने वाले धार्मिक गीत (psalms), उन्ही के द्वारा लिखा, माना गया है। इब्राहीमी धार्मिक मान्यता में दाऊद को महान योद्धा, प्रशासक तथा भवन निर्माता के रूप में न्यायत: लब्धप्रतिष्ठ व्यक्ति के रूप में दर्शाया है। इस्लाम धर्म में भी, दाऊद को एक नबी और पैग़म्बर माना गया है।

डेविड
David SM Maggiore.jpg
Statue of King David (1609–1612) by Nicolas Cordier in the Borghese Chapel of the Basilica di Santa Maria Maggiore in Rome
King of Israel
शासनावधिल. 1010–970 BCE[a]
पूर्ववर्तीIsh-bosheth[3][4]
उत्तरवर्तीसुलैमान
जन्मBethlehem
निधनल. 970 BCE
यरुशलम
संगिनी
संतान
घरानाHouse of David
पिताJesse
माताNitzevet (Talmud)
धर्मयहूदी धर्म
जालवत का सर काट कर उठाते हुए राजा दाऊद, जोसफिन पोलार्ड द्वारा चित्र (1899)

नामकरणसंपादित करें

हिंदी और उर्दू में दाउद का नाम “दाउद” है। इसे अंग्रज़ी उच्चारण में “डेविड” कहा जाता जो हीब्रू भाषा के (דוד [दविद]) आया है। यह नाम अरबी में دود [दवद] बना तथा अरबी से फ़ारसी में "दऊद" बन गया। फिर भारत में “दाउद” या "दाऊद" का उच्चारण पड़ा। वहीँ पश्चिम के तरफ ईब्रानी नाम “दविद” रोमानी में David (उच्चारण: दावीद) बन गया और जैसा रोम भाषा में था ऐसा फ़्रांसीसी, इस्पानी, इतालवी तथा पुरतगाली भाषाओं में था। वहीं अंग्रेज़ी में उच्चारण ने रोमानी उच्चारण से बदल कर "डेविड" का रूप ले लिया।

परिचयसंपादित करें

पुराने नियम में दिए गए कालक्रम के अनुसार, दाऊद, साल 1010-1003 (ई०पू०) में यहूदा के राजा बने तथा साल 1003-970 (ई०पू०) में वे तमाम इज़राइल की संयुक्त राज्य के शाशक बने। दाऊद का उल्लेख, बाइबल में शमूएल की दो किताबें, राजों की पहली किताब और इतिवृतों की पहली किताब में पाया जाता है। यहूदी धर्म में, दाउद का जीवन काल तथा शासन अत्यंत महत्वपूर्ण घटना मानी जाती है। तथा ईसाई धर्म और इस्लाम में भी दाउद के शासन की एक प्रतिकात्मत महत्वता है।

दाऊद और इस्लामसंपादित करें

दाऊद इस्लाम में एक महत्वपूर्ण शख्सियत है, दाऊद ईश्वर द्वारा इजरायल का मार्गदर्शन करने के लिए भेजे गए प्रमुख पैगंबरों में से एक है। डेविड के कुरान में कई बार अक्सर अपने बेटे सुलैमान के साथ अरबी नाम داود, Dāw ,d के साथ उल्लेख किया गया है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

दाऊद का तारासंपादित करें

दाउद के तारे का नाम असल में “दाउद की फरी” (इब्रानी: מגן דוד (मगन-दविद)) वह वर्त्तमान इज़राइल के राष्ट्रीय प्रतीक का चिह्न है।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Nadav Na'aman, "Was Khirbet Qeiyafa a Judahite City?: The Case against It", JHS (2017), pp. 15–16.
  2. H.M. Niemann, "Comments and Questions about the Interpretation of Khirbet Qeiyafa: Talking with Yosef Garfinkel", Journal of Ancient Near Eastern and Biblical Law (2017), p. 255.
  3. Garfinkel, Yosef; Ganor, Saar; Hasel, Michael G. (2018). In the Footsteps of King David: Revelations from an Ancient Biblical City. Thames & Hudson. पृ॰ 182. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-50077428-1. मूल से 2020-10-11 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2020-10-05.
  4. Avioz, Michael (2015). Josephus' Interpretation of the Books of Samuel. Bloomsbury. पृ॰ 99. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780567458575. मूल से 2020-10-11 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2020-10-04.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें



इस्लाम के पैगम्बर कुरान अनुसार
आदम इदरीस नुह हुद सालेह इब्राहीम लूत इस्माइल इशाक याकूब यूसुफ़ अय्यूब  
آدم إدريس نوح هود صالح إبراهيم لوط إسماعيل إسحاق يعقوب يوسف أيوب
आदम (बाइबल) इनोच नोअह एबर शेलह अब्राहम लॉट इश्माएल आइजै़क जैकब जोसफ जॉब

शोएब मूसा हारुन धुल-किफ्ल दाऊद सुलेमान इलियास अल-यासा यूनुस ज़कारिया यहया ईसा मुहम्मद
شُعيب موسى هارون ذو الكفل داود سليمان إلياس إليسع يونس زكريا يحيى عيسى مُحمد
जेथ्रो मोजे़ज़ आरोन एजी़कल डैविड सोलोमन एलीजाह एलीशाह जोनाह जे़करिया जॉन ईशु मसीह पैराच्लीट
  वा  


सन्दर्भ त्रुटि: "lower-alpha" नामक सन्दर्भ-समूह के लिए <ref> टैग मौजूद हैं, परन्तु समूह के लिए कोई <references group="lower-alpha"/> टैग नहीं मिला। यह भी संभव है कि कोई समाप्ति </ref> टैग गायब है।