परमवीर चक्र

भारतीय सैन्य सजावट
(परम वीर चक्र से अनुप्रेषित)

परमवीर चक्र (पीवीसी) भारत का सर्वोच्च शौर्य सैन्य अलंकरण है जो दुश्मनों की उपस्थिति में उच्च कोटि की शूरवीरता एवं त्याग के लिए प्रदान किया जाता है। ज्यादातर स्थितियों में यह सम्मान मरणोपरांत दिया गया है। इस पुरस्कार की स्थापना 26 जनवरी 1950 को की गयी थी जब भारत गणराज्य घोषित हुआ था। भारतीय सेना के किसी भी अंग के अधिकारी या कर्मचारी इस पुरस्कार के पात्र होते हैं एवं इसे देश के सर्वोच्च सम्मान भारत रत्न के बाद सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार समझा जाता है। इससे पहले जब भारतीय सेना ब्रिटिश सेना के तहत कार्य करती थी तो सेना का सर्वोच्च सम्मान विक्टोरिया क्रास हुआ करता था।

परमवीर चक्र



परमवीर चक्र और इसका रिबन (फीता) - भारत का सर्वोच्च सैनिक सम्मान
 भारत द्वारा पुरस्कृत
देश  भारत
प्रकार शौर्य पदक
पात्रता सेना, नौसेना, वायुसेना अथवा रिज़र्व बल, टेरिटोरियल सेना, अथवा विधि दवारा सथापित किसी भी सशस्त्र बल के पुरुष अथवा महिला सैनिक व अधिकारी[1]
देने का कारण "दुश्मन की उपस्थिति में सबसे विशिष्ट बहादुरी या वीरता या आत्म-बलिदान के साहसी या पूर्व-प्रख्यात कार्य, चाहे जमीन पर, समुद्र में, या हवा में।"[1]
स्थति वर्तमान में प्रदत्त
पश्च-नामिक PVC
आंकड़े
स्थापना 26 जनवरी 1950
प्रथम प्रदत्त 3 नवंबर 1947
अंतिम प्रदत्त 6 जुलाई 1999
कुल प्राप्तकर्ता 21
मरणोपरांत
पुरस्कार
14
सुभिन्न
प्राप्तकर्ता
21
अग्रता-क्रम
अगला (निम्नतर) अशोक चक्र[2]

परमवीर चक्र के तीन जीवित विजेता: योगेंद्र सिंह यादव, बाना सिंह और राइफलमैन संजय कुमार (वर्तमान सूबेदार)

लेफ्टिनेंट या उससे कमतर पदों के सैन्य कर्मचारी को यह पुरस्कार मिलने पर उन्हें (या उनके आश्रितों को) नकद राशि या पेंशन देने का भी प्रावधान है। हालांकि पेंशन की न्यून राशि जो सैन्य विधवाओं को उनके पुनर्विवाह या मरने से पहले तक दी जाती है अभी तक विवादास्पद रही है। मार्च 1999 में यह राशि बढ़ाकर 1500 रुपये प्रतिमाह कर दी गयी थी। जबकि कई प्रांतीय सरकारों ने परमवीर चक्र से सम्मानित सैन्य अधिकारी के आश्रितों को इससे कहीं अधिक राशि की पेंशन मुहैय्या करवाती है।

परमवीर चक्र हासिल करने वाले शूरवीरों में सूबेदार मेजर बन्ना सिंह (बाना सिंह) ही एकमात्र ऐसे व्यक्ति थे जो कारगिल युद्ध तक जीवित थे। सूबेदार मेजर बाना सिंह जम्मू कश्मीर लाइट इनफेन्ट्री की आठवीं रेजीमेंट में कार्यरत थे।

डिजाइन विनिर्देश

संपादित करें
 
भारत के 1976 के टिकट पर परमवीर चक्र पदक

पदक एक गोलाकार कांस्य डिस्क है जिसका व्यास 35 मिलीमीटर (1 38 इंच) है। परवर्ती, या सामने, भारत का राष्ट्रीय प्रतीक केंद्र में एक उभरे हुए घेरे पर दिखाई देता है, जो [वज्र]], इंद्र, प्राचीन वैदिक देवताओं के राजा के हथियार की चार प्रतियों से घिरा हुआ है।

पीछे, एक सादे केंद्र के चारों ओर, कमल के फूलों द्वारा अलग की गई दो किंवदंतियाँ हैं। "परमवीर चक्र" शब्द हिंदी और अंग्रेजी में लिखे गए हैं। [3] एक बैंगनी रिबन, 32 मिलीमीटर (1 14 इंच) लंबा, परमवीर चक्र धारण करता है।

परमवीर चक्र हासिल करनेवाले वीरों की सूची

संपादित करें
अनुक्रम संख्या नाम रेजीमेंट तिथि स्थान टिप्पणी
1 IC-521 मेजर सोमनाथ शर्मा चौथी बटालियन, कुमाऊँ रेजीमेंट 3 नवंबर, 1947 बड़गाम, कश्मीर मरणोपरांत
2 IC-22356 लांस नायक करम सिंह पहली बटालियन, सिख रेजीमेंट 13 अक्तूबर, 1948 टिथवाल, कश्मीर
3 SS-14246 सेकेंड लेफ़्टीनेंट राम राघोबा राणे इंडियन कार्प्स आफ इंजिनयर्स 8 अप्रैल, 1948 नौशेरा, कश्मीर
4 27373 नायक यदुनाथ सिंह पहली बटालियन, गार्ड रेजीमेंट 6 फरवरी 1948 नौशेरा, कश्मीर मरणोपरांत
5 2831592 कंपनी हवलदार मेजर पीरू सिंह छठी बटालियन, राजपूताना राइफल्स 17 जुलाई, 1948 टिथवाल, कश्मीर मरणोपरांत
6 IC-8497 कैप्टन गुरबचन सिंह सलारिया तीसरी बटालियन, 1 गोरखा राइफल्स 5 दिसंबर, 1961 एलिजाबेथ विले, कातांगा, कांगो मरणोपरांत
7 IC-7990 मेजर धनसिंह थापा पहली बटालियन, 8 गोरखा राइफल्स 20 अक्तूबर, 1962 लद्दाख
8 JC-4547 सूबेदार जोगिंदर सिंह पहली बटालियन, सिख रेजीमेंट 23 अक्तूबर, 1962 तोंगपेन ला, नार्थ इस्ट फ्रंटियर एजेंसी, भारत मरणोपरांत
9 IC-7990 मेजर शैतान सिंह तेरहवीं बटालियन, कुमाऊँ रेजीमेंट 18 नवंबर, 1962 रेज़ांग ला मरणोपरांत
10 2639885 कंपनी क्वार्टर मास्टर हवलदार अब्दुल हमीद चौथी बटालियन, बाम्बे ग्रेनेडियर्स 10 सितंबर, 1965 चीमा, खेमकरण सेक्टर मरणोपरांत
11 IC-5565 लेफ्टीनेंट कर्नल आर्देशिर तारापोर द पूना हार्स 15 अक्तूबर, 1965 फिलौरा, सियालकोट सेक्टर, पाकिस्तान मरणोपरांत
12 4239746 लांस नायक अलबर्ट एक्का चौदहवीं बटालियन, गार्ड ब्रिगेड 3 दिसंबर, 1971 गंगासागर मरणोपरांत
13 10877 F(P) फ्लाईंग आफिसर निर्मलजीत सिंह सेखों अठारहवीं स्क्वैड्रन, भारतीय वायुसेना 14 दिसंबर, 1971 श्रीनगर, कश्मीर मरणोपरांत
14 IC-25067 लेफ्टीनेंट अरुण क्षेत्रपाल पूना हार्स 16 दिसंबर, 1971 जरपाल, शकरगढ़ सेक्टर मरणोपरांत
15 IC-14608 मेजर होशियार सिंह तीसरी बटालियन, बाम्बे ग्रेनेडियर्स 17 दिसंबर, 1971 बसंतार नदी, शकरगढ़ सेक्टर
16 JC-155825 नायब सूबेदार बन्ना सिंह आठवीं बटालियन, जम्मू कश्मीर लाइट इनफेन्ट्री 23 जून, 1987 सियाचिन ग्लेशियर, जम्मू कश्मीर जीवित
17 IC-32907 मेजर रामास्वामी परमेश्वरन आठवीं बटालियन, महार रेजीमेंट 25 नवंबर, 1987 श्रीलंका मरणोपरांत
18 IC-56959 लेफ्टीनेंट मनोज कुमार पांडे प्रथम बटालियन, 11 गोरखा राइफल्स 3 जुलाई, 1999 ज़ुबेर टाप, बटालिक सेक्टर, कारगिल क्षेत्र, जम्मू कश्मीर मरणोपरांत
19 2690572 ग्रेनेडियर योगेन्द्र सिंह यादव अठारहवीं बटालियन, द ग्रेनेडियर्स 4 जुलाई, 1999 टाइगर हिल्स, कारगिल क्षेत्र जीवित
20 13760533 राइफलमैन संजय कुमार तेरहवीं बटालियन, जम्मू कश्मीर राइफल्स 5 जुलाई, 1999 फ्लैट टाप क्षेत्र, कारगिल जीवित
21 IC-57556 कैप्टन विक्रम बत्रा तेरहवीं बटालियन, जम्मू कश्मीर राइफल्स 6 जुलाई, 1999 बिंदु 5140, बिंदु 4875, कारगिल क्षेत्र मरणोपरांत
  1. "Param Vir Chakra". Gallantry Awards. Indian Army. मूल से 3 मार्च 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 28 August 2014.
  2. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; Precedence Of Medals नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  3. सुमित वालिया (23 जनवरी 2009). "The First Param Vir Chakra". सिफी खबर. मूल से 13 अगस्त 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 13 अगस्त 2014.