उच्च रक्त-चाप के बारे में अधिक जानकारी के लिए अति रक्त दाब देखें.

रक्त चाप (BP), रक्त वाहिकाओं की बाहरी झिल्ली पर रक्त संचार द्वारा डाले गए दबाव (बल प्रति इकाई क्षेत्र) है और यह प्रमुख जीवन संकेतों में से एक है। संचरित रक्त का दबाव, धमनियों और केशिकाओं के माध्यम से हृदय से दूर और नसों के माध्यम से हृदय की ओर जाते समय कम होता जाता है। जब अर्थ सीमित ना हो, तब सामान्यतः रक्त चाप शब्द से तात्पर्य बाहु धमनीय दाब है: अर्थात् बाईं या दाईं ऊपरी भुजा की मुख्य रक्त वाहिका, जो रक्त को हृदय से दूर ले जाती है। तथापि, रक्त चाप को कभी-कभी शरीर के अन्य भागों में भी मापा जा सकता है, जैसे टखनों पर. टखने की मुख्य धमनी से मापा गया रक्त चाप और बाहु रक्त चाप का अनुपात, टखना बाहु चाप सूचकांक (ABPI) दर्शाता है।

स्फिगमोमनोमीटर, धमनीय दाब के मापन में प्रयुक्त एक उपकरण.


मापन संपादित करें

 
एक चिकित्सा छात्र द्वारा स्फिग्मोमनोमीटर और स्टेथस्कोप के उपयोग सहित रक्त-चाप की जांच.

धमनीय चाप को सामान्यतः स्फिग्मोमनोमीटर द्वारा मापा जाता है, जो ऐतिहासिक रूप से संचरित दबाव को दर्शाने के लिए पारे के स्तंभ की ऊंचाई का उपयोग करता है (अवेध्य मापन देखें) .आज भी रक्त चाप का मान पारे के मिलीमीटरों (mmHg) में रिपोर्ट किया जाता है, हालांकि निर्द्रव और इलेक्ट्रॉनिक यंत्रों में पारा प्रयुक्त नहीं होता है।


प्रत्येक धड़कन के लिए, रक्त चापों में प्रकुंचन और अनुशिथिलक दबावों के बीच उतार-चढ़ाव होता है। प्रकुंचन दाब, धमनियों का उच्च दबाव है, जो हृदय-चक्र के अंत में होता है, जब ह्रदय-निलय संकुचित होते हैं। अनुशिथिलक दाब, धमनियों का न्यूनतम दबाव है, जो हृदय-चक्र के आरंभ में होता है जब निलयों में रक्त भरा होता है। एक आरामदेह, स्वस्थ वयस्क आदमी के लिए सामान्यतः मापे गए मान का उदाहरण है 115 mmHg प्रकुंचन और 75 mmHg अनुशिथिलक (जिसे 115/75 mmHg लिखा और (US में) "एक सौ पंद्रह बटे पचहत्तर " कहा जाता है।)नाड़ी दबाव, प्रकुंचन और अनुशिथिलक दाब के बीच का अंतर है।


प्रकुंचन और अनुशिथिलक धमनीय रक्त-चाप स्थिर नहीं होते हैं, किन्तु एक से दूसरे धड़कन के बीच और दिन भर (जैव-चक्रीय आवर्तन में) स्वाभाविक घट-बढ़ होता रहता है। ये तनाव, पोषक तत्त्व, दवाई, बीमारी, कसरत और एकदम खडे होने आदि से भी परिवर्तित होते हैं। कभी- कभी बहुत अधिक घट-बढ़ होता है। उच्च रक्त-चाप, धमनीय दबाव का असामान्य रूप से अधिक होने की ओर इंगित करता है, जबकि इसके विपरीत अल्प रक्त-चाप असामान्य रूप से कम होने का संकेत देता है।शरीर तापमान और नाड़ी-दर के साथ-साथ रक्त-चाप मापन, अति सामान्य शारीरिक मापदंड है।


धमनीय दबाव को वेध्य (त्वचा में चुभा कर और रक्त वाहिकाओं के अंदर माप कर) या अवेध्य तरीक़े से मापा जा सकता है। पहले तरीक़े को सामान्यतः अस्पताल परिवेश तक ही सीमित रखा जाता है।

इकाई संपादित करें

रक्त-चाप मापने की मानक इकाई mmHg (पारे का मिलीमीटर) है। उदाहरण के लिए, सामान्य दाब को 120 बटा 80 लिखा जाता है, जहां 120 प्रकुंचन पाठ्यांक और 80 अनुशिथिलक पाठ्यांक है।


अवेध्य मापन संपादित करें

अवेध्य परिश्रवण (लैटिन सुनना के लिए प्रयुक्त शब्द) और घट-बढ़ मापन, वेध्य मापन से सरल और त्वरित है, जिसे ठीक बैठाने के लिए कम निपुणता की ज़रूरत है, वास्तव में बिना किसी समस्या के और रोगी के लिए कम असुखद और दुखदाई है। तथापि, अवेध्य मापन के परिणाम कम सटीक हो सकते हैं और इसके सांख्यिकी परिणामों में क्रमबद्ध अंतर हो सकता है। साधारणतया नेमी परीक्षणों एवं निगरानी के लिए अवेध्य मापन पद्धति का उपयोग किया जाता है।


स्पर्श-परीक्षण पद्धतियां संपादित करें

न्यूनतम प्रकुंचन मान का कच्चा आकलन बिना किसी उपस्कर के ही स्पर्श-परीक्षण पद्धति द्वारा किया जा सकता है, अधिकांशतः आपात्कालीन स्थितियों में इसका उपयोग किया जाता है। बहिःप्रकोष्ठिक नब्ज़ का स्पर्श परीक्षण न्यूनतम 80 mmHg रक्त चाप को, ऊरू नब्ज़ कम से कम 70 mmHg और ग्रीवा नब्ज़ न्यूनतम 60 mmHg की ओर इंगित करते हैं। तथापि, एक अध्ययन ने यह संकेत दिया कि यह पद्धति सटीक नहीं है और अक्सर रोगी के प्रकुंचन रक्त-चाप को ज़्यादा आंकता है।[1]प्रकुंचन रक्त-चाप का और सटीक मूल्य स्फिग्मोमनोमीटर और बहिःकोष्ठिक नब्ज़ के लौटने पर, स्पर्श-परीक्षण से प्राप्त किया जा सकता है। {3}अनुशिथिलक रक्त-चाप का आकलन इस पद्धति से नहीं किया जा सकता.[2]


परिश्रवण पद्धतियां संपादित करें

 
परिश्रवण पद्धति स्टेथोस्कोप के साथ निर्द्रव स्फिग्मोमनोमीटर
 
पारा दाबांतर मापी

परिश्रवण पद्धति, स्टेथोस्कोप और स्फिग्मोमनोमीटर का उपयोग करती है। इसमें हवा भरने योग्य (रीवा-रॉक्की) कलाई-बंद जिसे बांह के ऊपरी भाग को घेर कर, लगभग ह्रदय की समान खड़ी ऊंचाई पर बांधा जाता है, जो पारे या निर्द्रव दाबांतर मापी से जुडा होता है। पारा दाबांतर मापी, पारे के स्तंभ की ऊंचाई को माप कर परिशुद्ध परिणाम देता है, जिससे अंशांकन की ज़रूरत नहीं होती और परिणामस्वरूप अंशांकन की त्रुटियों एवं खामियों से बचा जा सकता है, जो अन्य पद्धतियों को प्रभावित करती है। पारा दाबांतर मापी के उपयोग की आवश्यकता अक्सर नैदानिक परीक्षणों और अधिक जोखिम वाले रोगियों, जैसे गर्भवती महिलाओं के उच्च रक्त- चाप के नैदानिक मापन के लिए होती है।


सही आकार के कलाई-बंद को सुगमता से और सुव्यवस्थित ढंग से कस दिया जाता है, फिर हाथ से रबड़ के गोले को बार-बार दबा कर, धमनी के अवरुद्ध होने तक हवा भरी जाती है। स्टेथोस्कोप की सहायता से कुहनी में बाहु धमनी की आवाज़ सुनते हुए, परीक्षक कलाई-बंद में दबाव को धीरे से छोड़ता है। जब धमनी में रक्त का बहाव आरंभ होता है, तो अस्त-व्यस्त प्रवाह, "चीत्कार" या धमाका (पहली कोरोत्कॉफ़ ध्वनि) उत्पन्न करता है। जिस दबाव पर सबसे पहले यह ध्वनि सुनी जाती है, वह प्रकुंचन रक्त-चाप है। अनुशिथिलक धमनीय दबाव पर कलाई-बंद से दबाव को और कम कर दिया जाता है जब तक कि कोई ध्वनि (पांचवीं कोरोत्कॉफ़ ध्वनि) सुनाई न दे.कभी-कभी परिश्रवण से पहले, आकलन के लिए दबाव का स्पर्श-परीक्षण (हाथ से महसूस) किया जाता है।


दोलायमान पद्धतियां संपादित करें

दोलायमान पद्धतियों का उपयोग कभी दीर्घ-कालिक मापन में और कभी सामान्य अभ्यास में किया जाता है। यह उपकरण कार्यात्मक रूप से परिश्रवण पद्धति के समान ही है, लेकिन इसमें रक्त प्रवाह को पहचानने के लिए स्टेथोस्कोप और विशेषज्ञ के कानों के इस्तेमाल की जगह, एक इलेक्ट्रॉनिक दाब संवेदक (ट्रांसड्यूसर)लगा होता है। व्याहारिक तौर पर, दाब संवेदक एक अंशांकित इलेक्ट्रॉनिक यंत्र है, जिसमें रक्त-चाप के सांख्यिकीय पाठ्यांकन की सुविधा होती है। सहजतः सटीक पारा दाबांतर मापी की तरह न होकर, इसमें सटीकता को बनाए रखने के लिए अंशांकन की सावधिक जांच की जानी चाहिए. अधिकांश मामलों में कलाई-बंद में बिजली द्वारा परिचालित पंप और वाल्व का प्रयोग किया जाता है, जिसे (हृदय की ऊंचाई तक उठा कर) कलाई पर कसा जाता है, हालांकि ऊपरी बांह को पसंद किया जाता है। उनकी सटीकता में बहुत अंतर होता है और उनकी सावधिक जांच की जानी चाहिए तथा आवश्यक हो तो पुनःअंशांकित किया जाना चाहिए.


परिश्रवण तकनीक की तुलना में दोलायमान मापन में कम कौशल की आवश्यकता होती है और यह अप्रशिक्षित कर्मचारियों के लिए और स्वचालित रोगी घरों की निगरानी के लिए अनुकूल हो सकता है।


कलाई-बंद में पहले प्रकुंचन धमनीय दाब से अधिक दाब उत्पन्न करने के लिए हवा भरी जाती है और बाद में 30 सेकंड की अवधि में अनुशिथिलन दाब से कम हो जाता है। जब रक्त प्रवाह शून्य हो (कलाई-बंद दाब प्रकुंचन दाब से अधिक) या अबाध हो (कलाई-बंद दाब अनुशिथिलन दाब से कम), तब कलाई-बंद दाब निश्चित रूप से स्थिर बना रहता है। यह ज़रूरी है कि कलाई-बंद का आकार सही हो: छोटे आकार वाले कलाई-बंद से अधिक रक्त-चाप प्रतिफलित होने की संभावना है, जबकि बड़े आकार वाले कलाई-बंद से बहुत कम रक्त-चाप प्रतिफलित हो सकता है। जब रक्त-प्रवाह विद्यमान हो, पर वह सीमित हो, तब कलाई-बंद दाब, जिसकी जांच दाब संवेदक द्वारा होती है, बाहु धमनी के संकुचन और प्रसार चक्र के साथ आवधिक तौर पर परिवर्तित होता है, अर्थात्, डोलता है। प्रकुंचन और अनुशिथिलन दाबों के मानों का परिकलन किया जाता है, कलन-विधि के उपयोग द्वारा आंकडों से सीधे न मापते हुए; परिकलित परिणामों को दर्शाया जाता है।


दोलायमान जांच, हृदय और रक्त-संचार संबंधी समस्या वाले रोगियों के, जिनमें शामिल हैं धमनीय स्क्लेरॉसिस, अर्रीथमिया, प्रीरक्लैंपसिया, पल्सस आल्टरनन्स और पल्सस पैराडॉक्सस, ग़लत पाठ्यांकन दे सकती है।


व्यावहारिक तौर पर विविध पद्धतियां एकसमान परिणाम नहीं देती हैं; दोलायमान परिणामों के समायोजन के लिए कलन-विधि और प्रायोगिक तौर पर प्राप्त गुणांकों का इस्तेमाल किया जाता है, ताकि जहां तक संभव हो परिश्रवण परिणामों से मेल खाने वाले पाठ्यांकन दे सकें. कुछ उपकरण प्रकुंचन, माध्यम और अनुशिथिलन बिन्दुओं के निर्धारण के लिए तात्कालिक धमनीय दाब तरंगरूप के कंप्यूटर-सहायक प्राप्त विश्लेषण का उपयोग करते हैं। चूंकि कई दोलायमान यंत्रों को विधिमान्य नहीं किया गया है और उनमें अधिकांशतः नैदानिक एवं गहन देख-रेख वाली स्थितियों के अनुकूल नहीं है, सावधानी बरतना आवश्यक है।


अवेध्य रक्त-चाप के लिए NIBP शब्द का प्रयोग दोलायमान जांच उपकरणों को परिभाषित करने के लिए किया जाता है।


वेध्य मापन संपादित करें

धमनीय रक्त चाप (BP) का सटीक मापन धमनीय रेखा के वेधन द्वारा किया जाता है। अंतर्वाहिका नलिका से वेध्य धमनीय दाब के मापन में नलिका सुई को धमनी (सामान्यतः बहिःप्रकोष्ठिक, ऊरु,पृष्ठीय पाद या बाहु) में चुभो कर सीधे धमनीय दाब को मापा जाता है। यह कार्य-विधि कोई भी लाइसेंसशुदा डॉक्टर या श्वसन-विशेषज्ञ संपन्न कर सकता है।


नलिका को रोगाणुहीन, द्रव्य-पूरित प्रणाली से जोड़ना चाहिए, जो इलेक्ट्रॉनिक दाब संवेदक से जुड़ा हो. इस प्रणाली से यह लाभ है कि दाब पर निरंतर धड़कन-दर-धड़कन निगरानी रखी जा सकती है और एक तरंग-रूप (समय के प्रति दाब का रेखा-चित्र) को दर्शाया जा सकता है। इस वेधन तकनीक को मानव एवं पशु गहन देख-रेख चिकित्सा, निश्चेतन-विज्ञान और अनुसंधानपरक उद्देश्यों के लिए इस्तेमाल किया जाता है।


वेध्य वाहिका दाब जांच के लिए नलिका अक्सर थ्रांबोसिस, संक्रमण और रक्त-स्राव से जुडी होती है। वेध्य धमनीय निगरानी वाले रोगियों के सूक्ष्म पर्यवेक्षण की आवश्यकता है, क्योंकि नलिका के निकल जाने पर अधिक रक्तस्राव का जोखिम बना रहता है। यह उन रोगियों के लिए आरक्षित होता है, जहां धमनीय दाब में तेजी से परिवर्तन की अपेक्षा हो.


वेध्य वाहिका दाब मॉनिटर ऐसी दाब निगरानी प्रणाली है, जिन्हें दाब संबंधी सूचना प्रापण, प्रदर्शन एवं प्रक्रमण के लिए बनाया गया है। सदमा, संकटपूर्ण देख-रेख और ऑपरेशन कक्ष अनुप्रयोगों के लिए अनेक प्रकार के वेध्य वाहिका दाब मॉनिटर उपलब्ध हैं। इनमें एकल दाब, दोहरा दाब और बहु-प्राचल (अर्थात् दाब/तापमान) सम्मिलित हैं। इन मॉनिटरों का उपयोग धमनी, केंद्रीय शिरामय, फुफ्फुसीय धमनी, बांया निलय, दायां निलय, ऊरु धमनी, नाभिरज्जु शिरामय और अन्तःकपालीय दाबों के मापन एवं अनुवर्तन के लिए किया जा सकता है।


वाहिका दाब प्राचलों को माइक्रोकंप्यूटर प्रणाली के मॉनिटरों पर प्राप्त किया जाता है। सामान्यतः नब्ज़ी तरंगरूपों (अर्थात धमनीय और फुफ्फुसी धमनीय) के लिए प्रकुंचन, अनुशिथिलन और मध्यम दाबों को एक-साथ दर्शाया जाता है। कुछ मॉनिटर CPP (मस्तिष्कीय आप्लावन दाब) का भी परिकलन और प्रदर्शन करते हैं। सामान्यतः, मॉनिटर के सामने शून्य कुंजी, दाब के शून्यीकरण को अत्यंत तेज और सरल बना देती है। रोगी के अवलोकन के लिए उत्तरदायी चिकित्सा व्यवसायी के सहायतार्थ अलार्म सीमाएं निर्धारित की जानी होगी.प्रदर्शित तापमान प्राचलों पर उच्च और न्यून अलार्म रखे जाएं.


घर पर निगरानी संपादित करें

कुछ रोगियों के लिए, डॉक्टर के कार्यालय में लिए गए रक्त-चाप मापन, उनकी विशिष्ट रक्त-चाप को सही तौर पर वर्णित नहीं कर पाते हैं। लगभग 25% रोगियों के मामले में, कार्यालय में लिया गया रक्त चाप पाठ्यांकन, उनके विशिष्ट रक्त चाप से अधिक रहता है। इस तरह की त्रुटि को सफ़ेद कोट उच्च रक्त-चाप कहा जाता है और यह स्वास्थ्य देख-रेख व्यवसायी के परीक्षण से उत्पन्न व्यग्रता की वजह से होता है।[3]इन रोगियों में उच्च रक्त चाप के ग़लत पहचान के परिणामस्वरूप अनावश्यक और हानिकारक औषधियां दी जा सकती है। इसके महत्त्व के संबंध में विवाद जारी है। कुछ प्रतिक्रियात्मक रोगी, दैनंदिन जीवन में अन्य उत्तेजकों के प्रति भी प्रतिक्रिया करते हैं और उन्हें उपचार की आवश्यकता होती है। सफ़ेद कोट प्रभाव एक संकेत हो सकता है, जिसके संबंध में और अन्वेषण की आवश्यकता है। दूसरी ओर, कुछ मामलों में डॉक्टर के कार्यालय में रोगियों के प्रातिनिधिक रक्त-चाप से कम पाठ्यांकन होता है, जिससे इन रोगियों को उच्च रक्त-चाप के लिए आवश्यक उपचार प्राप्त नहीं होता.[4]


इन समस्याओं को पहचानने और उनके उपशमन के लिए चलनक्षम रक्त-चाप यंत्र का उपयोग किया गया है, जो दिन और रात भर, हर आधे घंटे में पाठ्यांकन लेते हैं। नींद की अवधि को छोड़ कर, बाक़ी समय में इन उद्देश्यों के लिए चलनक्षम रक्त-चाप निगरानी यंत्रों के बजाय, घर पर निगरानी का उपयोग किया जा सकता है।[5]उच्च रक्त-चाप प्रबंधन और जीवन-शैली में परिवर्तनों के प्रभावों की निगरानी और रक्त-चाप संबंधी औषधि में सुधार के लिए घर पर निगरानी का प्रयोग किया जा सकता है।[6]चलनक्षम रक्त चाप मापनों के मुकाबले घर पर निगरानी को अधिक प्रभावी और कम लागत वाला विकल्प पाया गया.[6][5][7][8]


सफ़ेद कोट प्रभाव के अतिरिक्त, अधिकांश लोगों में नैदानिक स्थिति से बाहर धमनीय दाब का पाठ्यांकन सामान्यतः थोडा-सा कम होता है। प्रभावित रोगियों में उच्च रक्त-चाप के जोखिमों और धमनीय दाब को कम करने से होने वाले लाभों के अध्ययन, नैदानिक परिवेश में पाठ्यांकनों पर आधारित थे।


जब रक्त-चाप मापा जाता है, तब सटीक पाठ्यांकन के लिए अपेक्षित है कि व्यक्ति पाठ्यांकन प्राप्त करने से 30 मिनट पहले तक कॉफ़ी ना पिएं, धूम्रपान या श्रमसाध्य कसरत ना करें. भरे हुए मूत्राशय का रक्त-चाप के पाठ्यांकन पर थोड़ा-बहुत असर हो सकता है, अतः पेशाब करने की तलब हो, तो पाठ्यांकन से पहले कर लेना चाहिए.पाठ्यांकन के पांच मिनट पहले, पैर के तलवे भूमि पर समतल होते हुए और हाथों को सीधा रखते हुए, कुर्सी पर सीधे बैठें.रक्त-चाप की कलाई-बंद हमेशा नंगी त्वचा पर हो, चूंकि कमीज़ की बांह पर लिए गए पाठ्यांकन कम सटीक हो सकते हैं। पाठ्यांकन के दौरान, प्रयुक्त बांह ढीली और हृदय की ऊंचाई पर हो, उदाहरण के लिए बांह को मेज पर टिका कर रखें.[9]


धमनीय रक्त-चाप दिन भर परिवर्तित होते रहने की वजह से, लंबे अंतरालों में परिवर्तनों पर निगरानी रखने वाले मापन, हर रोज़ एक ही समय पर लिए जाएं ताकि पाठ्यांकनों की तुलना की जा सके. अनुकूल समय है:

  • प्रातः जागते ही (नहाने-धोने/तैयार होने और जलपान से पहले), जब शरीर आराम कर रहा हो,
  • काम ख़त्म होने के तुरंत बाद.


स्वचालित स्वयं-पूर्ण रक्त-चाप मॉनिटर उचित दामों में उपलब्ध हैं, जिनमें कुछ दोलायमान पद्धतियों के अतिरिक्त कोरोत्कॉफ़ मापन में भी सक्षम हैं, जिससे अनियमित धड़कन वाले रोगियों को घर पर ही सटीक रक्त-चाप मापने की सुविधा उपलब्ध होती है।


वर्गीकरण संपादित करें

रक्त-चाप का निम्नलिखित वर्गीकरण 18 वर्ष और उससे अधिक आयु वाले वयस्कों के लिए लागू होता है। यह 2 या अधिक कार्यालयीन दौरों के समय आसीन स्थिति में उचित ढंग से लिए गए औसत रक्त-चाप पर आधारित है।[6][10]


वयस्कों के लिए रक्त-चाप का वर्गीकरण
श्रेणी प्रकुंचक, mmHg अनुशिथिलक, mmHg
अल्प रक्त-चाप
<90
<60
सामान्य
90 - 119
60 - 79
पूर्वोच्च रक्त-चाप
120 - 139
80 - 89
चरण 1 उच्च रक्त-चाप
140 - 159
90 - 99
चरण 2 उच्च रक्त-चाप
≥ 160
≥ 100


सामान्य मान संपादित करें

हालांकि किसी भी जन-समूह के लिए धमनीय दाब के औसत मानों को परिकलित किया जा सकता है, तथापि व्यक्ति दर व्यक्ति इसमें बहुत अंतर होता है; धमनीय दाब व्यक्तियों में पल-पल भी बदलता रहता है। इसके अतिरिक्त, किसी विशेष जन-समुदाय के सामान्य स्वास्थ्य का उसके औसत से भी संदेहास्पद संबंध हो सकता है, अतः ऐसे औसत मानों का औचित्य भी संदिग्ध है। तथापि, 100 रोगियों के अध्ययन में, जिनके रक्त-चाप का कोई इतिहास नहीं था, औसत रक्त-चाप 112/64 mmHg पाया गया.[11] जो कि सामान्य अनुक्रम में है।


वयस्कों की तुलना में बच्चों में सामान्य अनुक्रम कम होता है।[12]अधेड़ उम्र वालों में रक्त-चाप, वयस्कों के सामान्य मानों से अधिक होता है, विशेषतः यह धमनियों में लचीलेपन की कमी के कारण है। आयु और लिंग[13] जैसे तथ्य रक्त-चाप मानों को प्रभावित करते हैं। कसरत, भावुक प्रतिक्रियाएं, नींद, पाचन और दिन के समय से भी रक्त-चाप बदलता है।


बाएं और दाएं हाथ के रक्त-चाप मापन के अंतर अनियमित होते हैं और समुचित मापन लेने पर इनका औसत लगभग शून्य हो जाता है। तथापि, चंद मामलों में लगातार 10 mmHg से अधिक अंतर बना रहता है, जिसके लिए अतिरिक्त जांच की आवश्यकता होती है, जैसे बाधक धमनीय रोग में.[14][15]


115/75 mmHg से आरंभ होने वाली उच्च धमनीय दाब के पूरे विस्तार क्षेत्र में हृदवाहिनी रोग का जोखिम क्रमशः बढ़ता रहता है।[16]पहले, डॉक्टर से कई मुलाक़ातों के बाद, लंबे समय के लिए उच्च प्रकुंचन दाब पाठ्यांकनों के साथ उच्च धमनीय दाब के द्वितीयक लक्षण पाए जाने पर ही उच्च रक्त-चाप का निदान किया जाता था।UK में अब भी रोगियों के 140/90 mmHg पाठ्यांकनों को सामान्य माना जाता है।[17]

नैदानिक परीक्षण दर्शाते हैं कि जो लोग धमनीय दाब को इन दाब अनुक्रम के न्यूनतम छोर पर बनाए रखते हैं, उनका दीर्घकालिक हृद्वाहिका स्वास्थ्य बेहतर होता है। जो लोग अपने-आप ऐसे दाब को बनाए नहीं रख सकते, उनके दाब को इस अनुक्रम के न्यूनतम छोर पर बनाए रखने के लिए आक्रामकता और प्रयुक्त पद्धतियों के सापेक्ष मान से प्रमुख चिकित्सा विवाद जुड़ा है। हालांकि सामान्यतः वृद्ध लोगों में देखे गए उन्नयन को सामान्य माना जाता है, पर वह अस्वस्थता-दर और मृत्यु संख्या से जुड़ा है।


कायिकी संपादित करें

परिसंचार प्रणाली की भौतिकी अत्यंत जटिल है। जिसके अनुसार, धमनीय दाब को प्रभावित करने वाले कई भौतिक तत्त्व हैं। इनमे से प्रत्येक बदले में भोजन, व्यायाम, रोग, दवाइयां या शराब, तनाव, मोटापा आदि शारीरिक तत्त्वों से प्रभावित होते हैं।


कुछ भौतिक कारक हैं:

  • पंपिंग दरपरिसंचार प्रणाली में, इस दर को हृदय दर कहते हैं, वह दर जिससे हृदय रक्त (द्रव्य) का पंपिंग करता है। हृदय से रक्त प्रवाह की मात्रा को हृदयी निर्गम कहा जाता है, जो कि हृदय दर (संकुचन दर) की स्पंदन मात्रा (हर संकुचन के साथ ह्रदय से बाहर पंप की हुई रक्त की मात्रा) का गुणनफल है। यह मानते हुए कि स्पंदन की मात्रा में कोई कटौती नहीं, जितनी ज़्यादा हृदय गति होगी, उतना ही ज़्यादा धमनीय दाब होगा.
  • द्रव्य की मात्रा या रक्त मात्रा, रक्त की वह मात्रा है जो शरीर में उपलब्ध है। शरीर में जितना अधिक रक्त उपलब्ध होगा, उतना ही हृदय में रक्त का वापसी दर और परिणामतः हृदय से निर्गम होगा.भोजन में नमक के सेवन की मात्रा और वर्धित रक्त की मात्रा में कुछ संबंध है, जिसका संभाव्य परिणाम उच्च धमनीय रक्त दाब है, हालांकि यह प्रत्येक व्यक्ति में भिन्न होता है और स्वायत्त तंत्रिका प्रणाली प्रतिक्रिया और रेनिन-एनजियोटेनसिन प्रणाली पर अधिक निर्भर करता है।
  • प्रतिरोध परिसंचार प्रणाली में, यह रक्त वाहिकाओं का प्रतिरोध है। प्रतिरोध जितना अधिक होगा, धमनीय दाब ऊर्ध्व-प्रवाह भी प्रतिरोध से रक्त प्रवाह में अधिक होगा. प्रतिरोध का संबंध वाहिका के व्यास (व्यास जितना बड़ा होगा, प्रतिरोध उतना कम होगा), वाहिका की लंबाई (वाहिका जितनी लंबी होगी, उतना अधिक प्रतिरोध होगा), रक्त वाहिका की बाहरी झिल्ली की मुलायमता से भी है। धमनीय झिल्लियों पर वसा के जमा होने से मुलायमता कम हो जाती है।वासोकंस्ट्रिक्टर्स नामक पदार्थ रक्त वाहिका के आकार को कम करते हैं, परिणामस्वरूप रक्त-चाप बढ़ता है।वासोडाइलेटर्स (जैसे कि नाइट्रोग्लिसरिन) रक्त वाहिकाओं के आकार को बढाते हैं, परिणामस्वरूप धमनीय दाब कम होता है। प्रतिरोध और मात्रिक प्रवाह दर से उसका संबंध (Q) और वाहिकाओं के दोनों छोरों के बीच दाब के अंतर को पॉइसविल्लस नियम द्वारा वर्णित किया गया है।
  • चिपचिपापन, या द्रव का गाढ़ापन.यदि रक्त गाढ़ा हो जाता है, तो परिणामतः धमनीय दाब में बढ़ोतरी होती है। कुछ चिकित्सा दशाएं रक्त के चिपचिपेपन को बदल सकती है। उदाहरणार्थ, कम लाल रक्त कोशिका सांद्रता, रक्तहीनता, चिपचिपेपन को कम करती है, जबकि अधिक लाल रक्त कोशिका सांद्रता, चिपचिपेपन को बढ़ाती है।रक्त शर्करा सांद्रता के साथ-साथ चिपचिपापन भी बढ़ाता है- शरबत के पंपिंग की कल्पना करें. यह माना गया कि एस्पिरिन और संबंधित "रक्त द्रावक" औषधियां रक्त के चिपचिपेपन को कम करती हैं, लेकिन अध्ययनों से पता चला है कि[18] इसके बदले ये रक्त को जमाने के रुझान को कम करती हैं।


व्यवहार में, प्रत्येक व्यक्ति की स्वायत्त तंत्रिका प्रणाली इन सभी आपसी प्रतिक्रियात्मक तत्त्वों के प्रति जवाबी कार्रवाई और उनका नियमन करती है, ताकि उपर्युक्त मामलों के महत्वपूर्ण होने पर भी, तंत्रिका प्रणाली और अंतिम अवयवों के विभाजित-क्षण और धीमि-गति से प्रतिक्रिया, दोनों कारणों से व्यक्ति विशेष की वास्तविक धमनीय दाब प्रतिक्रिया में बहुत अंतर होता है। ये प्रतिक्रियाएं, परिवर्तकों और परिणामी रक्त-चाप को पल-पल बदलने में बहुत सक्षम होती हैं।


मध्यम धमनीय दाब संपादित करें

मध्यम धमनीय दाब (MAP) एक हृदयी चक्र का औसत है और इसका निर्णय हृदयी निर्गम (CO), व्यवस्थापरक वाहिकामय प्रतिरोध (SVR) और केंद्रीय शिरामय दाब (CVP)[19] के आधार पर होता है।


 


MAP का सन्निकट निर्धारण किया जा सकता है, प्रकुंचन दाब  \! P_{sys} और  अनुशिथिलन दाब \! P_{dias} के मापनों से   जबकि स्थिर ह्रदय गति सामान्य हो,[19]

 


नाड़ी दाब संपादित करें

धमनीय दबाव का उतार-चढ़ाव, हृदयी निर्गम अर्थात् धड़कन की स्पंदनशील प्रकृति का परिणाम है। नाड़ी दाब का निर्धारण, हृदय की स्पंदन मात्रा, महाधमनी के अनुपालन (विस्तार क्षमता) और धमनीय शाखाओं में प्रवाह के प्रतिरोध की पारस्परिक क्रिया के आधार पर किया जाता है। हृदय-स्पंदन के दौरान, दबाव की वजह से महाधमनी फैल कर, रक्त प्रवाह के कुछ बल को सोख लेती है। इस तरह नाड़ी दाब में कमी आती है, जो अन्यथा महाधमनी के अनुकूल न होने की स्थिति में संभव नहीं.[20]


मापे गए प्रकुंचन और अनुशिथिलक दाब के अंतर से नाड़ी दाब का सरलता से परिकलन किया जा सकता है।[20]


 


वाहिकामय प्रतिरोध संपादित करें

बड़ी धमनियां, जिनमें ऐसी सभी बड़ी धमनियां शामिल हैं, जिन्हें बड़ा करके देखने की आवश्यकता न हो, उच्च प्रवाह वाली कम प्रतिरोधक नलिकाएं (उन्नत अथरोस्क्लेरॉटिक परिवर्तनों के न होने की कल्पना करते हुए) दाब को कुछ हद तक कम करने की क्षमता रखती हैं।


वाहिकामय दाब तरंग संपादित करें

आधुनिक शरीर-विज्ञान ने वाहिकामय दाब तरंग (VPW) की धारणा का विकास किया। यह तरंग प्रकुंचन के दौरान हृदय द्वारा निर्मित और आरोही महाधमनी में उत्पन्न होती है। स्वयं रक्त प्रवाह से भी तेजी से यह वाहिका झिल्लियों द्वारा परिधीय धमनियों में ले जाई जाती है। वहां दाब तरंग के स्पंदन को परिधीय नब्ज़ के रूप में देखा जा सकता है। जैसे ही तरंग परिधीय नसों पर प्रतिबिंबित होता है, वह केन्द्राभिमुखी ढंग से वापस जाता है। जहां प्रतिबिंबित और मूल तरंग की चोटियां मिलती हैं, तब वाहिका में दाब, महाधमनी के मूल दाब से अधिक होता है। इस अवधारणा से स्पष्ट होता है कि क्यूं पैरों और हाथों की परिधीय धमनियों में धमनीय दाब, महाधमनी कें धमनीय दाब से अधिक होता है,[21][22][23] और इसी तरह सामान्य टखना बाहु दाब सूचक मान सहित बांह की तुलना में टखने में देखा गया अधिक दाब है।


नियंत्रण संपादित करें

धमनीय दाब के अंतर्जात नियंत्रण को पूरा नहीं समझा गया है। संप्रति, धमनीय दाब को नियंत्रित करने वाली तीन प्रक्रियाओं का स्पष्ट-वर्णन किया गया है।



वासोकांस्ट्रिक्टर को सक्रिय बनाकर गुर्दे को रक्त मात्रा में कमी या धमनीय दाब में गिरावट की प्रतिपूर्ति करने देती है।


  • एल्डोस्टीरोन निर्गमन: एंजियोटेनसिन II या उच्च सीरम पोटाशियम स्तरों के प्रतिक्रिया स्वरूप अधिवृक्क बाह्यक से इस स्टेरॉइड हारमोन को मुक्त किया जाता है। एल्डोस्टीरोन, गुर्दे में सोडियम के प्रतिधारण और पोटाशियम के उत्सर्जन को उत्तेजित करता है। चूंकि सोडियम प्रमुख आयन है, जो परासरण द्वारा रक्त वाहिकाओं में द्रव्य की मात्रा को निर्धारित करता है, एल्डोस्टीरोन द्रव्य-प्रतिधारण और अप्रत्यक्ष रूप से धमनीय दाब की वृद्धि करता है।


इन भिन्न प्रक्रियाओं का एक दूसरे से स्वतंत्र होना आवश्यक नहीं है, जैसा कि RAS और एल्डोस्टीरोन के बीच की कड़ी द्वारा संकेत दिया गया है। संप्रति, औषधीय तौर पर ACE रोधकों और एंजियोटेनसिन II रिसेप्टर विरोधियों द्वारा RAS प्रणाली को निशाना बनाया गया है।एल्डोस्टीरोन विरोधी स्पैरोनोलाक्टोंन द्वारा सीधे एल्डोस्टीरोन प्रणाली पर निशाना साधा गया है।मूत्रवर्धकों द्वारा द्रव्य प्रतिधारण को निशाना बनाया जा सकता है; मूत्रवर्धकों का उच्च-चापरोधी प्रभाव, रक्त की मात्रा पर उसके प्रभाव के कारण हो सकता है। साधारणतया उच्च रक्त-चाप में, बैरोरिसेप्टर प्रतिक्रिया को निशाना नहीं बनाया जाता, क्योंकि इसके अवरुद्ध होने से व्यक्तियों को ओर्थोस्टेटिक हैपोटेंशन और बेहोशी आदि की तकलीफ़ हो सकती है।


रोग-कायिकी संपादित करें

उच्च धमनीय दाब संपादित करें


 
स्थाई उच्च रक्त-चाप की प्रमुख जटिलताओं का सिंहावलोकन


धमनीय उच्च रक्त-चाप, अन्य समस्याओं का सूचक हो सकता है और इसके दीर्घकालिक प्रतिकूल प्रभाव हो सकते हैं। कभी-कभी यह गंभीर समस्या बन सकती है, उदाहरण के लिए आपात्कालीन उच्च-तनाव.


धमनीय दबाव के सभी स्तर, धमनीय दीवारों पर यांत्रिक दबाव डालते हैं। उच्च दाब, हृदय के कार्यभार और धमनियों की झिल्लियों के भीतर विकसित होने वाले अस्वस्थ ऊतकों (ऐथिरोमा) में वृद्धि करते हैं। दाब जितना उच्च होगा, उतना ही तनाव बढ़ेगा, अधिक ऐथिरोमा विकसित होने की कोशिश करेंगे, हृदय की मांसपेशियां मोटी, बड़ी होने की कोशिश करेंगी और समय के साथ कमजोर हो जाएंगी.


स्थाई उच्च रक्त-चाप, लकवा, दिल का दौरा, दिल का रुकना और धमनी-विस्फार के जोखिम तत्त्वों में से एक है और यह चिरकालिक गुर्दों की निष्क्रियता का प्रमुख कारण है। धमनीय दाब के स्तर में थोडी-सी बढोतरी भी अल्प जीवन-काल की ओर ले जाती है। अत्यंत उच्च दाब, 50% या औसत से अधिक दाब पर मध्यम धमनीय दाब के साथ कोई भी व्यक्ति, बिना समुचित उपचार के, कुछ वर्ष से अधिक जीवन-काल की प्रत्याशा नहीं रख सकता.[25]


पहले, अनुशिथिलक दाब पर ही अधिक ध्यान दिया जाता था; पर आजकल यह जान लिया गया है कि दोनों, उच्च प्रकुंचन दाब और उच्च नाड़ी दाब (प्रकुंचन और अनुशिथिलक दाब के बीच का संख्यात्मक अंतर) भी जोखिम कारक हैं। कुछ मामलों में, अत्यधिक अनुशिथिलक दाब में कमी भी वास्तव में जोखिम को बढ़ा सकती है, ऐसा संभवतः प्रकुंचन और अनुशिथिलक दाब के बीच का अंतर बढ़ने से हो सकता है (देखें नाड़ी दाब पर लेख).


अल्प धमनीय दाब संपादित करें

रक्त-चाप जो बहुत कम हो, अल्प रक्त-चाप के नाम से जाना जाता है। इसका उच्चारण उच्च रक्त-चाप से मेल खाने की वजह से भ्रांति उत्पन्न हो सकती है। जब चक्कर आना, बेहोशी, या गंभीर मामलों में सदमा जैसे लक्षण उत्पन्न हों, तब ही अल्प रक्त-चाप, चिकित्सा की दृष्टि से चिंता का विषय बनता है।[10]


जब धमनीय दाब और रक्त प्रवाह एक निश्चित बिंदु से कम हो जाते हैं, तो मस्तिष्क का आप्लावन गंभीर स्तर तक कम (अर्थात् रक्त की आपूर्ति अपर्याप्त) हो जाता है, जिससे सर का हल्का होना, चक्कर आना, कमज़ोरी या बेहोशी हो सकती है।


कभी-कभी जब आसीन रोगी खड़ा होता है, तब धमनीय दाब में बहुत कमी आ जाती है। इसे समकोणीय अल्प रक्त-चाप (मुद्रा विषयक अल्प रक्त-चाप) के नाम से जाना जाता है; गुरुत्त्वाकर्षण हृदय के नीचे शरीर के नसों से ह्रदय में रक्त की वापसी दर को कम कर देता है, फलस्वरूप आघात मात्रा और हृदयी निर्गम कम हो जाते हैं।


जब लोग स्वस्थ होते हैं, तब उनके हृदय के नीचे की नस शीघ्र संकुचित होती है और हृदय दर बढ़ता है, ताकि गुरुत्त्वाकर्षण के प्रभाव की प्रतिपूर्ति की जा सके और उसे कम किया जा सके. यह स्वायत्त तंत्रिका प्रणाली द्वारा अनैच्छिक रूप से होता है। प्रणाली को सामान्यतः पूर्ण रूप से व्यवस्थित होने के लिए कुछ क्षणों की आवश्यकता होती है और यदि प्रतिपूर्ति बहुत धीमी हों या अपर्याप्त हो, तो व्यक्ति, मस्तिष्क में कम रक्त प्रवाह, चक्कर और संभाव्य बेहोशी से पीड़ित होता है।G-लदान में बढ़ोतरी, जैसा कि हवाई कलाबाजियां दिखाने वाले या लड़ाकू विमान चालकों के 'कर्षण G', इस प्रभाव को बहुत बढ़ाती है। शरीर को गुरुत्त्वाकर्षण से लम्बवत पुनः अवस्थित करने से अधिकांशतः इस समस्या का निराकरण किया जा सकता है।


कम धमनीय दाब के कारणों में सम्मिलित अन्य कारण:


आघात एक ऐसी जटिल स्थिति है, जो गंभीर रूप से आप्लावन को कम करती है। रक्त मात्रा में कमी, नसों में रक्त जमा होकर, हृदय में पर्याप्त रक्त का न लौटना और/या हृदय पंपिंग कम प्रभावी होना आदि सामान्य प्रक्रियाएं है। कम धमनीय दाब, विशेषकर कम नाड़ी दाब आघात का द्योतक है और आप्लावन में कमी को प्रतिबिंबित करता और उसमे योगदान देता है।


एक बांह और दूसरे बांह के दाब में बहुत अंतर हो, तो वह किसी धमनी के संकुचन (उदाहरण के लिए महाधमनिक संकुचन, महाधमनिक विच्छेदन, घनास्रता या वाहिकारोध) की ओर संकेत करता है।


अन्य स्थल संपादित करें

रक्त चाप सामान्यतः दैहिक परिसंचार में धमनीय दाब का हवाला देता है। तथापि, शिरामय प्रणाली और फुफ्फुसी वाहिकाओं में दाब का मापन गहन देखरेख चिकित्सा में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाती है, जिसके लिए वेध्य केंद्रीय शिरामय मूत्रनलिका की आवश्यकता होती है।


शिरामय दाब संपादित करें

शिरामय दाब, नस या हृदय निलय में स्थित नाड़ी दाब है। यह दाएं निलय में 5 mmHg और बाएं निलय में 8 mmHg सामान्य मान सहित धमनीय दाब से कम होता है।


फुफ्फुसीय दाब संपादित करें

सामान्यतः फुफ्फुसीय धमनी में दाब विश्राम की स्थिति में 15 mmHg के क़रीब होता है।[26]


फेफडों की केशिकाओं में रक्त-चाप की वृद्धि से फुफ्फुसीय उच्च रक्त-चाप होता है, यदि दाब 20 mmHg से अधिक बढ़ जाता है तो अन्तरालीय शोथ और 25 mmHg से अधिक दाब पर अनियंत्रित फुफ्फुसीय शोथ हो जाता है।[27]


भ्रूण रक्त-चाप संपादित करें

गर्भावस्था में, भ्रूण परिसंचार के ज़रिए रक्त को संचालित करने के लिए, भ्रूण के ह्रदय से रक्त-चाप बनता है, न कि मां के ह्रदय से.


20 सप्ताह की गर्भावधि में भ्रूण की महाधमनी में रक्त-चाप लगभग 30 mmHg होता है और 40 सप्ताह की गर्भावधि में यह ca 45 mmHg तक बढ़ जाता है।[28]
पूर्णकालिक नवजात में रक्त-चाप का औसत:
प्रकुंचन 65-95 mm Hg
अनुशिथिलक 30-60 mm Hg [29]


इन्हें भी देखें संपादित करें


पाद टिप्पणियां संपादित करें

  1. (वीर गडरिया) पाल बघेल धनगर
  2. G8 सेकंडरी सर्वे Archived 2008-06-25 at the वेबैक मशीन," मनिटोबा "
  3. (वीर गडरिया) पाल बघेल धनगर
  4. Elliot, Victoria Stagg (11 जून 2007). "Blood pressure readings often unreliable". American Medical News. American Medical Association. मूल से 12 नवंबर 2008 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 16 अगस्त 2008.
  5. (वीर गडरिया) पाल बघेल धनगर
  6. (वीर गडरिया) पाल बघेल धनगर
  7. (वीर गडरिया) पाल बघेल धनगर
  8. (वीर गडरिया) पाल बघेल धनगर
  9. (वीर गडरिया) पाल बघेल धनगर
  10. "Diseases and Conditions Index - Hypotension". National Heart Lung and Blood Institute. 2008. मूल से 27 अप्रैल 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 16 सितंबर 2008. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  11. (वीर गडरिया) पाल बघेल धनगर[मृत कड़ियाँ]
  12. (वीर गडरिया) पाल बघेल धनगरनोट करें कि प्रस्तुत आयु, ऊंचाई और लिंग के लिए मध्यम रक्त-चाप को 50वें प्रतिशत पर और उच्च रक्त-चाप को 95वें प्रतिशत पर परिभाषित किया गया है।
  13. (वीर गडरिया) पाल बघेल धनगर
  14. (वीर गडरिया) पाल बघेल धनगर
  15. (वीर गडरिया) पाल बघेल धनगर
  16. (वीर गडरिया) पाल बघेल धनगर
  17. "Hypertension: management of hypertension in adults in primary care" (PDF), NICE Clinical Guideline 34, London, England: National Institute for Health and Clinical Excellence (NICE), जून 2006, अभिगमन तिथि 15 सितंबर 2008
  18. (वीर गडरिया) पाल बघेल धनगर
  19. Klabunde, Richard E. (2007). "Cardiovascular Physiology Concepts - Mean Arterial Pressure". मूल से 2 अक्तूबर 2009 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 29 सितंबर 2008.
  20. Klabunde, Richard E. (2007). "Cardiovascular Physiology Concepts - Pulse Pressure". मूल से 18 अक्तूबर 2009 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2 अक्टूबर 2008.
  21. (वीर गडरिया) पाल बघेल धनगर
  22. (वीर गडरिया) पाल बघेल धनगर
  23. (वीर गडरिया) पाल बघेल धनगर
  24. Klabunde, Richard E. (2007). "Cardiovascular Physiology Concepts - Arterial Baroreceptors". मूल से 23 दिसंबर 2009 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 9 सितंबर 2008.
  25. टेक्स्ट बुक ऑफ़ मेडिकल फिसिऑलोजी, 7वां सं., गईटन एंड हॉल, एल्सेविएर -सौन्डेर्स
  26. फुफ्फुसीय उच्च रक्तचाप क्या है? Archived 2012-04-27 at the वेबैक मशीन रोगों और दशाओं के सूचकांक (DCI) से. राष्ट्रीय हृदय, फेफडा और रक्त संस्थान. सितंबर 2008 को अद्यतन किया गया. पुनःप्राप्ति 6 अप्रैल 2009.
  27. कॉर्डियोलोजी सीक्रेट्स अध्याय 41, पृष्ठ 210 Archived 2016-12-31 at the वेबैक मशीन ओलिविया विन्न अडैर द्वारा संस्करण: 2, सचित्र एल्सेविएर हेल्थ साइंसस, 2001 द्वारा प्रकाशित ISBN 1-56053-420-6, 9781560534204
  28. (वीर गडरिया) पाल बघेल धनगर
  29. शेरॉन, एस. एम्. एंड एमिली एस.एम्.(2006).(2006).फंडेशन ऑफ़ मेंटरनल-न्यूबॉर्न. (4वां संस्करण. पृ.476) फिलाडेल्फि़या: एल्सेविएर .


बाहरी कड़ियाँ संपादित करें