मुख्य मेनू खोलें

यह पृष्ठ मनमोहन सिंह लेख के सुधार पर चर्चा करने के लिए वार्ता पन्ना है। यदि आप आप अपने संदेश पर जल्दी सबका ध्यान चाहते हैं, तो यहाँ संदेश लिखने के बाद चौपाल पर भी सूचना छोड़ दें।

लेखन संबंधी नीतियाँ

डा. सिंह के महत्वपूर्ण पड़ाव को एक साँचा के रूप में लिखा जाए जो स्क्रोल कर सके एवं छुपा रहे, तो काफा अच्छा होगा शायद। --Munita Prasadवार्ता १२:४३, १९ मई २००९ (UTC)

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें

इस लेख की अधिकांश बाहरी कड़ियाँ हटाने का कारण दिया गया है कि विश्वकोश जानकारी देने के लिये है। यह सही है। किन्तु केवल प्रशंसा करना या अच्छी-अच्छी बातें ही 'जानकारी' नहीं हैं। आलोचना और मिडियामत या लोकमत भी जानकारी है।-- अनुनाद सिंहवार्ता 08:08, 11 जून 2012 (UTC)

अनुनाद जी, किसने कहा कि आप "प्रशंसा या अच्छी-अच्छी" बातों वाले लिंक दें। बल्कि अगर कोई ऐसे लिंक भी देता तो मेरी प्रतिक्रिया जब भी यही होती। 'बाहरी कड़ियाँ' अनुभाग में हमें मुख्यतः उन साइटो का लिंक देना चाहिए जो अपनी विस्तृत जानकारी या लम्बाई आदि कारणवश विशिष्ट लेख के अंदर गद्य रूप में नहीं जोड़ी जा सकतीं। दैनिक समाचारपत्रों में छपने वाली खबरों को तो इस अनुभाग में मुख्यतः जोड़ा ही नहीं जाता। हर रोज नए समाचार आते है इसका मतलब यह नहीं कि आप प्रतिदिन उनका लिंक यहाँ देते रहेंगे। और आप इसी प्रकार कड़ियाँ जोड़ते है, आप लेख के अंदर सामग्री क्यों नहीं जोड़ते, उदहारण के लिए भ्रष्टाचार से सम्बन्धित जो भी कड़ियाँ आपने यहाँ जोड़ी है वे आसानी से लेख में गद्य रूप में लिखी जा सकती हैं। और यह आप और लेखों में भी करते हैं, जो अनुचित है। कृपया पढ़े कि क्या-क्या जोड़ा जा सकता है। मैने आपको इन लिंकों में दी सामग्री को लेख के अंदर जोड़ने से नहीं रोका, आप खुशी से गद्य रूप में तटस्थ रहते हुए इन्हें लेख में लिखें परन्तु विकिपीडिया पे अपने दृष्टिकोण अनुरूप कड़ियाँ देना बिल्कुल अनुचित है इसलिए मैं इन लिंकों को हटा रहा हूँ।<>< Bill william comptonTalk 11:13, 11 जून 2012 (UTC)
बिल महोदय, आपने जो लिंक दिया है वहाँ साफ-साफ लिखा है - This guideline does not apply to links to non-English Wikipedia articles; they are added after External links according to Wikipedia:Layout. इसका क्या मतलब है? आप यह डिक्टेट मत किजिये कि मैं क्या-क्या करूं? मैने अपना विचार नहीं जोड़ा है। प्रतिष्ठित समाचारपत्रों के विचार जोड़े हैं। ये अल्पसंख्यक विचार भी नहीं हैं। यहाँ कड़ियों की संख्या भी बहुत नहीं है। इसलिये इन्हें साफ करने का कोई औचित्य नहीं है। -- अनुनाद सिंहवार्ता 11:41, 11 जून 2012 (UTC)
शायद आप भूल रहें हैं कि अगर हिन्दी विकिपीडिया पे कोई निति या दिशानिर्देश नहीं होते तो उसे अंग्रेज़ी विकिपीडिया के अनुसार समझा जाता है। और यह हमेशा से होता आया है। वैसे भी वहाँ दी गई जानकारी किसी भी ज्ञानकोष पर लागू होगी। आप बिना वजह बात को तूल दें रहें हैं, किसी भी ज्ञानकोष में जा के देखें कि वहाँ किस प्रकार के लिंक दिए जाते हैं। अपनी तरफ से नीतियाँ न बनाए अगर आपको लगता है कि आपके द्वारा जोड़े जाने वाली कड़ियाँ लेखों में उपयुक्त होती हैं तो हिन्दी विकिपीडिया पे "बहारी कड़ियाँ" सम्बंदित प्रस्ताव रखें और अगर यह प्रस्ताव पास होके नई निति का रूप लेता है तो शोक से ऐसी कड़ियाँ जोड़े। ज्ञानकोष चाहे अंग्रेज़ी का हों या हिन्दी का मूल बाते नहीं बदलतीं और आप अपनी मर्जी से अपने दृष्टिकोण अनुसार लिंक नहीं दे सकते। आप जैसे लिंक लगाते है उसे अंग्रेज़ी में हम cherry picking कहते हैं। और यह मैं बहुत से लेखों में देख चुका हूँ, विकिपीडिया कोई समाचारपत्र नहीं है कि आप यहाँ "प्रतिष्ठित समाचारपत्रों" के विचार जोड़े, आप इन विचारों का प्रयोग करके गद्य रूप में जानकारी दे सकते हैं। जब तक आप हिन्दी विकिपीडिया पे "बहारी कड़ियाँ" देने सम्बन्धी प्रस्ताव पास न करा लें तब तक कृपया इन लिंकों को वापस न जोड़े, ध्यन्यवाद।<>< Bill william comptonTalk 03:57, 12 जून 2012 (UTC)
बिल महोदय, कृपया गलत लिंक देकर लोगों का समय बर्बाद न करें। 'चेरी पिकिंग' का नाम ले लेने से आप अंग्रेजी के विद्वान नहीं हो गये। (आपके अंग्रेजी ज्ञान के स्तर पर आपको पूर्व में कई बार आइना दिखाया जा चुका है।) सबसे पहले तो आप 'हंटर वाला' न बनिये। किसी पर व्यक्तिगत आक्षेप मत कीजिये। इस लेख में कुछ हटाने के पहले आपको चर्चा करनी थी। चर्चा पर मतैक्य होने के बाद हटाने का कदम उठाना ठीक होता। इसलिये उन लिंकों को पूर्वस्थिति में बने रहने दीजिये और सौम्य भाषा में चर्चा जारी रखिये। आप यह तो मान गये कि आपने जो लिंक दी है वह हिन्दी पर लागू नहीं होती। अब यह मान भी लें कि उस लिंक में जो कुछ लिखा है उसकी भावना का आदर किया जाना चाहिये तो कृपया साफ-साफ बताएं कि मेरे द्वारा जोड़े गये लिंक उस लेख में लिखे किस दिशानिर्देश का उलंघन करते हैं।
-- अनुनाद सिंहवार्ता 04:51, 12 जून 2012 (UTC)
बिल महोदय, मामूली सी खोजबीन करने पर पता चल रहा है कि अंग्रेजी विकि में जीवित व्यक्तियों के 'बाहरी कड़ियों' में समाचार-पत्रों में छपे समाचारों के लिंक दिये गये हैं। दे देखिये-

क्या अब भी आप पुराने विचार पर कायम हैं?
-- अनुनाद सिंहवार्ता 09:22, 12 जून 2012 (UTC)

अनुनाद जी, सर्वप्रथम आपसे अनुरोध करूँगा कि हमेशा कि तरह व्यक्तगित हमले करने से बचें। मैने यह कभी नहीं कहा है कि मैं अंग्रेज़ी का विद्वान हूँ मैने बस एक फ्रेज़ उदहारण के तौर पे दी थी। मैं इन बातों को लिखना पसंद नहीं करना परन्तु जब भी एक बार सुन लें अगर मेरी अंग्रेज़ी कि इतनी बेकार हालत होती तो अंग्रेज़ी विकि पे मैं 5 फीचर्ड लिस्ट, 5 गुड और 26 डी॰वाई॰के॰ न लिख पाता, और ध्यान रखें वहाँ पे रिव्यू होकर ये विषय-वस्तु बनती हैं। दूसरा, मुझे तो याद भी नहीं आप कौन से समय कि बात करते रहते हैं कि आपने कब मुझे आइना दिखाया था। तीसरा, मैंने कब कहा कि मैं मान गया हूँ कि जो लिंक मैंने दिया है वो हिन्दी पे लागू नहीं होता? बल्कि मैंने तो यह कहा कि यह हर भाषा के ज्ञानकोष पे लागू होगा। चौथा, अब आपने पूछा ही है तो बताता हूँ कि आपके द्वारा जोड़े गए लिंक तीसरे पॉइंट का उलंघन करते हैं, चूँकि जो लिंक आप दें रहें हैं उनकी जानकारी आसानी से लेख के अंदर गद्य रूप में जोड़ी जा सकती है।
पाँचवाँ, जी हाँ मैं "अब भी अपने पुराने विचार पर कायम" हूँ। बल्कि आपने अंग्रेज़ी विकिपीडिया के ये लिंक देकर मेरी बात को और ठोस बना दिया है। बिल क्लिंटन लेख एक गुड आर्टिकल है इसके लिंकों की समीक्षा करके देखें कि क्या वहाँ आपकी तरह दृष्टीकोण वाले लिंक दिए हैं, नहीं, बल्कि वहाँ विभिन्न समाचारपत्रों की वेबसाइट के "Bill Clinton" खोज के लिंक दिए गएँ हैं। आप भी शोक से ऐसे खोज रिजल्ट्स डाले मुझे कोई आपत्ति नहीं। परन्तु आपकी आदत क्या है कि जब भी मिडिया में कोई बड़ी खबर छपती है आप उसका लिंक यहाँ देते हैं वो भी बिना निष्पक्ष रहें बिना। आप हमेशा अपने दृष्टीकोण अनुसार लिंक देते हैं। अब मैं आपका पैटर्न बटा ही देता हूँ:-
इस सबके बाद भी मैं आपसे अनुरोध करता हूँ कि विकिपीडिया पे अपने संपादनों में सुधार लाएँ। अगर आपको अपने पॉइंट ऑफ वियू को ही दिखाना है तो कोई ब्लॉग वगैरह लिखें वह आपके लिए उत्तम रहेगा। एक तटस्थ ज्ञानकोष जो वैसे ही मुश्किल से जी रहा है उसे बर्बाद न करें।<>< Bill william comptonTalk 13:26, 12 जून 2012 (UTC)

आप बड़े-बड़े विकिपीडियनों से मेरा अनुरोध है कि निम्न बातें तो आप लोगों को याद होना चाहिए था:

हिन्दी विकिपीडिया केवल भारतीय विकिपीडिया न होकर सभी हिन्दी भाषियों के लिए है, जो किसी भी देश का नागरिक हो सकता है। यहाँ पर लिखते बख्त फलाने देश ने यह किया और फलाने नें यह -लिखने से पहले सही संदर्भ दें। विकिपीडिया को भारतीय राजनीति का अखाड़ा न बनाया, अपना विचार और सिद्धान्त अपने साथ रखें, यहाँ न दें और केवल ज्ञान की दृष्टि से उपयुक्त सामग्री ही लिखें।
प्रियं ब्रूयात् सत्यं ब्रूयात् मा ब्रुयात् सत्यमप्रियम्।
अर्थात् प्रिय लिखे सत्य लिखे, अप्रिय-सत्य नलिखे यदि लिखना है तो सर्वमान्य सन्दर्भ दें। जब तक सर्वसम्मत नहीं होगा प्रबन्धक उसे लंबित रखें।भवानी गौतम (वार्ता) 14:46, 12 जून 2012 (UTC)
भवानी भाई, आप द्वारा लिखी गयी सुभाषित का सही रूप यह होना चाहिये : सत्यं ब्रूयात् प्रियं ब्रूयात न ब्रूयात् सत्यंप्रियं। मेरे खयाल से यह यहाँ लागू नहीं हो सकता क्योंकि 'ज्ञान' में प्रिय और अप्रिय दोनो आते हैं। इतने सारे युद्ध हुए हैं, भीषण नरसंहार हुए हैं, महामारियाँ और प्राकृतिक आपदाएँ हुईं हैं - वे सब 'अप्रिय' ही तो हैं। तमाम सारे रोग ऐसे हैं जिनका नाम लेने मात्र से घृणा आ सकती है। तो क्या उनके बारे में न लिखा जाय? -- अनुनाद सिंहवार्ता 15:25, 12 जून 2012 (UTC)
अनुनाद जी, मेरे कहने का तात्पर्य यह है किसीको अप्रिय लगना , जहाँ तक ऐसी बात आती है तो सही संदर्भ देना अत्यावश्यक है। और मैनें जो सुभाषित लिखी सही है। संधि विच्छेद कर देखें- संस्कृत में मा का अर्थ होता है , सत्यमप्रियम्=सत्यं+अप्रियम्। किताब में देखें, अपने हिसाब से मन मर्जी लिखकर कृपया सही न कहें। आपने गयी, चाहिये, दोनो लिखे अशुद्ध हैं, हिन्दी व्याकरण देखें, सही शव्द तो ये है- गई, चाहिए, दोनों। धन्यवाद।भवानी गौतम (वार्ता) 01:01, 13 जून 2012 (UTC)
भवानी भाई, मैं इसका सही अर्थ समझता हूँ। आपने भी अर्थ सही लिखा है। किन्तु मेरे खयाल से 'सत्यं ब्रूयात' के बाद 'प्रियं ब्रूयात' आता है न कि पहले। मुझे लगभग दस वर्ष की आयु से यही याद है और नेट पर खोजने पर भी यही मिला। किन्तु मेरा मुख्य प्रश्न यह है कि क्या यह इस चर्चा में किसी प्रकार प्रासंगिक है?-- अनुनाद सिंहवार्ता 03:55, 13 जून 2012 (UTC)
बिल महोदय, जरा देखिये कि आप कहाँ से चले थे और भागते-भागते कहाँ आ गये। तटस्थता की बात शुरू में एक वाक्य में कह सकते थे।
जो कड़ियाँ मैने जोड़ी हैं वे मेरी रचना नहीं हैं। आपको 'प्रियम्-प्रियम्' ही चाहिये तो 'अप्रियम' कड़ियों को हटाने के बजाय 'प्रियम्' कड़ियाँ क्यों नहीं जोड़ देते? आप कह रहे हैं कि जो लिंक मैं दे रहा हूं उनकी सामग्री को आसानी से उस लेख में जोड़ा जा सकता था। अगर इतना ही आसान है तो आपने क्यों नहीं जोड़ दिया? मुझे तो यह बहुत बड़ा काम लग रहा है। कृपया यह भी बताइये कि कहाँ लिखा है कि यदि किसी मामले में किसी भाषा की विकि में कोई स्पष्ट नीति/दिशानिर्देश नहीं हैं तो अंग्रेजी विकि का अनुसरण किया जायेगा?-- अनुनाद सिंहवार्ता 15:25, 12 जून 2012 (UTC)
बिल महोदय, कृपया इस बात पर भी साफ-साफ लिखें कि समाचार पत्रों के समाचारों की कड़ियाँ 'बाहरी कड़ियाँ' के अन्दर देना मना है या इन्हें देना अच्छा है? कृपया इस सवाल को तथस्टता के साथ बिना घालमेल किये उत्तर दें। -- अनुनाद सिंहवार्ता 03:55, 13 जून 2012 (UTC)
सर्वप्रथम, अगर आप गद्य नहीं लिख सकते तो इसमें मेरी गलती नहीं है। दूसरा, हिन्दी विकिपीडिया की सामग्री का एक बहुत बड़ा भाग अंग्रेज़ी विकिपीडिया से आया है, चाहे वे बड़ी संख्या में लेख हों, साँचे, सहायता पृष्ठ, परियोजना पृष्ठ, मीडियाविकि पृष्ठ, टूल्स, अन्य गैजेट्स, आदि, इसी प्रकार यहाँ कि अधिकतर निति-दिशानिर्देश जैसे पृष्ठ हटाने के मापदंड, विषय उल्लेखनीयता दिशानिर्देश, लेख लिखने की शैली, निर्वाचित विषयवस्तु मापदंड, आदि या तो अंग्रेज़ी विकिपीडिया से सीधे तौर पे लिए गए हैं या वहाँ से प्रेरित हैं। तो इसी प्रकार किसी विवादास्पद वृत्तांत के लिए भी अंग्रेज़ी को ही संदर्भित किया जाता है। इसमें कोई नई बात नहीं है। आपके प्रश्न का उत्तर प्रतिबंधात्मक हाँ है। आप लेख में समाचारपत्रों के लिंक दें सकते हैं, परन्तु वे इस प्रकार न चयनित किए जाएँ कि जब भी कोई बड़ी नकारात्मक (या सकारात्मक भी) ख़बर समाचारपत्रों में छपे तो आप उसके लिंक यहाँ दें। जैसे आपके द्वारा ही उदहारण के तौर पे दिए अंग्रेज़ी विकि के बिल क्लिंटन लेख में बजाय चयनित ख़बरों के विभिन्न प्रतिष्ठित समाचार वेबसाइट में "Bill Clinton" के ख़ोज परिणाम के लिंक दिए हुए है; वैसे ही आप भी ऐसे लिंक दें सकते हैं। इसके साथ ही आप किसी समाचारपत्र में छपे एडिटोरियल के लिंक भी दे सकते हैं, परन्तु जीवित व्यक्तियों की जीवनियों में ऐसे लिंक देते समय खास ध्यान रखें कि आप विकिमीडिया के रिज़ॉल्यूशन का पालन कर रहें हैं।<>< Bill william comptonTalk 05:19, 13 जून 2012 (UTC)
बिल महोदय, मेरे प्रश्न बहुत ही स्पष्ट थे। आपने फिर सीधा उत्तर देने के बजाय घुमा दिया है। ये 'प्रतिबंधात्मक हाँ' क्या है और कहाँ लिखा है कि कोई बड़ी नकारात्मक (या सकारात्मक भी) ख़बर समाचारपत्रों में छपे तो आप उसके लिंक यहाँ नहीं' दे सकते। क्या आप चाहते हैं कि लिंक को बासी करके दिया जाय, तुरन्त नहीं या कुछ और? कृपया इस सम्बन्ध में कोई लिखित नीति का उल्लेख करें। (किसी के दिमाग में कोई भ्रम है वह नीति नहीं बन जाती!)
आप अंग्रेजी को सन्दर्भ मानते हैं मैं नहीं मानता। कहीं कुछ लिखित निर्देश हो तो बताइये। कितनी विचित्र बात है कि आप कुछ सामग्री हटा रहे हैं, लोगों को नियम पढ़ा रहे हैं लेकिन वे नियम किसी किताब में ही नहीं हैं!!!-- अनुनाद सिंहवार्ता 11:58, 14 जून 2012 (UTC)
बिल महोदय, मेरे अनुत्तरित प्रश्न आपके दर्शन के लिये लालायित हैं और आप हैं कि इधर मुंह ही नहीं फेर रहे हैं। पलायन से मुक्ति नहीं मिल सकती। -- अनुनाद सिंहवार्ता 03:41, 15 जून 2012 (UTC)
पृष्ठ "मनमोहन सिंह" पर वापस जाएँ।