२०२० भारत में कोरोनावायरस महामारी

2020 भारत में महामारी की जानकारी

2019–20 कोरोनावायरस महामारी चीन से 30 जनवरी 2020 को भारत में फैलने की पुष्टि हुई थी।[2] भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद और स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मन्त्रालय ने 4 जून 2020 तक इस वायरस से भारत में 216,919 [1] मामलों की पुष्टि की है जिसमें 6,075 [1] लोगों की मृत्यु हुई है।

२०२० भारत में कोरोनोवायरस महामारी
India COVID-19 cases density map.svg
प्रति मिलियन निवासियों की पुष्टि के मामलों का मानचित्र
India COVID-19 confirmed cases map.svg
पुष्टि किए गए मामलों का मानचित्र (4 जून 2020 तक का)
India COVID-19 active cases map.svg
सक्रिय मामलों का मानचित्र (4 जून 2020 तक का)
India COVID-19 deaths map.svg
महामारी के कारण होने वाली मौतों का मानचित्र (4 जून 2020 तक का)
रोगCOVID-19
वायरसSARS-CoV-2
स्थानभारत
पहला मामलातृश्शूर, केरल
आगमन तिथि30 जनवरी 2020
(4 माह और 5 दिन)
उत्पत्तिवूहान, हूबेई, चीन
सत्यापित मामले216,919 [1]
सक्रिय मामले106,737[1]
मृत्यु
6,075 (2 विदेशियों सहित)[1]
प्रदेश
27 राज्य और 7 केंद्र शासित प्रदेश
आधिकारिक वेबसाइट
https://www.mohfw.gov.in

इस प्रकोप को एक दर्जन से अधिक राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में महामारी घोषित किया गया है, जहां महामारी रोग अधिनियम, 1897 के प्रावधानों को लागू किया गया है, और शैक्षणिक संस्थानों और कई वाणिज्यिक संस्थानों को बंद कर दिया गया है। साथ भारत ने सभी पर्यटक वीजा को भी निलंबित कर दिया है, क्योंकि अधिकांश पुष्ट मामले अन्य देशों से लौटे लोगों में पाये गए है। सरकार ने देश भर के 75 जिलों में लॉकडाउन जारी किया था, जहां 31 मार्च तक कोविड-19 मामलों की पुष्टि की गई थी।[3]

समयरेखासंपादित करें

 
भारत में फैल रही महामारी का घटनाक्रम (30 जनवरी 2020 से)

30 जनवरी को, भारत के केरल राज्य में कोविड-19 का पहला मामला दर्ज किया गया था, 3 फरवरी तक बढ़कर संख्या तीन हो गयी; सभी छात्र चीन के वूहान से लौटे थे।[4][5] इसके बाद मार्च के महीने में संक्रमित मामलों की संख्या बढ़ गयी जिसमें से ज्यादातर लोग विदेश से लौटे थे। 12 मार्च को, एक 76 वर्षीय व्यक्ति जो सऊदी अरब[6] से लौटा था जिसकी मृत्यु हुई और यह देश में कोरोना वायरस से होने वाली पहली मृत्यु थी। 15 मार्च को पुष्ट मामलों की संख्या 100[7] हुई जबकि, 28 मार्च को 1,000[8], 2 अप्रैल को 2,000[9] और 4 अप्रैल को 3,000[10] से अधिक लोग संक्रमित हुए। 1 अप्रैल को मरने वालों की संख्या 50[11] और 5 अप्रैल को 100[12] पार कर गई। वहीं 6 अप्रैल को कुल संक्रमित मामले 4000[13] पार कर गए।

7 मार्च को, इटली और जर्मनी की यात्रा करके वापस लौटे एक सिख उपदेशक जो बाद में आनंदपुर साहिब[14] में एक सिख उत्सव में भाग लिया था, से सत्ताईस[15] लोगों में पॉज़िटिव कोरोना वायरस पाया गया। यह उत्सव 10-12 मार्च को आयोजित किया गया था, और उसमें तकरीबन रोजाना 10,000[16] लोगों ने भाग लिया। इसके बाद पंजाब के 20 गांवों में 40,000 से अधिक लोग महामारी के प्रसार को रोकने के लिए संगरोध (quarantine) में रखे गए।[16][17]

31 मार्च को, तबलीग़ी जमात धार्मिक मण्डली जिसे दिल्ली में रखी गयी थी[18], जिससे देश भर में बड़ी संख्या में मामलों में बढ़ोतरी हुई। इसमें लगभग 9,000 से अधिक मिशनरियों ने भाग लिया[19][20], जिनमें से अधिकांश भारत के विभिन्न राज्यों से हैं, और 40 अन्य देशों के 960 लोग थे।[21] 4 अप्रैल तक, 1,023 पुष्ट मामले 17 भारतीय राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में दर्ज किए गए जो इस घटना से जुड़े थे।[10]

12 अप्रैल 2020 को भारत भर में कोरोना वायरस के संक्रमित लोगों की संख्या 8,447 पहुंची जिसमें 273 लोगों की जान जा चुकी है और 766 लोग ठीक हुए है।

सरकार की प्रतिक्रियाएँसंपादित करें

संदेशसंपादित करें

भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने १९ मार्च २०२० को कोरोनवायरस के बारे में टेलीविजन पर राष्ट्र को सम्बोधित करते हुए
 
भारत के ‘‘सामूहिक संकल्प और एकजुटता’’[22] को प्रदर्शित करने के लिए प्रज्वलित मिट्टी का दीपक
लॉकडाउन करने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संबोधित करते हुए।

19 मार्च को, 30 मिनट के लाइव टेलीकास्ट के दौरान, भारतीय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी नागरिकों को 22 मार्च को सुबह 7 से 9 बजे तक 'जनता कर्फ्यू' करने के लिए कहा। इस कर्फ्यू के दौरान उन्होंने सभी को घर में रहने के लिए कहा था। उन्होंने लोगों से स्वास्थ्य प्रणाली पर बोझ को कम करने के लिए नियमित जांच और वैकल्पिक सर्जरी से बचने के लिए भी कहा। उन्होंने एक COVID-19 आर्थिक प्रतिक्रिया कार्य बल के गठन की घोषणा की। प्रकोप के दौरान विभिन्न क्षेत्रों द्वारा किए जा रहे कार्यों की सराहना के लिए उन्होंने लोगों से शाम 5 बजे अपने दरवाजे, खिड़कियों या बालकनियों के सामने इकट्ठा होने और पांच मिनट के लिए उनकी सराहना करने का आग्रह किया।[23] राज्य और स्थानीय अधिकारियों से कहा गया कि वे लोगों को सायरन बजाने के लिए कहें। 24 मार्च को, मोदी ने 21 दिनों की अवधि के लिए उस दिन की मध्यरात्रि से देशव्यापी लॉकडाउन की घोषणा की।[24] उन्होंने स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र के लिए 15,000 करोड़ (US$2.19 बिलियन) की सहायता की भी घोषणा की। इस धन का उपयोग परीक्षण सुविधाओं, पीपीई, आईसीयू, वेंटिलेटर और प्रशिक्षण चिकित्सा कर्मचारियों के विकास के लिए किया जाएगा।[25] 3 अप्रैल को, प्रधान मंत्री मोदी ने संबोधित करते हुए कहा कि 5 अप्रैल को पूरे देश में सभी नौ मिनट के लिए रोशनी बंद करें और मोमबत्ती, दीया या मोबाइल की फ्लैश लाइट जलाएँ।[26]

सार्क सम्मेलनसंपादित करें

13 मार्च को, मोदी ने प्रस्ताव दिया कि सार्क राष्ट्र संयुक्त रूप से महामारी से लड़ेंगे। इस विचार पर नेपाल, मालदीव, श्रीलंका, भूटान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान के नेताओं ने स्वागत किया।[27] 15 मार्च को, सार्क नेताओं की एक वीडियो सम्मेलन के बाद, उन्होंने सार्क देशों के लिए कोविड-19 आपातकालीन निधि के रूप में वर्गीकृत धन का 74 करोड़ (US$10.8 मिलियन) आवंटित किया।

कानूनी घोषणाएंसंपादित करें

11 मार्च 2020 को, भारत के कैबिनेट सचिव, राजीव गौबा ने घोषणा की कि सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को महामारी रोग अधिनियम, 1897 की धारा 2 के प्रावधानों को लागू करना चाहिए।[28][29]

14 मार्च को केंद्र सरकार ने आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 के तहत महामारी को "अधिसूचित आपदा" घोषित किया, जिससे राज्यों को वायरस से लड़ने के लिए राज्य आपदा प्रतिक्रिया कोष से धन का एक बड़ा हिस्सा खर्च करने को मिला।[30][31]

निवारक उपायसंपादित करें

 
स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी किया गया जागरूकता पोस्टर

30 जनवरी में भारत सरकार ने अपने नागरिकों के लिए विशेष रूप से वूहान के लिए एक यात्रा सलाहकार जारी किया, जहां लगभग 500 भारतीय चिकित्सा छात्र अध्ययन कर रहे है।[32] सरकार ने सात प्रमुख अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों पर चीन से आने वाले यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग करने का फैसला लिया।[33][34]

मध्य मार्च की शुरुआत में सरकार ने देश में महामारी के इस बदतर स्थिति से निपटने के लिए योजना तैयार की जिसमें देश भर में अतिरिक्त संगरोध और उपचार सुविधाओं की स्थापना के लिए एक साथ काम करने वाले सात मंत्रालय शामिल हैं। गृह, रक्षा, रेलवे, श्रम, अल्पसंख्यक मामलों, विमानन और पर्यटन सहित राज्यों और बीस मंत्रालयों को नियोजन योजना के बारे में सूचित किया गया है।[35] भगदड़ जैसी स्थिति से बचने की योजना भी बनाई गई है। कपड़ा मंत्रालय को सुरक्षा और चिकित्सा सामग्री की उपलब्धता सुनिश्चित करने का काम सौंपा गया है। फार्मास्यूटिकल्स विभाग को आवश्यक दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने का काम सौंपा गया है। उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय को आवश्यक वस्तुओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए कहा गया है।[36]

15 मार्च को, भारतीय जनता पार्टी ने राजस्थान में कोरोनोवायरस के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए एक सार्वजनिक अभियान चलाया।[37][38]

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने केरल के तिरुवनंतपुरम में बायो-मीट्रिक फिंगरप्रिंट स्कैनिंग, विकलांग प्रवेश टर्नस्टाइल और सीमित आंतरिक बैठकों को निलंबित कर दिया है और चिकित्सा निगरानी को आगे बढ़ाते हुए न्यूनतम यात्राएं की है। हालांकि, मिशन कार्यक्रम प्रभावित नहीं होने दिये।[39]

17 मार्च को, भारत सरकार ने सभी भारतीय राज्यों को 31 मार्च तक कार्यान्वयन के लिए एक निवारक रणनीति के रूप में सामाजिक दूरगामी उपाय करने के लिए एक सलाह देने का आग्रह किया।[40] एक सरकारी निर्देश जारी किया गया जिसमें सभी अर्धसैनिक बलों (सीएपीएफ) को युद्ध मोड में लाने के लिए कहा गया था; सभी गैर-आवश्यक अवकाश रद्द कर दिए गए हैं।[41][42] साथ ही एक कोविड-19 आर्थिक प्रतिक्रिया कार्य बल भी बनाया गया है।[43][44]

27 मार्च को, तमिलनाडु सरकार ने कोरोनोवायरस की वर्तमान स्थिति को देखते हुए 1508 लैब तकनीशियनों, 500 डॉक्टरों और 1000 नर्सों को तत्काल प्रभाव से नियुक्ति आदेश जारी किए हैं। इसके साथ ही राज्य में 200 नई एम्बुलेंस बढ़ाने के भी आदेश दिए गए हैं।[45]

असम सरकार ने गुवाहाटी के सरसजाई स्टेडियम और नेहरू स्टेडियम में अलगाव (isolation) की सुविधा शुरू की।[46][47]

हेल्पलाइनसंपादित करें

कोरोना वायरस की इस महामारी से निपटने के लिए भारत की केंद्र सरकार और राज्य सरकारों ने क्रमशः राष्ट्रीय और राजकीय हेल्पलाइन सेवाएँ लागू की हैं।

लॉकडाउनसंपादित करें

22 मार्च को, भारत सरकार ने देश के 22 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के 82 जिलों को पूरी तरह से बंद करने का निर्णय लिया, जहां 31 मार्च तक पुष्टि होने की खबर है।[48] 23 मार्च को दिल्ली में कम से कम 31 मार्च तक लॉकडाउन करने का निर्णय लिया।

24 मार्च को, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए पूरे भारत में 21 दिनों के लिए आधी रात से लॉकडाउन करने का आदेश दिया, मतलब 14 अप्रैल तक सभी लोगों को घर से न निकलने को कहा है। हालांकि लॉकडाउन होने के बाद भी जरूरी चीजों के लिए दुकानें और मेडिकल स्टोर खुलें रहेंगे।[49] 14 अप्रैल सुबह 10 बजे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित करते हुए लॉकडाउन की अवधि आगे बढ़ाकर 3 मई करने का फैसला लिया और कहा कि अगले एक हफ्ते नियम और सख्त होंगे।[50] साथ ही मोदी ने कहा कि जहां नए मामले सामने नहीं आएंगे वहाँ कुछ छूट दी जाएगी।[51]

स्थितिसंपादित करें

तबलीगी जमात घटनासंपादित करें

मार्च के प्रारंभ में दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज मस्जिद में होने वाला तबलीगी जमात नामक मजहबी जनसमूह कोरोनवायरस के एक तिव्र-प्रसारक घटना के रूप में सामने आया, जिसके बाद 900 से अधिक[52] मामलों की पुष्टी हुई तथा देश भर में इस घटना से जुड़े कम से कम 10 लोगों की मौत हो गई।[53] 9,000 से अधिक मजहबी-प्रचारकों ने जनसमूह में भाग लिया, जिनमें से अधिकांश भारत के विभिन्न राज्यों से थे,[19][20] तथा 40 अन्य देशों से 960 लोग उपस्थित थे।[54] 4 अप्रैल तक, 17 राज्यों में 1,023 मामले तबलीगी जमात महामारी विस्फिट-केन्द्र (हॉटस्पॉट) से जुड़े हैं, जो भारत में पुष्टि किए गए सभी मामलों के 30% का प्रतिनिधित्व करते हैं। तबलीगी जमात के सदस्यों और देश भर में उनके संपर्कों सहित कुल 22,000 लोगों को क्वारंटाइन (संगरोध) में रखा गया है।[55]

13 मार्च को दिल्ली सरकार द्वारा सार्वजनिक समारोहों पर प्रतिबंध लगाने के बावजूद इस जनसभा को आयोजित करने के लिए तबलीगी जमात को मुस्लिम समुदाय द्वारा व्यापक आलोचना का सामना करना पड़ा।[56]

ग़लत जानकारीसंपादित करें

कोरोनावायरस रोग 2019 (COVID-19) के प्रारंभिक प्रकोप के बाद, कई अफ़वाहें (गलत सूचना और दुस्सूचना) फैली हैं, जिनका सम्बंध अक्सर रोग की उत्पत्ति, विदेशी षड्यन्त्रों, रोग-उपचार रोकथाम, और रोग के अन्य पहलुओं से होता है। ऑनलाइन सोशल मीडिया, पाठ संदेश (text message), और कुछ चीनी, और रूसी और ईरानी सरकारी मीडिया एजेंसियों द्वारा गलत सूचना फैलाई गई है। कुछ गलत सूचना और दुष्प्रचार में यह दावा किया गया कि वायरस एक जैव हथियार है जिसका टीका पेटेंट हो चुका है, या यह एक जनसंख्या नियंत्रण योजना है, या एक का जासूसी आपरेशन का परिणाम है।

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "Home | Ministry of Health and Family Welfare | GOI". mohfw.gov.in. अभिगमन तिथि 4 जून 2020.
  2. "कोरोना वायरस का पहला मामला भारत के केरल में". BBC News हिंदी. 30 जनवरी 2020. अभिगमन तिथि 5 मार्च 2020.
  3. Hebbar, Nistula (22 March 2020). "Coronavirus: Union government announces lockdown in 75 districts till March 31". द हिन्दू (अंग्रेज़ी में). आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0971-751X. अभिगमन तिथि 22 March 2020.
  4. "India confirms its first coronavirus case".
  5. "Kerala Defeats Coronavirus; India's Three COVID-19 Patients Successfully Recover". The Weather Channel. मूल से 18 February 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 21 February 2020.
  6. "India's first coronavirus death is confirmed in Karnataka". Hindustan Times (अंग्रेज़ी में). 12 March 2020. अभिगमन तिथि 27 March 2020.
  7. Shelar, Jyoti (15 March 2020). "Coronavirus - Number of confirmed cases in India crosses 100". The Hindu. अभिगमन तिथि 27 March 2020.
  8. "India has 909 active corona cases, total tally crosses 1,000". Outlook.
  9. "Coronavirus in India: Covid-19 tally surges past 2,000, Andhra sees 21 fresh cases". India Today.
  10. "Coronavirus Cases Cross 3,000 In India, 75 Deaths: 10 Points". NDTV. 4 April 2020. अभिगमन तिथि 4 April 2020.
  11. "COVID-19 fight in top gear as cases inch to 2,000 mark, death toll breaches 50". Malayala Manorama.
  12. "Toll crosses 100; Tablighi Jamaat members account for 30% of all coronavirus cases". Times of India.
  13. "Coronavirus India: अब तक 100 से ज्यादा लोगों की मौत, पिछले 12 घंटे में 490 मामले बढ़े". दैनिक जागरण. अभिगमन तिथि 6 अप्रैल 2020.
  14. "40,000 Indians quarantined after 'super spreader' ignores government advice". The Telegraph. 28 March 2020.
  15. "Septuagenarian Sikh priest infected 27 of total 38 coronavirus cases in Punjab". India Today. 28 March 2020.
  16. "Coronavirus: India 'super spreader' quarantines 40,000 people".
  17. "At least 40,000 quarantined in India after single priest spread coronavirus". NBC News. 30 March 2020.
  18. "India event sparks massive search for Covid-19 cases". BBC News. 31 March 2020.
  19. "Coronavirus: About 9,000 Tablighi Jamaat members, primary contacts quarantined in country, MHA says". The Times of India. PTI. 2 April 2020.
  20. "How Nizamuddin markaz became Covid-19 hotspot; more than 8,000 attendees identified". Hindustan Times. 2 April 2020.
  21. "379 Indonesians among foreigners from 40 countries attended Tablighi Jamaat gathering: Sources". ANI. अभिगमन तिथि 3 April 2020.
  22. Rana, Lakshya. "PM मोदी की मां ने भी किया बेटे की अपील का स्वागत, मिट्टी का दीपक जलाया". इंडिया टीवी हिन्दी (hindi में). अभिगमन तिथि 6 अप्रैल 2020.सीएस1 रखरखाव: नामालूम भाषा (link)
  23. "'Janata Curfew' and other highlights from PM Modi's address to the nation". Livemint.
  24. "COVID-19: Indian PM Modi announces complete lock down starting March 25". gulfnews.
  25. "Rs 15,000 crore allotted for healthcare to fight coronavirus, says PM Modi". www.businesstoday.in.
  26. "PM Modi urges countrymen to dispel the darkness spread by coronavirus by lighting a candles on April 5". Economic Times (अंग्रेज़ी में). 3 April 2020. अभिगमन तिथि 3 April 2020.
  27. 13 Mar; 2020; Ist, 20:51. "PM Modi bats for joint Saarc strategy to fight coronavirus, gets prompt support from neighbours". The Times of India (अंग्रेज़ी में). PTI. अभिगमन तिथि 14 March 2020.
  28. "The 123-year-old law that India may invoke to counter coronavirus". The Economic Times. 12 March 2020. अभिगमन तिथि 12 March 2020.
  29. "To combat coronavirus, India invokes provisions of colonial-era Epidemic Diseases Act: A look at what this means". Firstpost. 12 March 2020. अभिगमन तिथि 12 March 2020.
  30. Srinivasan, Chandrashekar, संपा॰ (14 March 2020). "India Declares Coronavirus A Notified Disaster". NDTV. अभिगमन तिथि 15 March 2020.
  31. "India declares coronavirus outbreak as a notified disaster". Livemint (अंग्रेज़ी में). 14 March 2020. अभिगमन तिथि 15 March 2020.
  32. Yan, Sophia; Wallen, Joe (21 January 2020). "China confirms human-to-human spread of deadly new virus as WHO mulls declaring global health emergency". डैली टेलीग्राफ. अभिगमन तिथि 21 January 2020.
  33. "India To Screen Chinese Travelers For Wuhan Mystery Virus at Mumbai Airport". News Nation. 18 January 2020. मूल से 21 January 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 21 January 2020.
  34. Sinha, Saurabh. "Coronavirus: Thermal screening of flyers from China, Hong Kong at 7 airports". टाइम्स ऑफ इंडिया. मूल से 21 January 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 21 January 2020.
  35. Mishra, Mihir (12 March 2020). "Covid-19: Seven ministries to set up quarantine facilities". The Economic Times. अभिगमन तिथि 12 March 2020.
  36. "Coronavirus outbreak: Govt working on a 'containment plan'". The Economic Times. 6 March 2020. अभिगमन तिथि 12 March 2020.
  37. "BJP to launch campaign to generate awareness about coronavirus". Outlook India. 15 March 2020.
  38. India, Press Trust of (15 August 2020). "R'than BJP to launch campaign to generate awareness about coronavirus". Business Standard India.
  39. "ISRO eases work schedule". The Hindu (अंग्रेज़ी में). 15 March 2020. आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0971-751X. अभिगमन तिथि 15 March 2020.
  40. "Govt calls for social distancing". livemint.
  41. "COVID-19: Government asks CAPFs to axe non-essential leaves of troops, get into 'battle mode'". The Economic Times. PTI. 18 March 2020. अभिगमन तिथि 18 March 2020.
  42. Sharma, Neeta (18 March 2020). Srinivasan, Chandrashekar (संपा॰). ""Enter Battle Mode," Paramilitary Forces Told After Virus Infects Soldier". एनडीटीवी. अभिगमन तिथि 18 March 2020.
  43. "COVID-19: Task Force to deal with economic challenges | DD News". ddnews.gov.in. अभिगमन तिथि 20 March 2020.
  44. "PM Narendra Modi forms economic response task force, calls for 'Janata Curfew'". द इकोनोमिक टाइम्स. 20 March 2020. अभिगमन तिथि 20 March 2020.
  45. "Tamil Nadu recruits 530 doctors, 1508 lab technicians, 1000 nurses to contain coronavirus COVID-19 outbreak: CM K Palaniswami". zeenews (अंग्रेज़ी में). 27 March 2020. अभिगमन तिथि 27 March 2020.
  46. "Assam govt transforms Sarusajai Stadium into coronavirus isolation facility". ANI News (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2020-03-28.
  47. "Sarusajai Stadium and Nehru Stadium in Guwahati to be converted into quarantine centres". The Sentinel (अंग्रेज़ी में). 2020-03-26. अभिगमन तिथि 2020-03-28.
  48. "82 districts under lockdown over Covid-19: What is shut and where". हिंदुस्तान टाइम्स (अंग्रेज़ी में). 23 मार्च 2020. अभिगमन तिथि 25 मार्च 2020.
  49. "21 दिनों तक घर में रहें, PM Modi के आह्वान से बंधी कोरोना से जीतने की आस". दैनिक जागरण. अभिगमन तिथि 25 मार्च 2020.
  50. "3 मई तक देश में रहेगा लॉकडाउन, 1 हफ्ते नियम होंगे और सख्त; पढ़ें PM मोदी के संबोधन की 10 अहम बातें". NDTVIndia. अभिगमन तिथि 14 अप्रैल 2020.
  51. "Lockdown Extended till 3rd May: लॉकडाउन 3 मई तक बढ़ा, 20 अप्रैल के बाद झारखंड के कुछ जिलों को मिल सकती है छूट". दैनिक जागरण. अभिगमन तिथि 14 अप्रैल 2020.
  52. "647 COVID-19 Cases In Last 2 Days Linked To Islamic Sect Meet In Delhi". NDTV. अभिगमन तिथि 3 April 2020.
  53. "India confronts its first coronavirus 'super-spreader' — a Muslim missionary group with more than 400 members infected". Washington Post. अभिगमन तिथि 3 April 2020.
  54. "379 Indonesians among foreigners from 40 countries attended Tablighi Jamaat gathering: Sources". ANI. अभिगमन तिथि 3 April 2020.
  55. PTI, Nearly 22,000 Tablighi Jamaat members, contacts quarantined across country: MHA, India Today, 4 April 2020.
  56. "Tablighi Jamaat draws widespread condemnation from Muslim society". The Hindu Business Line. अभिगमन तिथि 3 April 2020.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें