भारत (आधिकारिक नाम: भारत गणराज्य, अंग्रेज़ी: Republic of India) दक्षिण एशिया में स्थित भारतीय उपमहाद्वीप का सबसे बड़ा देश है। भारत भौगोलिक दृष्टि से विश्व का सातवाँ सबसे बड़ा देश है, जबकि जनसंख्या के दृष्टिकोण से चीन के बाद दूसरा सबसे बड़ा देश है। भारत के पश्चिम में पाकिस्तान, उत्तर-पूर्व में चीन, नेपाल और भूटान, पूर्व में बांग्लादेश और म्यान्मार स्थित हैं। हिन्द महासागर में इसके दक्षिण पश्चिम में मालदीव, दक्षिण में श्रीलंका और दक्षिण-पूर्व में इंडोनेशिया से भारत की सामुद्रिक सीमा लगती है। इसके उत्तर में हिमालय पर्वत तथा दक्षिण में हिन्द महासागर स्थित है। दक्षिण-पूर्व में बंगाल की खाड़ी तथा पश्चिम में अरब सागर है।

आधुनिक मानव या होमो सेपियन्स अफ्रीका से भारतीय उपमहाद्वीप में ५५,००० साल पहले आये थे। [1] ९,००० वर्ष पहले ये सिंधु नदी के पश्चिमी हिस्से की तरफ बसे हुए थे जहाँ से इन्होने धीरे धीरे पलायन किया और सिंधुघाटी की सभ्यता के रूप में विकसित हुए। [2] १,२०० ईसा पूर्व संस्कृत भाषा सम्पूर्ण भारतीय उपमहाद्वीप में फैली हुए थी और तब तक यहाँ पर हिन्दू धर्म का उद्धव हो चुका था और ऋग्वेद की रचना भी हो चुकी थी। [3] ४०० ईसा पूर्व तक आते आते हिन्दू धर्म में जातिवाद देखने को मिल जाता है। [4] इसी समय बौद्ध एवं जैन धर्म उत्पन्न हो रहे होते हैं। [5] प्रारंभिक राजनीतिक एकत्रीकरण ने गंगा बेसिन में स्थित मौर्य और गुप्त साम्राज्यों को जन्म दिया। [6] उनका समाज विस्तृत सृजनशीलता से भरा हुआ था। [7]

प्रारंभिक मध्ययुगीन काल में, ईसाई धर्म, इस्लाम, यहूदी धर्म और पारसी धर्म ने भारत के दक्षिणी और पश्चिमी तटों पर जड़ें जमा लीं।[8] मध्य एशिया से मुस्लिम सेनाओं ने भारत के उत्तरी मैदानों पर लगातार अत्याचार किया,[9] अंततः दिल्ली सल्तनत की स्थापना हुई और उत्तर भारत को मध्यकालीन इस्लाम साम्राज्य में मिला लिया गया। [10] 15 वीं शताब्दी में, विजयनगर साम्राज्य ने दक्षिण भारत में एक लंबे समय तक चलने वाली समग्र हिंदू संस्कृति बनाई।[11] पंजाब में सिख धर्म की स्थापना हुई। [12] धीरे-धीरे ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के शासन का विस्तार हुआ, जिसने भारत को औपनिवेशिक अर्थव्यवस्था में बदल दिया तथा अपनी संप्रभुता को भी मजबूत किया।[13] ब्रिटिश राज शासन 1858 में शुरू हुआ। धीरे धीरे एक प्रभावशाली राष्ट्रवादी आंदोलन शुरू हुआ जिसे अहिंसक विरोध के लिए जाना गया और ब्रिटिश शासन को समाप्त करने का प्रमुख कारक बन गया। [14] 1947 में ब्रिटिश भारतीय साम्राज्य को दो स्वतंत्र प्रभुत्वों में विभाजित किया गया, भारतीय अधिराज्य तथा पाकिस्तान अधिराज्य, जिन्हे धर्म के आधार पर विभाजित किया गया। [15][16]

1950 से भारत एक संघीय गणराज्य है। भारत की जनसंख्या 1951 में 36.1 करोड़ से बढ़कर 2011 में 1.211 करोड़ हो गई।[17] प्रति व्यक्ति आय $64 से बढ़कर $1,498 हो गई और इसकी साक्षरता दर 16.6% से 74% हो गई। भारत एक तेजी से बढ़ती हुई प्रमुख अर्थव्यवस्था और सूचना प्रौद्योगिकी सेवाओं का केंद्र बन गया है। [18] अंतरिक्ष क्षेत्र में भारत ने उल्लेखनीय तथा अद्वितीय प्रगति की। भारतीय फिल्में, संगीत और आध्यात्मिक शिक्षाएं वैश्विक संस्कृति में विशेष भूमिका निभाती हैं। [19] भारत ने गरीबी दर को काफी हद तक कम कर दिया है।[20] भारत देश परमाणु बम रखने वाला देश है। कश्मीर तथा भारत-पाकिस्तान और भारत-चीन सीमा पर भारत का पाकिस्तान तथा चीन से विवाद चल रहा है।[21] लैंगिक असमानता, बाल शोषण, बाल कुपोषण,[22] गरीबी, भ्रष्टाचार, प्रदूषण इत्यादि भारत के सामने प्रमुख चुनौतियाँ है।[23] 21.4% क्षेत्र पर वन है।[24] भारत के वन्यजीव, जिन्हें परंपरागत रूप से भारत की संस्कृति में सहिष्णुता के साथ देखा गया है,[25] इन जंगलों और अन्य जगहों पर संरक्षित आवासों में निवास करते हैं।

नामोत्पत्ति संपादित करें

भारत के दो आधिकारिक नाम हैं- हिन्दी में भारत और अंग्रेज़ी में इण्डिया (India)। इण्डिया नाम की उत्पत्ति सिन्धु नदी के अंग्रेजी नाम "इण्डस" से हुई है।[26] श्रीमद्भागवत महापुराण में वर्णित एक कथा के अनुसार भारत नाम मनु के वंशज तथा ऋषभदेव के सबसे बड़े बेटे एक प्राचीन सम्राट भरत के नाम से लिया गया है। [27][28][29][30][31][32] एक व्युत्पत्ति के अनुसार भारत (भा + रत) शब्द का मतलब है आन्तरिक प्रकाश या विदेक-रूपी प्रकाश में लीन। एक तीसरा नाम हिन्दुस्तान भी है जिसका अर्थ हिन्द की भूमि, यह नाम विशेषकर अरब तथा ईरान में प्रचलित हुआ। [33] बहुत पहले भारत का एक मुंहबोला नाम सोने की चिड़िया भी प्रचलित था।[34] संस्कृत महाकाव्य महाभारत में वर्णित है की वर्तमान उतर भारत का क्षेत्र भारत के अंतर्गत आता था। भारत को कई अन्य नामों भारतवर्ष, आर्यावर्त, इंडिया, हिन्द, हिंदुस्तान, जम्बूद्वीप आदि से भी जाना जाता है।

इतिहास संपादित करें

प्राचीन संपादित करें

लगभग ६५,००० वर्ष पहले आधुनिक मानव या होमो सेपियन्स अफ्रीका से भारतीय उपमहाद्वीप में पहुंचे थे। [35][36][37] दक्षिण एशिया में ज्ञात मानव का प्राचीनतम अवशेष ३०,००० वर्ष पुराना है।[38] भीमबेटका, मध्य प्रदेश की गुफाएँ भारत में मानव जीवन का प्राचीनतम प्रमाण हैं। प्रथम स्थाई बस्तियों ने ९००० वर्ष पूर्व स्वरुप लिया। ६,५०० ईसा पूर्व तक आते आते मनुष्य ने खेती करना, जानवरों को पालना तथा घरों का निर्माण करना शुरू कर दिया था जिसका अवशेष मेहरगढ़ में मिला था जो की पाकिस्तान में है। [39] यह धीरे-धीरे सिंधु घाटी सभ्यता के रूप में विकसित हुए,[40][39] जो की दक्षिण एशिया की सबसे प्राचीन शहरी सभ्यता है।[41] यह २६०० ईसा पूर्व और १९०० ईसा पूर्व के मध्य अपने चरम पर थी।[42] यह वर्तमान पश्चिम भारत तथा पाकिस्तान में स्थित है।[43] यह मोहनजोदड़ो, हड़प्पा, धोलावीरा, और कालीबंगा जैसे शहरों के आसपास केंद्रित थी और विभिन्न प्रकार के निर्वाह पर निर्भर थी, यहाँ व्यापक बाजार था तथा शिल्प उत्पादन होता था।[41]

२००० से ५०० ईसा पूर्व तक ताम्र पाषाण युग संस्कृति से लौह युग का आगमन हुआ।[44] इसी युग को हिन्दू धर्म से जुड़े प्राचीनतम धर्म ग्रंथ,[45] वेदों का रचनाकाल माना जाता है[46] तथा पंजाब तथा गंगा के ऊपरी मैदानी क्षेत्र को वैदिक संस्कृति का निवास स्थान माना जाता है।[44] कुछ इतिहासकारों का मानना है की इसी युग में उत्तर-पश्चिम से भारतीय-आर्यन का आगमन हुआ था।[45] इसी अवधि में जाति प्रथा भी प्रारंम्भ हुई थी।[47]

वैदिक सभ्यता में ईसा पूर्व ६ वीं शताब्दी में गंगा के मैदानी क्षेत्र तथा उत्तर-पश्चिम भारत में छोटे-छोटे राज्य तथा उनके प्रमुख मिल कर १६ कुलीन और राजशाही में सम्मिलित हुए जिन्हे महाजनपद के नाम से जाना जाता है। [48] [49] बढ़ते शहरीकरण के बीच दो अन्य स्वतंत्र अ-वैदिक धर्मों का उदय हुआ। महावीर के जीवन काल में जैन धर्म अस्तित्व में आया।[50] गौतम बुद्ध की शिक्षाओं पर आधारित बौद्ध धर्म ने मध्यम वर्ग के अनुयायिओं को छोड़कर अन्य सभी वर्ग के लोगों को आकर्षित किया; इसी काल में भारत का इतिहास लेखन प्रारम्भ हुआ। [51][52][53] बढ़ती शहरी सम्पदा के युग में, दोनों धर्मों ने त्याग को एक आदर्श माना,[54] और दोनों ने लंबे समय तक चलने वाली मठ परंपराओं की स्थापना की। राजनीतिक रूप से तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व तक मगध साम्राज्य ने अन्य राज्यों को अपने अंदर मिला कर मौर्य साम्राज्य के रूप में उभरा। [55] मगध ने दक्षिण भारत के कुछ हिस्सों को छोड़कर पूरे भारत पर अपना अधिपत्य स्थापित कर लिया लेकिन कुछ अन्य प्रमुख बड़े राज्यों ने इसके प्रमुख क्षेत्रों को अलग कर लिया। [56][57] मौर्य राजाओं को उनके साम्राज्य की उन्नति के लिए तथा उच्च जीवन सतर के लिए जाना जाता है क्योंकि सम्राट अशोक ने बौद्ध धम्म की स्थापना की तथा शस्त्र मुक्त सेना का निर्माण किया।[58][59]१८० ईसवी के आरम्भ से मध्य एशिया से कई आक्रमण हुए, जिनके परिणामस्वरूप उत्तर भारतीय उपमहाद्वीप में यूनानी, शक, पार्थी और अंततः कुषाण राजवंश स्थापित हुए। तीसरी शताब्दी के आगे का समय जब भारत पर गुप्त वंश का शासन था, भारत का स्वर्णिम काल कहलाया।[60]

तमिल के संगम साहित्य के अनुसार ईसा पूर्व २०० से २०० ईस्वी तक दक्षिण प्रायद्वीप पर चेर राजवंश, चोल राजवंश तथा पाण्ड्य राजवंश का शासन था जिन्होंने बड़े सतर पर भारत और रोम के व्यापारिक सम्बन्ध और पश्चिम और दक्षिण पूर्व एशिया के साम्राज्यों के साथ व्यापर किया।[61][62] चौथी-पांचवी शताब्दी के बीच गुप्त साम्राज्य ने वृहद् गंगा के मैदानी क्षेत्र में प्रशासन तथा कर निर्धारण की एक जटिल प्रणाली बनाई; यह प्रणाली बाद के भारतीय राज्यों के लिए एक आदर्श बन गई। [63][64] गुप्त साम्राज्य में भक्ति पर आधारित हिन्दू धर्म का प्रचलन हुई। [65] विज्ञान, कला, साहित्य, गणित, खगोलशास्त्र, प्राचीन प्रौद्योगिकी, धर्म, तथा दर्शन इन्हीं राजाओं के शासनकाल में फले-फूले, जो शास्त्रीय संस्कृत में रचा गया। [64]

मध्यकालीन भारत संपादित करें

६०० से १२०० के बीच का समय क्षेत्रीय राज्यों में सांस्कृतिक उत्थान के युग के रूप में जाना जाता है।[66] कन्नौज के राजा हर्ष ने ६०६ से ६४७ तक गंगा के मैदानी क्षेत्र में शासन किया तथा उसने दक्षिण में अपने राज्य का विस्तार करने का प्रयास किया किन्तु दक्क्न के चालुक्यों ने उसे हरा दिया।[67] उसके उत्तराधिकारी ने पूर्व की और राज्य का विस्तार करना चाहा लेकिन बंगाल के पाल शासकों से उसे हारना पड़ा।[67] जब चालुक्यों ने दक्षिण की और विस्तार करने का प्रयास किया तो पल्ल्वों ने उन्हें पराजित कर दिया, जिनका सुदूर दक्षिण में पांड्यों तथा चोलों द्वारा उनका विरोध किया जा रहा था।[67] इस काल में कोई भी शासक एक साम्राज्य बनाने में सक्षम नहीं था और लगातार मूल भूमि की तुलना में दुसरे क्षेत्र की ओर आगे बढ़ने का क्रम जारी था।[66] इस अवधि में नये शासन के कारण जाति में बांटे गए सामान्य कृषकों के लिए कृषि करना और सहज हो गया।[68] जाति व्यवस्था के परिणामस्वरूप स्थानीय मतभेद होने लगे।[68]

6 और 7 वीं शताब्दी में, पहली भक्ति भजन तमिल भाषा में बनाया गया था। पूरे भारत में उनकी नकल की गई और हिंदू धर्म के पुनरुत्थान और इसने उपमहाद्वीप की सभी आधुनिक भाषाओं के विकास का नेतृत्व किया। राजघरानो ने लोगों को राजधानी की आकर्षित किया। शहरीकरण के साथ शहरों में बड़े स्तर पर मंदिरों का निर्माण किया।[69] दक्षिण भारत की राजनीतिक और सांस्कृतिक व्यवस्था का प्रभाव दक्षिण एशिया के देशों म्यांमार, थाईलैंड, लाओस, कंबोडिया, वियतनाम, फिलीपींस, मलेशिया और जावा में देखा जा सकता है।[70]

१० वीं शताब्दी के बाद घुमन्तु मुस्लिम वंशों ने जातियता तथा धर्म द्वारा संघठित तेज घोड़ों से युक्त बड़ी सेना के द्वारा उत्तर-पश्चिमी मैदानों पर बार बार आकर्मण किया, अंततः १२०६ इस्लामीक दिल्ली सल्तनत की स्थापना हुई।[71] उन्हें उतर भारत को अधिक नियंत्रित करना था तथा दक्षिण भारत पर आकर्मण करना था। भारतीय कुलीन वर्ग के विघटनकारी सल्तनत ने बड़े पैमाने पर गैर-मुस्लिमों को स्वयं के रीतिरिवाजों पर छोड़ दिया।[72][73] १३ वीं शताब्दी में मंगोलों द्वारा किये के विनाशकारी आकर्मण से भारत की रक्षा की। सल्तनत के पतन के कारण स्वशासित विजयनगर साम्राज्य का मार्ग प्रशस्त हुआ।[74] एक मजबूत शैव परंपरा और सल्तनत की सैन्य तकनीक पर निर्माण करते हुए साम्राज्य ने भारत के विशाल भाग पर शासन किया और इसके बाद लंबे समय तक दक्षिण भारतीय समाज को प्रभावित किया।[75][74]

प्रारंभिक आधुनिक भारत संपादित करें

आधुनिक भारत संपादित करें

भूगोल संपादित करें

जैव विविधता संपादित करें

पर्यावरण संपादित करें

राजनीति और सरकार संपादित करें

राजनीति संपादित करें

सरकार संपादित करें

न्यायपालिका संपादित करें

कार्यपालिका संपादित करें

व्यवस्थापिका संपादित करें

प्रशासनिक विभाग संपादित करें

विदेश सम्बन्ध संपादित करें

सैनि‍क शक्ति संपादित करें

अर्थव्यवस्था संपादित करें

कृषि संपादित करें

उद्योग संपादित करें

विनिर्माण संपादित करें

सेवाएँ संपादित करें

पर्यटन संपादित करें

जनसांख्यिकी संपादित करें

धर्म संपादित करें

भाषा संपादित करें

जनसंख्या संपादित करें

संस्कृति संपादित करें

इन्हें भी देखें संपादित करें

सन्दर्भ संपादित करें

  1. (a) Dyson, Tim (2018), A Population History of India: From the First Modern People to the Present Day, Oxford University Press, पृ॰ 1, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-19-882905-8; (b) Michael D. Petraglia; Bridget Allchin (22 May 2007). The Evolution and History of Human Populations in South Asia: Inter-disciplinary Studies in Archaeology, Biological Anthropology, Linguistics and Genetics. Springer Science + Business Media. पृ॰ 6. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-4020-5562-1.; (c) Fisher, Michael H. (2018), An Environmental History of India: From Earliest Times to the Twenty-First Century, Cambridge University Press, पृ॰ 23, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-107-11162-2
  2. (a) Dyson, Tim (2018), A Population History of India: From the First Modern People to the Present Day, Oxford University Press, पपृ॰ 4–5, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-19-882905-8; (b) Fisher, Michael H. (2018), An Environmental History of India: From Earliest Times to the Twenty-First Century, Cambridge University Press, पृ॰ 33, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-107-11162-2
  3. (a) Dyson, Tim (2018), A Population History of India: From the First Modern People to the Present Day, en:Oxford University Press, पपृ॰ 14–15, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-19-882905-8; (b) Robb, Peter (2011), A History of India, Macmillan, पृ॰ 46, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-230-34549-2; (c) Ludden, David (2013), India and South Asia: A Short History, Oneworld Publications, पृ॰ 19, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-78074-108-6
  4. Dyson, Tim (2018), A Population History of India: From the First Modern People to the Present Day, en:Oxford University Press, पृ॰ 16, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-19-882905-8
  5. Fisher, Michael H. (2018), An Environmental History of India: From Earliest Times to the Twenty-First Century, en:Cambridge University Press, पृ॰ 59, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-107-11162-2
  6. (a) Dyson, Tim (2018), A Population History of India: From the First Modern People to the Present Day, en:Oxford University Press, पपृ॰ 16–17, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-19-882905-8; (b) Fisher, Michael H. (2018), An Environmental History of India: From Earliest Times to the Twenty-First Century, en:Cambridge University Press, पृ॰ 67, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-107-11162-2; (c) Robb, Peter (2011), A History of India, Macmillan, पपृ॰ 56–57, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-230-34549-2; (d) Ludden, David (2013), India and South Asia: A Short History, en:Oneworld Publications, पपृ॰ 29–30, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-78074-108-6
  7. (a) Ludden, David (2013), India and South Asia: A Short History, en:Oneworld Publications, पपृ॰ 28–29, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-78074-108-6; (b) Glenn Van Brummelen (2014), "Arithmetic", प्रकाशित Thomas F. Glick; Steven Livesey; Faith Wallis (संपा॰), Medieval Science, Technology, and Medicine: An Encyclopedia, en:Routledge, पपृ॰ 46–48, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-135-45932-1
  8. (a) Ludden, David (2013), India and South Asia: A Short History, Oneworld Publications, पृ॰ 54, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-78074-108-6; (b) Asher, Catherine B.; Talbot, Cynthia (2006), India Before Europe, Cambridge University Press, पपृ॰ 78–79, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-521-80904-7; (c) Fisher, Michael H. (2018), An Environmental History of India: From Earliest Times to the Twenty-First Century, Cambridge University Press, पृ॰ 76, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-107-11162-2
  9. (a) Ludden, David (2013), India and South Asia: A Short History, Oneworld Publications, पपृ॰ 68–70, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-78074-108-6; (b) Asher, Catherine B.; Talbot, Cynthia (2006), India Before Europe, Cambridge University Press, पपृ॰ 19, 24, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-521-80904-7
  10. (a) Dyson, Tim (20 September 2018), A Population History of India: From the First Modern People to the Present Day, Oxford University Press, पृ॰ 48, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-19-256430-6; (b) Asher, Catherine B.; Talbot, Cynthia (2006), India Before Europe, Cambridge University Press, पृ॰ 52, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-521-80904-7
  11. Asher, Catherine B.; Talbot, Cynthia (2006), India Before Europe, Cambridge University Press, पृ॰ 74, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-521-80904-7"
  12. Asher, Catherine B.; Talbot, Cynthia (2006), India Before Europe, Cambridge University Press, पृ॰ 267, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-521-80904-7
  13. (a) Asher, Catherine B.; Talbot, Cynthia (2006), India Before Europe, Cambridge University Press, पृ॰ 289, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-521-80904-7; (b) Fisher, Michael H. (2018), An Environmental History of India: From Earliest Times to the Twenty-First Century, Cambridge University Press, पृ॰ 120, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-107-11162-2
  14. Marshall, P. J. (2001), The Cambridge Illustrated History of the British Empire, Cambridge University Press, पपृ॰ 179–181, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-521-00254-7
  15. Copland 2001, पृष्ठ 71–78
  16. Metcalf & Metcalf 2006, पृष्ठ 222
  17. Dyson, Tim (2018), A Population History of India: From the First Modern People to the Present Day, Oxford University Press, पपृ॰ 219, 262, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-19-882905-8
  18. Metcalf, Barbara D.; Metcalf, Thomas R. (2012), A Concise History of Modern India, Cambridge University Press, पपृ॰ 265–266, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-107-02649-0
  19. Metcalf, Barbara D.; Metcalf, Thomas R. (2012), A Concise History of Modern India, Cambridge University Press, पृ॰ 266, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-107-02649-0
  20. Dyson, Tim (2018), A Population History of India: From the First Modern People to the Present Day, Oxford University Press, पृ॰ 216, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-19-882905-8
  21. (a) "Kashmir, region Indian subcontinent", Encyclopaedia Britannica, मूल से 13 August 2019 को पुरालेखित, अभिगमन तिथि 15 August 2019, Kashmir, region of the northwestern Indian subcontinent ... has been the subject of dispute between India and Pakistan since the partition of the Indian subcontinent in 1947.;
    (b) Pletcher, Kenneth, "Aksai Chin, Plateau Region, Asia", Encyclopaedia Britannica, मूल से 2 April 2019 को पुरालेखित, अभिगमन तिथि 16 August 2019, Aksai Chin, Chinese (Pinyin) Aksayqin, portion of the Kashmir region, ... constitutes nearly all the territory of the Chinese-administered sector of Kashmir that is claimed by India;
    (c) C. E Bosworth. (2006)। “Encyclopedia Americana: Jefferson to Latin”। Encyclopedia Americana। Scholastic Library Publishing। “KASHMIR, kash'mer, the northernmost region of the Indian subcontinent, administered partly by India, partly by Pakistan, and partly by China. The region has been the subject of a bitter dispute between India and Pakistan since they became independent in 1947”
  22. (वीर गडरिया) पाल बघेल धनगर
  23. (वीर गडरिया) पाल बघेल धनगर
  24. Jha, Raghbendra (2018), Facets of India's Economy and Her Society Volume II: Current State and Future Prospects, Springer, पृ॰ 198, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-349-95342-4
  25. Karanth, K. Ullas; Gopal, Rajesh (2005), "An ecology-based policy framework for human-tiger coexistence in India", प्रकाशित Rosie Woodroffe; Simon Thirgood; Alan Rabinowitz (संपा॰), People and Wildlife, Conflict Or Co-existence?, Cambridge University Press, पृ॰ 374, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-521-53203-7
  26. Oxford English Dictionary.
  27. "Hindi Book Bhagwat Puran". archive.org. अभिगमन तिथि 2020-04-29.
  28. Vayu Puranam.
  29. Sanatan. Varah Puran - वराह पुराण - हिंदी.
  30. Sanatan. Ling Puran - लिंग पुराण - हिंदी.
  31. Sanatan. Narad Puran - नारद पुराण - हिंदी.
  32. Sanatan. Narsimha Puran - नरसिंह पुराण - हिंदी.
  33. Daniyal, Shoaib. "Land of Hindus? Mohan Bhagwat, Narendra Modi and the Sangh Parivar are using 'Hindustan' all wrong". Scroll.in. मूल से 12 फ़रवरी 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 1 मार्च 2019.
  34. "Hindustan". ब्रिटैनिका विश्वकोष, Inc. 2007. मूल से 16 अक्तूबर 2007 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 18 जून 2007.
  35. Dyson, Tim (2018), ए पॉप्युलेशन हिस्ट्री ऑफ इंडिया: प्रारंभिक मानव से लेकर वर्तमान मानव तक, ऑक्सफोर्ड यूनिवरसिटि प्रेस, पृ॰ 1, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-19-882905-8 उद्धरण: "आधुनिक मानव - होमो सेपियन्स- की उत्पत्ति अफ्रीका में हुई। फिर, 60,000 से 80,000 साल के बीच कुछ समय पहले, उनमें से छोटे समूहों ने भारतीय उपमहाद्वीप के उत्तर-पश्चिम में प्रवेश करना शुरू किया। ऐसा लगता है कि शुरू में वे तट के रास्ते आए थे। ... यह वास्तव में निश्चित है कि 55,000 साल पहले उपमहाद्वीप में होमो सेपियन्स थे, भले ही सबसे पुराने जीवाश्म जो वर्तमान से लगभग 30,000 साल पहले के हैं। (पृष्ठ 1)"
  36. Michael D. Petraglia; Bridget Allchin (22 May 2007). दक्षिण एशिया में मानव का विकास और इतिहास: पुरातत्व, जैविक नृविज्ञान, भाषाविज्ञान और आनुवंशिकी में अंतर-अनुशासनात्मक अध्ययन. Springer Science + Business Media. पृ॰ 6. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-4020-5562-1.
  37. Fisher, Michael H. (2018), भारत का एक पर्यावरणीय इतिहास: प्रारम्भ से २१ वीं शताब्दी तक, Cambridge University Press, पृ॰ 23, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-107-11162-2
  38. Petraglia & Allchin 2007, पृ॰ 6.
  39. Coningham & Young 2015, पृ॰प॰ 104–105.
  40. Kulke & Rothermund 2004, पृ॰प॰ 21–23.
  41. Singh 2009, पृ॰ 181.
  42. "Introduction to the Ancient Indus Valley". Harappa. 1996. मूल से 31 दिसंबर 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 18 जून 2007.
  43. Possehl 2003, पृ॰ 2.
  44. Singh 2009, पृ॰ 255.
  45. Singh 2009, पृ॰प॰ 186–187.
  46. Witzel 2003, पृ॰प॰ 68–69.
  47. Kulke & Rothermund 2004, पृ॰प॰ 41–43.
  48. Singh 2009, पृ॰प॰ 260–265.
  49. Kulke & Rothermund 2004, पृ॰प॰ 53–54.
  50. Singh 2009, पृ॰प॰ 312–313.
  51. Kulke & Rothermund 2004, पृ॰प॰ 54–56.
  52. Stein 1998, पृ॰ 21.
  53. Stein 1998, पृ॰प॰ 67–68.
  54. Singh 2009, पृ॰ 300.
  55. Singh 2009, पृ॰ 319.
  56. Stein 1998, पृ॰प॰ 78–79.
  57. Kulke & Rothermund 2004, पृ॰ 70.
  58. Singh 2009, पृ॰ 367.
  59. Kulke & Rothermund 2004, पृ॰ 63.
  60. "Gupta period has been described as the Golden Age of Indian history". राष्ट्रीय सूचना-विज्ञान केन्द्र (NIC). मूल से 27 दिसंबर 2009 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 अक्टूबर 2007.
  61. Stein 1998, पृ॰प॰ 89–90.
  62. Singh 2009, पृ॰प॰ 408–415.
  63. Kulke & Rothermund 2004, पृ॰प॰ 89–91.
  64. Singh 2009, पृ॰ 545.
  65. Stein 1998, पृ॰प॰ 98–99.
  66. Stein 1998, पृ॰ 132.
  67. Stein 1998, पृ॰प॰ 119–120.
  68. Stein 1998, पृ॰प॰ 121–122.
  69. Stein 1998, पृ॰ 124.
  70. Stein 1998, पृ॰प॰ 127–128.
  71. Ludden 2002, पृ॰ 68.
  72. Asher & Talbot 2008, पृ॰ 47.
  73. Metcalf & Metcalf 2006, पृ॰ 6.
  74. Asher & Talbot 2008, पृ॰ 53.
  75. Metcalf & Metcalf 2006, पृ॰ 12.


बाहरी कड़ियाँ संपादित करें