मुख्य मेनू खोलें

झॉलीवुड झारखंड का सिनेमा है जो मूल रूप से नागपुरी भाषा की फिल्मों का निर्माण करता है।इसके अलावा खोरठा भाषा एवं संथाली में भी फिल्में बनती हैं।[1]

इतिहाससंपादित करें

प्रथम नागपुरी चलचित्र सोना कर नागपुर था। जो १९९२ में प्रदर्शित हुआ जिसका निर्माण धनन्जय नाथ तिवारी ने किया।[2][3] भारतीय सिनेमा में झारखंड के सिनेमा के आ जाने के बाद कलाकारों को अधिक काम मिलना प्रारम्भ हो गया तो झारखंड में बडे बडे फिल्म कार्यक्रम होने लगे। झारखंड में फिल्म निर्माण को बढाने के लिए झारखंड सिनेमा को झॉलीवुड नाम दिया गया। आज 100 वर्ष के भारतिय सिनेमा के इतिहास में झॉलीवुड का अपना महत्व है।[4]

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. http://news.raftaar.in/ranchi-jharkhand-hindi-news-jagran-%E0%A4%B6%E0%A4%BF%E0%A4%B2%E0%A5%8D%E0%A4%AA-%E0%A4%B5%E0%A5%8D%E0%A4%AF%E0%A4%BE%E0%A4%AA%E0%A4%BE%E0%A4%B0-%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%B2%E0%A4%BE-%E0%A4%9D%E0%A4%BE%E0%A4%B2%E0%A5%80%E0%A4%B5%E0%A5%81%E0%A4%A1-%E0%A4%95%E0%A4%B2%E0%A4%BE%E0%A4%95%E0%A4%BE%E0%A4%B0-%E0%A4%A7%E0%A4%AE%E0%A4%BE%E0%A4%B2/detail/8afd0a6bfb1594576bde6d2c437397d5
  2. "नागपुरी फिल्‍म के 'दादा साहेब' धनंजय नाथ तिवारी !". www.panchayatnama.com.
  3. http://www.filmyfriday.com/regional-cinema/jharkhand-film-industry-in-doldrums
  4. "Archived copy". मूल से 2015-02-20 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2015-02-20.

बाहरी कडियाँसंपादित करें