नागवंशी राजवंश ब्रिटिश भारत में रियासतों के कई शासकों में से एक थे। उनकी राजधानी वर्तमान के झारखंड राज्य के नवरतनगड़, खुखरागड़, रातू में थी। [1] [2][3][4][5]

नागवंशी राजवंश

 

83–1952 ई.
राजधानी खुखरागड़, (नवरतनगड़)दोइसागड़, रातु
भाषाएँ प्रकृत,
नागपुरी
धार्मिक समूह हिन्दू धर्म,
बौद्ध धर्म
जैन धर्म
शासन पूर्ण राजशाही
राजा
 -  83- 177 ई. फणि मुकुट राय
 -  1950-1952 ई. लाल चिंतामणि शरण नाथ शाहदेव
इतिहास
 -  स्थापित 83
 -  अंत 1952 ई.
आज इन देशों का हिस्सा है:
Warning: Value not specified for "continent"
नवरतनगड़

शासकसंपादित करें

  • राजा फणि मुकुट राय (83- 177 ई.)
  • राजा मुकुट राय (177- 232)
  • राजा धट राय (232- 273)
  • राजा मदन राय (273- 326)
  • राजा प्रताप राय (326- 353)
  • राजा गोन्डु राय (548- 563)
  • राजा हरि राय (563- 601)
  • राजा गजराज राय (601- 627)
  • राजा सुन्दर राय (627- 635)
  • राजा मुकुन्द राय (635- 653)
  • राजा उदय राय (653- 710)
  • राजा कन्दन राय (710- 756)
  • राजा जगन राय (756- 772)
  • राजा भगन राय (772- 811)
  • राजा मोहन राय (811- 869)
  • राजा जगधट राय (869- 905)
  • राजा चन्द्र राय (905- 932)
  • राजा अन्दुन्द राय (932- 969)
  • राजा श्रीपती राय (969- 997)
  • राजा जोगन्द राय (997-1004)
  • राजा न्रुपेन्द्र राय (1004-1047)
  • राजा गन्धर्व राय (1047-1098)
  • राजा भिम कर्ण (1098-1132)
  • राजा जोश जश (1132-1180)
  • राजा जल-?-कर्ण (1280-1218)
  • राजा गो कर्ण (1218-1236)
  • राजा शिवदास कर्ण (1367-1389)
  • राजा उदय कर्ण
  • राजा प्रताप कर्ण (1451-1469)
  • राजा छत्र कर्ण (1469-1496)
  • राजा भिरात कर्ण (1497-1501)
  • राजा पानकेतु राय (1501-1512)
  • राजा बौदोशाल (1512-1530)
  • राजा मधु सिंह
  • राजा बैरीसाल (1599-1614)
  • राजा दुर्जन साल (1614-1615)(1627-1640)
  • राजा राम शाह (1640-1665)
  • राजा रघुनाथ शाह (1665-1706)
  • राजा यदुनाथ शाह (1706-1724)
  • राजा शिवनाथ शाह (1724-1733)
  • राजा उदयनाथ शाह (1733-1740)
  • राजा श्यामसुंदर नाथ शाह
  • राजा बलराम नाथ शाह
  • राजा महिनाथ शाह
  • राजा ध्रुपनाथ शाह
  • राजा देव नाथ शाह
  • राजा गोबिंद नाथ शाह देव (1806-1822)
  • महाराजा जगन्नाथ शाह देव (1817-1872)
  • महाराजा उदय प्रताप नाथ शाह देव (1872–1950)
  • महाराजा लाल चिंतामणि शरण नाथ शाहदेव (1950-1952)

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "Eye on Nagvanshi remains - Culture department dreams of another Hampi at Gumla heritage site". www.telegraphindia.com. मूल से 14 फ़रवरी 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 8 मार्च 2019.
  2. "Archaeologists uncover remains of ancient empire in Jharkhand". oneindia.com. 11 May 2009. मूल से 12 जनवरी 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 8 मार्च 2019.
  3. "The Lost Kingdom of Navratangarh". IndiaMike.com. मूल से 7 सितंबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2016-11-14.
  4. "1600s: Heera Raja and The Nagvanshis of Chotanagpur". india-historyofournation.blogspot.in. Ranchi. 2012-03-12. मूल से 17 मार्च 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2016-11-14.
  5. "चुटिया नाम एक, विभूतियां अनेक". www.prabhatkhabar.com. मूल से 30 मार्च 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 मार्च 2019.