यमुना नदी के तट पर स्थित आगरा शहर ऐतिहासिक स्मारकों के लिए प्रसिद्ध है। सन् 1506 में सिकन्दर लोदी ने मुगलों का राज्य स्थापित किया था। मुगलों के शासन के दौरान खूबसूरत स्मारक स्थापित किए गए थे जिन्हें देखने आज भी पर्यटक आगरा आते हैं।

आगरा में हस्तशिल्प बहुत ही प्रसिद्ध है। यहाँ संगमरमर के पत्थरों पर सुंदर आकृतियाँ उकेरी गई हैं। गहने, तोहफे एवं अन्य चीजों को सुरक्षित रखने के लिए कुछ विशेष प्रकार के बॉक्स बनाए जाते हैं। जरदोजी से बनाए गए कपड़े पर्यटकों के मध्य बहुत ही लोकप्रिय हैं। सदर बाजार, किनारी बाजार, राजा-की-मंडी में विभिन्न प्रकार की आकर्षक और मनोहारी चीजें देखी जा सकती हैं।

मिठाइयों में आगरा के पेठे एवं गजक बहुत ही प्रसिद्ध हैं। तिल एवं गुड़ से बनाई गई मिठाइयाँ बहुत ही स्वादिष्ट होती हैं।

ताजमहलसंपादित करें

 
ताजमहल
 
आगरा के किले से ताजमहल का दृश्य

विश्व के सात अजूबों में ताजमहल एक अनोखा स्थान रखता है। यह खूबसूरत महल प्यार का प्रतीक माना जाता है। ताजमहल को दिल्ली के सम्राट शाहजहाँ ने महारानी मुमताज महल के लिए निर्मित किया था। हर शुक्रवार को ताजमहल को बंद रखा जाता है।

फतेहपुर सीकरीसंपादित करें

सम्राट अकबर चाहते थे कि फतेहपुर सीकरी आगरा की राजधानी कहलाई जाए।[1] मान्यता है कि सूफी संत शेख सलीम चिश्ती का घराना यहाँ पर ही था। दीवान-ए-आम, दीवान-ए-खास एवं पचीसी दरबार के अद्भुत प्राचीन वास्तुशिल्प को देखने हजारों पर्यटक आते हैं। इनकी खूबसूरती उन दिनों के शिल्प कलाकारों की निपुणता और कुशलता को दर्शाती है।

आगरा किलासंपादित करें

विश्व के सांस्कृतिक धरोहर स्थल यह किला बहुत ही मजबूत एवं खूबसूरत नजर आता है। यह ऐसा स्थल है जहाँ पर मुगल सामराज्य के लोग रहा करते थे। इस किले में शाह जहान के पुत्र औरंगजेब ने उन्हें कैद करके रखा गया था।

जामा मस्जिदसंपादित करें

सन् 1648 में शाहजहाँ की बेटी जौहरा बेगम ने प्रसिद्ध सूफी संत शेख सलीम चिश्ती की स्मृति में जामा मस्जिद का निर्माण कराया था।

भोजनालयसंपादित करें

आगरा में पारंपरिक भोजन के लिए अनेक भोजनालय स्थित हैं। स्थानीय निवासियों द्वारा बनाए गए स्वादिष्ट व्यंजन अनेक पर्यटकों को आकर्षित करते हैं।

आवाससंपादित करें

पर्यटकों के स्वागत के लिए विभिन्न होटलें स्थित हैं। इनमें लोक नृत्य, कठपु‍तली का खेल एवं परम्परा के अनुसार भोजन परोसा जाता है।

आवागमनसंपादित करें

रेलमार्ग

आगरा देश का महत्वपूर्ण रेलवे स्टेशन है। यहाँ दिल्ली, वाराणसी आदि शहरों से आसानी से पहुँचा जा सकता है।

राजमार्ग

यहाँ से राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 3 आगरा-मुंबई प्रारंभ होता है। दिल्ली, फतेहपुर सीकरी, जयपुर, मथुरा से सड़क मार्ग से यहाँ पहुँच सकते हैं।

वायुमार्ग

आगरा से 7 किलोमीटर की दूरी पर हवाई अड्डा स्थित है। यह देश के अनेक प्रमुख शहरों से जुड़ा हुआ है।

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Seth, Molly (२४ अक्टूबर २०१७). "फतेहपुर सीकरी: आज भी सुनाती है अपने इतिहास की कहानी". Dainik Jagran (हिन्दी भाषा में). मूल से 25 अक्तूबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि १० अप्रैल २०२०.सीएस1 रखरखाव: नामालूम भाषा (link)

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें