अल-इख़लास (अरबी: سورة الإخلاص) (ईमानदारी), अत-तौहीद (سورة التوحيد) (मोनोथीइज़म या अद्वैतवाद)। यह क़ुरआन का 112 वां सूरा है। यह तौहीद, ईश्वर की पूर्णतया एकता का निरुपण है। इसमें ४ आयतें हैं। अल-इख़लास का अर्थ है "शुद्धता" या "परिशोधन", ईश्वर हेतु यानि शुद्ध एवं स्वामिभक्त रहना, या अपनी आत्मा से गैर-इस्लामी धारणा को अलग कर देना, जैसे द्वैतवाद, इत्यादि।

यह सूरा मक्की है या मदनी; यह अभी विवादित ही है। पहला विकल्प अधिक सही है[1]

सूरासंपादित करें

इस सूरे में 4 आयतें हैं.

1. क़ुल हुअल्लाहु अहद

2. अल्लाहुस समद

3. लम यलिद वलम यूलद

4. वलम यकुनलहु कुफुवन अहद

सारसंपादित करें

अल-इख़लास के बारे में हदीससंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "संग्रहीत प्रति". मूल से 23 फ़रवरी 2008 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 8 मई 2008.

बाहरी कडि़याँसंपादित करें

विकिसोर्स में इस लेख से सम्बंधित, मूल पाठ्य उपलब्ध है:
पिछला सूरा:
अल-मसद्द
क़ुरआन अगला सूरा:
अल-फलक
सूरा 112-अल-इख़लास

1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25 26 27 28 29 30 31 32 33 34 35 36 37 38 39 40 41 42 43 44 45 46 47 48 49 50 51 52 53 54 55 56 57 58 59 60 61 62 63 64 65 66 67 68 69 70 71 72 73 74 75 76 77 78 79 80 81 82 83 84 85 86 87 88 89 90 91 92 93 94 95 96 97 98 99 100 101 102 103 104 105 106 107 108 109 110 111 112 113 114


इस संदूक को: देखें  संवाद  संपादन
आधार क़ुरआन
यह लेख क़ुरआन से सम्बंधित आधार है। आप इसे बढाकर विकिपीडिया की सहायता कर सकते हैं। इसमें यदि अनुवाद में कोई भूल हुई हो तो सम्पादक क्षमाप्रार्थी हैं, एवं सुधार की अपेक्षा रखते हैं। हिन्दी में कुरान सहायता : कुरानहिन्दी , अकुरान , यह भी