मुख्य मेनू खोलें

सूरा या-सीन (अरबी: سورة يس‎) कुरान का 36वां अध्याय है। इसमें 83 आयतें हैं, एवं इसे मक्का में प्रकट किया गया था। इसे कुरान का हृदय माना जाता है।

या-सीन
يس
वर्गीकरण मक्की
सूरा संख्या 36
प्रकट होने का समय मध्य मक्कन काल की अंतिम अवस्था या पैगम्बर मुहम्मद के मक्का रिहायश के अंतिम काल
Statistics
रुकु की संख्या 5



देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

आधार कुरान
यह लेख कुरान से सम्बंधित आधार है। आप इसे बढाकर विकिपीडिया की सहायता कर सकते हैं। इसमें यदि अनुवाद में कोई भूल हुई हो तो सम्पादक क्षमाप्रार्थी हैं, एवं सुधार की अपेक्षा रखते हैं। हिन्दी में कुरान सहायता : कुरानहिन्दी , अकुरान , यह भी

बाहरी क्डि़याँसंपादित करें

विकिसोर्स में इस लेख से सम्बंधित, मूल पाठ्य उपलब्ध है: