पुरालेख 32 पुरालेख 33 पुरालेख 34

यह पृष्ठ विकिपीडिया चौपाल की वार्ताओं का पुरालेख पृष्ठ है। नवीनतम वार्ताओं के लिए देखें विकिपीडिया:चौपाल


विशेष:पुस्तक स्रोत पृष्ठ

विशेष:पुस्तक स्रोत पृष्ठ में फ्लिपकार्ट को भी जोड़ा जाना चाहिए। चूँकि हिन्दी माध्यम में लिखी पुस्तके सबसे अधिक फ्लिपकार्ट पर ही मिल सकती हैं जो अन्य साईटों पर मिलना मुश्किल है। यह मेरा निजी मत है अतः इस पर प्रत्येक सदस्य अपना मत प्रकट कर सकता है।☆★संजीव कुमार (संवाद) 20:36, 24 जून 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

बहुत उत्तम सुझाव है अगर कुछ दिनों तक कोई सदस्य इसमें अपनी आपत्ति प्रकट नहीं करता तो मैं फ्लिपकार्ट को भी सूची में डाल दूँगा। धन्यवाद संजीव जी।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 18:41, 26 जून 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

कैविन रूड अथवा केविन रड

वार्ता पृष्ठ पर संजीव जी के सुझाव पर मैंने इस लेख का शीर्षक बदल कर केविन रड कर दिया है। इसका चित्र भी विकीकॉमन्स से अप्लोड कर दिया है। डॉ०क्रान्त एम०एल०वर्मा (वार्ता) 11:14, 28 जून 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

धन्यवाद क्रान्त जी।☆★संजीव कुमार (संवाद) 11:22, 28 जून 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

अत्याधिक बर्बता

विकिपीडिया:अनुवाद अनुरोध

मैं पिछले कई दिनों से देख रहा हूँ कि विकिपीडिया:अनुवाद अनुरोध नामक पृष्ठ पर किसी भी आईपी पते से कुछ भी बकवास जोड़ दी जाती है। यहाँ ना ही तो मैं यह समझ पाता हूँ कि इस पृष्ठ को सम्पादित करने के नियम क्या हैं और क्या लिखा जा सकता है। यहाँ मैं यह समझने में भी असमर्थ हूँ कि इस पृष्ठ का उद्देश्य क्या है? इस पृष्ठ पर बहुत से लेखों के बारे में लिखा है जिनमें से कईयों का अनुवाद हो चुका है लेकिन उन्हें हटाया नहीं गया है, बहुत से अनुरोध लम्बे समय से अनुवाद रहित पड़े हैं, उनका अनुवाद कौन करेगा? यदि किसी पृष्ठ का अनुवाद किया जाना है तो वह अनुवाद पृष्ठ के कितने हिस्से का किया जाना चाहिए? यदि कोई अनुवादक पूर्ण पृष्ठ का अनुवाद करने में असक्षम है तो वह क्या करे? यदि कोई पाठक, सम्पादक अथवा प्रबंधक मेरे प्रश्नों का उत्तर देकर मुझे संतुष्ट करने की कोशिश करेगा तो मुझे अतिप्रसन्नता होगी।☆★संजीव कुमार (संवाद) 13:49, 28 जून 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

संजीव जी, इस पृष्ठ के निर्माण का प्रयोजन था अन्य भाषाओं के विकि के सदस्यों को एक उपयुक्त स्थान उपलब्ध कराना जहाँ वे अपनी भाषाओं में लिखे लेख या फ़िर वे महत्वपूर्ण लेख जो हिन्दी विकि पर नहीं बने हुए हैं के लिए अनुवाद के लिए अनुरोध कर सकें। यह पृष्ठ एक उपयोगी पृष्ठ है जिसका भूतकाल में अच्छा इस्तेमाल भी हुआ है। अनुवाद के पश्चात कुछ दिनों तक लेखों को पृष्ठ पर रखा जाता है जिस से अनुरोधक का पता चल सके कि उसका अनुरोध पूरा हो चुका है, चूँकि अनुरोधक अमूमन हिन्दी विकि का सक्रिय सदस्य नहीं होता इसलिए उसे इस पृष्ठ को देखने में कुछ समय लग सकता है, अब कितने समय तक अनूदित पृष्ठ की कड़ी वहाँ रखी जाए यह कभी किसी ने सोचा नहीं। सम्पूर्ण पृष्ठ का अनुवाद आवश्यक नहीं है, अगर पृष्ठ बहुत लम्बा है तो उसके मुख्य भागों का अनुवाद किया जा सकता है, बल्कि कोई दो लाइन का आधार बनाने के लिए भी स्वतंत्र है। यह अनुवादक की कार्यक्षमता और उसकी रूचि पर निर्भर करता है। मैने भी एक-दो बार ऐसे अनुरोधो पर कार्य किया है और अन्य सदस्यों को भी ऐसा करने की सलाह देना चाहूँगा।
वैसे संजीव जी ने एक अच्छा विषय सबके समक्ष रखा है, मैं कुछ नियम सबके सामने रखता हूँ जिस से समुचित ढंग से यह कार्य हो सके:
  1. संजीव जी का सुझाव: अनुरोधकर्त्ता किसी भी एक विकि परियोजना का सक्रिय सदस्य होना चाहिए।
  2. अनुरोधक एक बार में केवल एक ही लेख के अनुवाद के लिए अनुरोध करेगा। जब तक उसका प्रथम लेख अनुवादित नहीं होता तब तक उसे अन्य लेख के अनुरोध के लिए प्रतीक्षा करनी पड़ेगी।
  3. अनुरोधक या तो यह साफ़ करे कि उसे लेख का कितना हिस्सा अनुवादित करवाना है नहीं तो अनुवादक अपने विवेक अनुसार कार्य करने के लिए स्वतंत्र है।
  4. चार हफ़्ते से अधिक समय बीत जाने पर अगर कोई भी सदस्य किसी विशेष अनुरोध में रूचि नहीं दिखाता तो उस अनुरोध को पृष्ठ से हटा दिया जाएगा।
  5. अनुरोध पूरा होने के ठीक एक हफ़्ते के पश्चात अनुरोध को पृष्ठ से हटा दिया जाएगा।
अगर सभी सदस्यों को ये सुझाए नियम उचित लगते हैं तो मैं इन्हें परियोजना पृष्ठ पर लिख दूँगा। कृपया अपने सुझाव या टिप्णियाँ यहाँ प्रकट करें। धन्यवाद।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 06:25, 29 जून 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
बिल जी मुझे आपके कुछ नियमों में थोड़ा सा ऐतराज है जैसे प्रथम नियम में थोड़ा सुधार किया जाये, इसमें "एक अनुरोध" के स्थान पर "एक विषय से सम्बंधित एक ही अनुरोध" किया जाये तो थोड़ा अधिक व्यापक होगा।
तृतीय बिन्दु से मैं सहमत नहीं हूँ और इसके स्थान पर नियम इस प्रकार हो कि अनुरोधकर्त्ता विकिपीडिया का सदस्य होना चाहिए।☆★संजीव कुमार (संवाद) 06:44, 29 जून 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
संजीव जी, ये दो मुझे भी कुछ कड़े लगे थे परन्तु फ़िर मैने यह सोचा कि इस प्रकार तो लंबी अवधि तक अनुरोध उस पृष्ठ पर ऐसे ही पड़े रहेंगे। हमे कुछ तो समय निर्धारित करना ही पड़ेगा जब अनुरोध को पृष्ठ से हटाया जाए। साथ ही हमे यह भी निर्धारित करना पड़ेगा कि एक सदस्य एक बार में कितने अनुरोध कर सकता है। अगर कल कोई सदस्य पचास लेख एक साथ अनुवादित करने के लिए बोले तो यह अनुरोध कहाँ प्रायोगिक दिखेगा? यह मेरी व्यक्तिगत राय है इसलिए मैने इन सुझाव पर आप सब की राय माँगी है अगर अन्य सदस्यों को भी ये अनुचित लगे तो मैं इन दोनों को हटा दूँगा। विकि सदस्य होने के नियम को मैंने जोड़ दिया है।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 07:00, 29 जून 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

हरसिल और हर्षिल का आपस में विलय

उपरोक्त दोनों ही पृष्ठ एक ही जगह के बारे में लिखे गये हैं हालांकि हरसिल पृष्ठ अधिक तरतीब से बनाया हुआ है। अतः मेरा मत है कि हर्षिल पृष्ठ को हरसिल में विलय करना ठीक होगा। बोलचाल की भाषा में उच्चारण दोनों ही सही हैं।--सोमेश त्रिपाठी वार्ता 12:00, 1 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

 Y पूर्ण हुआ, हर्षिल लेख तो विज्ञापन की तरह लिखा गया था। धन्यवाद सोमेश जी, इस परिस्थिति से अवगत कराने के लिए।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 13:32, 1 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

चित्र:मधुमती.jpg को शीघ्र हटायें

इस चित्र को कृपया शीघ्र हटायें क्योंकि जब मैंने यह चित्र डाला था तो पता नहीं था कि यह असली पोस्टर नहीं है। धन्यवाद।--सोमेश त्रिपाठी वार्ता 11:02, 5 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

सोमेश जी आप हटाये बिना भी उसी संचिका का नव अवतरण डाल सकते हो। इसके लिए चित्र:मधुमती.jpg पर जाओ और चित्र के नीचे (इस फ़ाइल का नया अवतरण अपलोड करें।) पर क्लिक करें।☆★संजीव कुमार (संवाद) 11:21, 5 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
मेरी जानकारी बढ़ाने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद संजीव जी। लेकिन विषय यह है कि इस चित्र को ही हटाना है न कि नया अवतरण डालना है।--सोमेश त्रिपाठी वार्ता 19:08, 5 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
 Y पूर्ण हुआ<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 20:28, 5 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

नरेन्द्र मोदी लेख के इन्फोबॉक्स में से फोटो गायब

प्रबन्धक कृपया ध्यान दें। उपरोक्त लेख में आज देखा कि इन्फोबॉक्स का चित्र ही गायब है। उसे सम्पादित करने की कोशिश की तो पता चला कि लेख सुरक्षित कर दिया गया है जो शायद बर्बरता रोकने के उद्देश्य से ही किया होगा। चुँकि मुझे यहाँ पर कोई विशेषाधिकार प्राप्त ही नहीं है अत: इतना निवेदन अवश्य करना चाहूँगा कि प्रबन्धकों में से कोई भी इसके इन्फोबॉक्स में चित्र अप्लोड कर दें। सहायता के लिये बता दूँ विकिकॉमन्स में नरेन्द्र मोदी के चित्र उपलब्ध हैं। धन्यवाद! डॉ०क्रान्त एम०एल०वर्मा (वार्ता) 04:56, 7 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

धन्यवाद बिल विलियम कॉम्टन जी! अनुमति के लिये। मैंने यथावश्यक सुधार कर दिया है। कृपया देख लें। डॉ०क्रान्त एम०एल०वर्मा (वार्ता) 06:40, 7 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

कृपया उपरोक्त पृष्ठ देखें। इससे मिलता जुलता एक और लेख है मुरादाबाद के साहित्यकार। दोनों में कमोवेश एक जैसी ही सामग्री है। दोनों लेखों पर आपस में विलय कर देने का साँचा भी लगा हुआ है। प्रबन्धक गण व सभी सक्रिय सदस्य इस ओर विशेष ध्यान देने की कृपा करें। धन्यवाद डॉ०क्रान्त एम०एल०वर्मा (वार्ता) 07:01, 7 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

While going throgh above Article मुरादाबाद के साहित्यकार another wonderful, not wonderful but full Article वार्ता:मुरादाबाद के साहित्यकार was also found containing the same material. It should also be kept in mind while doing merger of these Articles. Thanks for the trouble डॉ०क्रान्त एम०एल०वर्मा (वार्ता) 07:12, 7 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
क्रांत जी, आपको जैसा उचित लगे वैसे इनका विलय कर दें। कोई समस्या आए तो बताइएगा।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 08:16, 7 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
धन्यवाद! बिल जी! मैंने कोशिश की परन्तु जैसे ही मुरादाबाद के साहित्यकार पेज के ऊपर संपादित करें क्लिक किया "दिस पेज कैन नॉट बी फाउण्ड" ही लिखा हुआ दिखायी दिया। शायद इसे आप ही कर सकते हैं। करना कुछ नहीं है केवल पेज शिफ्टेड का टैग लगा कर इसकी सामग्री को हटा देना भर है। इसी प्रकार वार्ता:मुरादाबाद के साहित्यकार पर बाकी का मैटर हटाकर वार्ता पृष्ठ का साँचा लगा देना है। डॉ०क्रान्त एम०एल०वर्मा (वार्ता) 13:57, 7 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
क्रांत जी, मैने 'मुरादाबाद जनपद के रचनाकार' का 'मुरादाबाद के साहित्यकार' में विलय कर दिया है। वार्ता पृष्ठ की सामग्री कॉपी-पेस्ट थी इसलिए उसे हटा दिया है। अगर कुछ रह गया हो तो कृपया बताइए।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 14:28, 7 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

┌────────────────┘
बिल जी! मैंने इस लेख का पुनरीक्षण कर लिया है। कुछ संशोधन लीड पैरा में किया है। बाकी पूरे लेख को बिल्कुल नहीं छेड़ा है। लेख का अवतरण इतिहास देखने पर इस बात की पुष्टि तो हो गयी कि इसका निर्माण अवनीश सिंह चौहान ने किया था। परन्तु उन्होंने अपना पता इसमें कहीं नहीं दिया केवल ई-मेल आईडी और पूर्वाभास नामक किसी ब्लॉग का सन्दर्भ दिया है। श्री चौहान हिन्दी विकीपीडिया पर काफी दिनों सक्रिय सदस्य के रूप में योगदान करते रहे हैं अत: आप उनसे पूछ लीजिये कि उनका मुरादाबाद का स्थायी पता क्या है? और अधिक बेहतर होगा कि वे स्वयं ही इस लेख में अपना पता व पुस्तकों की सूची दे दें। शेष लेख ठीक है यदि वे सन्दर्भ, अर्थात् जिस पुस्तक के आधार पर उन्होंने इस लेख का निर्माण किया था, आदि दे सकें तो प्रामाणिकता पर कोई प्रश्नचिन्ह नहीं लगेगा। धन्यवाद डॉ०क्रान्त एम०एल०वर्मा (वार्ता) 14:38, 8 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

॥ ॥ ॥ आओ जन्मदिन मनाते हैं ॥ ॥ ॥

नमस्ते हिन्दी विकी दोस्तों, ११ जुलाई २०१३ को हम हिन्दी विकिपीडिया का दसवाँ जन्मदिन मनाने जा रहे हैं। इसे एक अद्भूत तरीके से मनाया जाये इसके लिए मैं यहाँ आपके विचार करना चाहता हूँ अथवा आपके परामर्श चाहता हूँ। चूँकि आप सभी जानते हैं हिन्दी विकी पिछले दश वर्षों में बहुत विकास किया है लेकिन यह अन्य विकियों की तुलना में पर्याप्त नहीं है। कई बार लगता है कि इतना बड़ा हिन्दी भाषी परिवार होने के बावजूद हिन्दी विकी इतनी पिछे क्यों और कभी-कभी मैं स्वयं ही इसका जबाब देता हूँ कि इसका पर्याप्त प्रचार नहीं किया गया। हिन्दी विकी पर अन्य विकियों की तरह विवाद भी होते रहे हैं आरोप प्रत्यारोप भी लगे हैं। लेकिन जो भी हो इन सबका कुल मिलाकर नुकसान ही हुआ। मेरी यह भी विनती है कि इस कास्य जयंती को सब मिलकर प्रसन्नता से मनायें और इसके प्रचार प्रसार के तरीके ढ़ूँढ़ निकालें। पिछले २-३ वर्षों में हमने लेखों की संख्या तो बढ़ाई है लेकिन उस संख्या के समकक्ष गुणवता में सुधार नहीं कर पा रहे हैं। अभी हिन्दी विकिपीडिया पर केवल दो प्रबंधक हैं लेकिन हमारे पास इन्हें बढ़ाने के लिए पर्याप्त सदस्य संख्या ही नहीं है। शायद ही कोई चर्चा होती है जहाँ १० लोग अपना मत दें। इस तरह कुल मिलाकर हिन्दी विकिपीडिया पर केवल १० सदस्य भी ऐसे नहीं हैं जो एक सप्ताह में एक सम्पादन करते हैं। ऐसा क्यों? दस वर्ष में एक बच्चा जवान हो जाता है। एक जवान बच्चों का पिता हो सकता है। दस वर्षों में बहुत कुछ बदल सकता है लेकिन हिन्दी विकी पर ऐसा क्यों नहीं हो रहा? मैं नहीं चाहता मेरी इस चर्चा पर कोई विवाद हो, क्योंकि कोई नहीं चाहता की उनका जन्मदिन विवादों से घिरे और यह तो हिन्दी विकी का जन्म दिन है अतः इसे तो खुशियों से आगे बढ़ाना ही चाहिए। अतः जैसा भी आपको लगे अपना विचार रखें लेकिन कृपया जबाब का जबाब न लिखें। क्योंकि किसी को उत्तर देने में कोई विवाद नहीं होता लेकिन जब प्रश्नोत्तरी होने लगे और प्रश्न भी उत्तरों से बनाये जायें तो विवाद स्वाभाविक ही है। अतः कृपया अपने उत्तर लिखें। अपने विचार लिखें लेकिन उत्तरोत्तर न लिखें। मुझे नहीं लगता मैं अ धिक विचार यहाँ देख पाउँगा लेकिन मुझे खुशी होगी यदि मैं आपके निर्विवाद विचार यहाँ देख पाऊँगा। मुझे आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है कि मेरे विकी दोस्त मुझे निराश नहीं करेंगे। ☆★संजीव कुमार (संवाद) 05:40, 8 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

संजीव जी, हिन्दी विकि के जन्मदिन का बोध कराने और इतना सुंदर कथन लिखने के लिए धन्यवाद (हालांकि में स्वर्ण या पीले फॉण्ट को नहीं पढ़ पाया :P)। विकि का जन्मदिन हम कई तरीके से मना सकते हैं, जैसे सभी मिल कर एक लेख को निर्वाचित बनाएँ, मेरे विचार से यह लेख या तो हिन्दी या विकिपीडिया होना चाहिए, साथ ही हम नए-नए 'क्या आप जानते हैं?' हुक भी बना सकते हैं, बल्कि मैं तो कहता हूँ कि हमें अपने मुखपृष्ठ को ही नया रूप देना चाहिए। काफ़ी समय से पुराना डिजाइन लगा हुआ है। सदस्य कृपया अपने सुझाव रखें।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 06:42, 8 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
बिल जी मुझे भी ऐसा ही लग रहा था कि सुनहरे अक्षर पढ़ने में समस्या होगी। लेकिन पढ़ने के लिए Ctrl+a दबाकर सम्पूर्ण विषय को चयन करें। शायद पढ़ने में तो समस्या नहीं होगी। वो बात अलग है कि पढ़ने में वो मजा नहीं आयेगा।☆★संजीव कुमार (संवाद) 07:19, 8 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
संजीव कुमार जी, हिन्दी विकिपीडिया का दसवाँ जन्मदिन शुभ हो। इस अवसर पर आप जैसे वैज्ञानिक योगकर्ता को पाकर हिन्दी विकि धन्य हुई है। हमें हिन्दी विकि में लेखों की संख्या बढ़ाने को सबसे अधिक महत्व देना होगा। इसके अलावा हिन्दी समाचारपत्रों को लिखा जाय कि वे हिन्दी विकि के बारे में लेख लिखे और इस पर योगदान देने के लिए बुद्धिजीवी वर्ग को प्रेरित करें। उन्हें समझाएँ कि लोग केवल 'सूचना के उपभोक्ता' ही न बने रहें बल्कि सूचना-सर्जन का भी कार्य करें। इसके अलावा एक और काम करना महत्वपूर्ण होगा- | हिन्दी विकि का अद्यतन किविक्स संस्करण उपलब्ध कराना। अभी जनवरी २०११ का संस्करण डाउनलोड के लिए उपलब्ध है। जो ढाई वर्ष पुराना है। -- अनुनाद सिंहवार्ता 07:27, 8 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

⇑आज की प्रतिक्रियाओं पर मेरे विचार: बिल जी आपके सुझाव अच्छे हैं। हालांकी दोनों ही पृष्ठ बनाने वालों और सुधारने वालों ने काफी मेहनत की है फिर भी पृष्ठ हिन्दी को निर्वाचित करने से पूर्व कुछ सुधार की आवश्यकता है। इसमें सन्दर्भों की बहुत कमी है। विकिपीडिया पृष्ठ को अधिक सुधार की आवश्यकता है। आपका द्वितीय विचार "नए-नए 'क्या आप जानते हैं?' हुक" के बारे में है वह भी अच्छा है। वैसे तो समय-समय पर मैं भी इसकी कोशिश करता रहता हूँ और यह कोशिश जारी भी रहेगी। आपका तृतीय विचार मुखपृष्ठ के बारे में है जिसके बारे में मैं कुछ भी कहने में असमर्थ हूँ। हाँ इतना जरूर कह सकता हूँ कि कम से कम एक दिन के लिए उसे जरूर ऐसा बनाया जाये की प्रत्येक आगंतुक को पता चले की आज हिन्दी विकिपीडिया का जन्मदिन है। आपने इसके प्रचार-प्रसार के सम्बंध में कुछ नहीं कहा!
⇑अनुनाद जी, आपके विचार हिन्दी विकी के विकास के लिए उत्तम विचार हैं। केवल थोड़ा सा वाक्य सुधार की आवश्यकता है जैसे आपने लिखा "हिन्दी विकि में लेखों की संख्या बढ़ाने को" इसके स्थान पर मैं कहुँगा "हिन्दी विकि में उत्तम लेखों की संख्या बढ़ाने को" अर्थात लेख तो बढ़ाने हैं ही साथ में उनकी गुणवता भी।☆★संजीव कुमार (संवाद) 14:57, 8 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

संजीव जी, मुखपृष्ठ को विकि के दसवे जन्मदिन पर नया रूप देने से दो फायदे हैं: पहला तो यह कि इससे नए आंगतुकों को पता चलेगा कि आज कुछ विशेष है, दूसरा इससे काफ़ी पुराने डिजाइन को बदला जा सकेगा। हम विकि का लोगो भी बदलवा सकते हैं, इसके लिए हालांकि हमें किसी ग्राफिक्स के अच्छे जानकार की मदद लेनी पड़ेगी, लोगो में हम चिह्नित कर सकते हैं कि हमारे विकि ने दस वर्ष पूरे किए। साथ ही 11 तारीख से एक हफ़्ते तक हम मुखपृष्ठ पर एक बैनर भी लगा सकते हैं, जिस पर दसवे जन्मदिन के बारे में कुछ लिखा हो। हिन्दी या विकिपीडिया को निर्वाचित बनाने के लिए मैने इसलिए कहा क्योंकि ये दो विकि समजा के अनुसार सबसे महत्वपूर्ण विषय हैं। विकिपीडिया को निर्वाचित आसानी से बनाया जा सकता है क्योंकि अंग्रेज़ी पर यह पहले से ही गुड आर्टिकल है जिसका हिन्दी अनुवाद हो सकता हैं। प्रचार-प्रसार के बारे में मैने इसलिए नहीं बोला क्योंकि मेरी हिन्दी मीडिया/समाचारपत्रों तक किसी प्रकार की कोई पहुँच नहीं है। हाँ हम अंग्रेज़ी विकि के साइनपोस्ट पर अनुरोध कर सकते हैं कि वे हिन्दी विकि को अपने अगले संस्करण में कवर करें। इसकी पहुँच वैश्विक है तथा हिन्दी विकि की कवरेज से हिन्दी भाषी या हिन्दी का ज्ञान रखने वाले वे सदस्य जो अंग्रेज़ी विकि पर सक्रिय हैं उन्हें यहाँ आकर सहयोग देने में प्रोत्साहन मिलेगा। मेरा भी यह मूल मंत्र है कि लेखों की संख्या के साथ-साथ उनकी गुणवत्ता उच्च कोटि की बने, विशेष रूप से मुख्य विषयों की।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 15:47, 8 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
बिल जी, मैं आपके इन विचारो से सहमत हूँ।☆★संजीव कुमार (संवाद) 18:17, 8 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

┌────────────────┘

मेरे विचार से इस पन्ने को हटा देना चाहिये क्योंकि इसमें कुछ पढ़ने लायक है ही नहीं। Hindustanilanguage (वार्ता) 18:25, 8 जुलाई 2013 (UTC).उत्तर दें[उत्तर दें]

रामप्रसाद 'बिस्मिल' लेख के इन्फोबॉक्स से फोटो गायब

आज यूँ ही विकीपीडिया पर देख रहा था तो उपरोक्त लेख से चित्र ही गायब पाया। चूँकि यह चित्र विकीकॉमन्स पर मैने ही बहुत पहले अप्लोड किया था वहाँ देखा तो गायब मिला। मैंने १५ फाइल्स को अन्डिलीशन के लिये रिक़्वेस्ट की थी उसका परिणाम यह हुआ कि मेरी सारी फाइलें ही डिलीट कर दी गयीं। ऐसे में मैं यही नहीं समझ पा रहा कि मुझे यहाँ भी लोग रहने देंगे कि नहीं क्योंकि अंग्रेजी विकीपीडिया पर से एक वर्ष पूर्व ही मुझे हमेशा के लिये अवरोधित कर दिया गया। यहाँ भी कुछ लोगों ने साजिश करके मुझे तीन महीने के लिये ब्लॉक करवा दिया था। इसमें प्रबन्धकों को मेरे बारे में दिग्भ्रमित किया गया ऐसा मेरा विश्वास है। क्या कोई मेरी सहायता करेगा? कष्ट के लिये क्षमा! डॉ०क्रान्त एम०एल०वर्मा (वार्ता) 04:45, 9 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

डॉ०क्रान्त एम०एल०वर्मा जी, अमर शहीद रामप्रसाद 'बिस्मिल' लेख के ज्ञानसन्दूक में चित्र के न होने की ओर ध्यान देने के लिये धन्यवाद। मैंने ज्ञानसन्दूक में परम आदरणीय स्वतंत्रता सेनानी का चित्र जोड़ दिया है, आशा है कि इस से समस्या का हल हो चुका है। Hindustanilanguage (वार्ता) 15:50, 9 जुलाई 2013 (UTC).उत्तर दें[उत्तर दें]
Thanks Mr H.L.! चित्र को खिसका कर इन्फोबॉक्स के केन्द्र में कर दिया डॉ०'क्रान्त'एम०एल०वर्मा (वार्ता) 16:30, 9 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

ओम शान्ति ओम (2007 फ़िल्म) को शीघ्र हटाया जाय

इस पृष्ठ को शीघ्र हटाया जाये क्योंकि इस पृष्ठ में vandalism के अलावा और कुछ नहीं है। वैसे भी इस फ़िल्म का पृष्ठ ओम शांति ओम के नाम से मौजूद है।--सोमेश त्रिपाठी वार्ता 19:26, 5 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

 Y पूर्ण हुआ। वैसे सोमेश जी आपको चौपाल पर विशेष रूप से अवगत कराने की आवश्यकता नहीं है। जब आप किसी पृष्ठ पर {{delete}} लगाते हैं तो वह पृष्ठ स्वयं ही श्रेणी:शीघ्र हटाने योग्य पृष्ठ में आ जाता है जहाँ से प्रबंधक सम्बन्धित पृष्ठ को हटा देते हैं।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 20:32, 5 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
मान्यवर बिल जी, ग़ुस्ताख़ी माफ़ हो, अनेकों धन्यवाद--सोमेश त्रिपाठी वार्ता 15:47, 17 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]


विकि या विकी

मित्रो! एक और एक मिलकर ग्यारह होते हैं अत: यदि आप सभी सहमत हों तो हिन्दी विकीपीडिया के मुखपृष्ठ में हिन्दी विकिपीडिया की जगह शुद्ध हिन्दी शब्द हिन्दी विकीपीडिया कर दिया जाये तो कैसा रहेगा? क्योंकि उच्चारण की दृष्टि से भी यही शुद्ध वर्तनी है। वैसे और भी कई जगह वर्तनी दोष हैं जिन्हें मैंने एकाध बार ठीक करना चाहा भी तो पता चला कि इस कार्य को कोई प्रबन्धक या प्रशासक ही कर सकता है, साधारण सदस्य नहीं। इसके अतिरिक्त एक सुझाव और - ११ के अंक से सम्बन्धित कोई अच्छा लेख भी निर्वाचित करके दिया जा सकता है। डॉ०क्रान्त एम०एल०वर्मा (वार्ता) 04:17, 9 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

इस सम्बंध में मैं आपसे क्षमा चाहता हूँ क्रान्त जी, विकिपीडिया/विकीपीडिया में से सही कोनसा है मैं नहीं जानता। लेकिन मैं यह ही कहुँगा जो सही है उसका प्रयोग किया जाये। मैं अब तक विकिपीडिया उपयोग में लेता रहा हूँ क्योंकि मैंने यह ही देखा। आपने ११ से सम्बंधित पृष्ठ को निर्वाचित करने के सम्बंध में कहा तो इस विषय पर मैं विचार करुँगा। हालाँकि आपका यह संदेश पढ़ने से पूर्व ही मैंने एक लेख ११ (संख्या) लिख दिया था। मेरा यह लेख लिखने का उद्देश्य "क्या आप जानते हैं" में इससे सम्बंधित कुछ लिखना था। मुझे बहुत ही प्रसन्नता हुई की आपने अपना अमुल्य प्रस्ताव यहाँ रखा।☆★संजीव कुमार (संवाद) 17:07, 9 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

प्रिय संजीव जी! हिन्दी विकीपीडिया के मुखपृष्ठ के लिये जानकारी आप यहाँ पर क्लिक करके देख सकते हैं। वैसे आपने जिस प्रथम पृष्ठ का उल्लेख ऊपर किया है उसे क्लिक करने व उसका सम्पूर्ण अवतरण इतिहास देखने के पश्चात् ज्यों ही मैंने उसके ऊपर पढें पर क्लिक किया तो सबसे नीचे दायीं ओर क्रेश साफ करें लिखा हुआ नज़र आया। मैंने उसे बिल्कुल भी नहीं छुआ। आप चाहें तो चेक कर लें। डॉ०'क्रान्त'एम०एल०वर्मा (वार्ता) 04:16, 10 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
क्रान्त जी, आपने जो महत्वपूर्ण जानकारी दी है उसके लिए धन्यवाद। लेकिन आपके उत्तर में मेरे प्रश्न का उत्तर मैं नही खोज पाया, क्योंकि मेरा प्रश्न यह था कि हिन्दी विकी का सबसे प्राचीन पृष्ठ कोनसा है।☆★संजीव कुमार (संवाद) 08:27, 10 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
संजीव जी! आपने जो प्रश्न पूछा है उसकी जानकारी के लिये आप यहाँ क्लिक करें। यह पृष्ठ ११ जुलाई २००३ को किन्हीं सज्जन ने ०५।४२ पर बनाया था। इसका अन्तिम सम्पादन १५ जनवरी २००७ को सदस्य:Mitul0520 ने किया था। डॉ०'क्रान्त'एम०एल०वर्मा (वार्ता) 12:31, 10 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
धन्यवाद क्रान्त जी।☆★संजीव कुमार (संवाद) 14:00, 10 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
क्रान्त जी, जहाँ तक मुझे ज्ञात है, 'विकि' हवाईयन भाषा का शब्द है और इसका अर्थ 'शीघ्रता' या 'तेज़ी' है। इसमें वास्तव में ही उच्चारण छोटी 'इ' है और बड़ी 'ई' नहीं। हवाई के लोग 'विकि-विकि' कहते है और यह जल्दी से कहा जाता है। हिन्दी एक ध्वनात्मक भाषा है और इसकी नागरी लिपि में छोटी 'इ' दर्शाने की क्षमता है, तो हम ऐसा क्यों न करें? हिन्दी में बहुत से ऐसे शब्द हैं जिनमें अंत छोटी इ की मात्रा से होता है - 'लिपि' ही ले लीजिए। या 'संधि', 'पति', 'कपि', 'राशि'। अगर आप हवाईयन भाषा के शब्दकोष में देखें तो 'इ' और 'ई' में अन्तर है। और फिर अगर आप 'wiki' का उच्चारण देखें तो यह स्पष्ट रूप से 'विकि' (wiki) है और 'विकी' (wikī) नहीं। सम्भव है कि मैं आपका तर्क समझा नहीं। अगर यह है तो मैं क्षमाप्रार्थी हूँ और कृप्या दोबारा समझाने का कष्ट करें। धन्यवाद! --Hunnjazal (वार्ता) 04:12, 12 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
प्रिय Hunnjazal जी! मेरा आशय हिन्दी उच्चारण की दृष्टि से शब्द निर्माण की ओर अधिक था व्युत्पत्ति की ओर बिल्कुल नहीं। हिन्दी की दृष्टि से मुझे यह समीचीन लगा कि विकीपीडिया को हम इतना आकर्षक बना दें कि भविष्य में इसे विद्वानों की पीढ़ियों द्वारा निर्मित एक मुक्त ज्ञानकोष कहा जाये। अभी तो हमारी शुरुआत है। फिर भी न तो मेरा कोई पूर्वाग्रह है और न ही कोई दुराग्रह। शब्द बनते रहते हैं, शब्द मिटते भी रहते हैं; परन्तु शास्त्रों में केवल कवि को ही यह अधिकार दिया गया कि वह शब्द निर्माण करे। और शायद इसीलिये "कविर्मनीषी परिभू स्वयंभू" कहा गया। अस्तु! मेरे कथन को आप में से कोई अन्यथा न ले इसी निवेदन के साथ। आप सबका --डॉ०'क्रान्त'एम०एल०वर्मा (वार्ता) 05:29, 12 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
क्रान्त जी, समझा। मैं इसे केवल स्रोत भाषा के शब्द के साथ ध्वनात्मक व्यवहार की दृष्टि से सोच रहा था। आपका कथन सही है कि जीवित भाषा में जो भाषा-लय के साथ प्राकृतिक हो वही विदेशज बन जाता है। मसलन अफ़सर सही है और ऑफ़िसर नहीं। आपकी बात समझ आई और मैं इससे सहमत हूँ। --Hunnjazal (वार्ता) 05:51, 12 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
मित्र हुंजज़ल ने इतने सटीक शब्दों में यह समझाया है कि अब कुछ बताने को रहा ही नहीं प्रतीत होता है। यह सही है कि आम उच्चारण में अंग्रेज़ी में i को छोटी इ की मात्रा के लिये ही प्रयोग किया जाता है, विशेषतौर पर लिप्यांतरण हेतु। लिप्यांतरण के अलावा अंग्रेज़ी के पूर्वपरिभाशित शब्दों में इसे बड़ी ई, आय, आइ आदि एवं अन्य रूपों में भी प्रयोग करते हैं उदाहरणतः India में प्रथम i इ, एवं द्वितीय i - इय के लिये प्रयुक्त है, जिसके बाद a लगाने से इय+आ=इया की ध्वनि मिलती है। licence में आइ के रूप में प्रयोग किया गया है। इसके अलावा दूसरा अन्य कारण भी देखें:- विकीपीडिया के बजाय विकिपीडिया बोलना अपेक्षाकृत सरल होता है। शेष जैसा सर्वसम्मत...। --आशीष भटनागरवार्ता 05:51, 13 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

..... मेरे आत्मीय मित्रों ! यथोचित अभिवादन , आम जनमानस , को व्रतादि का निर्णय करने में काफी मुश्किलों का सामना करना पडता है , यहाँ तक कि पंडित गण एवं ज्योतिषी जन भी कभी कभी असमंजस की स्थिति में पड़ जाते हैं . अत: यहाँ दी गयी विधि का अनुशरण करके आप लोग स्वयं व्रतादि का निर्णय कर सकते हैं . बहुत आसान है. ..... सबसे पहले तो स्मार्त और वैष्णव का अंतर समझ लें , स्मार्त का मतलब है " गृहस्थ " , अर्थात स्मृति के आदेशानुसार अपने समस्त कर्मकांड करने वालों को ' स्मार्त ' कहा जाता है . और वैष्णव का मतलब है वैष्णव सम्प्रदाय के मतावलम्बी, अधिकतर लोग वैष्णव का मतलब सीधे सीधे शाकाहारी (सनातनी ) हिन्दू से लगा लेते हैं , जबकि ऐसा नहीं है यह एक सम्प्रदाय है जिसमें रामानुज संत आदि आते है . ..... ' सर्व कालकृतं मन्ये ' इस सूत्र के अनुसार एक बात जान लें कि , सूर्य ' ब्रह्माण्ड ' की प्राण शक्ति का केंद्र है , और चन्द्रमा ' ब्रह्माण्ड ' की ' मन: शक्ति का सर्वस्व ' . इन दोनों ( सूर्य-चन्द्रमा) भौतिक पिंडों की विभिन्न कक्षाओं में अवस्थिति ही ' तिथि ' शब्द से जानी जाती है . जैसे अमावस्या तिथि को ' चंद्र-पिण्ड' सूर्य की कक्षा में विलीन रहता है , और पूर्णिमा को यह दोनों पिण्ड क्षितिज पर आमने सामने उदित दिखते हुए समान रेखा पर अवस्थित रहते हैं. इसी प्रकार दोनों पक्षों की अष्टमी तिथि को ये अर्ध सम रेखा पर ही अवस्थित रहते हैं. इससे यह सिद्ध होता है कि , सूर्य - चंद्र का आन्तरिक तारतम्य ही 'तिथि' है , और स्थूल तथा सूक्ष्म जगत् पर तिथिजन्य प्रभाव का सन्निपात ही , तत्तत् तिथियों के अधिष्ठाताओं का, उन पर आधिपत्य है , जबकि स्थूल जगत पर भी उक्त पिंडों की अवस्थिति का प्रभाव तत्तत ऋतुओं के रूप में , वर्षा , ग्रीष्म , शीत , एवं इनके गुण , आंधी , तूफ़ान . भू-कम्प , समुद्रीय ज्वार-भाटा , सुनामी , डीन, रीटा , ओलापात , ज्वालामुखी , बाढ़ , मनोरोग , दावानल , और दिग्दाह के रूप में प्रत्यक्ष दिखाई देता है. इसके बावजूद सूक्ष्म जगत् ( दृश्य संसार ) पर उनकी अवस्थिति के प्रभाव को शंका की दृष्टि से देखना पदार्थ विज्ञान से अनभिज्ञ लोगों का ही काम हो सकता है. ..... सनातन ( हिंदुओं के ) शास्त्रों में काल (समय) को प्रधान कारण माना गया है . कोई अनभिज्ञ भले ही 'काल' को निष्क्रिय मान कर उसकी कारणता में संदेह करे , परन्तु वास्तव 'काल' ही - " अस्ति , जायते , वर्द्धते , विपरिणमते , अपक्षीयते और विनश्यति " इन छः प्रकार के मूल विकारों का प्रधान / प्रमुख कारण है . 'काल' का मुख्य उद्भावक 'सूर्य' है और उसके सहकारी उद्भावक अन्य ग्रह-पिण्ड हैं , जिनमें पृथ्वी के अति निकटवर्ती होने के कारण चंद्र-पिण्ड का ' पार्थिव निर्माण काल ' में सर्वोपरि सहयोग है . ..... इसी कारण से सनातनियों (हिन्दुवों) के सभी सकाम ( जो व्रतादि किसी मनोकामना की पूर्ति आदि के लिए किये जाते हैं वे 'सकाम' , और जिन व्रतादि में , 'मुझे कोई कामना नहीं है , मैं तो यूँ ही कर रहा हूँ उसे 'निष्काम /नि:काम ' व्रत कहते हैं ) निर्णय चांद्र-तिथियों से करने का स्पष्ट आदेश हमारे धर्म-शास्त्रों / स्मृतियों में मिलता है . ..... निष्कर्ष - अब इसका सूत्र भी जान लीजिए , चिंता हरण जंत्री , चिंता हरण पंचांग , ठाकुर प्रसाद कैलेण्डर , श्री विश्वनाथ पंचांग, या अन्य जो भी पंचांग हो उसमें सर्व साधारण की सुविधा के लिए वहाँ 'स्मार्त या वैष्णव ' शब्द से उल्लेख किया जाता है . कुल मतलब यह है कि , जहां 'स्मार्त ' लिखा हो वह व्रतादि ही (गृहस्थों- बाल बच्चेदार ) के करने योग्य होता है . जहां वैष्णव का उल्लेख हो वहाँ , दंडी सन्यासी , मठ-मंदिर , महाभागवत , निम्बार्क , चक्रांकित महाभागवत , आश्रम , सरस्वती , आदि के करने योग्य होता है . इनके नाना प्रकार के अखाड़े हैं , अपने अपने रीति-रिवाज हैं , अपनी परम्पराएं हैं . ..... गृहस्थों को ' स्मार्त निर्णय ' ही ग्रहण करना चाहिए , इस प्रकार आप सभी व्रतों का निर्णय कर सकते हैं...

--Pt. Vijay Tripathi 'Vijay' 23:01, 8 जुलाई 2013 (UTC)

त्रिपाठी जी! पहले तो आप अपना खाता खोलें। फिर स्वशिक्षा लें। तत्पश्चात आपको हिन्दी विकीपीडिया पर एक लेख जो व्रत और उपवास के नाम से पहले ही विद्यमान है देखने की सलाह मैं देना चाहूँगा। आप नीले रंग में लिखे उपरोक्त लिंक (व्रत और उपवास) को क्लिक करेंगे तो इसे तत्काल ही देख लेंगे। आप उस लेख के वार्ता पृष्ठ पर अपने इस सुझाव को यथावत दें तो कोई भी इसकी सामग्री को उक्त लेख में सम्मिलित कर देगा। एक बात और-यदि आप इसका स्रोत भी दे सकें तो अति उत्तम! डॉ०'क्रान्त'एम०एल०वर्मा (वार्ता) 16:07, 9 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

नया बैनर

मैने साइटनोटिस में एक नया बैनर लगाया है, यह अब सभी को दृश्यमान होना चाहिए। कृपया इसे देखलें और अगर कुछ बदलाव करवाना हो तो शीघ्र बताएँ।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 07:04, 11 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

बिल जी, नये बैनर के लिए धन्यवाद। ☆★संजीव कुमार (संवाद) 11:35, 11 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

लोगो में बदलाव

 

मेरे विचार से आज या एक हफ़्ते अवधि तक हमें अपने विकि का लोगो बदल देना चाहिए। मेरे विचार से Image:10piece-hindi-M k.svg उपयुक्त रहेगा। अगर सब का समर्थन मिले तो मैं यह बदलाव कर दूँगा।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 08:03, 11 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

समर्थन --Hunnjazal (वार्ता) 08:40, 11 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

टिप्पणी

संजीव जी, लोगो में वर्तनी बदलने के लिए समुदाय व्यापी चर्चा करनी पड़ेगी तथा उसके पश्चात मेटा पर नए लोगो के लिए अनुरोध करना पड़ेगा। यह प्रकिया इतनी लंबी चलेगी कि कम से कम एक महीना तो लग ही जाएगा, ऐसी परिस्थिति में मेरा तो यह मानना है कि अभी के लिए हमें दसवीं वर्षगाँठ पर ध्यान देना चाहिए। लोगो में बदलाव का प्रस्ताव अगले माह भी रखा जा सकता है।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 18:46, 11 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
यदि यह लोगो केवल दशवीं वर्षगाँठ के समय काम में लिया जा रहा है तो मैं भी इसका समर्थन करता हूँ। मुझे भल्ला क्या ऐतराज हो सकता है।☆★संजीव कुमार (संवाद) 18:50, 11 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
हाँ संजीव जी, यह केवल दसवीं वर्षगाँठ के उपलक्ष्य में अस्थायी रूप से लगाया जा रहा है।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 18:57, 11 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
हिन्दी विकि का दसवाँ जन्मदिन शुभ हो। मुझे लोगो बदलने का विचार ठीक नहीं प्रतीत हो रहा। इसके अलावा प्रस्तावित लोगो भी मुझे आकर्षक नहीं लग रहा। मेरा मत है कि इसे बैनर के रूप में रहने देना पर्याप्त है।-- अनुनाद सिंहवार्ता 05:32, 12 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

जन्मदिन विशेष

मैं बर्फी!  नामक पृष्ठ हिन्दी विकिपीडिया के दशवें जन्म दिन के नाम करता हूँ। यह लेख वैसे तो मैंने अंग्रेजी विकी से अनुवादित किया है लेकिन अंग्रेजी विकी पर यह लेख श्रेष्ठ लेख की श्रेणी में आता है। मैं चाहता हूँ इसे हिन्दी विकी पर भी इसी श्रेणी के लिए नामांकित करूँ। यदि कोई भी इससे सहमत है तो कृपया मुझे वह प्रक्रिया बतायें जिससे इसे मैं नामांकित कर सकूँ। मैंने यह पृष्ठ इसलिए चुना क्योंकि फ़िल्में सामान्यतः सभी लोग देखते हैं और यह भी एक अच्छी फ़िल्म है। अतः इस बात को ध्यान में रखते हुए कि समाज के सभी लोग इसमें रूची ले सकें, मैंने इस पृष्ठ को चुना।☆★संजीव कुमार (संवाद) 13:27, 11 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

संजीव जी, श्रेष्ठ लेख की प्रकिया पर आशू ने कार्य किया था, परन्तु फ़िर वह असक्रिय हो गए और यह काम खटाई में पड़ गया। वैसे मेरा मानना तो यह है कि इस लेख को निर्वाचित बनाना चाहिए, इस प्रकार मुखपृष्ठ पर भी इसे लाया जा सकेगा। आप क्या सोचते हैं?<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 18:55, 11 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
बिल जी आपके सुझाव के लिए धन्यवाद। निर्वाचित लेख बहुत सुन्दर होना चाहिए। इसमें तो अभी ज्ञात गलतीयाँ भी बहुत हैं। मैं "आज का आलेख" के लिए नामांकित करूँ तो कैसा रहेगा। आज का आलेख भी मुखपृष्ठ पर आता है और जहाँ तक मेरा अनुमान है पिछले दो वर्ष में एक भी नवीन पृष्ठ आज का आलेख के लिए निर्वाचित नहीं हुआ। यदि निर्वाचित के लिए इसे नामांकन करना चाहुँगा तो मुझे इसे कम से कम एक सप्ताह का समय निकालकर सुधारना पड़ेगा। जो शायद मैं न कर पाऊँ।☆★संजीव कुमार (संवाद) 19:31, 11 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
संजीव जी, 'आज का आलेख' के मापदंडों से तो यह लेख बहुत अच्छा है। वहाँ ऐसे लेख प्रदर्शित होते हैं जो आकार में छोटे, कम जानकारी युक्त तथा जिनमें विस्तार की अभी काफ़ी गुंजाइश है। एक रास्ता यह हो सकता है कि आप और मैं दोनों मिल कर इस पर कार्य करते हैं, फ़िर एक सप्ताह के पश्चात देखते हैं कि हम कहाँ तक पहुँचने में कामयाब हुए। 'आज का आलेख' का उद्देश्य नवीन, छोटे व अल्पविकसित लेखों का विस्तार करना था और यह उद्देश्य पाने में यह असफ़ल रहा है। मेरे विचार से इसे अब हटा ही देना चाहिए और इसकी जगह दो नए अनुभाग 'आज के दिन' और 'निर्वाचित सूची' को जगह मिलनी चाहिए। आप क्या सोचते हैं?<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 06:17, 13 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
ठीक है फिर निर्वाचित लेख ही लक्ष्य मानकर मैं कुछ सम्पादन करूँगा। लेकिन मेरे हिसाब से आज का आलेख और निर्वाचित दोनों अपनी-अपनी जगह रहने चाहिए। अब मुझे उसका भी ज्ञान हो गया, मैं भविष्य में कुछ ऐसे लेख लिखने का भी प्रयास करूँगा जो आज का आलेख में आ सकें।☆★संजीव कुमार (संवाद) 07:48, 13 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
मैं लेख बर्फी! में लगभग वो सभी सुधार कर चुका हूँ जो मैं करना चाहता था। फिर भी सभी विकी दोस्तों से निवेदन है कि त्रुटियाँ सुधारने में मदद करें। मैं चाहता हूँ निर्वाचित लेख के रूप में नामांकन से पूर्व ही यह पृष्ठ अति सुन्दर दिखाई देने लगे।☆★संजीव कुमार (संवाद) 20:00, 13 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

शीर्षक परिवर्तन (विद्युदणु का)

कृपया शीर्षक सुधारें ...क्यूंकि इलेक्ट्रान एक मूलभूत कण है, इसे किसी और नाम से हिंदी में बुलाना भ्रामक हो सकता है। साथ ही साथ वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग के अनुसार। Saurabhsandilya (वार्ता) 12:43, 12 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

इस पृष्ठ का पूर्व नाम इलेक्ट्रॉन ही था लेकिन 12 अक्टूबर 2009‎ को सुमित सिन्हा जी ने नाम परिवर्तित करके विद्युदअणु किया जिसे अनुनाद जी ने विद्युदणु कर दिया। चूँकि "वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग" के अनुसार नाम इलेक्ट्रॉन है अतः यह नाम उपयोग में लेने में मुझ कोई परेशानी नहीं है। विद्युदणु शब्द की उत्पति के विषय में मुझे कोई जानकारी नहीं है अतः मैं कुछ नहीं कह सकता। इस विषय में सुमित जी और अनुनाद जी ही कुछ कह सकते हैं। मैंने उनके वार्ता पृष्ठों पर संदेश छोड़ दिये हैं।☆★संजीव कुमार (संवाद) 13:31, 12 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
सौरभ जी के तर्क से पूर्णतः सहमत हूँ। अब वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग की अधिकांश शब्दावली आनलाइन उपलब्ध है। अतः उसी को मानक माना जाय और उसका प्रयोग किया जाय। -- अनुनाद सिंहवार्ता 13:51, 12 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
आपकी सहमति के लिए धन्यवाद, अनुनाद जी सौरभ शाण्डिल्य(talk) 13:59, 12 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
प्रबंधकों से मेरा निवेदन है कि सौरभ जी के कथनानुसार और अनुनाद जी की सहमति के आधार पर इस पृष्ठ का नाम परिवर्तित किया जाये। चूँकि इलेक्ट्रॉन नामक पृष्ठ पहले से होने के कारण मैं यह नाम परिवर्तन नहीं कर सकता।☆★संजीव कुमार (संवाद) 12:15, 14 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
 Y पूर्ण हुआ<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 16:13, 14 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

"बीबीसी हिन्दी" नामक पृष्ठ पर भूमिका के रूप में एक आश्चर्यजनक वाक्य लिखा है "बीबीसी हिन्दी सेवा पिछले साठ वर्षों से श्रोताओं लिए ताज़ा समाचार और सामयिक विषयों पर कार्यक्रम प्रसारित करती रही है."
चूँकि भूमिका में मात्र एक ही वाक्य है। यदि कोई विकी दोस्त इस वाक्य को समझने में सफल हो तो मुझे भी समझाये। कृपया अभिधा शब्द शक्ति के अनुसार वाक्य का अर्थ न लिखें। मैं लक्षणा अथवा व्यंजना शब्द शक्ति के अनुसार वाक्य का अर्थ चाहता हूँ।☆★संजीव कुमार (संवाद) 20:39, 12 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

साफ प्रचार। जहाँ तक मुझे लगता है एक ही सदस्य के तीन भिन्न खाते हैं: Filmy Yadav, MohitKumar01 एवं Dearmky; नामांकन {{delete}} हटाया।☆★संजीव कुमार (संवाद) 07:53, 13 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

मनीष के॰ राइचन्द को ब्लोक किया जाये

एक नये विकी दोस्त मनीष के॰ रायचन्द जी ने पृष्ठ ए॰ के॰ रहमान, एवं हिन्दी विकिपीडिया से सम्पूर्ण सामग्री हटा दी है और इन पृष्ठों को कारण रहित हटाने के लिए नामांकित किया है। इन पृष्ठ को पूर्ववत किया जाये।
मनीष जी के अब तक commonswiki पर सात सम्पादन हैं जिनमें उन्होंने केवल अपनी अथवा अपने दोस्तों की तस्वीरें अपलोड की हैं। अंग्रेजी विकी पर उन्होंने कुल 151 सम्पादन किये हैं और 14 जून 2013 से प्रतिबंधित हैं उनका ई-मेल पता भी ब्लोक है। हिन्दी विकी पर पिछले एक माह में उन्होंने 13 सम्पादन किये हैं जिनका विवरण निम्न प्रकार है:

  • 14 जून 2013 को अपना सदस्य पृष्ठ बनाया जिसमें केवल अपना नाम अंग्रेजी में लिखा। 17 जून को उसमें नाम हिन्दी में लिख दिया (मेरा नाम मनिश राइचन्द है!) उसी दिन पुनः वदलाव करते हुए (मुझे हिन्दी विकीपेदिया पे एडिट करना और अपना यौग्ड़ान देना बहोट अछा लगता है!) कुछ अशुद्ध शब्द लिखे। 13 जुलाई को इन्होंने वह विषयवस्तु पुनः हटा दी।
  • श्रेया घोषाल नामक पृष्ठ में तीन सम्पादन किये जिसमें space key के अलावा शायद अन्य कोई कुंजी का उपयोग नहीं किया गया।
  • 13 जुलाई 2013 को ए॰ के॰ रहमान, एवं हिन्दी विकिपीडिया जैसे उपयोगी पृष्ठों से सामग्री हटाकर उन्हें शीघ्र हटाने के लिए नामांकित किया।

मेरा अनुमान है कि यदि इस सदस्य को हिन्दी विकी पर पूर्णतः प्रतिबंधित नहीं किया गया तो विकी को जाने-अनजाने में कई नुकसान हो सकते हैं। अतः प्रबंधकों एवं अन्य सदस्य से मेरा अनुरोध है कि शीघ्रातिशीघ्र इस सदस्य को प्रतिबंधित करने के लिए कदम उठाये जायें।☆★संजीव कुमार (संवाद) 15:42, 13 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
यहाँ यह जाँच भी की जाये की सदस्य:ManishRaichand और सदस्य:Manish.k.raichand एक सदस्य के खाते हैं अथवा भिन्न। हो सकता है ये सदस्य भिन्न हों लेकिन एक दूसरे से सम्बंधित जरूर हैं।☆★संजीव कुमार (संवाद) 15:50, 13 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

संजीव जी, मैने इन्हें अभी एक महीने के लिए अवरोधित कर दिया है, अगर ये आगे भी ऐसी गतिविधियों को अंजाम देते हैं तो इन्हें हमेशा के लिए अवरोधित कर दिया जाएगा।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 17:32, 13 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

बिल जी यहाँ पर मैं आपके निर्णय के पक्ष में हूँ। किसी कठोर निर्णय से पहले चेतावनी जरूरी है, संभव है, मनीष जी इसके बाद यह गलतियाँ न दोहराएं। धन्यवाद →सौरभ शाण्डिल्य(talk) 17:39, 13 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

धन्यवाद बिल जी। सौरभ जी आपका कहना गलत नहीं है लेकिन ध्यान रहे आपका विकी अनुभव बहुत कम है।☆★संजीव कुमार (संवाद) 19:38, 13 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
संजीव जी, मैं नए सदस्यों का हमेशा से समर्थक व सहयोगी रहा हूँ और उनकी शुरुआती गलतीयों के पश्चात भी उन्हें विकि की मुख्यधारा में आने का मौका देता हूँ परन्तु आपने मनीष जी को ठीक ही पहचाना था। मैने इन्हें अपनी सफ़ाई देने का मौका दिया था, परन्तु इन्होंने अपने जवाब से साबित कर दिया कि ये विकि समाज में कार्य करने के लायक ही नहीं हैं। इनके वार्ता पृष्ठ पर इनकी प्रतिक्रिया देखी जा सकती है। अब मैने इन्हें दुर्भाग्यवश हमेशा के लिए अवरोधित कर दिया है।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 09:16, 14 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
धन्यवाद बिल जी। मैंने भी यह देखा था कि अंग्रेजी विकी पर केवल 151 सम्पादनों के बावजूद वो ब्लॉक हैं इसका कुछ तो कारण होगा है। अब तो उन्होंने अपने आप को शाबित कर ही दिया है मैं और कह ही क्या सकता हूँ। हाँ सौरभ जी कुछ कहना चाहें तो कह सकते हैं।☆★संजीव कुमार (संवाद) 11:22, 14 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
साधुवाद संजीव जी, आपकी दूरदर्शिता एवं विश्लेषण शक्ति प्रशंसा योग्य है →सौरभ शाण्डिल्य(talk) 11:50, 14 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

मैंने यहाँ पर मेरे नाम के दो यूजर ID होने पर चर्चा को देखा और खुशी है की आप लोगों ने मिलकर इस विषय पर विचार किया । मैं इस विषय पर कुछ कहना ]नहीं चाहता क्योंकि इस विषय का सम्बन्ध मेरे व्यक्तिगत जीवन से है । लेकिन मैं इतना जरुर कहना चाहूँगा की मेरी वास्तविक ID ManishRaichand है जिससे विकिपीडिया को कभी हानि नहीं होगी ।अगर आप Manish.k.Raichand को पूर्णतः ब्लाक कर दें तो विकिपीडिया के लिए ज्यादा बेहतर रहेगा । सदस्य:ManishRaichand (संवाद)

मनीष रायचंद जी, सदस्य Manish.k.raichand को पूर्णतः ब्लॉक कर दिया गया है। मैंने आपका और Manish.k.raichand जी के एक ही व्यक्ति होने का शक इसलिए किया था क्योंकि उन्होंने आपके सदस्य पृष्ठ पर लगा चित्र चित्र:ManishRaichand2.jpg, Manish.k.raichand जी खाते से अपलोड किया गया था। आगे शायद आप समझ सकते हैं।☆★संजीव कुमार (बातें) 13:20, 20 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

ब्लॉग प्रचार

कुछ लोग अपने ब्लॉग का प्रचार करने अथवा किसी अन्य कारण से अपने ब्लॉग का पता सम्बंधित विकी पृष्ठ के बाह्य सूत्रो में डाल देते हैं। मैं यह जानना चाहता हूँ कि यह कार्य विकी के अनुकूल है अथवा नहीं। अर्थात ब्लॉग को अन्य सूत्र नामक अनुभाग में रखना ठीक है अथवा नहीं।☆★संजीव कुमार (बातें) 12:58, 16 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

"प्रचार" का अर्थ मैं समझ नहीं पाया हूँ - क्या आपने व्यक्तिगत या संगठन के ब्लॉग के विवरण को प्रचार कहा है? अगर ऐसा है तो कृपया इन सदस्य-पन्नों को देखें:

  1. http://en.wikipedia.org/wiki/User:Htchien
  2. http://en.wikipedia.org/wiki/User:Chriswaterguy
  3. http://en.wikipedia.org/wiki/User:OwenBlacker
  4. http://en.wikipedia.org/wiki/User:Yakovsh
  5. https://en.wikipedia.org/wiki/User:Perfect_Proposal

आदि आप देख सकते हैं।

हाँ सदस्य-पन्नों ही को ब्लॉग का रूप देना गलत होगा । Hindustanilanguage (वार्ता) 09:12, 17 जुलाई 2013 (UTC).उत्तर दें[उत्तर दें]

नमस्ते एच॰एल॰ जी, शायद आप मेरे प्रश्न को समझ नहीं पाये अथवा मैं आपके उत्तर को नहीं समझ पाया। मैंने किसी के सदस्य पृष्ठ पर कभी कोई टिप्पणी नहीं की। चूँकि वो आपका सदस्य पृष्ठ है उस पर आप अपने बारे में नहीं बतायेंगे तो किसके बारे में बतायेंगे। ब्लॉग भी अपना परिचय होता है और आप अपन ब्लॉग परिचय अपने सदस्य पृष्ठ पर दो इससे किसी को क्या ऐतराज हो सकता है। मैंने भी मेरे सदस्य पृष्ठ पर मेरे वेबपृष्ठ का पता लिखा था लेकिन किसी कारणवश मैंने वापस हटा दिया। लेकिन मैंने उन पृष्ठों के बारे में जानकारी माँगी है जो किसी विषय पर हैं जैसे मानलो आपने एक "हास्य अभिनेता" नामक शीर्षक से पृष्ठ बनाया। इस पृष्ठ में "बाह्य सूत्र" अथवा "बाहरी कड़ियाँ" नामक अनुभाग बनाया; इसके पश्चात आप एक ब्लॉग लिखेंगे जिसमें "हास्य अभिनेता" कैसा होता है उसे कैसे नाचना चाहिए, उसे कैसे बोलना चाहिए, उसमें जॉनी लीवर को शामिल करना चाहिए लेकिन राजपाल यादव को नहीं करना चाहिए, बला-बलाऽऽऽऽ, यहाँ मैं स्पष्ट कर दूँ कि ये बातें सही हैं अथवा गलत इसका कोई तथ्य नहीं है। ये पूर्णतः ब्लॉग लेखक के विचार हैं। अब यदि ब्लॉग पृष्ठ बाह्य सूत्र में लिखा जाये तो गलत है अथवा सही। मैं केवल इसकी जानकारी चाहता हूँ। हाँ और ना दोनों परिस्थितियों में विकी नियम क्या कहता है उसकी जानकारी चाहता हूँ। आशा है आप मेरी बात को समझ पाये होंगे तथा अपनी प्रतिक्रिया जल्दी ही लिखेंगे।☆★संजीव कुमार (बातें) 16:17, 17 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
संजीव जी, समान्यतः ब्लॉग का पृष्ठों में इस्तेमाल नहीं होना चाहिए, न तो संदर्भ के रूप में और न ही बहारी कड़ी के रूप में। ऐसा इसलिए है क्योंकि ब्लॉग में लिखी सामग्री का कोई प्रमाणीकरण नहीं होता। उसमें कोई व्यक्ति या समूह अपने व्यक्तिगत विचार, आशाएँ, पूर्वानुमानों, संभावनाओं, आदि को प्रकट करता है, जिसके लिए कभी वह किसी संदर्भ का इस्तेमाल करता है तो कभी नहीं, परन्तु विकि इस प्रकार की अनिश्चितता के साथ कार्य नहीं कर सकता। तात्पर्य यह है कि विकिपीडिया पर इस्तेमाल होने वाले संदर्भ या कड़ियाँ उच्च कोटि की होनी चाहिए, उनकी प्रमाणिकता व्यापक होनी चाहिए तथा उनका स्रोत विश्वसनीय होना चाहिए। इसके कुछ अपवाद भी हैं, जैसे अगर विकि पर किसी व्यक्ति या संस्था का लेख है तो आप उस लेख की बहारी कड़ियों में उस व्यक्ति या संस्था के ब्लॉगों की कड़ियाँ दे सकते हैं।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 05:32, 18 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
बिल जी, मैं आपके इस कथन से सहमत हूँ। तो क्या मुझे वो सब बाहरी कड़ियाँ हटा देनी चाहिएं जो मैं देखता हूँ कि किसी ब्लॉग की कड़ी है।☆★संजीव कुमार (बातें) 08:53, 18 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
हाँ संजीव जी, अगर आप किसी ऐसी कड़ी को लेख में पाते हैं तो उसे हटा दें। अगर आप किसी सदस्य को कई लेखों में अपनी निजी साइट या ब्लॉग की कड़ियाँ जोड़ते हुए पाते हैं तो कृपया उसकी सूचना मुझे दें ताकि मैं उस कड़ी को हिन्दी विकि पर ब्लैकलिस्ट कर दूँ, उसके पश्चात वह कड़ी लेखों में नहीं जोड़ी जा सकेगी।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 17:40, 18 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
धन्यवाद बिल जी, ऐसा ही एक पृष्ठ साहिल कुमार जी का ब्लॉग है। इस ब्लॉग पर बहुत रूचिकर जानकारियाँ हैं जो मुझे पढ़ते हुए बहुत अच्छी लगती हैं और हाँ उनमें से अधिकतर सही भी हैं (सभी नहीं) पिछले कुछ दिनों में साहिल जी ने इन्हें विभिन्न विकी पृष्ठों पर डाल दिया है जैसे: अंग्रेजी भाषा, एडोल्फ हिटलर और अन्य भी कुछ पृष्ठ हैं। इस सम्बंध में जो आपको ठीक लगे कर सकते हैं।☆★संजीव कुमार (बातें) 18:22, 18 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

बिल जी, यदि मैं आप दोनो को सही समझ पाया, तो शायद ये कड़ी सहायक सिद्ध हो। Hindustanilanguage (वार्ता) 08:59, 18 जुलाई 2013 (UTC).उत्तर दें[उत्तर दें]

जी हाँ ऍचऍल जी।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 15:56, 18 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

अनुप्रेषित पृष्ठ

नमस्ते विकी दोस्तों, मैं अनुप्रेषित विकी पृष्ठों से सम्बंधित एक प्रश्न करना चाहता हूँ जिसका उत्तर मुझे नहीं पता और सबसे अनुरोध करता हूँ कि मेरी इस सम्बंध में सहायता करें। कुछ विकी दोस्त ऐसे हैं जो एक पृष्ठ निर्माण के साथ-साथ ४-५ अनुप्रेषित पृष्ठ बना देते हैं जो मेरे जैसे लोगों के लिए हमेशा दिग्भ्रमित करने वाला होता है। और उसका कारण भी मुझे समझ में नहीं आता। इसके कुछ उदाहरण निम्न प्रकार हैं:

  1. किज़िल गुफा परिसर, किज़िल गुफाएँ, किज़िल गुफाओं एवं क़िज़िल गुफाओं आदि। ये चार भिन्न-भिन्न नाम हैं जो एक ही जगह अनुप्रेषित होते हैं अतः मेरे सामने समस्या यह आती है कि इनमें से सही कौनसा है? यदि एक अथवा दो सही हैं तो अन्य का क्या अर्थ है। हाँ ये हो सकता है कि वाक्य में प्रयोग की दृष्टि से सभी सही हों लेकिन वाक्य में एक का प्रयोग किया जा सकता है। इसके कुछ उदाहरण निम्न प्रकार हैं:
    • मैंने "किज़िल गुफाएँ" देखी।
    • मैं "किज़िल गुफा परिसर" में गया।
    • मैं "क़िज़िल गुफाओं" को देखना चाहता हूँ। लेकिन इस आधार पर इस तरह के तीन पृष्ठ बनाना उचित नहीं लगता।
  2. हैदराबाद नामक पृष्ठ हैदराबाद, भारत पर अनुप्रेषित हो रहा है जबकि इससे अधिक उपयुक्त यह यह कि "हैदराबाद" नामक पृष्ठ को बहुविकल्पी बना दिया जाये। चूँकि इसके और नमूने ये भी हैं: हैदराबाद (पाकिस्तान), हैदराबाद (सिन्ध), हैदराबाद, सिन्ध एक ही स्थान पर अनुप्रेषित होते हैं। जबकि इसकी मुझे नहीं लगता कोई आवश्यक्ता है। इन तीनों में से कोई एक ही पर्याप्त है।
  3. मैंने फ़िल्मों सम्बंधी १०० से अधिक पृष्ठों का निर्माण किया है और हो सकता है यह २०० से भी अधिक हो लेकिन उन सबमें मैंने बॉलिवुड लिखा है। मैं मेरी जानकारी में इसे सही मानता था क्योंकि मैंने इसे लिंक किया और यह हो भी गया। अब मेरी इतनी हिम्मत नहीं है कि सभी पृष्ठों में जाकर उन्हें सुधारुं। मानता हूँ मेरी इसमें गलती है लेकिन यदि बॉलिवुड नामक पृष्ठ नहीं होता तो शायद मैं यह गलती नहीं करता। चूँकि कुछ दिन पूर्व बिल जी ने मुझे बताया कि बॉलीवुड सही है तो मुझे अपने पिछले सम्पादनों के विषय में कैसा लगा मैं ही जानता हूँ। लेकिन यह जरूर कह सकता हूँ कि यदि "बोलिवुड" नामक पृष्ठ नहीं होता तो शायद मैं यह गलती नहीं करता।
  4. विसर्ग सम्बंधी गलतियाँ: विकी में सम्पादन सम्बंधी नियमों के पृष्ठ पर साफ लिखा है कि विसर्ग (ः) और अनुपात चिह्न (:) दोनों भिन्न हैं इसके बावजूद कुछ सदस्य कुछ पृष्ठ इस प्रकार बनाते हैं जिनमें विसर्ग के स्थान पर अनुपात का चिह्न लगाकर विसर्ग वाले पृष्ठ पर अनुप्रेषित कर देते हैं जैसे बहि:नाम​
  5. कमरा, ख़ाने, ख़ाना, कमरे, कक्ष आदि सभी पृष्ठ कमरा पर अनुप्रेषित हैं जिसमें ख़ाने, ख़ाना शब्द मैंने आज तक कभी भी, कहीं भी नहीं देखा की हिन्दी में कमरे के लिए प्रयोग में लाते नहीं देखा। किसी निकाय के किसी विशिष्ट भाग को जरूर कई बार खाना अथवा ख़ाना कहा जाता है तथा कई बार कुछ शब्द जो फारसी अथवा अरबी भाषा से प्रेरित हैं जैसे गुसलखाना। लेकिन इसका अर्थ यह नहीं कि साधारण ख़ाना को भी यहाँ अनुप्रेषित कर दिया जाते जिससे पढ़ने दिग्भ्रमित हो जाये अथवा विकी से विश्वास खो बैठे। जब मैं किसी नये सदस्य को विकी से जोड़ने का यत्न करता हूँ तो कुछ दिन पश्चात वो कहते हैं - क्या क्या सुधारोगे हिन्दी विकी पर?
  6. रॉक ऐण्ड रोल​, रॉक एण्ड रोल​, रोक ऐन्ड रोल, रोक ऐण्ड रोल, रोक एण्ड रोल, रौक ऐण्ड रोल, रॉक एंड रोल​, रॉक ऐंड रोल​, रोक ऐंड रोल​ और रॉक ऐन्ड रोल​ में से सही कौनसा है।


मैं ऐसे सभी सम्पादनों को देखकर तंग आ गया हूँ पुनर्निर्देशन लिखे नियमानुसार भी उपरोक्त निर्माण सही नहीं हैं। चूँकि ये जो उदाहरण किसी सदस्य विशेष के निर्मित दिये हैं लेकिन ऐसे सदस्यों कि संख्या कम नहीं है। मैं चाहता हूँ कि इस पर चर्चा हो। चूँकि मेरी भाषा में वर्तनी सम्बंधी त्रुटियाँ रहती हैं क्योंकि मैं हिन्दी विषय का विशेषज्ञ नहीं हूँ लेकिन कोशिश करता हूँ गलतीयाँ कम से कम करूँ और इसी कोशिश में उपरोक्त प्रकार के सुन्दर निर्माण एक धक्का मारते हैं। मुझे यह भी लग रहा है कि पता नहीं कितने सदस्यों को इस तरह के पृष्ठों ने विकी विमुख किया होगा। मुझे दुःख इस बात का है कि कुछ सदस्य सबकुछ जानते हुए ये सब करते हैं। सभी सदस्यों के व्यक्तिगत मतों का भी स्वागत है।☆★संजीव कुमार (बातें) 17:33, 17 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

नमस्कार संजीव जी। आपकी परेशानी का सूक्ष्म उत्तर यह है कि पुनर्निर्देश इसलिए हैं ताकि खोज करते समय कोई भी पाठक सीधे लेख को ढूँढ सके। कई अंग्रेज़ी शब्दों की कई वर्तनियाँ संभव हैं, जैसा कि आपके उदाहरणों से स्पष्ट है। अब ऐसे में यदि कोई पाठक किसी कारण से ज़रा सी गलत वर्तनी लिखता है और उसे खोज परिणामों में लेख नहीं मिलता और वो कहीं और ढूँढने चला जाता है तो इसमें गलती उसकी नहीं हमारी होगी। यह आवश्यक नहीं कि सभी पाठक उसी वर्तनी से ढूंढें जिस वर्तनी से लेख है। यह भी संभव है कि वे विकिपीडिया के टंकण उपकरण से वाकिफ़ न हों और इसलिए गलत वर्तनी लिखें। ऐसे में पाठकों को शीघ्र-अतिशीघ्र सही लेख पर लाने का सबसे आसान तरीका पुनर्निर्देश बनाना है।
मैंने ऐसा कई बार देखा है कि पृष्ठ पहले से मौजूद होता है, परन्तु किसी पाठक को नहीं मिलता, और वः किसी अन्य वर्तनी वाले नाम पर एक प्रश्न डाल कर लेख बना देता है। और फिर जितने भी पाठक उस लेख पर जाते हैं, उन सब को लगता है उस विषय पर हिन्दी विकिपीडिया पर कुछ भी नहीं। ऐसे में जब तक कोई उस प्रश्न वाले लेख को पुनर्निर्देशित ना करे, ना जाने कितने पाठक लौट गए हों। कम-से-कम मैं तो ऐसी परेशानियों से बचने के लिए लेख बनाऊँ तो कुछ आम वर्तनी त्रुटि वाले पुनर्निर्देश भी बना देता हूँ।
अब आपके दिए उदाहरण बॉलीवुड को ही लीजिये। आप स्वयं मानते हैं की अब उन सारे लेखों पर जाकर कड़ी ठीक करना बहुत मुश्किल काम है। अब यदि वह पुनर्निर्देश ना होता तो अभी उन सभी 100-200 लेखों पर एक लाल कड़ी होती जिसे देखकर ना जाने कितने पाठक निराश होते (या वहाँ परीक्षण पृष्ठ बना देते)।
आपको जो रॉक एंड रोल के पुनर्निर्देश मिले हैं वे सब इसीलिए जायज़ हैं क्योंकि एंड की ये सभी वर्तनियाँ सदस्य टाइप कर सकते हैं।
हाँ, ख़ाना के बारे में यदि विशिष्ट रूप से चर्चा करनी हो तो उसके वार्ता पृष्ठ पर की जा सकती है। और हैदराबाद को आप निस्संदेह बहुविकल्पी पृष्ठ में बदल सकते हैं।
अंत में मेरा आपसे अनुरोध है कि पुनार्निर्देशों को देखकर परेशान ना होइये, ये विकिपीडिया पर पाठकों की सहायता के लिए ही हैं।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 02:13, 18 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
संजीव जी, जैसा की आप भी मानते हैं, पुनर्निर्देशन अनेक प्रकार से लाभप्रद है। किन्तु कुछ स्थितियों में लाभ से अधिक हानि हो सकती है, अतः इस तरह के पुनर्निर्देशों से बचा जाना चाहिए। उदाहरण के लिए, 'आमों' , 'कुत्तों' आदि को पुनर्निदेशित करना। इस पर चर्चा हुई थी और फिर होनी चाहिए। 'ख़ाना' आदि को पुनर्निर्देशित करना भी अनावश्यक और हानिकर ही है। गलत वर्तनियों की कोई सीमा नहीं है, अतः सभी गलत वर्तनियों का 'आविष्कार' करके उन्हें पुनर्निर्देशित करना भी विकिपीडिया पर बोझ बढ़ना है। इससे लोग समय के साथ सही और गलत के बीच अन्तर करना भी भूल सकते हैं।-- अनुनाद सिंहवार्ता 04:46, 18 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
सिद्धार्थ जी और अनुनाद जी, बहुत बहुत धन्यवाद की आपने मेरी बात को समझा और उत्तर देना उचित माना। पहले सिद्धार्थ जी के उत्तर के विषय में कहना चाहुँगा। आपकी सभी बातें मुझे ठीक लगी। मैं 'बॉलीवुड' के बारे में यह कह रहा था कि यदि 'बॉलिवुड' नामक पृष्ठ नहीं होता तो मैं यह गलती नहीं करता, क्योंकि मैं जब भी किसी पृष्ठ को लिंक करता हूँ तो उसमें देखता हूँ कि वो कहीं लाल कड़ी के रूप में तो नहीं दिखाई दे रहा। यदि ऐसा होता है तो मैं सबसे पहले उस पृष्ठ को चुनता हूँ और विकी पर सब सम्भावित नामों से ढूँढता हूँ। इस सम्बंध में आप मेरा विकिडाटा पर भी काम देख सकते हैं। वहाँ अब तक मेरे 2500+ सम्पादन हैं जबकि केवल 8 माह में इतने सम्पादन या तो वो बन्दा कर सकता है जो इसी काम से लगा रहे या वो जो इतने स्वयं के पृष्ठ बना चुका हो लेकिन मैं न ही तो सम्पूर्ण दिन विकी कार्य करता हूँ न ही मेरे कुल पृष्ठ इतने हैं। अथवा इतने नामकरण वाली समस्या केवल अन्तरविकी लिंकीग से दूर हो जाती है। ख़ाना वाली बात से आप भी सहमत हैं तो उसके बारे में मुझे कुछ कहने की आवश्यकता नहीं है। एक और बात जब मैं गलत वर्तनी से विकी पर कुछ ढूँढ़ता हूँ तो विकी मुझे सही की ओर निर्दिष्ट करती है। आप इस तरफ भी ध्यान दें कि कोई सदस्य हिन्दी विकी पर सीधे क्या ढूँढता है: या तो उसे लगभग ठीक नाम पता हो, अथवा उसे किसी अन्य पृष्ठ में वह नाम मिला हो। अब आप मुझे यह बताओ कि मेरे उन 100-200 पृष्ठों में बॉलिवुड की जगह बॉलीवुड करना विकी के लिए लाभदायक है अथवा एक अनुप्रेषित पृष्ठ 'बॉलीवुड' बनाना? मेरे विचार से हम समय की कमी का हवाला देते हुए ये कह देते हैं कि 'बॉलिवुड' को अनुप्रेषित करना ठीक है लेकिन यह अपनी विश्वसनीयत को हानि पहुँचाता है। यदि कोई 'क्रय' और 'खरीद' से एक ही पृष्ठ बनाये तो बात समझ में आती है लेकिन गलत वर्तनी का जगह-जगह किये गये उपयोग को इस आधार पर ठीक ठहराना कि उससे पाठक को यहाँ पढने में परेशानी कम होगी मेरी समझ से बाहर है। आप अंग्रेजी शब्दों से सम्बंधित जो बात कह रहे हो वह भी मुझे ठीक लगी।
पुनः सिद्दार्थ जी, आप अनुनाद जी की टिप्पणी की ओर ध्यान दें उन्होंने एक उदाहरण आमों, कुत्तों का दिया है। अब आप ही मुझे ये बतायें कि एक 'कुत्ता' शब्द के लिए निम्न वर्तनीया काम में ली जाती हैं: (१) मेरे घर में एक कुत्ता है। (२) कुछ लोग कुत्ते पालते हैं। (३) कुत्तों से बच्चे को दूर रखना चाहिए। (४) कुत्तिया कुत्ते के स्त्रिलिंग का रूप है। (५) भारत के पश्चिमी भागों में कुत्ते को "गंडक" भी कहते हैं। (६) अमुक आदमी बड़ी कुत्ती चीज है। (७) हमारे घर में कुत्ता-कुत्ती दोनों हैं।
अब उपरोक्त ७ वाक्यों के आधार पर मैं "कुत्ता" से सम्बंधित सभी शब्द लिखता हूँ: कुत, कुता, कुति, कुती, कुते, कुतें, कुतो, कुतों, कुत्त, कुत्ता, कुत्ति, कुत्ती, कुत्ते, कुत्तें, कुत्तो, कुत्तों, कुतिया, कुत्तिया, कुतीया, कुत्तीया आदि। मैंने केवल बीस सम्भावित शब्द लिखें हैं हो सकता है कुछ और भी हों (चूँकि इनमें से अधिकतर सही भी हैं।), जो एक पाठक अथवा सम्पादक ढूँढ सकता है। अब यदि इस तरह के बीस शब्द बनाकर एक ही जगह अनुप्रेषित करने पर उस पाठक का क्या होगा जो सम्बंधित किसी अन्य विषय की जानकारी चाहता था लेकिन उसे उस विषय की बजाय प्रथम बीस खोज परिणाम उपरोक्त मिल गये। अतः मेरा विचार है कुत्ते और कुत्तो नामक पृष्ठ बनाकर उन्हें अनुप्रेषित करने से अच्छा है जहाँ ये शब्द मिलें वहाँ इस त्रुटि में सुधार करना। चूँकि हमने यह कार्य अंग्रेजी विकी से सिखा है लेकिन उस समय हम यह भूल गये कि हिन्दी में अंग्रेजी की तरह उच्चारण नहीं होते। यहाँ जो पढ़ते हैं वही उचारित करते हैं। इस तरक के उच्चारण से अच्छा है कि एक नया पृष्ठ बनाय जाये जिसमें शब्द और उनके रूपों के बारे में उल्लेख किया जाये।
अनुनाद जी आपकी बात सीधे ही सहमति की ओर है।☆★संजीव कुमार (बातें) 08:47, 18 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
मैं सिर्फ एक बात की और ध्यान और दिलाना चाहूँगा। आम तौर पर गूगल ट्रांसलेट जैसे उपकरण बहुवचन शब्द को अंग्रेज़ी से हिन्दी में अनुवाद करते समय अंत में ओं लगा देते हैं, जैसे dogs के लिये गूगल परिणाम: हिन्दी में अनुवाद • से कुत्तों मिलता है, और mangoes के लिये गूगल परिणाम: हिन्दी में अनुवाद • से आमों। मैं सिर्फ जानकारी प्रदान कर रहा हूँ, इस रूप के पुनर्निर्देशों को बनाने का मैं न ही समर्थन कर रहा हूँ न विरोध।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 14:36, 18 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
सिद्धार्थ जी, आपकी टिप्पणी के लिए धन्यवाद। वैसे जहाँ तक मेरा अनुमान है गूगल भी उपयोगकर्ताओं द्वारा सुझावित अनुवाद का प्रयोग करता है। चूँकि गूगल पूर्ण पृष्ठों का भी अनुवाद करता है जिसके लिए उसे इस तरह की आवश्यकता पड़ती है और यह एक कारण हो सकता है कि गूगल इस तरह के अनुवाद देता है। वैसे आप कुछ वाक्य जैसे: (१) ये कितने आम हैं। (२) मैंने अनेक आम खाये। (३) आमों को पेड़ पर ही लगे रहने दो। यहाँ प्रथम दो वाक्यों में आम बहुवचन के रूप में केवल आम है लेकिन तृतीय वाक्य में बहुवचन के रूप में आमों है। इसका अर्थ यह हुआ कि सामान्य परिस्थितियों में आम का बहुवचन आमों नहीं लिखा जा सकता।☆★संजीव कुमार (बातें) 17:47, 18 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
सिद्धार्थ जी, गूगल अनुवाद से सम्बन्धित आप द्वारा दी गयी सामग्री का प्रयोजन समझ में नहीं आया। वैसे मशीनी अनुवाद की अपनी सीमाएँ/समस्याएँ हैं और गूगल अनुवाद भी इससे अछूता नहीं है। उदाहरण के लिए 'dogs' के लिए 'कुत्तों' के बजाय 'कुत्ते' (कर्ताकारक, बहुवचन) अधिक उपयुक्त रहता। जब 'dogs' बिना किसी सन्दर्भ के है तो इसे कर्ताकारक, बहुवचन मानें या कर्मकारक, बहुवचन या कुछ और? -- अनुनाद सिंहवार्ता 05:02, 19 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

विचित्र चर्चा

अनुनाद जी का 'विकि पर बोझ पड़ेगा' वाला वाक्य पढ़कर हँसी आती है। या तो उन्हें आधुनिक सर्वरों के पामानों का बोध नहीं या फिर अन्य कोई कठिनाई है। कई चीज़े ध्यान योग्य हैं:

  • खोज करने की विधियाँ तेज़ी से विस्तृत और विविध हो रहीं हैं। अक्सर लोग किसी अन्य सामग्री को पढ़ते हुए एक शब्द को हाईलाईट करके उसकी ब्राउज़र में ही खोज आरम्भ कर देते हैं। 'कुत्तों' के लिए अनुप्रेषण बिलकुल होना चाहिए। सीरी व अन्य बोलने से खोजने वाले तंत्र भी विकसित हो रहें हैं। कई शब्द रूप इसके लिए और भी महत्वपूर्ण हैं। यह बोल से लिखित परिवर्तन में बहुत ग़लतियाँ करते हैं। विकि ज्ञान का एक मुख्य स्रोत बन चुका है। आपके सुझावों के अनुसार 'Siri tell me about Vikings' आराम से चलेगा और 'सीरी मुझे वाइकिंगों के बारे में बताओ' में अंग्रेज़ी की तुलना में एक चरण और आवश्यक जो जाएगा। यह 'ऑनलाइन हिन्दी' को अन्य भाषाओं की तुलना में अपाहिज करने वाली बात लगती है।
  • विकि खोज में शीर्षक को अधिक महत्व मिलता है। इसलिए 'कुत्तों' के अनुप्रेषण से कोई हानि नहीं होती। स्वयं ही प्रयास कर देखें - क्+ु+त्+त् डालकर 'कुत्तों' दिखेगा ही नहीं। यह तभी दिखेगा यदी कोई वास्तव में 'कुत्तों' डालता है। हिन्दी में ऐसे अनुप्रेषण और भी लाभदायक हैं क्योंकि मात्राएँ शब्द में मिली हुई होती हैं।
  • हिन्दी में कई लेखों में जोड़ टूटे पड़े है जहाँ जोड़ के लक्ष्य का लेख तो है लेकिन अनुप्रेषणों के आभाव से उसे ढूंढने में लेखक को प्रयास लगाना पड़ेगा इसलिए उसे लाल ही छोड़ हुआ है। ऐसा अंग्रेज़ी में अनुप्रेषणों की भरमार से कम होता है। अगर लेख है तो उस तक पहुँचना आसान है। और कोई भी आपको यह नहीं कहेगा कि अनुप्रेषण मत बनाओ (केवल टकराव की स्थिति में रोका जाता है, जो होना भी चाहिए)।
  • अनुप्रेषण पाठकों से छुपे होते हैं। वह तभी देखे जाते हैं अगर पाठक स्वयं उस शब्द को टाइप करे या उसपर ब्राउज़र से खोज करे। यह कहना कि पाठक ने अगर कुछ ग़लत लिखा है तो उसे दण्ड देना चाहिए हिन्दीभाषियों को अंग्रेज़ी विकि की तरफ़ भगाने की विधि लगती है।
  • अंग्रेज़ी और अन्य समपन्न भाषाओं में इसपर बहुत काम किया गया है और बहुत-सी स्थितियाँ हैं जब अनुप्रेषण बनाने चाहिए - पढ़िए। बहुत ही सीमित स्थितियाँ हैं जब किसी अनुप्रेषण को हटाना चाहिए - पढ़िए
  • कोई भी सुझाव जो लेखकों के लिए हिन्दी विकि को देखो सो पाओ दिशा से विपरीत ले जाएगा, वह हमें नुकसान देगा। अगर आपको लिखना है कि 'जापानी कुत्तों की कई जीववैज्ञानिक जातियाँ हैं' तो इसे 'जापान|जापानी कुत्ता|कुत्तों की कई जाति (जीवविज्ञान)|जीववैज्ञानिक जातियाँ हैं' लिखने पर मजबूर करना आपको अंग्रेज़ी व कई अन्य विकियों के सामने अपाहिज करना है। उनके गति आपसे कई अधिक होगी।

अनुप्रेषण एक ऐसा सहायक-जाल है जो पाठकों और लेखकों दोनों की मदद करता है। इसके लाखों जोड़ तब तक अदृश्य होते हैं जब तक इन की आवश्यकता न हो। यह चर्चा जो है उस से बिलकुल विपरीत होनी चाहिए। उत्तराखण्ड का लेख १८ जनवरी २००७ से अस्तित्व में है। अनुनाद जी ने २८ अप्रैल २००९ में बोफोर्स घोटाला का लेख बनाया जिसमें 'उत्तरखंड' लिखा है। प्रथम तो जोड़ नहीं है - लेख लिखते हुए या तो वे चूक गए या फिर बहुत से अन्य लेखकों की तरह उन्हें अन्य लेख लिखने थे इसलिए 'उत्तराखण्ड' का लेख ढूंढने में समय नहीं लगाया। फ़र्ज़ करें कि वे 'उत्तरखंड' पर ही जोड़ लगा देते। पहले तो इसमें ग़लती है - 'उत्तराखंड' होना चाहिए। और अगर ठीक भी करें तो आपके अनुसार 'उत्तराखंड' वर्तनी ग़लत है और केवल 'उत्तराखण्ड' ही होना चाहिए, यानि यह अनुप्रेषण भी न हो। यह कोई काल्पनिक बात नहीं। हिन्दी में कई लेख इस अनुप्रेषण-आभाव से अन्य भाषाओं की तुलना में लाल स्याही या जोड़-विहीनता से पीड़ित हैं। ध्यान दें कि अंग्रेज़ी में Uttarkhand का अनुप्रेषण है (जबकि सही वर्तनी 'Uttarakhand' है) और Chorabari Glacier के लेख में यह पहली पंक्ति में ही सहायक साबित हो रहा है। यह कहानी रोज़ हिन्दी विकि में अपने आप को दोहराती है। कृप्या अनुप्रेषण बढ़ाएँ! --Hunnjazal (वार्ता) 02:40, 6 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

मुझे हुन्नजजाल जी द्वारा दी गई उपरोक्त टिप्पणी में उनका अल्प यूनिकोड ज्ञान और 'खोज' से सम्बन्धित भ्रांतियाँ दिख रही हैं। 'उत्तराखण्ड' और 'उत्तरखंड' का उदाहरण देकर 'कुत्ता' पर 'कुत्ते', 'कुत्तों', 'कुत्तियों', 'कुत्तियाँ', 'कुत्तियें' , 'कुत्तियाएँ' (कोई गलत भी खोजने की कोशिश करे तो), 'कुत्तेकुत्तियों', 'कुत्तागिरी', 'कुतकुताना', 'कुतकुतियाना', 'कुत्ताकुत्तीभाव', 'कुत्तों में', कुत्तों की', 'काला कुत्ता', 'अरबी कुत्ता', 'पालतू कुता', 'बीमर कुत्ता' , कुत्ताप्रसंग' आदि को अनुप्रेषित करना अति के अतिरिक्त कुछ नहीं है। यह वैसे ही है जैसे कोई अंधा चलते समय 'कौन है?', 'कौन है?' का रट लगातार लगाए जाय। उनकी लाल स्याही वाली बात भी अति का दूसरा उदाहरण है। इस पर बहुत चर्चा हो चुकी है।-- अनुनाद सिंहवार्ता 03:49, 6 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
अर्थ अस्पष्ट है और आपको वार्ता जारी न रखनी हो तो आपकी मंशा लेकिन इस प्रकार की चर्चा के लिए मैं उपस्थित हूँ और सदैव रहूँगा। अन्यों को यह ध्यान रखना चाहिए कि अनुप्रेषण बहुत आवश्यक हैं - कृप्या यह अनुप्रेषण-समबन्धी नियमावली देखें (समय मिलते इसका अनुवाद करूँगा या कोई प्रबन्धन में रुचि लेने वाला अन्य करे तो और भी अच्छा हो) और अपने व अन्यों के बनाए लेखों के लिये ऐसे अनुप्रेषण जोड़ें क्योंकि इनकी विहीनता की हिन्दी विकि को अकारण क़ीमत चुकानी पड़ रही है। मत-प्रकट करने की प्रक्रिया में आवश्यक/अनावश्यक अनुप्रेषण को लेकर विकिपीडिया:बात समझाने के लिये विकिकार्य बाधित न करें भी ध्यान में रखें। धन्यवाद! --Hunnjazal (वार्ता) 05:11, 6 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
Hunnjazal आपकी ये टिप्पणी एकदम बीच में आने के कारण आज देख पाया हूँ। इसका पूर्ण विवरण नीचे दूसरे अनुभाग में लिख रहा हूँ जिसका शीर्षक विचित्र चर्चा नामक अनुभाग से आगे है। जिससे अन्य सदस्यों को भी इस चर्चा में भाग लेने में आसानी रहे।☆★संजीव कुमार (बातें) 15:07, 9 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

ध्यान आकर्षण

सभी सदस्यों से मेरा अनुरोध है कि वार्ता:राष्ट्रवाद पृष्ठ पर ध्यान दें। पिछले कुछ दिनों से मैं कुछ समझ नहीं पा रहा हूँ कि इस पृष्ठ पर क्या हो रहा है।☆★संजीव कुमार (बातें) 17:34, 18 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

संजीव जी! मैंने राष्ट्रवाद लेख भी देखा और आपकी वार्ता पृष्ठ पर टिप्पणी भी। इस पर माननीय प्रबन्धकों की राय ले लें तो अधिक उत्तम रहेगा। मुझे तो इसमें साफ साफ वण्डलबाजी नज़र आ रही है। डॉ०'क्रान्त'एम०एल०वर्मा (वार्ता) 07:57, 19 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
धन्यवाद क्रान्त जी, मैं भी यही चाहता हूँ कि प्रबंधक इस विषय पर ध्यान दें।☆★संजीव कुमार (बातें) 12:59, 20 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
संजीव जी, मैने अपनी टिपण्णी वहाँ दर्ज कर दी है।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 19:23, 22 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

आज का आलेख सम्बन्धी सुझाव

कृपया रिवॉल्वर (.32 बोर) लेख की ओर ध्यान दें। यह सारी आवश्यकतायें पूर्ण करता है। मैंने इसकी चर्चा यहाँ पर कर दी है। मुझे प्रसन्नता होगी यदि आप लोग इस पर अपनी राय यहाँ दें। डॉ०'क्रान्त'एम०एल०वर्मा (वार्ता) 08:25, 19 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

Does the community of hi-wiki have problems with the visual editor?

Hello all, I write this message to inform you about the visual editor and the problems other Wikipedias have with it, so that the Hindi speaking community can inform themselves and decide if this is a concern for this Wikipedia as well or not.

On the Dutch community, most users really like the idea of getting a visual editor. A visual editor may help inexperienced (new) users or users who experience the wikisyntax as difficult to edit. In the past weeks we have tested the visual editor and we noticed big problems that concern the majority of the articles. We reported all these problems a month ago. The day before yesterday we heard that the developers plan to launch the visual editor for all logged in as anonymous users on the Dutch Wikipedia (nl-wiki) coming Monday 22 July. We checked again all problems we reported and noticed that all these articles still have major problems in the visual editor. The second concern we have is the user friendliness of the current visual editor, sure most of the basic edits work fine with it, but the more difficult edits (where this piece of software is designed for!) are certainly not user friendly. Our third concern are the templates. On the Dutch Wikipedia we have been working hard to make and keep almost all templates as easy as possible to edit and change for most users (KISS principle), so that as many as users can update templates. The coding the visual editor requires for editing templates in articles makes it impossible for regular users to update those templates any longer. Something that is unacceptable to us. Software should make editing easier, not more difficult. All the problems with the software will cause thousands of bad edits which other users can clean up afterwards. We think software should make the workload less in stead of enlarging it. As a result of all problems we have started a voting to hide the visual editor until the problems are solved. A big majority is in favour.

In the past weeks, the visual editor was already launched to the English Wikipedia. Many many many problems occurred and are still occurring, like this and this. On thousands of articles this goes wrong. As result of all these problems the community has set up an comment page at en:Wikipedia:VisualEditor/RFC. Someone summarizes it with: "It's a very good alpha, but it should never have been launched outside of a test deployment."

From the beginning the developer team promised all communities to make it possible for all users to opt-out the software if they do not want to use it. With the launch on the English Wikipedia it appeared that the opt-out was removed. The only thing users can do is hide the visual editor for themselves via the common.js. This means that everyone, including those users who do not want to use the visual editor, have to deal with an extra layer of code that is loaded each time you visit a page and can't be switched off.

The community of the Dutch Wikipedia want the developers to delay the launch of the visual editor until all big issues and concerns are solved. The Dutch community does not want to clean up the mess the visual editor produces on all these thousands of articles. Yes, most users like the idea of a visual editor, but that must be one which doesn't cause problems and really helps to make editing easier. As the visual editor is not yet ready to be deployed, and no replies have been received from the developers, the community will hide the visual editor (using this in here) (and make an opt-in for those who wish to use/test it) to prevent problems. (De facto this means that the current opt-in is restored back.) It will give a signal to the developers/Wikimedia Foundation that the current deployment is unacceptable to the Dutch community and the community feels itself ignored and forced to cope with the problems we did not cause.

I noticed that also hi-wiki is scheduled to get launched the visual editor coming Monday 22 July. I really doubt that seeing the problems on the English Wikipedia and the Dutch Wikipedia, that the launch here will be without major issues.

It is up to the local community to check for problems and to ask themselves if this acceptable to you or not? I would also suggest you test the visual editor with editing articles (like the ones which use the most used templates to see if they all work), in particular the ones with tables, templates and references.

If you wish to translate this message, please do, so that more users can understand what they have to deal with coming Monday and later.

If you want to know more about the situation on nl-wiki, please ask. Greetings - Romaine (वार्ता) 16:04, 19 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

I think this is a useful tool to make small corrections. Sometimes If there is a big page which need few corrections in between then this type of tool is useful. But this tool can be used only by registered users.
यह कुछ छोटे परिवर्तन करने के लिए एक उपयोगी औजार है। कभी-कभी किसी बड़े पृष्ठ में मध्य में कहीं-कहीं सुधारों की आवश्यकता होती है जिसके लिए इस तरह का सॉफ़्टवेयर बहुत लाभदायक है। लेकिन यह केवल पंजीकृत सदस्यों के लिए ही होना चाहिए।☆★संजीव कुमार (बातें) 12:18, 22 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]


Update: the community of the Dutch Wikipedia has voted with about 80% against the launch of the visual editor until the problems are solved as the reported bugs are breaking thousands articles. The community does not want to be forced to deal with the problems the visual editor causes. We understood that the reason for this early launch is because too little time for developing was scheduled. The community hopes in general that the problems are solved fast so that a fully functional visual editor can be launched as soon as possible. Romaine (वार्ता) 20:28, 22 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
Update: The new schedule says that Visual Editor will not be enabled here by default until atleast mid-August.
अपडेट: नए शिड्यूल के अनुसार विजुअल एडिटर हिन्दी विकिपीडिया पर मध्य-अगस्त से पहले डिफ़ॉल्ट रूप से सक्षम नहीं किया जाएगा। तब तक पंजीकृत सदस्य अपनी वरीयताओं में इसे सक्षम करके आज़मा सकते हैं।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 03:31, 23 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

प्रबंधक एवं प्रशासक पद

कृपया विकिपीडिया वार्ता:प्रबन्धन अधिकार हेतु निवेदन#प्रबंधक एवं प्रशासक पद देखें।☆★संजीव कुमार (बातें) 23:26, 21 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

Pywikipedia is migrating to git

Hello, Sorry for English but It's very important for bot operators so I hope someone translates this. Pywikipedia is migrating to Git so after July 26, SVN checkouts won't be updated If you're using Pywikipedia you have to switch to git, otherwise you will use out-dated framework and your bot might not work properly. There is a manual for doing that and a blog post explaining about this change in non-technical language. If you have question feel free to ask in mw:Manual talk:Pywikipediabot/Gerrit, mailing list, or in the IRC channel. Best Amir (via Global message delivery). 13:17, 23 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

विलय अनुरोध

पृष्ठों भारत में राष्ट्रीय राजमार्गों की राजमार्ग संख्या अनुसार सूची और भारत के राष्ट्रीय राजमार्गों की सूची - संख्या अनुसार का विलय कर दिया जाना चाहिए।☆★संजीव कुमार (बातें) 19:43, 27 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

नमस्ते विकी दोस्तों, मैंने बर्फी! नामक पृष्ठ को निर्वाचित लेख के रूप में नामांकित किया है। यदि सभी सदस्य इस पर अपनी प्रतिक्रिया दें तो बहुत अच्छा होगा। निर्वाचन के लिए नामांकन पृष्ठ पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करने के लिए विकिपीडिया:निर्वाचित लेख उम्मीदवार#बर्फी! देखें।☆★संजीव कुमार (बातें) 08:35, 28 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

VisualEditor and your Wikipedia

(Please translate this message)

Greetings,

The Wikimedia Foundation will soon turn on VisualEditor for all users, all the time on your Wikipedia. Right now your Wikipedia does not have any local documents on VisualEditor, and we hope that your community can change that. To find out about how you can help with translations visit the TranslationCentral for VisualEditor and read the easy instructions on bringing information to your Wikipedia. The User Guide and the FAQ are very important to have in your language.

We want to find out as much as we can from you about VisualEditor and how it helps your Wikipedia, and having local pages is a great way to start. We also encourage you to leave feedback on Mediawiki where the community can offer ideas, opinions, and point out bugs that may still exist in the software that need to be reported to Bugzilla. If you are able to speak for the concerns of others in English on MediaWiki or locally I encourage you to help your community to be represented in this process.

If you can help translate the user interface for VisualEditor to your language, you can help with that as well. Translatewiki has open tasks for translating VisualEditor. A direct link to translate the user interface is here. You can see how we are doing with those translations here. You need an account on Translatewiki to translate. This account is free and easy to create.

If we can help your community in any way with this process, please let me know and I will do my best to assist your Wikipedia with this |exciting development. You can contact me on my meta talk page or by email. You can also contact Patrick Earley for help with translations and documents on Mediawiki. We look forward to working with you to bring the VisualEditor experience to your Wikipedia! Keegan (WMF) (talk) 19:03, 30 जुलाई 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

Distributed via Global message delivery. (Wrong page? Fix here.)

मुझे यह देखकर आश्चर्य हुआ कि लेख बकुलाही नदी पर निर्वाचित लेख होने का बिला लगा है। यह किसने लगाया और किस आधार पर लगाय यह तो मैं नहीं जानता लेकिन जानकारी चाहता हूँ। सर्वप्रथम यह बिला 16:17, 28 दिसम्बर 2011 के अवतरण में लगाया गया। यदि यह निर्वाचित पृष्ठ है तो मैं इसपर पुनः चर्चा चाहता हूँ अन्यथा इसको आवश्यकता अनुसार परिवर्तित किया जाये।☆★संजीव कुमार (बातें) 14:20, 3 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

संजीव जी, यह निर्वाचित लेख साँचे का गलत इस्तेमाल था। अगर भविष्य में भी आप ऐसा कुछ देखते हैं तो कृपया सीधा साँचे को लेख से हटा दें। यह बर्बता की श्रेणी में आता है क्योंकि यह पाठकों के बीच भ्रम उत्पन्न करता है।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 17:06, 3 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
धन्यवाद बिल जी।☆★संजीव कुमार (बातें) 19:29, 3 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

मेरे विचार से ये कुछ लेखों की वर्तनियां इस प्रकार से होनी चाहियें:

  • चित्रंगदा सिंह: चित्रांगदा सिंह
  • थ्री इडीयट्स: थ्री ईडियट्स फ़िल्हाल ये एक अनुप्रेषण है
  • एकलव्य (2007 फ़िल्म): एकलव्य: द रॉयल गार्ड
  • सिंघम: सिंहम
  • इनके अलावा अधिकांश फ़िल के लेख के शीर्षक के आगे कोष्ठक (bracket) में फ़िल्म 2008 लिखा रहता है। अंग्रेज़ी विकी की भांति ही यदि हम उन फ़िल्म शीर्षकों को बिना वर्ष के रहने दें, जिनका कहीं और किसी नाम से संदेह (confusion) न हो, जैसे बोल बच्चन फ़िल्म का शिर्षक बोल बच्चन (2011 फ़िल्म) न करके मात्र बोल बच्चन किया जा सकता है, क्योंकि इस नाम से भी कोई अन्य लेख नहीं बनता। यदि भविष्य में बने भी तो तब सुधार किया जा सकता है, क्योंकि ये बहुत कम chance होगा। हां यदि चाहें तो वर्ष वाले शीर्षक को मूल शीर्षक लेख पर अनुप्रेषित किया जा सकता है, जिससे भविष्य की कोई शंका भी शेष नहीं रह जायेगी।

--आशीष भटनागरवार्ता 02:26, 7 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

कृपया सभी अपनी राय दें:

समर्थन

    --Hunnjazal (वार्ता) 06:31, 7 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

    -- अनुनाद जी का कहना ठीक लग रहा है। वैसे मुझे लग रहा है अशुद्ध को अनुप्रेषित के स्थान पर पूर्णतया हटा देना ठीक है।☆★संजीव कुमार (बातें) 10:16, 9 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

विरोध
निष्कर्ष
टिप्पणी

मुझे लगता है थ्री ईडियट्स के बजाय थ्री इडियट्स ठीक होगा। बाकी सब से सहमत हूँ। लेकिन इसमें मतदान (समर्थ/विरोध) के बजाय वस्तुस्थिति देखना अधिक अच्छा रहेगा। उदाहरण के लिए, देखा जाय कि शब्दकोश में उच्चारण क्या दिया गया है।-- अनुनाद सिंहवार्ता 11:05, 7 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

मतदान की स्थिति स्पष्ट करें

कृपया विकिपीडिया वार्ता:प्रबन्धन अधिकार हेतु निवेदन पर प्रबन्धक अधिकार हेतु चल रही वार्ताओं एवं मतदान का सन्दर्भ लें। लगता है कि इस बारे स्थिति साफ नहीं है कि मतदान की स्थिति क्या है। इस पर 'मतदान चल रहा है' , या इसी तरह की कोई स्पष्ट सूचना नहीं है। केवल लिखा है कि 'आशीष जी और सिद्धार्थ का नामांकन सफ़ल हुआ।' जिस पर बिल जी का हस्ताक्षर है जो यह भ्रम पैदा करता है कि यह परिणाम श्री बिल ने घोषित किया है। इसके अलावा अनुनाद सिंह और हिन्दुस्तानीलैंग्वेज के नामांकन पर कोई निर्णय नहीं हुआ है और डॉ जगदीश व्योम जी ने इस पूरी प्रक्रिया को निरस्त करने का प्रस्ताव रखा है।

प्रबन्धकगण कृपया उपरोक्त सभी पर मतदान की स्थिति, कारण सहित, स्पष्ट करें जिससे इसे सही तरीके से पूरा किया जा सके। निवेदन है कि अन्य सदस्य भी अपने विचार रखें।-- अनुनाद सिंहवार्ता 06:08, 7 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

परिणाम स्टीवर्ड ने घोषित किए हैं परन्तु मेटा पर अधिकार प्रदान कर के। कई स्टीवर्ड यहाँ आकर नामांकन को सफ़ल या असफ़ल घोषित कर देते हैं परन्तु कुछ नहीं करते। सदस्य:MF-Warburg जी ने ऐसा क्यों नहीं किया। इसलिए मैने केवल उनका निर्णय यहाँ रखा था जिससे स्थानीय सदस्यों को पता चल सके कि मतदान समाप्त हो चुका है। ऍचऍल जी के नामांकन में यह समस्या है कि वह ठीक स्थान पर नहीं है। संजीव जी ने मेरे विचार में वार्ता पृष्ठ का इस्तेमाल इसलिए किया था क्योंकि वे पूर्व प्रबन्धकों को नामांकित कर रहे थे और उसमें वे अन्य सदस्यों के विचार जानना चाहते थे। सही प्रकिया यह है कि केवल विकिपीडिया:प्रबन्धन अधिकार हेतु निवेदन पर नामांकन किए जाएँ। इस पृष्ठ का उद्देश्य ही यही है।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 06:24, 7 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
बिल जी ने इसी बारे में कुछ यहाँ भी लिखा है : प्रबंधक नामांकन -- अनुनाद सिंहवार्ता 09:28, 7 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
बिल जी, जब कोई निर्णय या आदेश कोई दूसरा देता है तो उसे आप अपने नाम से नहीं लिख सकते। वहाँ स्पष्ट उल्लेख होना चाहिए कि निर्णय/आदेश किसने दिए हैं और उससे सम्बन्धित अन्य विवरण कहाँ हैं। इसके अलावा कई सदस्यों का नामांकन एक साथ किया गया हो तो उनमें से कुछ का नामांकन सफल घोषित होने से शेष नामांकन न तो स्वतः असफल घोषित हो जाते हैं न उन पर मतदान रूक जाता है। मतदान तब रूकता है जब उसके लिए निर्धारित अवधि समाप्त हो जाय। -- अनुनाद सिंहवार्ता 06:51, 7 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
वैसे निष्पक्ष रूप से एक बात बताऊँ उचित स्थान यही है जो ऊपर बिल कॉम्टन ने बताया है यानी कि विकिपीडिया:प्रबन्धन अधिकार हेतु निवेदन पृष्ठ पर जाकर ही किसी सदस्य को अपना नाम स्वयं प्रस्तावित करना चाहिए। किन्तु ध्यान कौन देता है? डॉ०'क्रान्त'एम०एल०वर्मा (वार्ता) 07:04, 7 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
डॉ क्रान्त वर्मा जी, सभी ने माना है कि यह प्रस्ताव गलत स्थान पर है। इसे सही स्थान पर किया जाना चाहिए था और अब भी किया जा सकता है। इस सम्बन्ध में प्रस्ताव करने वाले नए सदस्य की अपेक्षा अधिक अनुभवी सदस्यों की अधिक जिम्मेदारी बनती है।-- अनुनाद सिंहवार्ता 07:58, 7 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
मेरी एक जिज्ञासा है, कि क्या पूर्व मैं अनुनाद जी और एच एल जी के लिए किये गए प्रस्ताव पर हो रही चर्चा अथवा मतदान बिना किसी नतीजे का सम्पूर्ण हुआ या फिर आगे जारी रहने की संभावना भी है ?

Mala chaubey (वार्ता) 03:24, 9 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

विश्वविद्यालय और विश्वविधालय

नमस्ते विकी दोस्तों, आज एक घटना ऐसी घटी कि मुझे अपने आप पर शक होने लग गया है। मैंने कुछ दिन पूर्व एक लघु पृष्ठ बनाया था जिसका शीर्षक था राजस्थान तकनीकी विश्वविद्यालय। यह लेख मैंने राजस्थान तकनीकी विश्वविद्यालय , कोटा नामक पृष्ठ को देखकर बनाया था जिसमें पृष्ठ निर्माता ने न ही तो कुछ जानकारी दी थी और शीर्षक में अनावश्यक खाली जगह छोड़कर त्रुटि की थी। आज मैंने देखा की अपने एक कुशल नीतिज्ञ प्रबंधक ने उस पृष्ठ का नाम बदलकर राजस्थान तकनीकी विश्वविधालय कर दिया है। चूँकि मैंने संबंधित निकाय का लोगो भी लगाया था जिसमें स्पष्ट रूप से "विश्वविद्यालय" लिखा हुआ देखा जा सकता है। यदि प्रबंधक महोदय से कोई भूल हुई है तो मुझे कोई ऐतराज नहीं है लेकिन उन्हें कम से कम शीर्षक सुधार से पूर्व यह मानकर ही लोगो देख लेना चाहिए था कि उन्होंने ही मुझे पुनरीक्षक बनाया है। मैं मानता हूँ कि मेरे लेख में वर्तनी सम्बंधी त्रुटियाँ बहुत रहती हैं लेकिन कम से कम शीर्षक तो जाँच-पड़ताल करके लिखता हूँ।

  • विश्वविद्यालय के विद्यालय शब्द का निर्माण विद्या+आलय से हुआ है अर्थात विद्या का घर। यहाँ विद्या= व्+इ+द्+य्+आ है। विद्या का अर्थ ज्ञान से संबद्ध है।
  • विश्वविधालय में विधालय शब्द का निर्माण विधा + आलय हो सकता है अर्थात विधा का घर। विधा = व्+इ+ध्+आ है। विधा को सामान्य रूप से किसी भी कला के लिये प्रयुक्त किया जा सकता है।

कृपया उस नाम को वापस अपनी शुद्ध अवस्था में लाने में सहयोग करें। आप अधिक जानकारी विश्वविद्यालय की साइट पर भी प्राप्त कर सकते हैं।☆★संजीव कुमार (बातें) 09:11, 7 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

संजीव जी, वैसे आप यह प्रश्न मेरे वार्ता पृष्ठ पर भी सीधा पूछ सकते थे, जो भी हो मैं उत्तर देता हूँ। सर्वप्रथम, जैसा मैने हमेशा कहा कि बिना कारण मैं कुछ नहीं करता, पृष्ठ को अनुप्रेषित करते वक्त भी मैने साफ़-साफ़ कारण दिया है: "विश्विद्यालय द्वारा आधिकारिक तौर पर इस्तेमाल की जाने वाली वर्तनी"। आपने शायद ध्यान नहीं दिया हो परन्तु विश्वविद्यालय स्वयं अपने लोगो में यही वर्तनी इस्तेमाल करता है। वैसे यह चित्र आपके द्वारा ही अपलोड किया गया था। जब वे खुद इसे "राजस्थान तकनीकी विश्वविधालय" कहते हैं तो फ़िर हम भला अपना नया नाम क्यों दें? मैं भी हमेशा "विश्वविद्यालय" वर्तनी इस्तेमाल में लाता हूँ और मुझे दोनों में अन्तर भी पता है परन्तु हम किसी संस्था का नाम नहीं बदल सकते।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 09:25, 7 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
बिल जी, बुरा मत मानना, एक अपने घर की सलाह देता हूँ। मुझे वैसे पता नहीं है आप ऐनक काम में लेते हैं अथवा नहीं। लेकिन यदि नहीं तो किसी चिकित्सक के पास जाकर आँखों की जाँच करवाइये। यदि यह इतना जल्दी मुमकीन नहीं है तो चित्र को जूम (बड़ा) करके देख लिजिए। शायद आपको अच्छे से दिखने लगे। इसी के लिए मैंने वो विज्ञप्ती भी मेरे पिछले कथन में लिखी थी। कृपया विश्वविद्यालय की साइट पर http://www.rtu.ac.in/academics/RTU%20Act%202006.pdf विज्ञप्ति (अधवा अधिसूचना) देख लें। आपने यदि चित्र को ध्यान से नहीं देखा अथवा कोई अन्य समस्या है तो मैं अथवा विकी इसके जिम्मेदार नहीं हैं।☆★संजीव कुमार (बातें) 10:15, 7 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
नमस्कार, आप दोनों से बिनती है कि कृपया लेख के वार्ता पृष्ठ पर टिप्पणी देख लें। वहाँ राखी टिप्पणी के अतिरिक्त संजीव जी से अनुरोध है कि हमेशा याद रखें कि कोई भी अन्य सदस्य अच्छी मंशा से कार्य करता है। अतः कृपया assume good faith को याद रखें, और हो सके तो लेख-विशिष्ट चर्चाएँ लेखों के वार्ता पृष्ठों पर ही करें।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 18:20, 7 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
सिद्धार्थ जी, नमस्ते। कृपया 'assume good faith' का आशय समझाएँ और बताएँ कि हिन्दी विकि पर इससे सम्बन्धित जानकारी कहाँ मिलेगी?-- अनुनाद सिंहवार्ता 07:36, 9 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
नमस्ते सिद्धार्थ जी, सर्वप्रथम तो आपको बीच-बचाव करके विवाद होने से पहले ही निबटाने के लिए धन्यवाद। मेरा उद्देश्य किसी के प्रति गलत शब्द बोलना कभी नहीं रहा लेकिन बिल जी ने मेरी स्पष्ट शब्दों में कही बात को एकदम सरेआम गलत बताया और फिर उन्होंने सलाह भी दी की मुझे यह प्रश्न उनके वार्ता पृष्ठ पर लिखना चाहिए था। चूँकि मैं जानता हूँ कि बिल जी जानबुझकर गलतियाँ नहीं करते लेकिन यहाँ गलती करने के बावजूद पृष्ठ को ठीक से देखने की बजाय मुझे देखने की उल्टी सलाह देने लग गये। अतः कुछ कटु शब्द निकलने लगे। वैसे मैंने मेरे कटु शब्दों को भी कटुता के साथ व्यक्त नहीं किया। फ़िर भी यदि किसी को बुरा लगे तो मैं क्षमा चाहता हूँ। मेरा नियम रहा है कि मेरी गलती दिखाई दे तो मैं पुछता हूँ लेकिन जब मैंने पृष्ठ बनाया उस समय नाम ध्यान से देखा था और जब उन्होंने बदल दिया तो मुझे आश्चर्य हुआ कि, क्या बिल जी भी ऐसा बर्बता वाला कार्य कर सकते हैं? साथ ही साथ मैं यह भी बता दूँ कि मैंने चौपाल पर लिखने से पूर्व कम से कम ५ लोगों से इस विषय पर चर्चा की। मैंने सोचा हो सकता है मराठी में ऐसा लिखते होगें और जिस वजह से गलती हो गयी होगी। क्योंकि मैं देखता हूँ बहुत से लोग मराठी में लगे पूर्णविराम (.) को हिन्दी का भी पूर्णविराम मान लेते हैं। मेरा यह भाव आप मेरी पहली टिप्पणी में देख सकते हैं। पृष्ठ के वार्ता पृष्ठ पर सामान्यतः लोग जाते नहीं हैं अतः मैंने चौपाल पर लिखना उचित समझा। आप देख सकते हैं पिछले दिनों में मैंने कुछ पृष्ठों में {{हहेच लेख}} का प्रयोग किया है लेकिन कोई प्रतिक्रिया नहीं आती है। मैं यह नहीं चाहता था कि उसी तरह से इस पृष्ठ का नाम भी गलत पड़ा रहे।☆★संजीव कुमार (बातें) 18:51, 7 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
संजीव जी, मुझे क्षमा करें मुझ से यह बड़ी गलती हो गई। मैने लोगो केवल टैब में ही देखा जिसमें मुझे यह 'ध' दिख रहा था। मैने गलती करी इसलिए आप कटु शब्द बोले तो भी मुझे कोई आपत्ति नहीं। मैं आगे से पहले सलाह-मशविरा करने के पश्चात ही शीर्षक बदलूँगा। वैसे मेरी मंशा गलती सुधारने की थी, जो असल में गलती थी ही नहीं। धन्यवाद सिद्धार्थ!<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 20:19, 7 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
बिल जी, आपका यह उत्तर आपके पहले उत्तर से बिलकुल मेल नहीं खा रहा है। इन विरोधाभासों के प्रकाश में यही बात समझ में आती है कि आपको 'विश्वविद्यालय' की सही वर्तनी का ज्ञान नहीं था। हिन्दी विकि पर प्रबन्धकों से यह 'अपेक्षा' की जानी चाहिए या नहीं कि वे प्रायः प्रयुक्त सहज शब्दों की वर्तनी से सुपरिचित हों? आशा है आप इसे बुरा नहीं मानेंगे।-- अनुनाद सिंहवार्ता 07:36, 9 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
अनुनाद जी, आप जो समझना चाहो समझो मुझे इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ता। मैने गलती करी और मैं उसके लिए सार्वजनिक रूप से क्षमा भी माँग चुका हूँ। वैसे आपके लेखों में मैं कई गलतीयाँ वर्तनी दृष्टिकोण से निकाल सकता हूँ परन्तु मुझे न तो अन्य सदस्यों की बातों के बीच में पड़ने का शौक है और न ही फ़ालतू समय। जब मैने ऊपर साफ़-साफ़ लिखा है कि "मैं भी हमेशा विश्वविद्यालय वर्तनी इस्तेमाल में लाता हूँ और मुझे दोनों में अन्तर भी पता है, फ़िर आपको जो शंका करनी है आप उसके लिए स्वतंत्र हैं। आशा है आप भी बुरा नहीं मानेंगे।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 11:40, 9 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
बिल जी, मैं आपकी इस टिप्पणी से अत्यन्त संतुष्ट हूँ। किन्तु आपको यही टिप्पणी बहुत पहले करनी चाहिए थी जब प्रबन्धक श्री हुन्नजजाल ने कहा था कि 'सुन्दरलैण्ड' की वर्तनी गलत है जबकि वह तो १००% सही थी। -- अनुनाद सिंहवार्ता 12:35, 9 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

{{भाषा}} में प्रस्तावित बदलाव

नमस्कार, मैंने {{भाषा}} साँचे में कुछ बदलाव साँचा वार्ता:भाषा#प्रस्तावित_बदलाव पर प्रस्तावित किये हैं। ये बदलाव मुख्यतः तकनीकी हैं, परन्तु चूँकि इस साँचे का प्रयोग लगभग 47 हज़ार पृष्ठों पर होता है, अतः मेरे विचार से इसमें परिवर्तन से पहले चर्चा की जानी चाहिए। सदस्यों से अनुरोध है कि वे इस बदलाव पर अपनी टिप्पणी दें। धन्यवाद--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 15:04, 7 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

सदस्यों की सहूलियत के लिए विकिपीडिया:पृष्ठ आयात के लिए अनुरोध का निर्माण किया गया है। इस पृष्ठ पर कोई भी सदस्य अन्य विकिमीडिया परियोजनाओं से किसी पृष्ठ (लेख, साँचा, आदि) को यहाँ हिन्दी विकि पर आयात के लिए अनुरोध कर सकता हैं। इस प्रक्रिया से कई फायदे रहते हैं जिनमें सबसे महत्वपूर्ण यह है कि जिस लाईसेंस द्वारा विकिपीडिया की समाग्री उपलब्ध होती है (क्रियेटिव कॉमन्स ऍट्रीब्यूशन/शेयर-अलाइक लाइसेंस 3.0 तथा जीएफ़डीऍल) उसकी ऍट्रीब्यूशन वाली आवश्यकता पूरी हो जाती है। आयात करवाने की प्रक्रिया बहुत आसान है, अगर कोई प्रश्न है तो कृपया पूछें। साथ ही मैने परियोजना पृष्ठ की कड़ी साइडबार में "आयात अनुरोध" के नाम से उपलब्ध करा दी है जिस से आपको पृष्ठ तक पहुँचने में आसानी हो (यही कड़ी आपको 'हाल में हुए परिवर्तन' में भी मिल जाएगी)।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 18:33, 8 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

धन्यवाद बिल जी।☆★संजीव कुमार (बातें) 18:41, 8 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

परिवर्तन आवश्यक

आज मैं विकिपीडिया:अच्छे लेख लिखने के सुझाव नामक पृष्ठ को पढ़ रहा था। इस पृष्ठ के एक अनुभाग का नाम "लेखों के नाम" है जिसमें लाघव चिह्न के उपयोग के विषय में लिखा है। मुझे देखकर आश्चर्य हुआ कि उसमें लाघव चिह्न देवनागरी शून्य (०) को लिखा गया है जबकि पूरे पृष्ठ में लाघव चिह्न (॰) का नामोनिशान नहीं है। चूँकि यह पृष्ठ सुरक्षित है और मैं नहीं चाहता कि इस पृष्ठ का सुरक्षा स्तर कम किया जाये। अतः प्रबंधकों से अनुरोधा है कि इस गलती को सुधारा जाये।☆★संजीव कुमार (बातें) 18:40, 8 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

 Y पूर्ण हुआ। ध्यान देने के लिए धन्यवाद संजीव जी।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 10:37, 9 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

प्रबन्धक पद के लिए हिन्दुस्तानी लैंग्वेज जी के नामांकन की वर्तमान स्थिति

प्रबन्धकगण कृपया स्पष्ट करें कि हिन्दुस्तानी लैंग्वेज जी को प्रबन्धक बनाने का प्रस्ताव (श्री हुन्नजजाल द्वारा प्रस्तावित) अवैध घोषित हो चुका है या अभी भी वैध है। -- अनुनाद सिंहवार्ता 07:54, 9 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

इस संबंध में मैं भी जानकारी चाहता हूँ। क्योंकि एक प्रबंधक ने यह नामांकन किया था और संबंधित सदस्य तीन बार इसमें अपने कथनों से बदल चुके हैं। कारण जो भी हो लेकिन स्थिति भयावह है। इसमें मैं तो अपनी टिप्पणियाँ भी नहीं कर पा रहा हूँ। आखिर चल क्या रहा है। जिस प्रबंधक ने यह नामांकन किया वो भी चुपचाप हैं। उन्हें भी तो अपने इस नामांकन के विषय में कुछ बोलना चाहिए।☆★संजीव कुमार (बातें) 07:57, 9 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
यह जानने की उत्सुकता मुझे भी है, इस सम्बन्ध मैं प्रबन्धकगण कृपया स्पष्ट करें।

Mala chaubey (वार्ता) 08:51, 9 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

प्रबंधकवृन्द कृपया स्थिति स्पष्ट करें ताकि सदस्य भ्रमित न हों--डा० जगदीश व्योमवार्ता 11:08, 9 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
  • इसमें कोई दो राय नहीं कि हुन्नजज़ल जी ने गलत स्थान पर नामांकन किया था, यह मैं ऊपर भी स्पष्ट कर चुका हूँ। ऍचऍल जी ने तीन बार कथन बदले इसका उत्तर वे अपने वार्ता पृष्ठ पर शायद दे चुके हैं। जो भी हो, अब उन्होंने स्वयं वहाँ से अपना नामांकन वापस ले लिया है और सदस्य की सहमती के बिना किसी भी प्रकार से उसका नामांकन नहीं चल सकता। उनका नामांकन वापस लेना उनकी असहमति समझी जा सकती है। सही प्रक्रिया यह होती कि ऍचऍल जी हुन्नजज़ल जी से कह कर यह नामांकन खत्म करवाते परन्तु उन्होंने जो भी रास्ता अपनाया हमें उसका सम्मान करना चाहिए। वैसे उनके अनुसार अगर सही प्रक्रिया अपनाई जाए तो उन्हें अगले किसी नामांकन से कोई समस्या नहीं है। हम सभी का समय अमूल्य है, इसलिए मैं सभी सदस्यों से अनुरोध करूँगा कि अब इस प्रकरण पर ज्यादा समय लगाने कि जगह विकि विकास में सहयोग करें।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 11:27, 9 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
बिल जी, मेरा खयाल है कि उन्होने उसे 'अवैध' घोषित किया है तथा उस पर आगे सम्पादन को रोक दिया है। अपने नामांकन पर वे अपनी असहमति दे सकते हैं किन्तु क्या उनके अकेले के कहने से नामांकन 'अवैध' हो घोषित जाएगा? बिल जी हम सबका समय अमूल्य है इसलिए इस सम्बन्ध में कोई भ्रम की स्थिति को तुरन्त समाप्त किया जाय। मेरे विचार से प्रबन्धकों का यह प्रमुख दायित्व है। -- अनुनाद सिंहवार्ता 12:10, 9 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
इसके साथ आपको याद दिलाना चाहूँगा कि मैने अपने नामांकन में लिखा था 'अनुनाद सिंह के नामांकन पर मतदान चल रहा है' और आपने अत्यन्त त्वरित गति से उसे हटा दिया था। मैं अभी उस पर चर्चा करने वाला हूँ। यह पक्षपात है और प्रबन्धक पद का दुरुपयोग है।-- अनुनाद सिंहवार्ता 12:23, 9 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

हुन्नजज़ल जी (नामांकनकर्ता) / बिल जी (प्रबंधक) से हस्तक्षेप का निवेदन

चूँकि बिल जी ने ही पहले मतदान प्रणालि के गलत स्थान पर होने की बात कही, इसिलिये मैंने परिणामहीन चर्चा को विराम लगाने की दृष्टि से उसे बंद किया। बिल जी यदि उचित समझें तो चर्चा के मुख्य मुद्दों के साथ इसे सही स्थान पर प्रारंभ कर सकते हैं। ऐसा ही कुछ हुन्नजज़ल जी नामांकनकर्ता के रूप में कर सकते हैं। मुझे सही स्थान पर यदि बहस हो तो कोई आपत्ति नहीं है। Hindustanilanguage (वार्ता) 18:46, 11 अगस्त 2013 (UTC).उत्तर दें[उत्तर दें]

अभी के लिए इसपर विराम लगाते हैं। दुबारा नए सिरे से आपको नामांकित कर के नई प्रक्रिया करेंगे। कृप्या अपना योगदान जारी रखें। सम्भव है कि बिल जी या कोई अन्य सदस्य भी आपको नामांकित करें। नहीं तो मैं अवश्य करूँगा क्योंकि आप वास्तव में ही इन अधिकारों का प्रयोग विकि देखरेख में लगाएँगे। धन्यवाद। --Hunnjazal (वार्ता) 06:17, 13 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
मैं भी हुन्नजज़ल जी के विचार से सहमत हूँ। मैं ऍचऍल जी से उनका अमूल्य योगदान जारी रखने का निवेदन करूँगा और जैसा मैने पहले भी कहा है कि वे इस कार्यभार के लिए योग्य हैं तो अवश्य ही मैं उनके नामांकन का हिस्सा बनूँगा।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 07:01, 13 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

भ्रम अभी भी बना हुआ है

हिन्दुस्तानीलैंग्वेज जी, हुन्नजजाल जी और बिल जी की यह चर्चा मुझे उनकी आपसी चर्चा से अधिक कुछ नहीं लगती है। क्या अब भी यह स्पष्ट और आधिकारिक घोषणा नहीं हुई है कि -

अनुनाद जी, आपके इस औत्तराधर्य का कारण? इस समय हिन्दी विकि पर कोई मतदान नहीं चल रहा है। मुझसे हस्तक्षेप का आग्रह किया गया और मैने इस समय के लिए स्पष्ट रूप से नामांकन वापस लिया। क्या आप उन्हें (हिन्दुस्तानीलैंग्वेज जी को) पुनः नामांकित करना चाह रहे हैं? यदि हाँ तो, जैसा कि मैने स्पष्ट किया, मेरी सहमति होगी हालांकि मेरे विचार से कुछ देर रुककर करें तो अच्छा हो। सदस्यों को इस विषय से कुछ देर का अवकाश मिलेगा। मेरा उनसे आग्रह है कि वे अपना उत्तम कार्य जारी रखें! धन्यवाद। --Hunnjazal (वार्ता) 08:15, 13 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
इस भ्रम का कारण आपसे छिपा नहीं है। ऊपर देख सकते हैं कई लोगों ने इस सम्बन्ध में स्थिति स्पष्ट करने को कहा है। कल ऐसा हो सकता है कि कोई प्रबन्धक कहने लगे कि हिन्दुस्तानीलैंग्वेज जी को मतदान में १००% मत मिले हैं, उन्हें प्रबन्धक बनाया जा रहा है। या हिन्दुस्तानीलैंग्वेज जी प्रबन्धक पद के लिए निर्विरोध चुन लिए गए हैं। यदि आपने सचमुच अभी के लिए उनका नामांकन वापस लिया है तो उचित होगा कि नामांकन के स्थान पर इसका स्पष्ट उल्लेख करें। क्योंकि यहाँ आपकी लिखी 'घोषणा' का आज अर्थ नहीं निकल पा रहा है तो दो वर्ष बाद क्या निकलेगा? इसके अलावा किसी को याद नहीं रहेगा कि इस नामांकन का क्या परिणाम हुआ था। -- अनुनाद सिंहवार्ता 09:09, 13 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
Hunnjazal जी आप हेत्वाभास पृष्ठ को पढ़ो और फिर सोचो कि आपके कथन में और अनुनाद जी के प्रश्न में कितना अन्तर है। मुझे यह समझ नहीं आया कि आप प्रबंधक होते हुए भी विकिपीडिया पर क्या चल रहा है उसका ज्ञान नहीं रहता। यह एक विचारणीय विषय है। यदि किसी घर के मालिक को ही घर में हो रही घटनाओं का ज्ञान न हो तो उस घर का क्या होगा। आपके विचार मुझे कुछ इसी तरह के लग रहे हैं। अब हमें इस पर विचार करना चाहिए कि हमारे हिन्दी विकी परिवार का क्या होगा? Hunnjazal आपके उत्तर समस्या को समझनें सहायक नहीं बल्कि उलझाने का कार्य कर रहे हैं। आप स्पष्ट शब्दों में क्यों नहीं लिखना चाहते यह तो मैं नहीं जानता लेकिन कृपया थोड़ा हिन्दी विकी के भविष्य को देखते हुए ही स्पष्ट शब्द लिख दो।☆★संजीव कुमार (बातें) 15:46, 13 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
आपके इसी कथन में आपकी एक बहुत बड़ी कठिनाई प्रकट है: "यदि किसी घर के मालिक को ही घर में हो रही घटनाओं का ज्ञान न हो तो उस घर का क्या होगा?" आपको बिल जी ने भी यह समझाने का प्रयास किया है। प्रबन्धक मालिक नहीं है, प्रबन्धक सर्वज्ञ देवता नहीं है, प्रबन्धक सदैव सही नहीं है, प्रबन्धक कोई आदर का पद नहीं है, प्रबन्धक लम्बे योगदान का मिलने वाला ईनाम नहीं है, प्रबन्धक कोई वरिष्ठ वर्ग नहीं है। अगर मैं हर रूप से हावी होता तो फिर किसी और प्रबन्धक की ज़रूरत ही क्या है? केवल मैं ही पार्याप्त हूँ। आपका कथन बहुत ही विचित्र है और विकिव्यवस्था में उसकी कोई जगह नहीं। आप शायद कोई राजा ढूँढ रहें हैं, प्रबन्धक नहीं। प्रबन्धक मिस्त्री या नालियाँ साफ़ करने वाला व्यक्ति होता है। बस। मतदान समाप्त हो चुका है और कोई प्रश्न इस सन्दर्भ में खुला नहीं है। न अनुनाद जी का और न ऍच॰ ऍल॰ जी का। और आपकी दूसरी बात - "अब हमें इस पर विचार करना चाहिए कि हमारे हिन्दी विकी परिवार का क्या होगा" - तो सदैव ही सच है। हमे यह विचरण निरंतर करते रहना चाहिए। इसमें सौ बातों की एक बात कम-से-कम मेरे लिए यह है कि हिन्दुस्तानीलैंग्वेज जी हमेशा साफ़-सफ़ाई में लगे रहते हैं और अनुनाद जी अपने लेखों में त्रुटियाँ बिखेरते रहतें हैं। वास्तव में अनुनाद जी और मेरे विचार समीपी हैं और बिल जी और हिन्दुस्तानीलैंग्वेज जी के मुझसे शायद दूर होंगे। निजी जीवन में मैं देशभक्त हूँ, नागरी अंकों का प्रचारक हूँ, '॰' प्रयोग करता रहा हूँ, एक सैनिक परिवार से सम्बन्धित हूँ, हिन्दी की रक्षा और विकास का इच्छुक हूँ। बिल जी और हिन्दुस्तानीलैंग्वेज जी मेरे लेखों में ऐसे कई बदलाव कर चुकें हैं जो मुझे पसंद नहीं (जैसे अंग्रेज़ी सन्दर्भों से छोटे अक्षरों का टैग उड़ाना - मुझे लेख में नागरी से बड़े आकार की कोई भी लिपि देखना नापसंद है इसलिए नस्तालीक़ हो या रोमन हो या चीनी सभी को नीचा करना चाहता हूँ) लेकिन कम-से-कम उन्हें अनथक रूप से व्यवस्था में जुटे हुए तो देखता हूँ। उनके लिए यह कोई आदर-चिह्न नहीं है। केवल काम है। --Hunnjazal (वार्ता) 17:04, 13 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
हुन्नजाल जी, आपका यह सन्देश आपके 'तर्कप्रणाली' का बस एक नमूना है। इसका सारांश बहुत सरल है- 'चर्चा के मुख्य बिन्दु को किनारे रखते हुए अप्रासंगिक, अनावश्यक और सारहीन कथनों से पेज भरना' । लेकिन सदस्यों की शंकाएँ अभी भी अनुत्तरित हैं।-- अनुनाद सिंहवार्ता 03:27, 14 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
निरर्थक बात (अनुलाप)। ज़ाहिर है कि किसी का भी तर्क उसकी अपनी ही तर्कप्रणाली का नमूना होगा। प्रक्रिया समाप्त हो चुकी है। आपको मेरे कथन न पसंद हों तो न सही और आप यह कहने को स्वतंत्र हैं, लेकिन मेरी नियत पर आक्षेप न करें। यह अस्वीकार्य है। आपके चुनाव की जाँच मैने नहीं की थी इसलिए इस से मेरा कोई लेनादेना नहीं और आपका ऍच ऍल जी को लेकर क्या ध्येय है यह मुझे अभी भी अस्पष्ट है। क्या आप उन्हें प्रबन्धक बनाने के इच्छुक हैं? यदि हाँ, तो आप नामांकन स्वयं करें। या फिर कुछ समय बाद मेरे द्वारा नामांकन की प्रतीक्षा करें। इस समय चयन को लेकर प्रक्रिया जारी नहीं है। आपने तीन चीज़ों में से एक चुनने को कहा:
  • हिन्दुस्तानीलैंग्वेज जी का नामांकन रद्द किया गया है, या
  • हुन्नजजाल जी ने हिन्दुस्तानीलैंग्वेज जी का नामांकन वापस ले लिया है। , या
  • हिन्दुस्तानीलैंग्वेज जी के नामांकन पर मतदान अभी चल रहा है।
मैने स्पष्ट रूप से आपको बीच वाला चुनकर बता दिया। अब इसमें क्या भ्रम है आपको? अगर भ्रम है तो आप स्वयं ही अपनी मूल समस्या कहने से संकोच कर रहे होंगे। और अगर वे (या कोई और) किसी भी प्रक्रिया में सौ बार भी हाँ और ना का उत्तर बदलना चाहे तो इसमें मैं क्या करूँ? वे बखेड़े में नहीं पड़ना चाहते। मुझे उनकी बात भी समझ आती है, हालांकि मुझे इन स्थितियों में स्वयं कोई झिझक नहीं होती है। आपको उन्हें तुरंत फिर से खड़ा करना है तो आप उनसे स्वयं बात करें। मुझे बीच में न लाएँ। अगर कोई और बात है तो नीतिपूर्ण ढंग से स्पष्ट कहें। मुझे अपने विवेकानुसार विवाद जारी रखते हुए भी योगदान करने में रत्ती भर की भी कोई भावुकता नहीं होती। हर व्यक्ति का अलग रुझाव होता है। धन्यवाद! --Hunnjazal (वार्ता) 08:35, 14 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
Hunnjazal जी, नमस्कार। मैं चूँकि कई विकियों पर सक्रिय रहा हूँ, इसलिए अपने अनुभव के अधार पर हिन्दी विकिपीडिया की सदस्य-भाषा को सबसे सभ्य मान रहा था। मेरा अनुभव प्रबंधक पद के लिए मतदान में ये रहा कि बहस का मुख्य मुद्दा उम्मीदवार की योग्यता होती है, पर यहाँ उससे हटकर कई ऐसे मुद्दे आ गए जिनका प्रबंधक पद से शायद ही लेना देना हो। यदि किसी को मेरे विकि-अस्तित्व पर प्रश्न था तो कृपया मेरी जाँच तुरंत कराते, मैंने कामन्स पर कई बार कई खातों पर कराया और मेरा अंदाज़ा कभी गलत नहीं हुआ। फिर प्रश्नोत्तर पर नियंत्रण किसी ने नहीं किया, हालांकि मैं समझ रहा था कि नव-निर्वाचित प्रबंधक ये रोल निभाएंगे। बिल जी ने मतदान पन्ने को गलत कहा था। ऐसे में मुझे लगा कि मामला कहीं का नहीं रहा। फिर भी, जैसा कि Hunnjazal जी ने अनुनाद जी से कहा कि यदि वे मेरा प्रस्ताव लाते हैं तो वह उसका समर्थन करेंगे, तो मैं आशा करता हूँ कि निकट भविष्य में ऐसा ही हो - क्योंकि ये हमारे विकि-इतिहास में मित्रता के एक नये अध्याय का शुभारंभ होगा। Hindustanilanguage (वार्ता) 10:09, 14 अगस्त 2013 (UTC).उत्तर दें[उत्तर दें]
हिन्दुस्तानीलैंग्वेज जी, नमस्ते। आप बहुत से विकियों पर जाते रहते हैं। कहीं ये देखा हो तो कृपया बताएँ-
* नामांकित सदस्य स्वयं घोषित करे कि नामांकन अवैध है और चर्चा को स्वयं बन्द कर दे।
* प्रबन्धक उस नामांकन की स्थिति के बारे में कुछ न लिखें (आम सदस्यों द्वारा ऐसा करने का निवेदन करने के बावजूद)-- अनुनाद सिंहवार्ता 12:40, 14 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
अनुनाद जी,
  1. सामान्य रूप से "नामांकित सदस्य स्वयं घोषित करे" ऐसी स्थिति नही होती है, पर चूँकि हमारे एक माननीय प्रबंधक ने कहा था कि नामांकन में पन्ने के चुनने की समस्या है (नामांकन के विषय में नहीं), तो वैधता की टिप्पणी केवल पन्ने तक सीमित है।
  2. शायद आपके दूसरे प्रश्न का उत्तर माननीय Hunnjazal जी ने दे दिया है। Hindustanilanguage (वार्ता) 15:32, 14 अगस्त 2013 (UTC).उत्तर दें[उत्तर दें]
हिन्दुस्तानीलैंग्वेज जी, आपने स्वयं ऊपर लिखा है कि आप बहुत सी विकियों का भ्रमण किए हैं। कृपया बुरा न माने। यहाँ मुझे आपके विकिभ्रमणों की संख्या और आप द्वारा किए गए उक्त कार्य में बहुत बड़ी खाई नजर आ रही है। आप स्वयं मानते हैं कि सामान्य रूप से नामांकित सदस्य स्वयं घोषित करे ऐसी स्थिति नही होती है। यहाँ कौन सी असामान्य स्थिति मौजूद है? मेरा दूसरा प्रश्न भी आपके विकि भ्रमण से जुड़े विशाल अनुभव से ही सम्बन्धित था और आपसे ही इसके उत्तर की अपेक्षा करता हूँ।-- अनुनाद सिंहवार्ता 04:06, 15 अगस्त 2013 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
@एचएल जी, या तो मुझे और अनुनाद जी को बात समझने में परेशानी हो रही है अथवा Hunnjazal जी जबाब को उलझाकर बात को घुमाने में जुटे हुए हैं। मुझे तो स्वयं समझ नहीं आ रहा है कि अनुनाद जी का प्रश्न कुछ और है और Hunnjazal जी उसका उत्तर न देकर पहेलियाँ बुझा रहे हैं और बात को किस दिशा में ले जा रहे हैं समझ नहीं आ रहा। उन्हें ऐसा करने में क्या मजा आ रहा है यह भी समझ से बाहर है।
=>मेरे लिए तो यह भी आश्चर्य की बात है कि Hunnjazal जी मेरी बात को तोड़मोड़कर कहीं और ही ले जा रहे हैं, क्यों? उपर आप देख सकते हैं मैंने कहा कि प्रबंधक महोदय को विकी कि साफ सफाई का ध्यान रखना चाहिए और यदि कहीं कुछ गलत लिखा हुआ मिले तो अन्य सदस्यों से कहीं अधिक दायित्व प्रबंधक का बनता है कि वो उसमें सुधार करें। इस बात को उन्होंने सन्दर्भों सहित किसी और ही दिशा में ले गये। आप स्पष्ट रूप से देखकर मेरे वाक्यांस और Hunnjazal के उत्तर को पढ़ोगे तो शायद खुद ही समझ पाओगे।
=>इसके अलावा मुझे आपका कथन भी कुछ अटपटा लग रहा है। हमने हिन्दी विकी पर किसी देश के राष्ट्रपति को भी माननीय जैसे शब्दों से सम्बोधित नहीं किया लेकिन आप कुछ विशेष सदस्यों के साथ ऐसा क्यों कर रहे हो? क्या यह उन सदस्यों के सम्मान में है? क्या यह उन सदस्यों के पद के दुरुपयोग का एक मजाक है? सब कुछ समझ से बाहर होता जा रहा है!!! पता नहीं किस जगह उलझ गया हूँ। मैंने तीन पूर्वप्रबंधकों का नामांकन करके कोई अपराध किया था? यदि हाँ तो उसकी सजा मुझे दो, हिन्दी विकी को भ्रामक घर बनाकर क्यों रख दिया है?
@Hunnjazal जी, क्या आपके पास अनुनाद जी, जगदीश जी, माला जी आदि के प्रश्न का उत्तर नहीं है? यदि नहीं है तो ना कह दो अन्यथा कृपया एक नज़र शब्दशक्ति नामक पृष्ठ पर डालो और अपना उत्तर अभिधा शब्द शक्ति के अनुसार दो। इसका मिश्रण मत करो। मिश्रण से निकाय की एंट्रॉपी का मान केवल बढ़ता है। कृपया एंट्रॉपी को कम करने का प्रयास करें।
@अनुनाद जी, यदि Hunnjazal जी जबाब न देना चाहें तो आप और मुझ जैसे सदस्यों के साथ सूरज निकलने का इन्तज़ार करने के अलावा कोई चारा नहीं है। अभी तक हमारे पास ऐसा कोई औजार नहीं है जो असामाजिक तत्व रुपी बादलों को हटाकर धूप कर सके। यदि सूरज ही अपनी ताकत खो चुका है तो आम इंसान क्या करेगा।
@अन्य सभी सदस्य: कृपया मेरी पंक्तियों का अर्थ यह न समझें कि मैं भावुक हो गया हूँ। हाँ मैं निराश जरूर हो गया हूँ। कारण: जब किसी प्रबंधक से जानकारी मांगता हूँ तो जानकारी के स्थान पर वो अपनी देशभक्ति दिखाते हैं जिनके देश के बारे में मैं ना ही तो जानता हूँ और जानना चाहता भी नहीं। चूँकि प्रत्येक व्यक्ति अपने आप में एक दार्शनिक होता है और यदि वह अपने दर्शन के अनुसार स्वयं ही न चल सके तो क्या कोई अन्य व्यक्ति उस दर्शन को मानेगा। मैंने कुछ वर्षों पूर्व "भारतीय राजनीतिक विचारकों" के अलावा कुछ पाश्चात्य दार्शनिकों जैसे: अरस्तु, सुकरात, प्लेटो, मार्क्स, रूसो आदि को पढ़ा था तो उनके जीवन के विषय में भी पढ़ा। यह मेरा निष्कर्ष था।
⇒जो भी हो, मैं तो अब यह ही कहुँगा कि यदि आप आस्तिक हो तो अपने ईश्वर से प्रार्थना करो को हिन्दी विकी से ये काले बादल जल्द ही दूर हटें। यदि आप नास्तिक हो तो भी इन्तज़ार तो करना ही पड़ेगा। आगे आपकी मर्जी।☆★